उसने गुलाबी होंठो से लंड चूसा

Antarvasna, hindi sex kahani:

Usne gulabi hothon se lund chusa मैं अपने ऑफिस जाने की तैयारी कर ही रहा था कि उस वक्त मुझे माधव का फोन आया और वह कहने लगा कि रमेश आज मेरी गाड़ी खराब हो गई है तो तुम मुझे लेने के लिए मेरे घर पर आ जाना। मैंने माधव से कहा ठीक है मैं तुम्हें लेने के लिए तुम्हारे घर पर आ जाऊंगा मैं अपने घर से तैयार होकर माधव के घर निकला और मैं माधव के घर के बाहर ही उसका इंतजार कर रहा था। मैंने माधव को फोन किया तो वह थोड़ी देर में तैयार होकर आ चुका था अब वह मेरी कार में बैठा और हम दोनों वहां से अपने ऑफिस चले गए। जब हम लोग अपने ऑफिस पहुंचे तो उस दिन ऑफिस में काफी ज्यादा काम था समय का बिल्कुल भी पता नहीं चला और जब ऑफिस से  हम लोग फ्री हुए तो उसके बाद हम लोग घर वापस लौट आए। मैं माधव को उसके घर छोड़ता हुआ अपने घर वापस लौट आया था मैं जब अपने घर वापस लौटा तो मेरी पत्नी सुनैना मुझे कहने लगी कि रमेश मुझे मेरी मौसी की लड़की की शादी में जाना है। मैंने सुनैना से पूछा कि तुम्हें कब जाना है तो उसने मुझे बताया कि उसकी शादी अगले महीने हैं और उसे शादी के लिए शॉपिंग भी करनी है।

सुनैना की मौसी जयपुर में रहती है और सुनैना जयपुर जाना चाहती थी सुनैना ने मुझसे भी कहा था कि तुम भी जयपुर चलो लेकिन मैंने उसे कहा कि मैं तुम्हें कुछ कह नहीं सकता यदि मुझे ऑफिस से छुट्टी मिल पाएगी तो ही मैं तुम्हारे साथ चल पाऊंगा। सुनैना चाहती थी कि मैं उसके साथ शॉपिंग के लिए जाऊं और मैं सुनैना के साथ शॉपिंग के लिए गया मैं जब सुनैना के साथ शॉपिंग के लिए अपनी छुट्टी के दिन गया तो हम लोगों ने काफी शॉपिंग की। मैंने अपने लिए भी कुछ शॉपिंग करनी थी काफी समय से मैं अपने लिए भी कुछ खरीद नहीं पाया था तो मैंने अपने लिए भी शर्ट खरीद ली थी। उस दिन जब हम लोग घर लौटे तो काफी देर हो चुकी थी मेरी मां की तबीयत भी ठीक नहीं थी तो वह मुझे कहने लगे कि रमेश बेटा आज मुझे कुछ ठीक नहीं लग रहा।

मुझे हमारे फैमिली डॉक्टर को फोन कर के घर बुलाना पड़ा जब वह घर पर आए तो उन्होंने मां का ब्लड प्रेशर चेक किया तो उनका ब्लड प्रेशर काफी ज्यादा बढ़ा हुआ था। वह कुछ दिनों से कुछ ज्यादा ही परेशान थी उनकी परेशानी की वजह मेरी बहन है मेरी बहन और उसके पति के बीच अक्सर झगड़े होते रहते हैं जिस वजह से वह काफी परेशान रहती है और मां भी अब इस परेशानी में अपना ब्लड प्रेशर बढ़ा लिया करती। डॉक्टर जा चुके थे और मां भी अब आराम करने लगी थी मैंने सुनैना का रिजर्वेशन भी करवा दिया था सुनैना का रिजर्वेशन करवाने के बाद मैं जब सुनैना को रेलवे स्टेशन पर छोड़ने के लिए गया तो सुनैना ने मुझे कहा कि मैं जल्दी ही लौट आऊंगी। सुनैना और मेरी शादी को अभी 3 वर्ष हुए हैं और जब से सुनैना और मेरी शादी हुई है तब से मैं काफी खुश हूं सुनैना मेरा बहुत ध्यान रखती है और वह मां की काफी देखभाल करती है। सुनैना ने मुझे जाते हुए कहा कि तुम मां की देखभाल करना मैंने सुनैना को कहा हां तुम बिल्कुल चिंता मत करो, मैं सुनैना को छोड़ कर घर वापस लौट आया था। सुनैना जब जयपुर पहुंची तो उसने मुझे फोन कर दिया था सुनैना ने मुझे बताया कि वह जयपुर पहुंच चुकी है कुछ दिनों तक वह जयपुर में ही रुकी और शादी की तस्वीरें उसने मुझे भेज दी थी। सुनैना काफी ज्यादा सुंदर लग रही थी सुनैना की बहन की शादी हो चुकी थी और अब सुनैना वापस अहमदाबाद लौट आई थी जब सुनैना वापस लौटी तो सुनैना को लेने के लिए मैं उस दिन रेलवे स्टेशन पर गया हुआ था हम दोनों वापस लौट रहे थे तो रास्ते में मेरी कार बंद हो गई सुनैना कहने लगी कि अचानक से कार कैसे बंद हो गई। मैंने भी कार की डिक्की खोल कर देखा तो मुझे भी कुछ समझ नहीं आया वहीं पास में एक मैकेनिक की दुकान थी तो मैं उसे अपने साथ ले आया उसने देखा तो वह कहने लगा कि साहब मैं अभी आपकी गाड़ी ठीक कर देता हूं। आधे घंटे बाद गाड़ी स्टार्ट हो चुकी थी और मैं सुनैना को मैं घर ले आया सुनैना को जब मैं घर लाया तो उसने मुझे कहा कि आप मेरे साथ शादी में नहीं आए मैं आपको काफी मिस कर रही थी।

मैंने सुनैना को कहा तुम तो जानती ही हो की ऑफिस में कितना ज्यादा काम होता है और मुझे छुट्टी मिलना मुश्किल था इसलिए मैं आ नहीं पाया सुनैना कहने लगी चलिए कोई बात नहीं। सुनैना मां की देखभाल करने लगी थी कुछ दिनों बाद मेरी बहन भी घर पर आई जब वह घर पर आई तो वह काफी ज्यादा परेशान थी मैंने उसको समझाने की कोशिश की लेकिन उसका उसके पति के साथ कुछ ज्यादा ही झगड़ा हो गया था जिस वजह से वह काफी ज्यादा तनाव में थी। मैंने उसे कहा कि तुम बेवजह परेशान हो रही हो तुम्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है उसने मुझे कहा कि भैया मेरे पति अक्सर मुझसे झगड़ते रहते हैं और मैं इस बात से काफी ज्यादा तंग आ चुकी हूं। मैंने उसे कहा कि देखो तुम जितना ज्यादा इस बारे में सोचोगी उतना ज्यादा तुम परेशान रहोगी मैंने अपनी बहन को समझाया तो वह कहने लगी कि हां भैया मैं इस बारे में अब ज्यादा नहीं सोचूंगी। मैं चाहता था कि मैं उसके पति से इस बारे में बात करूं और मैंने उसके पति से इस बारे में बात की तो उनका झगड़ा फिलहाल तो सुलझ चुका था और वह भी अपने ससुराल चली गई थी। मैं जब ऑफिस से घर लौटा तो मुझे सुनैना ने बताया कि उसकी मौसी की लड़की कुछ दिनो के लिए अहमदाबाद आने वाली है। मैंने उसे कहा चलो यह तो बहुत अच्छी बात है उसकी मौसी की लड़की का नाम रवीना है और वह कुछ दिनों के लिए अहमदाबाद आ गई।

जब वह अहमदाबाद आई तो मुझे कहने लगी जीजा जी आप मेरी शादी में नहीं आ पाए। मैंने उसे कहा मैं शादी में आना तो चाहता था लेकिन ऑफिस से छुट्टी नहीं मिल पाई थी इस वजह से मैं तुम्हारी शादी में नहीं आ पाया लेकिन उसकी शरारती आंखो मे कुछ था। उसका गोरा बदन देखकर मुझे काफी अच्छा लग रहा था और मुझे बहुत ही अच्छा लगता जब वह मुझसे बात करती। वह करीब एक हफ्ते तक हमारे घर पर रुकने वाली थी एक दिन वह बाथरूम से नहाकर बाहर निकली तो मैं रूम मे चला गया मैंने उसे देखा उसकी गोरी टांगें देखकर मैं अपने आपको रोक ना सका। मैंने उसे अपनी बाहों में लेने की कोशिश की तो उसने मुझे कहा यह आप क्या कर रहे हैं लेकिन वह भी कहीं ना कहीं मेरे साथ सेक्स करना चाहती थी। मैंने जब उसके सामने अपने लंड को किया तो उसने मेरे लंड को देखा और उसे हिलाना शुरू कर दिया। जब वह मेरे लंड को हिला रही थी तो मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था और मेरे अंदर की गर्मी भी बढ़ती चली जा रही थी। मैंने रवीना से कहा तुम लंड को अपने मुंह के अंदर ले लो। उसने मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर लिया उसने जब अपने गुलाबी होठों से मेरे लंड को चूसना शुरु किया तो मैंने उसे कहा तुम मेरे मोटे लंड को अपने अंदर तक समा लो। वह अपने आपको बिल्कुल नहीं रोक पा रही थी और उसने मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर तक ले लिया था उसकी चूत से पानी बाहर की तरफ को निकलने लगा था। हम दोनों बिस्तर पर लेट गए मैंने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया और उसे कहा तुम्हारे पति ने ही तुम्हारी सील तोड़ी होगी? वह कहने लगी हां उन्होंने ही मेरी सील तोड़ी थी लेकिन आपका लंड बहुत ज्यादा मोटा है। रवीना भी मेरे लंड को अपनी योनि मे लेने के लिए बहुत ज्यादा उत्सुक हो चुकी थी। मैंने उसके कपड़े उतारकर उसके स्तनो को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू किया तो मुझे बड़ा अच्छा लग रहा था।

वह इतनी ज्यादा उत्तेजित हो चुकी थी कि वह मुझे कहने लगी मैं अब बिल्कुल भी नहीं रह पा रही हूं। मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया तो उसकी गुलाबी चूत को चाटकर मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। मैं उसकी चूत को बहुत अच्छे से चाट रहा था उसकी गर्मी को मैंने पूरी तरीके से बढ़ा दिया था। वह भी पूरी तरीके से गर्म हो चुकी थी उसकी चूत से इतना ज्यादा पानी निकलने लगा था कि वह अपने आपको बिल्कुल भी नहीं रोक पा रही थी उसने अपने पैरों को खोल कर मुझसे कहा कि जीजाजी मेरी चूत के अंदर आप अपने लंड को डाल दो। मैंने अपने लंड पर थूक लगाकर उसकी कोमल चूत के अंदर अपने लंड को घुसाना शुरू किया तो मेरा लंड उसकी योनि के अंदर तक चला गया। जब मेरा मोटा लंड उसकी चूत के अंदर घुसा तो वह बड़ी जोर से चिल्लाई और मुझे कहने लगी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है।

मैंने उसकी चूत के अंदर बाहर लंड को धक्के देना शुरू कर दिया मैं उसकी चूत के अंदर धक्के दे रहा था तो मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे कि मैं उसकी चूत मारता ही रहूं मुझे उसकी चूत बड़ी ही टाइट महसूस हो रही थी क्योंकि कुछ समय पहले ही उसकी शादी हुई थी इसलिए उसकी चूत बहुत ही ज्यादा टाइट थी। मुझे उसे धक्के देने मे बहुत मजा आ रहा मैंने उसके दोनों पैरों को अपने कंधों पर रखा तो वह मुझसे कहने लगी जीजाजी आज तो मजा ही आ गया। मेरा लंड उसकी चूत के अंदर बाहर हो रहा था और वह बहुत ही ज्यादा गरम हो रही थी। जब उसने मुझे अपने पैरों के बीच में जकड़ना शुरू किया तो मेरा वीर्य भी गिर चुका था। मेरा वीर्य गिरते ही वह खुश हो गई उसके बाद हम दोनों ने दो बार और सेक्स के मजे लिए और दोनों बार उसने मुझे पूरी तरीके से संतुष्ट कर दिया था। उसके बाद रवीना से मेरी मुलाकात तो नहीं हुई लेकिन फोन पर हमारी बातें होती हैं।


Comments are closed.