शिप्रा की चूत फाड़ डाली

Antarvasna, kamukta:

Shipra ki chut faad daali पापा के रिटायर हो जाने के बाद पापा ज्यादातर घर पर ही रहा करते थे एक दिन पापा ने मुझे कहा कि राजेश बेटा मैं सोच रहा हूं कि हम लोग कभी फैमिली टूर पर जाएं। मैंने पापा से कहा कि पापा अगर आप कहें तो मैं कहीं जाने का प्लान बनाता हूं तभी मां रसोई से आई और कहने लगी बेटा क्यों ना हम लोग जयपुर चलें। मैंने मां से कहा हां मां वैसे तो तुम ठीक कह रही हो हम लोग जयपुर जा सकते हैं पापा ने कहा कि ठीक है बेटा तुम जयपुर जाने का प्लान बना लो। हम लोगों ने जयपुर जाने का प्लान बना लिया जब हम लोग जयपुर गए तो जयपुर में हम लोगों को काफी अच्छा लग रहा था और मैं काफी ज्यादा खुश भी था पापा मम्मी भी काफी खुश थे। हम लोग जयपुर में कुछ दिनों तक रहे और फिर उसके बाद हम लोग वापस दिल्ली लौट आए जब मैं दिल्ली लौटा तो मुझे अपने ऑफिस के काम से कुछ दिनों के लिए कानपुर जाना था और मैं कुछ दिनों के लिए कानपुर चला गया।

जब मैं कानपुर से वापस लौटा तो उस दिन मैं काफी ज्यादा थका हुआ था मैं सुबह ही घर पहुंच चुका था तो मां ने मुझे कहा कि बेटा तुम बहुत थके हुए लग रहे हो तुम कुछ देर आराम कर लो तुम्हें अच्छा लगेगा। मैंने मां से कहा हां मां मैं भी यही सोच रहा हूं। मैं अपने रूम में सोने के लिए चला गया मैं जब अपने रूम में सोने के लिए गया तो मुझे काफी गहरी नींद आ गई और मैं सो चुका था। जब मैं उठा तो मां मेरे लिए खाना बनाकर ले आई थी मां ने मुझे कहा कि बेटा तुम खाना खा लो मैंने मां से कहा कि हां मां मैं खाना खा लेता हूं। मां ने खाना टेबल पर रख दिया था और उसके बाद मै खाना खाने लगा। शाम के वक्त मैं अपनी कॉलोनी के पार्क में चला गया वहां पर मैं बैठा हुआ था तो मेरा दोस्त मोहन वहां पर आ गया मोहन ने मुझे कहा कि राजेश क्या तुम कुछ दिनों के लिए कहीं गए हुए थे। मैंने मोहन से कहा कि हां मैं कुछ दिनों के लिए अपने ऑफिस के काम के सिलसिले में गया हुआ था मैं आज ही लौटा हूं। मैंने मोहन को कहा तुम बताओ तुम्हारी जॉब कैसी चल रही है तो मोहन ने मुझे कहा कि मैंने तो अपनी जॉब से रिजाइन दे दिया है मैंने मोहन को कहा लेकिन तुमने अपनी जॉब से रिजाइन क्यों दिया तो मोहन ने मुझे बताया कि वह कुछ समय में अपना बिजनेस शुरू करने वाला है।

मैंने मोहन को कहा चलो यह तो बहुत ही अच्छा है कि तुम अपना बिजनेस शुरू करने वाले हो। मैं और मोहन साथ में बैठे हुए थे तो मोहन ने मुझे कहा कि राजेश मैं चलता हूं मैंने मोहन को कहा ठीक है। राजेश वहां से जा चुका था उसके बाद मैं भी घर लौट आया मैं जब घर लौटा तो पापा भी अपने दोस्त के घर से लौट चुके थे वह अपने दोस्त से मिलने के लिए गए हुए थे। हम लोगों ने डिनर किया और डिनर करने के बाद मैं अपने रूम में लेटा हुआ था मैंने अपने फेसबुक को खोला तो मैंने देखा फेसबुक पर मुझे एक फ्रेंड रिक्वेस्ट आई हुई थी वह किसी लड़की की थी लेकिन मैं उसे जानता नहीं था। मैंने जब उसकी प्रोफाइल देखी तो मैं उस लड़की को पहचान नहीं पाया था लेकिन मैंने उसकी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली। कुछ दिनों बाद मुझे उस लड़की ने फेसबुक चैट पर मैसेज भेजना शुरू किया और हम दोनों की फेसबुक चैट पर बातें होने लगी अब हम दोनों एक दूसरे से बातें करने लगे थे। उसने मुझे अपना नाम बताया और मैंने जब उससे पूछा कि क्या हम लोग इससे पहले भी कहीं मिले हैं तो शिप्रा ने मुझे बताया कि हां हम लोग इससे पहले भी मिल चुके हैं। मैंने शिप्रा को कहा लेकिन मुझे तो ध्यान नहीं है कि हम लोग कब मिले थे शिप्रा ने मुझे कहा कि हम लोग दो वर्ष पहले मिले थे।

जब शिप्रा ने मुझे याद दिलाया कि वह मुझे मेरे ऑफिस में ही मिली थी तो मैंने शिप्रा को कहा कि हां मुझे अब ध्यान आया तुम मुझे ऑफिस में ही मिली थी तुम से मेरी मुलाकात नलिनी ने करवाई थी। नलिनी हमारे ऑफिस में अभी भी जॉब करती है शिप्रा नलिनी की दोस्त है लेकिन शिप्रा से जब मैंने बात की तो मुझे भी काफी ज्यादा अच्छा लगा और फिर मैं शिप्रा से बातें करने लगा था। मैं यदि शिप्रा से बातें करता तो मुझे अच्छा लगता हम लोगों की मुलाकात हो नहीं पाई थी लेकिन एक दिन मैंने शिप्रा को फोन कर के कहा कि क्या हम लोग मिल सकते हैं तो शिप्रा ने मुझे कहा कि हां क्यों नहीं। उस दिन हम लोगों ने मिलने का फैसला कर लिया था, उस दिन जब पहली बार मैं शिप्रा को मिला तो मुझे उससे मिलकर बहुत अच्छा लगा। मैंने शिप्रा को देखा तो मैं काफी ज्यादा खुश हुआ शिप्रा बहुत ही ज्यादा सुंदर है और पहली ही नजर में मुझे ऐसा लगा कि जैसे शिप्रा को मैं प्यार कर बैठा हूं। दो साल पहले जब शिप्रा मुझे दिखी थी तो वह बहुत ही सिंपल सी थी लेकिन अब वह पूरी तरीके से बदल चुकी है। शिप्रा मेरे बिल्कुल सामने बैठी हुई थी और मैं उसे देख रहा था मैंने शिप्रा को कहा कि क्या तुम कुछ लोगी तो शिप्रा ने मुझे कहा कि मेरे लिए कोल्ड कॉफी मंगा दीजिए। मैंने आर्डर कर के दो कोल्ड कॉफी मंगवा दी थी अब हम दोनों साथ में बैठे हुए थे और हम दोनों बातें कर रहे थे तो मुझे काफी ज्यादा अच्छा लग रहा था।

मैंने शिप्रा से उस दिन काफी देर तक बात की और उसके बाद मैं वापस घर लौट आया लेकिन मेरे सामने बार-बार शिप्रा का चेहरा आ रहा था और मैं काफी ज्यादा खुश था मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा भी लग रहा था। मैंने शिप्रा को फोन किया और शिप्रा से मैंने काफी देर तक फोन पर बातें की, मैं जब शिप्रा से बात करता तो मुझे अच्छा लगता और जिस दिन हम दोनों की बातें नहीं होती तो मुझे ऐसा लगता जैसे मेरा दिन ही अधूरा रह गया हो। शिप्रा से बातें करना मुझे बहुत अच्छा लगता था हम दोनों की बातें बहुत होती और हम दोनों एक दूसरे के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताने की सोचा करते थे। शिप्रा भी मुझसे प्यार करने लगी थी और हम दोनों के बीच प्यार अब बहुत ज्यादा बढ़ने लगा था जिस वजह से शिप्रा चाहती थी कि हम दोनों अपने परिवार वालों से अपने रिश्ते के बारे में बात कर ले। मैंने शिप्रा को कहा कि शिप्रा मुझे कुछ समय चाहिए होगा क्योंकि मैं नहीं चाहता कि अभी मैं शादी के बंधन में बंध जाऊं शिप्रा ने कहा कि कोई बात नहीं। हम दोनों रिलेशन में थे और एक दूसरे के साथ काफी ज्यादा खुश भी हैं। एक रात मैंने शिप्रा के साथ फोन पर बड़ी ही अश्लील बातें की और हम दोनों उस दिन बहुत ज्यादा गरम हो गए थे।

शिप्रा मेरे साथ मेरे दोस्त के घर पर आई जब वह मेरे साथ मेरे दोस्त के घर पर थी तो उसे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था। वह पहले तो बहुत घबरा रही थी। मैंने उसे कहा तुम घबराओ मत कुछ नहीं होगा। जब मैंने उसे अपनी बाहों में लेकर उसके होंठों को चूमना शुरू किया तो उसे बहुत अच्छा लगने लगा था। वह बहुत ज्यादा खुश हो चुकी थी वह मुझे कहने लगी मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है। मैं भी काफी ज्यादा खुश था जब शिप्रा के नरम होंठो को मैं अपने होठों में लेकर चूम रहा था। शिप्रा के अंदर की गर्मी को मै पूरी तरीके से बढा चुका था। अब मेरे अंदर की गर्मी बढ़ चुकी थी जब मैंने अपने लंड को बाहर निकाल कर उसे हिलाना शुरू किया तो शिप्रा मुझे कहने लगी मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जाएगा। मैं भी समझ चुका था शिप्रा बिल्कुल भी रह नहीं पाएगी। मैंने उसे कहा मैं अब तुम्हारी चूत के अंदर अपने मोटे लंड को डालना चाहता हूं। वह भी अब इस बात के लिए तैयार थी उसने मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर कुछ देर तक सकिंग किया। जब वह मेरे लंड को चूस रही थी तो मुझे मजा आ रहा था। जब उसने मेरे लंड को चूसा तो उसे मजा आने लगा था। उसने मेरे अंदर की गर्मी को पूरी तरीके से बढ़ा दिया था। मै अपनी गर्मी को रोक नहीं पा रहा था उसकी गर्मी पूरी तरीके से बढ चुकी थी। जब मैंने शिप्रा के कपड़े खोलकर शिप्रा के होंठों को चूमना शुरू किया तो उसे और भी मजा आ रहा था और उसे अच्छा लग रहा था। मेरी गर्मी बढ चुकी थी।

अब हम दोनों को ही मजा आने लगा था। मेरे अंदर की गर्मी तो इतनी बढने लगी थी मैंने उसे कहा मैं तुम्हारी चूत को चाटना चाहता हूं। वह बोली ठीक है तुम मेरी योनि को चाट लो। मैने शिप्रा की चूत को चाटा। मैंने शिप्रा की योनि के अंदर अपने लंड को घुसा दिया था। जब मैने अपने मोटे लंड को शिप्रा कि योनि के अंदर डाला तो वह बहुत जोर से चिल्लाई। शिप्रा की सील पैक चूत से खून निकल आया था मुझे बहुत अच्छा लगा जब मैं उसकी चूत के अंदर बाहर लंड को कर रहा था। मेरे अंदर की आग पूरी तरीके से बढ़ चुकी थी और शिप्रा के अंदर की आग भी अब बढ़ चुकी थी। वह मुझे कहने लगी मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा है मेरे अंदर की आग बढ चुकी थी।

मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा था। मैंने शिप्रा को तेज गति से चोदना शुरू कर दिया था। उसकी चूत की गर्मी बढ़ती ही जा रही थी। अब उसकी चूत के अंदर से निकलती हुई गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ चुकी थी। मैने शिप्रा की चूत फाड कर रख दी थी अब शिप्रा को मजा आ रहा था। शिप्रा की चूत से पानी निकल रहा था। अब मुझे बहुत मजा आने लगा था। हम दोनों ने एक दूसरे के साथ सेक्स का मजा जमकर लिया। जब मुझे एहसास होने लगा कि अब मैं रह नहीं पाऊंगा तो मैंने शिप्रा से कहा मै बहुत ज्यादा खुश हूं। मैने अपने माल को शिप्रा की चूत मे गिरा दिया था। मैं अब बहुत ज्यादा खुश हो गया था। हम दोनों ने एक दूसरे के साथ जमकर सेक्स का मजा लिया शिप्रा भी बहुत ही ज्यादा खुश थी। हमने एक दूसरे के साथ जमकर सेक्स का मजा लिया। उसके बाद तो शिप्रा को मोटे लंड को लेने की आदत पड़ चुकी थी और वह अक्सर मुझे कहती मुझे तुम्हारे साथ सेक्स करना है और हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स किया करते। मैं और शिप्रा एक दूसरे से प्यार बहुत ज्यादा करते हैं और हम दोनों के बीच प्यार भी काफी ज्यादा है। हम दोनो एक दूसरे के लिए बहुत ज्यादा तड़पते है।


Comments are closed.