शादी से पहले भाभी की चुदाई देखी

Hindi sex stories

हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सब मेर नाम है सनी और मैं आज आपके सामने अपनी एक कहानी लेकर प्रस्तुत हुआ हूँ | देखो दोस्तों हर किसी की जिंदगी में कुछ न कुछ खास होता है और मेरे जीवन में भी कुछ खास है और वो है मेरा दोस्त समीर | समीर एक बिन माँ बाप का बच्चा है और उसका पालन पोषण उसकी दादी ने किया है | वैसे तो ये कोई बताने वाली बात नहीं है पर मुझे लगा आप से बताऊँ | समीर बचपन से ही बड़े गुस्से वाला है और अभी मैं तो विदेश में हूँ इसलिए ज्यादा पता नहीं पर स्कूल की एक बात आपको ज़रूर बताना चाहूँगा | हमारे स्कूल में फंक्शन था और सभी बच्चों के माँ बाप आये थे बस मेरे और समीर के नहीं | स्कूल में हमारी दोस्ती के चर्चे मशहूर थे पर एक लड़के ने मुझे धक्का दे दिया और समीर ने उसको इतना मारा कि उसके हाथ पैर टूट गए | जब प्रिंसिपल और मैं उसे रोक रहे थे तो उसने प्रिंसिपल को भी एक चांटा रसीद दिया | अब प्प्रिन्सिपल ने उसकी दादी को बुलाया और कहा देखिये मैडम अरुण की वजह से हम उसे संभाल पा रहे थे पर अब वो और ज्यादा गुस्से वाला हो गया तो हम उसे पढ़ा नहीं सकते | वैसे अरुण मेरा असली नाम है पर प्यार से वो मुझे सनी बुलाता है |

स्कूल के बाद हम अक्सर मिलते पर फिर मैं विदेश आ गया और अपनी पढ़ाई पूरी करके एक बड़ी सी कंपनी में काम करने लगा | मुझे उसकी बाड़ी याद आती पर मुझे छुट्टी नहीं मिलती थी इसलिए मैं सोच रहा था वापस अपने देश चला जाऊं और वहीँ कोई नया काम शुरू कर दूँ | पर ये इतना आसान नहीं था इसलिए मैंने सोचा पहले थोड़े पैसे कमा लेता हूँ फिर लौट जाऊँगा और दो साल मैंने मन लगाकर काम किया और ४० लाख रुपये जोड़ लिए | मैंने सोचा अब मैं रिजाइन कर दूंगा पर उसके पहले ही उसकी दादी का फोन आ गाया | उन्होंने मुझे बताया बेटा समीर को एक लड़की से प्यार हो गया था | मैंने कहा दादी ये तो काफी अच्छी खबर है पर उन्होंने कहा बेटा समय के साथ वो और खतारनाक हो गया है | मैंने पूछा अब क्या कर दिया उस नालायक ने | दादी ने बताया बेटा कुछ लड़के उस लड़की को छेड रहे थे तो उसने उन्हें खूब मारा | और अभी उसको पुलिस वाले ले गए हैं कल उसे कोर्ट ले जाने वाले हैं |

मैं सोच में पड़ गया यार अब मैं क्या करूँ तो मैंने उसी रात को दादी को फोन लगाया और कहा दादी इन दोनों की शादी करवा दो | उन्होंने कहा बेटा वो लड़की पहले ही शादी कर चुकी है उसे समीर के गुस्से से डर लग गया और समीर का दिल टूट गया है | मैंने कहा उसे कही बाहर भेज दो और मैंने गोवा में अपने एक दोस्त के रिसोर्ट में फोन किया और समीर के लिए नौकरी का जुगाड़ करवा दिया | समीर इस बात से अनजान था | अब वो गोवा चला गया और उसे वहां गाड़ी और रहने को घर सब मिल गया और उसकी सैलरी भी अच्छी थी | वो वहां गया और उसे एक दिन एक लड़की के बारे में पता चला रानी और उसकी दोस्ती राजू नाम के एक पंडित से भी हो गई | मैं वहां पहुँच नहीं पाया था क्यूंकि मुझे एक हफ्ते बाद छोड़ने वाले थे | पर उससे पहले मुझे पता चल गया था कि लडकी के बाप से इसके मतभेद हो गए हैं | लड़की इससे नफरत करने लगी है | अब मैं तो था दोस्त और मुझे उसकी मदद करना तो बनता था |

मैं वहां गया और उसी के घर में रुका और उसे शक भी नहीं होने दिया कि मैं उसके बचपन का दोस्त हूँ अरुण उर्फ़ सनी | पर मुझे पता था एक न एक दिन व मुझे पहचान ही जाएगा | मुझे एक बड़ी गन्दी आदत है और वो बचपन से है | मैं बड़े अजीब तरीके से इत्र लगाता हूँ | और उसे मेरी ये बात पता थी तो एक दिन मैं नहा के बाहर आया और यही कर रहा था | मुझे लगा वो काम पे गया है पर वो अचानक ऊपर आ गया | उसे महक आ गयी और उसने कहा तू अरुण है क्या तो मैंने कहा नहीं | उसने मुझे गर्दन से पकड़ ऊपर उठा लिया और कहा बता तू कौन है | तो मुझे भी मजबूरी में कहना पड़ा हाँ मैं हूँ तेरा दोस्त सनी | जैसे ही उसने ये सुना उसने मुझे नीचे उतारा और कहा साले तूने मुझे बताया भी नहीं और तू साले यहाँ कर क्या रहा है | मैंने कहा बस तेरी याद आ रही थी तो चला आया तेरे पास | उसने कहा यार बड़ी दिक्कत हो गयी थी जिंदगी में अब मैं तुझे क्या क्या बताऊँ | मैंने कहा कुछ मत बता मुझे सब पता है दादी ने मुझे सब बता दिया है |

मैंने कहा साले तू मेरे पीछे सब करता था पर तुझे ख्याल नहीं आया कि तेरा दोस्त किस हाल में है | मैंने कहा मुझे सब पता था इसलिए मैं यहाँ आया हूँ ताकि उस लड़की की चूत तुझे दिलवा सकूँ | उसने कहा चूत का और प्यार का क्या सम्बन्ध है | मैंने कहा देख तूने प्यार किया और चूत नहीं मारी इसलिए लड़की दूर चली गयी | पर अब तू पहले चूत मारना और उसके बाद प्यारा करना फिर देखता हूँ लड़की कहाँ जाती है | अब मुझे बस इतना करना था कि उस लड़की को समीर के पास लाना था | पर मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं ये करूँगा कैसे | इसलिए मैंने एक तरकीब लगाईं और उसके बाप से दोस्ती बना ली और उसकी माँ को भी पटा लिया | अब इसके बाद मैंने सोचा इनको समीर की अच्छी बाते बता देता हूँ ताकि ये लोग खुश हो जाए और उसे माफ कर दें | मैंने ठीक ऐसा ही किया और मेरी ये तरकीब काम कर रही थी | वो लड़की भी अब समीर के लिए थोडा बहुत अच्छा सोचने लगी थी |

एक दिन मैंने कहा यार वो समीर की कुछ तबियत ख़राब है प्लीज उसके लिए कुछ ले जाओ तो वो एकदम परेशान हो गयी और कहने क्या हुआ उसको तुमने मुझे पहले क्यूँ नहीं बताया | वो तुरंत उसके लिए जूस ले कर गयी और मैं तो यही चाहता था | ममिने समीर को पहले ही सब समझा दिया था और उसने भी सब का इंतज़ाम करके रखा था | जैसे ही वो अन्दर गयी समीर ने पहले नाटक किया और उसने बाद जब उसने समीर का सर अपनी गोद में लिया समीर ने उसे अपनी तरफ खींच लिया और उसके गले लग गया और कहने लगा मुझसे गलती अनजाने में हुयी | वो भी सामीर को गले लगाकर कहने लगी मुझे पता है समीर | उसके बाद समीर ने उसे किस करना शुरू कर दिया और वो भी उसका साथ देने लगी | उसके बाद समीर ने उसका टॉप उतार दिया और उसके दूध को ब्रा के ऊपर से ही मसलने लगा | वो भी काम वासना से भर गयी और समीर के लंड को ऊपर से ही मसलने लगी | मैंने बाद में देखा कि समीर उसको पूरा नंगा कर रहा था |

उसके बाद उसने उसकी चूत पे ऊँगली फेरना शुरू कर दिया और उसके बाद वो उसकी चूत में ऊँगली डाल रहा था | वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी | उसके बाद समीर ने उसकी चूत को चाटना शुरू किया और वो दोनों ६९ अवस्था ममे थे | वो दोनों आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रहे थे |

फिर समीर ने उसकी चूत में अपना लंड द्दाल दिया और वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी | थोड़ी देर ऐसे ही चोदने के बाद उसने उसकी गांड में अपना लन्दन डाल दिया और वो चिलाने लगी पर थोड़ी देर की चुदाई के बाद वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करके उसका साथ देने लगी |

उन लोगों ने चुदाई की और अब वो दोनों पति पत्नी हैं और मैं खुश हूँ उसकी ख़ुशी से |

 

 


Comments are closed.