शिप्रा की टाइट चूत

Antarvasna, hindi sex story:

Shipra ki tight chut शिखा और मैं एक दूसरे को बहुत ही ज्यादा प्यार करते थे लेकिन अब हम दोनों के बीच बहुत झगड़े होने लगे थे इसलिए हम दोनों एक दूसरे से अलग होना चाहते थे। मैं शिखा को पिछले तीन वर्षों से डेट कर रहा था और अब हम दोनों एक दूसरे से अलग हो चुके थे। हम दोनों के ब्रेकअप हो जाने के बाद हम दोनों अपनी जिंदगी में आगे बढ़ गये और मैं भी अपनी नौकरी के लिए इंदौर चला आया। जब मैं इंदौर आया तो मेरे लिए कुछ भी आसान नहीं था क्योंकि मेरे दिमाग से शिखा का ख्याल उतर नही पाया था। मैं हमेशा ही शिखा के बारे में सोचा करता लेकिन मुझे अपनी जिंदगी में आगे बढ़ना ही था। मैं अपनी जिंदगी में आगे बढ़ने की कोशिश कर रहा था मेरा शिखा से कोई भी सम्पर्क नहीं था लेकिन मेरे दोस्तों ने मुझे बताया कि मनीष अब शादी करने वाली है। जब मुझे यह बात पता चली तो मुझे काफी बुरा लगा की शिखा शादी करने वाली थी।

शिखा ने शादी करने का फैसला किया तो मेरे लिए यह बहुत ही कठिन समय था। हम दोनों एक दूसरे से अलग तो हो चुके थे लेकिन मेरे लिए यह स्वीकार करना थोड़ा मुश्किल था परंतु अब मुझे आगे बढ़ना ही था इसलिए मैं अब आगे बढ़ने की कोशिश में लगा हुआ था। इस बात से कहीं ना कहीं मेरी नौकरी पर भी असर पड़ने लगा था और जिस कंपनी में मैं नौकरी करता था वहां से मुझे जॉब छोड़नी पड़ी थी। मैं काफी परेशान रहने लगा था और यही वजह थी कि मेरी जिंदगी में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा था। मैं इंदौर में जिस कॉलोनी में रहता हूं वहां पर मेरे बिल्कुल सामने वाले फ्लैट में एक लड़की रहने के लिए आई वह काफी बिंदास किस्म की है। उससे मेरी ज्यादा बात तो नहीं हुई थी लेकिन जब भी वह मुझे मिलती तो उसके चेहरे पर हमेशा ही मैं मुस्कुराहट देखा करता जिससे कि मुझे भी लगता कि वह कितनी ज्यादा खुश है लेकिन अभी तक ना तो मैं उसका नाम जानता था और ना हीं मेरी उससे बात हुई थी।

मैं अक्सर उसे देख ही लिया करता था और जब भी वह मुझे दिखती तो मुझे बहुत अच्छा लगता। एक दिन हम दोनों लिफ्ट में थे और उस दिन उसने मुझसे बात की वह कहने लगी कि क्या आप यहीं रहते हैं तो मैंने उसे कहा कि हां मैं आपके बिल्कुल सामने वाले फ्लैट में रहता हूं। शायद उसने मुझे कभी भी नोटिस नहीं किया था लेकिन उस दिन उसने मुझसे बात की और जब पहली बार शिप्रा ने मुझसे बात की तो मुझे अच्छा लगा। शिप्रा से बात कर के मैं काफी खुश था और यह काफी समय बाद हुआ था  जब मेरे चेहरे पर खुशी थी। उस दिन के बाद मैं शिप्रा से बातें करने लगा शिप्रा और मेरी एक दूसरे से बातें होने लगी थी और हम दोनों जब भी एक दूसरे से बातें करते तो हम दोनों को ही अच्छा लगता है। शिप्रा के बारे में भी मुझे अब पता चलने लगा था और कहीं ना कहीं वह भी मेरे बारे में जानने लगी थी। अब हम दोनों की काफी अच्छी दोस्ती हो चुकी थी इसलिए मैंने भी शिप्रा को अपनी जिंदगी से जुड़ी हर बात को बता दिया।

मैं शिप्रा से अपने रिलेशन के बारे में भी बता चुका था मैंने उसे शिखा के बारे में सब कुछ बता दिया था। शिप्रा ने मुझे कहा कि तुम्हें आगे बढ़ना चाहिए और यह सब तुम्हे भूल जाना चाहिए इससे तुम्हारी जिंदगी पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है। जब शिप्रा ने मुझसे यह बात कही तो मुझे भी काफी अच्छा लगा और अब हम दोनों ही एक दूसरे को मिलने लगे। शिप्रा मेरे पड़ोस में ही रहती थी इसलिए कभी भी उसे कुछ जरूरत होती तो मैं हमेशा ही उसकी मदद के लिए खड़ा रहता। मेरी जिंदगी में शिप्रा के आने से बहुत ज्यादा बदलाव आने लगे थे और मैं अपनी नौकरी पर भी पूरी तरीके से ध्यान देने लगा था। मैं जिस तरीके से अपनी जॉब कर रहा हूं उससे भी मैं बहुत ज्यादा खुश हूं और मैं अब शिप्रा के साथ अपना समय अच्छे से बिताने की कोशिश किया करता। शिप्रा और मेरे बीच बहुत अच्छी दोस्ती है और हम दोनों एक दूसरे को बहुत अच्छे से समझते हैं।

कहीं ना कहीं हम दोनों के ख्यालात भी मिलते हैं जिस वजह से मुझे बहुत ही अच्छा लगता है। मैं बहुत ज्यादा खुश हूं कि शिप्रा और मैं एक दूसरे के साथ अपने रिलेशन को अच्छे से चला रहे है। हम एक दूसरे को बहुत अच्छे से समझते हैं और कहीं ना कहीं हम दोनों के खयालात भी मिलते हैं जिस वजह से मुझे बहुत ही अच्छा लगता है और मैं बहुत ज्यादा खुश हूं। हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत ही ज्यादा खुश हैं और जिस तरीके से हम दोनों की जिंदगी चल रही है उससे मैं और शिप्रा अब अपनी दोस्ती से भी कुछ आगे बढ़ चुके थे। शिप्रा का मेरी जिंदगी में बहुत महत्व है इसलिए मैं भी चाहता हूं कि शिप्रा से मैं अपने दिल की बात कह दूं। मैं चाहता था कि शिप्रा मेरी जिंदगी में आ जाए और मैंने भी शिप्रा से अपने प्यार का इजहार किया तो शिप्रा मुझसे कहने लगी कि रोहित यह सब तो ठीक है लेकिन मैं भी तुम्हें अपने बारे में बताना चाहती हूं। उस दिन मुझे शिप्रा ने अपनी जिंदगी के बारे में बताया।

शिप्रा ने मुझे बताया कि उसकी जिंदगी बेहद गरीबी में गुजरी है और इस वजह से उसके पापा ने उसकी शादी जल्द ही तय कर दी थी लेकिन वह शादी करने के लिए तैयार नहीं थी इसलिए वह घर से भाग गई। मुझे यह बात शिप्रा ने पहली बार ही बताई थी और जब मुझे यह बात पता चली तो मैंने उसे कहा कि तुमने मुझे इस बारे में कभी क्यों नहीं बताया। शिप्रा ने मुझे कहा कि मैं तुम्हें इस बारे में नहीं बताना चाहती थी लेकिन हां जब तुमने मुझसे अपने दिल की बात कही तो मैं भी चाहती हूं कि तुमसे मैं कुछ ना छुपाऊं। शिप्रा ने मुझे यह बात बता दी थी तो मुझे भी इससे कोई परेशानी नहीं थी। शिप्रा और मैं अब एक दूसरे के साथ रिलेशन में है और हम दोनों बहुत ज्यादा खुश हैं। जिस तरीके से शिप्रा और मैं साथ में है उससे मुझे बहुत अच्छा लगता है क्योंकि हम दोनों की जिंदगी एक दूसरे से जुड़ी हुई है। जिस तरीके से हम दोनों की लाइफ चल रही है उससे हम दोनों बहुत ज्यादा खुश है।

मुझे बहुत खुशी है कि शिप्रा के साथ मैं अपने रिलेशन को अच्छे से चला पा रहा हूं और हम दोनों का रिलेशन बहुत ही अच्छे से चल रहा है। शिप्रा और मुझे एक दूसरे के साथ बहुत ही अच्छा लगता। जब भी हम दोनों एक दूसरे को नहीं मिलते तो हम दोनों को ही ऐसा लगता जैसे कि कुछ अधूरा रह गया है। शिप्रा अपने काम के सिलसिले में कहीं बाहर जाती तो मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता। हम दोनों का प्यार दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा था। एक दिन हम दोनो साथ में बैठे हुए थे क्योंकि उस दिन शिप्रा भी घर पर थी और में भी घर पर ही था। हम दोनों एक दूसरे से बातें कर रहे थे। मैंने शिप्रा की तरफ देखा तो शिप्रा की आंखों में मुझे बहुत ज्यादा प्यार नजर आ रहा था। मैंने शिप्रा के हाथों को पकड़ा मै उसके हाथों को सहलाने लगा और शिप्रा की गर्मी भी बढ़ती जा रही थी। उसकी गर्मी इतनी ज्यादा बढ़ चुकी थी वह बिल्कुल भी रह नहीं पा रही थी ना तो मैं अपने आपको रोक पा रहा था और ना ही वह अपने अंदर की गर्मी को रोक पा रही थी। मैंने शिप्रा के बदन से कपड़े उतारते हुए जब उसके बदन को महसूस करना शुरू किया तो वह गर्म होने लगी और मेरी गर्मी भी बहुत ज्यादा बढ़ने लगी थी। मैं और शिप्रा एक दूसरे की गर्मी को बढ़ाते जा रहे थे। मैं उसके निप्पल का रसपान कर रहा था जिससे कि वह बिल्कुल भी रह नहीं पा रही थी और मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था।

मैंने शिप्रा से कहा मुझे तुम्हारी चूत को चाटना है। शिप्रा ने अपनी काली रंग की पैंटी को नीचे किया। मैं उसकी चूत को देख रहा था शिप्रा की चूत पर एक भी बाल नहीं था उसकी योनि को देखकर मैं उसकी योनि को चाटने लगा। मुझे उसकी योनि को चाटने में बहुत ही अच्छा लग रहा था उसकी चूत से बहुत ज्यादा पानी बाहर की तरफ को निकल रहा था। मुझे मज़ा आ रहा था शिप्रा और मैं एक दूसरे की गर्मी को बढाए जा रहे थे। हम दोनों बहुत ज्यादा खुश हो चुके थे जिस तरीके से हम लोगों ने एक दूसरे की गर्मी को बढ़ा दिया था। मुझे शिप्रा की चूत को चाटने में मजा आ रहा था लेकिन अब वह भी मेरे लंड को चूसना चाहती थी। जब उसने मेरे लंड को चूसना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा और उसे भी बहुत ज्यादा मजा आ रहा था। जब वह ऐसा कर रही थी तो हम दोनों एक दूसरे की गर्मी को बढ़ा रहे थे।

जब मैंने शिप्रा की चूत पर अपने लंड को लगाया तो शिप्रा की चूत से पानी निकाल रहा था। उसकी चूत से निकलता हुआ पानी  मेरे गर्मी को बढाए जा रहा था। मैं शिप्रा की चूत के अंदर अपने लंड को घुसाने वाला था। मैंने उसकी चूत में लंड को डाला तो वह बहुत जोर से चिल्लाई और मैंने देखा शिप्रा की चूत से खून बाहर की तरफ निकल आया है। शिप्रा की चूत से निकलता हुआ खून मेरे गर्मी को बढा रहा था। मुझे मज़ा आ रहा था जब मैं और शिप्रा एक दूसरे की गर्मी को बढाए जा रहे थे। हम दोनों ने एक दूसरे की गर्मी को इतना ज्यादा बढ़ा था हम दोनों बिल्कुल भी रह नहीं पा रहे थे।

जिस तरीके से हम लोगों की गर्मी बढ़ती जा रही थी हम दोनों रह सके और मैंने शिप्रा को बड़ी तेजी से धक्के देना शुरू कर दिया था। मेरा धक्को में और भी तेजी आती जा रही थी। शिप्रा की चूत मुझे बहुत ज्यादा टाइट महसूस हो रही थी। उसकी योनि से लगातार पानी बाहर निकल रहा था। जिस तरीके से उसकी चूत से पानी बाहर निकल रहा था उससे मुझे मज़ा आ रहा था और शिप्रा को भी बड़ा अच्छा लग रहा था। हम दोनों एक दूसरे की गर्मी को बढखए जा रहे थे। मैंने जैसे ही शिप्रा की चूत में अपने माल को गिराया तो वह खुश थी और उसने मेरे लंड को उसके बाद चूसा। मेरे लंड पर लगे माल को शिप्रा ने अंदर निगल लिया था।


Comments are closed.