शक्कर नहीं लंड मिलेगा

Shakkar nhi lund milega:
hindi chudai ki kahani नमस्कार दोस्तों, शुभप्रभात ! कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करता हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे | मेरा नाम गौरव है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 22 साल है और मैं अभी फ़िलहाल बेरोजगार हूँ | मैं दिखने में सांवला हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है और मेरा शरीर गठीला है | दोस्तों मैं इस साईट का फैन हूँ और मुझे इस साईट पर चुदाई की कहानियां पढ़ते हुए समय बीतना बहुत अच्छा लगता है | मैं इस साईट में ज्यादातर भाभी वाली कहानियां पढता हूँ क्यूंकि भाभी वाली कहानी पढ़ कर मुझे उत्तेजना होती है | दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखने जा रहा हूँ | ये मेरी एक दम सच्ची घटना है और मेरे जीवन की पहली कहानी है | मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगो को मेरी ये कहानी अच्छी लगेगी और मैं आप लोगो के कमेंट्स का इन्तेजार करूँगा | अब मैं आप लोगो के समय को व्यर्थ न करते हुए अपनी कहानी लिखना शुरू करता हूँ |

ये घटना पिछले दो महीने की है | मेरे घर में मैं हूँ और मेरे मम्मी पापा और दादी रहते हैं | मेरी दादी की अक्सर तबियत ख़राब रहती है और मेरे ग्रेजुएशन के पहले तो बाई काम कर दिया करती थी लेकिन जब से मेरा गग्रेजुएशन हुआ है तो मुझे ही दादी की देखभाल करनी पड़ती है क्यूंकि पापा भी प्राइवेट जॉब करते हैं और मम्मी भी | अकेले होने की वजह से उन्होंने बाई लगाई थी लेकिन अब वो चली गई | मेरे पड़ोस में एक आंटी रहती है नाम है विमला | वो दिखने में सांवली है लेकिन उसका फिगर बहुत ही प्यारा है | वो भले ही सांवली है पर उसका फेसकट बहुत ही प्यारा है | वो एक शादीशुदा महिला है और उसका पति बाहर रह कर जॉब करता है और यहाँ उसके दोनों बेटो के साथ रहती हैं | उसके दोनों बेटे अभी स्कूल में पढाई करते हैं | वो आंटी अक्सर हमारे घर आया जाया करती हैं और मेरी मम्मी की काफी अच्छी दोस्त भी है | एक दिन की बात है उनके घर में शायद शक्कर खत्म हो गई होगी तो वो हमारे घर आई उस समय मैं घर में ही था और अपना लंड निकल कर झांटे बना रहा था | दादी उस समय सो रही थी | तभी मुझे किसी के खटखटाने की आवाज़ आई तो मैं जल्दी से बाहर की तरफ गया तो देखा कि विमला आंटी हैं | मैंने उनसे पुछा कि हाँ आंटी कहिये कैसे आना हुआ ? तो उन्होंने कहा वो तो ठीक है तेरी दाड़ी मूंछ तो आती नहीं है ? फिर ये इतने कड़े बाल कहाँ के साफ कर रहा है ? मैं शर्मा गया और कुछ नहीं बोला तो आंटी भी समझ पर कुछ नहीं बोली और कहा कि हमारे घर में मेहमान आये हुए हैं और शक्कर खत्म हो गई है तो वो ही चाहिए थी | मैंने उन्हें कहा कोई बात नहीं आंटी आप ले लीजिये |

जब आंटी शक्कर ले कर चली गई तो मैं फिर से अपनी झांटो के बाल साफ करने लगा | तभी मैंने पलट कर देखा कि आंटी मुझे देख रही थी | मैंने एक दम से ट्रीमर रखा और अपने लंड को अन्दर डाल लिया | आंटी ने मुझसे कहा कि मैं समझ गई थी कि तू वहीँ के बाल साफ़ कर रहा था | मैंने कहा आपको कैसे पता ? तो उन्होंने कहा कि तेरी दाढ़ी मूंछ नहीं आती है और इतने कड़े बाल वहीँ के हो सकते हैं इसलिए | मैंने उनसे कहा कि प्लीज आंटी ये बात आप मेरे घर वालो को बिलकुल भी मत बताना प्लीज | तो उन्होंने कहा अरे पागल ये सब नेचुरल है हर कोई यही करता है | तू टेंशन मत ले मैं किसी को कुछ नहीं बताउंगी | तब जा कर मैंने ठंडी साँसे ली | लेकिन जब आंटी ने ये कहा कि तुम्हे मेरी हेल्प करनी होगी और वो हेल्प ये है कि तुम मुझे चोदोगे | मैं एक दम से डर भी गया था और अच्छा भी लगा | तो मैंने कहा आंटी वो सब तो ठीक है लेकिन | उसने मुझसे कहा अब कोई लेकिन वेकिन नहीं | और फिर कुछ देर तक वो मेरी आँखों में आँखे डाल कर देखती रही और मैं भी उसके नैन से नैन मिलाता रहा | फिर मैं उसके पास गया और उसे अपनी बांहों में भर लिया | कुछ समय तक हम दोनों एक दूसरे की बांहों में रहे और फिर मैंने उसके होंठ से अपने होंठ लगा दिए और उसके होंठ का रसपान करने लगा | वो भी बिना कोई विरोध किये मेरा साथ देने लगी और मेरे होंठ को चूसने लगी | मैं उसके होंठ को चूस्ते हुए उसके बदन से खेल रहा था और वो किस करते हुए मेरे चेहरे को सहला रही थी | कुछ देर किस करने के बाद उसने मेरी टी-शर्ट और बनियान को उतार दिया और मेरे चेस्ट को चूमने लगी और जीभ से चाटने लगी | वो बीच बीच में मेरे निप्पलस भी चूस लेती | फिर उसने मेरे लोअर को उतारा और अंडरवियर के ऊपर से ही लंड को मसलने लगी और होंठ को चूमने लगी | मैं भी उसका पूरा साथ देने लगा | फिर उसने मेरी अंडरवियर को भी उतार कर नंगा कर दिया और मेरे लंड को हिलाने लगी ऊपर नीचे करते हुए और उसके बाद मेरे लंड को चाटने लगी तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा की आवाज़ निकलने लगी | मेरे लंड को चाटने के बाद वो मेरे लंड को अपने मुंह में भर कर सुपाड़े को चूसने लगी तो मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए उसके बालो को संवारने लगा | फिर वो पूरे लंड को अपने गले तक ले कर चूसने लगी तो मैं भी आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए उसके मुंह में अपना लंड दबाने लगा | उसने मेरे लंड को 10 मिनट तक चूसा और उसके बाद मेरे दोनों अन्टोलो को भी चूसने लगी तो मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए मजे लेने लगा | उसके बाद मैंने उसके सूट को उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही दूध को मसलने लगा तो वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए मेरे चेहरे पर हाँथ फेरने लगी |

फिर मैंने ब्रा को भी उतार कर ऊपर से नंगा कर दिया उसको और उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर बारी बारी से चूसने लगा तो वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए | मैं उसके दूध को जोर जोर से निप्पलस खींच कर चूसते हुए मसल रहा था और वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए मेरे सिर पर हाँथ फेर रही थी | उसके दोनों दूध को चूसने के बाद मैंने उसके पायजामा को भी उतार दिया और फिर पेंटी को भी | उसकी चिकनी चूत जैसे मुझे ही बुला रही हो ऐसा लग रहा था | फिर मैंने उसे लेटाया और उसके दोनों पैरो को अपने कंधे में रख कर चूत को जीभ से चाटने लगा तो वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए कसमसाने लगी | फिर मैंने अपनी दो ऊँगली उसकी चूत में डाली और चोदने लगा और चाट भी रहा था और वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए अपने दोनों दूध को मसल रही थी | फिर मैंने अपने लंड पर थूक लगाया और उसकी चूत पर लंड रगड़ते हुए अन्दर डाल दिया और चोदने लगा तो वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए जोर जोर से सिस्कारियां लेने लगी | कुछ देर बाद मैंने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दिया और जोर जोर से शॉट मारने लगा और साथ में दूध के निप्पलस भी खींच रहा था और वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए अपनी कमर उठा उठा कर चुदाई में भरपूर साथ निभा रही थी | उसके बाद मैंने उसे डोगी स्टाइल में किया और फिर चूत चाट कर अपना लंड घुसेड़ कर चोदने लगा तो वो भी आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए अपनी गांड मटका मटका कर चुदा रही थी | करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद मैंने अपना वीर्य उसकी चूत में ही भर दिया और कुछ तो उसकी चूत से भी टपकने लगा था |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर अच्छी लगी होगी | मैं आपका मेल बॉक्स में कमेंट का इन्तेजार करूँगा और आगे तक का सफ़र आपके प्यार के भरोसे चलेगा |


Comments are closed.