तालाब से निकाली जलमछली

Talab se niklaai jalmachhli:

hindi sex stories

हैल्लो दोस्तों, कैसे हैं आप सभी ? मेरा नाम अर्जुन है और मैं सागर में रहता हूँ | मेरी उम्र 28 साल है और प्राइवेट जॉब करता हूँ | मेरी बीवी का देहांत हो गया है इसलिए मैं रंडवा हूँ | मैं दिखने में कोई अच्छी तो नहीं हूँ मेरा रंग सांवला है और मैं थोडा मोटा भी हूँ | हाईट अच्छी है और मेरे लंड का साइज़ भी अच्छा है | मैं रोज चुदाई की कहनियाँ पढता हूँ और मुझे चुदाई की कहनियाँ पढना बहुत पसंद है | आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी पेश करने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन में घटित सच्ची घटना है | मैं ऐसी उम्मीद करता हूँ कि आप लोगो को मेरी ये कहानी जुरूर पसंद आयगी | तो अब मैं आप लोगो का जयादा समय नहीं लेते हुए सीधा अपनी कहानी शुरू करता हूँ |

बीवी के गुजर जाने के बाद मैं एक दम अकेला सा हो गया | मुझे ऐसा लगने लगा था कि मेरे जीने का कोई अस्तित्व नहीं रहा | क्यूंकि न ही मेरे बीवी बच्चे थे और न ही मेरे माँ बाप हैं | मैं अपने माँ बाप की एकलौती संतान था | इसलिए मैं अकेला था | मेरी रोजमर्रा की जिन्दगी बोरिंग हो चुकी थी | मैं सुबह 5 बजे उठता चाय चढ़ाता फिर फ्रेश होने जाता | नहा कर मैं चाय पीता और अपना बैग ले कर ऑफिस चले जाता | मेरा नाश्ता मेरे केबिन में ही आ जाता था | फिर ऑफिस के ही कैंटीन में जा कर लंच करना दोस्तों के साथ गपशप करना | शाम को ऑफिस से लौटते वक़्त मैं रोज एक क्वार्टर ले कर आता और होटल से चिकिन पैक करवा कर ले आता था | रोज का मेरा यही काम बंध गया था | दारू पीते हुए खाना खाता था और फिर चुदाई की कहनियाँ पढ़ कर मुट्ठ मार कर सो जाता था अगले दिन फिर यही कहानी | मैं ऐसी जिन्दगी से बहुत ज्यादा परेशान हो चुका था | मैंने ठान लिया था कि अब मैं सुसाइड कर लूँगा | फिर एक शाम मैं एक तालाब के पास गया | वहां कोई नजर नहीं आ रहा था | बस एक लड़की खड़ी हुई थी |

मुझसे तैरते बनता था लेकिन मैं डूब के ही मरना चाहता था | मैंने उस लड़की की तरफ देखा और उसने भी मुझे देखा | फिर कुछ दूर जाने लगी | मैंने सोचा कि शायद ये भी मेरी तरह ही अपनी जिन्दगी से परेशान होगी | मैं थोड़ी देर तक ऐसा ही बैठा रहा वहीँ पर और मैंने देखा कि वो लड़की जो वहां अकेली थी उसने छलांग लगा दी | मैंने उसे देखा और देखते ही तालाब में कूद गया और उसे बाहर निकाल लाया | मैंने सोचा कि शायद कोई ये ना सोचे की मैं इसका मर्डर करने करने के लिए इसे यहाँ लाया था इसलिए मैंने तुरंत ही उसे उठा कर अपनी कार में बैठा कर घर ले आया | फिर मैंने उसे होश में लाने की बहुत कोशिश की पर वो होश में नहीं आई | उसके कपडे गीले थे तो मैंने उसके कपड़े उतार कर देखा तो क्या बदन था यार मैं तो खुद चकरा गया उसका बदन देख कर | उसके बड़े गोरे दूध मोटी फूली हुई चूत | मन तो कर रहा था कि ऐसी हालत में ही उसे चोद दूं | पर मजा नहीं आता | मैंने उसके बदन के हर एक हिस्से को अच्छे से साफ़ किया फिर अपनी बीवी के सूट अलमारी से निकाले और ब्रा पेंटी भी | मेरी बीवी का फिगर इससे कम था इसलिए ब्रा और पेंटी इसे टाइट पड़ रहा था | फिर भी मैंने जैसे तैसे एडजस्ट कर के उसे कपड़े पहना दिया |

फिर मैंने भी अपने कपड़े चेंज किये और सोने गया | उस दिन मैंने मुट्ठ नहीं मारा था | रात के करीब 12 बजे मेरी नींद खुली | तो मुझे रोने की आवाज़ आने लगी | मैं तुरंत उठ कर नीचे गया | देखा तो वही लड़की रो रही थी | मैं उसके पास गया तो वो मुझसे डरने लगी और जोर जोर से रोने लगी | मैंने उससे पूछा कि तुम रो क्यूँ रही हो ? तो उसने कहा आपने मेरा रेप किया है | मैंने कहा देखो तुम तालाब में डूब रही थी | मैं तुम्हे वहां से बचा कर लाया हूँ | उसे पूरी कहानी मैंने बताई अपनी और फिर उसने अपनी | हम दोनों की कहानी लगभग सेम ही थी | अब उसके पास रहने को घर नहीं था तो मैंने उससे कहा कि एक काम करो तुम मेरे घर ही रहने लगो | उसके रहने से मेरा रहन सहन बिलकुल अलग हो गया था | अब मुझे रोज नाश्ता सुबह मिल जाया करता था और लंच में टिफ़िन भी भेज दिया करती थी | अब हम दोनों की जिंदगी मियां बीवी की तरह हो गई थी बस चुदाई नहीं होती थी | मैं उसे रोज टाइम देने लगा और वो भी मेरे साथ रह कर खुश थी | उसके घर वालो ने उसे ढूँढने की कोशिश नहीं की इसलिए उसे मेरे घर रुकने में कोई दिक्कत नहीं थी | कुछ समय बीतने के बाद हम दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया | अब हम दोनों थे लेकिन सेक्स अब भी नहीं हुआ | एक दिन हम दोनों रात में टीवी देख रहे थे उसमे इंग्लिश मूवी चल रही थी | उसमे एक सीन आया जिसमे दोनों सेक्स करते हैं | ये देख कर उसने मेरी तरफ देखा और मैंने उसकी तरफ |

हम दोनों ने ही साथ में मुस्कुराया और शांत हो कर मूवी देखने लगे | उसके बाद फिर एक और सीन आया जिसमे फिर सेक्स करते हुए दिखाया | हम दोनों ने फिर से एक दूसरे को देखा और मुस्कुरा दिया | मैंने बहुत हिम्मत कर के उससे पूछा क्या तुम मुझसे शादी करोगी ? उसने भी तुरंत हाँ कर दिया | फिर मैंने उसे आई लव यू कहा उसने भी आई लव यू टू कहा | फिर मैं उठ कर उसका हाँथ पकड़ कर अपने रूम में ले गया | वहां मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया और उसने भी मेरा पूरा साथ दिया | फिर मैंने उसके गर्दन और गले को चूमने लगा तो वो हलकी सी सिस्कारियां लेते हुए मुझे भी चूमने लगी | फिर मैंने अपने कांपते हुए होंठ उसके होंठ में रख दिए | अब हम दोनों एक दूसरे के होंठ को चूसने लगे और बीच बीच में जीभ भी चूस लेते | फिर मैंने उसके सूट को उतारा और उसके ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध को मसलने लगा तो उसके मुंह से आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह  की आवाज़ निकलने लगी |

फिर मैंने उसके ब्रा को भी उतार दिया और उसके दोनों दूध को अपने मुंह से लगा कर बारी बारी से चूसने लगा तो वो आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए मेरे बदन पर हाँथ फेरने लगी | उसके बाद उसने मेरी टी-शर्ट को उतार दिया और मेरे लोअर को भी उतार कर अलग कर दिया | अब वो पलंग पर बैठ गई और और मेरा लंड पकड़ कर खींचा और मेरा अंडरवियर भी उतार कर मुझे पूरा नंगा कर दिया | अब उसने मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर जीभ से चाटना चालू कर दिया तो मेरे मुंह से भी आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | मेरे लंड को अच्छे से गीला कर के चाटने के बाद उसने उसे अपने मुंह में डाल लिया और चूसने लगी | मुझे बहुत अच्छा लग रहा था तो मैं आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए मजे ले रहा था |

फिर मैंने उसके कपड़े उतार कर उसे भी पूरा नंगा कर दिया और वहीँ नीचे बैठ कर मैंने उसकी टांगो बीच अपने मुंह को ले जा कर उसकी चूत को चाटने लगा तो वो आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए आन्हे भरने लगी | चूत चाटने के बाद मैंने अपने लंड को उसकी चूत के अन्दर डाल दिया और चुदाई चालू कर दी तो वो भी आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए मजे लेने लगी | फिर मैंने उसे जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया तो वो भी आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए कमर उठा उठा कर चुदाई क्रिया में साथ देने लगी | कुछ देर चुदाई के बाद मैंने अपना वीर्य उसकी चूत में ही निकाल दिया | उसके बाद हम दोनों दोनों ने फिर दो बार चुदाई की | अब हम रोज ही चुदाई करते हैं और मुझे मुट्ठ मरने की जरूरत नहीं पड़ती | हमारी कुछ समय बाद शादी होने वाली है |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर पसंद आई होगी |


Comments are closed.


error: