शादी के बाद सुहागरात मेरे साथ

Shadi ke baad suhagraat mere sath:

indian sex stories

हाय दोस्तों, कैसे हैं आप सभी ? मैं आशा करता हूँ की आप सभी अच्छे होंगे और चुदाई के मजे ले रहे होंगे | मेरा नाम नीरज  राजपूत है और मैं धुलिया गाँव का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 21 साल है और मैंने अभी कॉलेज की पढाई कम्पलीट की है | मैं दिखने में सांवला हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 10 इंच है | दोस्तों मैं इस साईट का बहुत बड़ा फैन हूँ और मुझे इस साईट पर चुदाई की कहानियां पढना बेहद पसंद है क्यूंकि यहाँ पर मेरा अच्छा समय बीतता है | दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं आशा करता हूँ कि आप लोगो को मेरी ये कहानी अच्छी लगेगी और सभी को मेरी कहानी पढ़ कर मजा भी आएगा | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय न लेते हुए सीधा अपनी कहानी शुरू करता हूँ |

दोस्तों ये जो घटना है ये कुछ समय पहल की है | मेरे घर में और मेरे मम्मी पापा रहते हैं | मैं अपने घर वालो की एकलौती संतान हूँ | अकेला लड़का हूँ इसलिए मेरे मम्मी पापा दोनों ही मुझे बहुत प्यार करते हैं और लाड़ से पाल पोसकर बड़ा किया है | मेरे पापा सरकारी नौकरी करते हैं और मम्मी स्कूल में टीचर हैं | कॉलेज खत्म होने के बाद मैं घर में काफी बोर होता था तो मेरी मम्मी की एक फ्रेंड है जिनका नाम सोनाक्षी है | उनकी उम्र 34 है और वो शादीशुदा है | उनका एक छोटा सा प्यारा सा बेटा है | आंटी के पति मुंबई में रह कर जॉब करते हैं और आंटी यहाँ पर अकेले रहती हैं | आंटी भले ही शादीशुदा हैं लेकिन वो बहुत ही जवान लगती हैं | उसके बड़े बड़े दूध हैं और बड़ी गोल सी गांड है | मन तो करता था की उन्हें चोद दूं लेकिन क्या करूँ डरता भी था कि कहीं आंटी ने घर में बता दिया तो दिक्कत हो जाएगी | इसी डर से मैं उन्हें कुछ नहीं कहता था | लेकिन जब आंटी को ये पता चला कि मेरे कॉलेज की पढाई खत्म हो चुकी है तब वो मुझे रोज अपने घर बुला लिया करती थी | एक दिन की बात है मैं उनके घर गया तो शायद उन्होंने कोई नयी साड़ी पहने हुई थी और जब उन्होंने मुझे देखा तो कहा नीरज  जरा देख तो और बता मैं कैसी लग रही हूँ ? तो मैंने कहा आंटी आप बहुत ही सुन्दर लग रहे हो | अगर आप शादीशुदा नहीं होती तो मैं आपसे शादी कर लेता | आंटी ये सुन कर खुश हो गई तो वो भी कह गई कि अच्छा तो अब कर ले शादी किसी को पता नहीं चलेगा | मैंने पुछा वो कैसे ? तो उन्होंने बताया कि देख मेरे पति तो बाहर ही रहते हैं और बहुत कम ही आते हैं तो मुझे चुदाई ठीक से नहीं मिल पाती हैं इसलिए मैं तुझसे कह रही हूँ बन जा मेरा पति और कर दे अपनी होने वाली पत्नी की चुदाई | मैंने कहा अरे नहीं यार आपका बेटा भी तो रहता है | तो फिर उन्होंने कहा की तू उसकी टेंशन मत ले कुछ नहीं होगा | जब हम एक बर सेक्स कर रहे थे तब सेक्स भी नहीं हो पाया और उसके बेटे ने भी देख लिया था हमे | अच्छा हुआ कि वो अभी छोटा है इसलिए दिक्कत नहीं हुई अगर बड़ा होता तो पता नहीं क्या अनर्थ हो जाता | मैंने फिर कहा आंटी से कि देखा मैंने कहा था न कि आपका बेटा रहेगा तो दिक्कत हो सकती है | तो फिर उसने मुझे कहा कि एक काम कर तू कल आना | मैंने पूछा कि क्यूँ ? तो उसने मुझे बताया कि कल मेरी बहन आने वाली है तो वो अंशुल को अपने साथ कहीं घुमाने ले जाएगी तब तू आ सकता है और तब हम अकेले भी रहेंगे |

ये सुन कर मैं बहुत खुश हो और अगले दिन जब मैं उसके घर तो वो एक दम अकेली थी और उसने मुझे बैठने के लिए कहा तो मैं बैठ गया सोफे पर | 5 मिनट के लिए वो किचिन में गई और जब वहां से वापस आई तो वो सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी | उसे इस तरह से देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया | उसके बड़े बड़े दूध मुझे साफ़ दिख रहे थे और पेंटी से चूत की मोटाई का पता चल रहा था | मैं उसे देख कर खड़ा हुआ तो उसने मुझसे पूछा कि मैं कैसी दिख रही हूँ तो मैंने कहा कि एक दम आसमान से उतरी हुई अप्सरा लग रही हो | उसके बाद वो मेरे पास आई और अपने दोनों हाँथ को मेरे कंधे पर रख दिया तो मैंने उसके हाँथ को पकड़ कर खींचा और उसे अपने बदन से लगा लिया | फिर मैंने उसके होंठ से अपने होंठ को लगा कर चूसने लगा तो वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगी | मैं उसके होंठ को भी चूस रहा था और उसके जीभ को भी होंठ से चूस रहा था और ये काम हम दोनों बारी बारी से कर रहे थे | वो भी मेरे होंठ और जीभ के साथ ऐसा ही कर रही थी | कुछ देर किस करने के बाद मैं उसके बड़े बड़े दूध को दबाने लगा तो उसके मुंह से आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा की सिस्कारियां निकलने लगी | फिर मैंने उसके ब्रा को उतारा और उसके दोनों परिंदों को आजाद कर दिया और अपने मुंह से उसके दोनों दूध को लगा कर बारी बारी से चूसने लगा तो वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए सिस्कारियां लिए जा रही थी | मैं उसके दूध को जोर जोर से दबा दबा कर चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए मेरी सिर के बालो को सहला रही थी | कुछ मिनट तक उसके दूध चूसने के बाद मैं और वो पूरी तरह गरम हो चुके थे | मैंने अपनी शर्ट और जीन्स को उतार कर अलग कर दिया और सिर्फ अंडरवियर में रह गया | उसने फिर से मेरे होंठ पर किस किया और सीने को चूमते हुए अपने घुटने टेक दिए और मेरी अंडरवियर को उतार दिया | उसने मेरे लंड को हाँथ में ले कर कुछ देर तक हिलाया और फिर जीभ फेरने लगी तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा की सिस्कारियां निकलने लगी | वो मेरे लंड पर इतने प्यार से जीभ फिरा रही थी जैसे आइसक्रीम चाट रही हो और मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए बस मजे लिए जा रहा था |

मेरे लंड को कुछ देर चाटने के बाद उसने उसे मुंह में लिया और सुपाड़े को चूसने लगी तो मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए उसके दूध को दबाने लगा | उसके बाद उसने मेरे लंड को पूरा मुंह के अन्दर डाल कर चूसने लगी तो मैं भी आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए उसके मुंह की चुदाई करने लगा | उसने मेरे लंड को 15 मिनट तक चूसा फिर मैंने उसको लेटा दिया और उसकी पेंटी को उतार दिया | मैंने अपनी जीभ उसके दोनों पैरो के बीचे चूत में रख कर चाटने लगा तो वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए सिस्कारियां भरने लगी | मैं उसकी चूत को चाटते भी जा रहा था और अपनी दो ऊँगली से चोद भी रहा था और वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए अपनी चूत मटका रही थी | कुछ देर चूत चाटने के बाद मैंने अपने लंड  उसकी चूत के दरवाजे पर रखा और एक ही शॉट में अन्दर घुसेड दिया | अब मैं उसे शॉट मारते हुए चोदने लगा तो वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा  करते हुए मचलने लगी | फिर मैंने अपनी चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दिया और जोर जोर से शॉट मारते हुए चोदने लगा तो वो भी आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा  करते हुए अपनी गांड उचका उचका कर चुदा रही थी | फिर मैंने उसे कुतिया बना दिया और पीछे से उसकी चूत को चोदने लगा तो वो भी आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा  करते हुए अपनी गांड मटका मटका कर चुदवा रही थी | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मैंने अपना माल उसकी गांड के ऊपर ही अपना स्पर्म निकाल दिया |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी जरुर पसंद आई होगी |


Comments are closed.


error: