सेक्स वर्जिन आलिया भाग २

उसने सीर हिलाकर हां कहा. मैने हितेश को बस स्टेशन पर चोदा और अपने घर चला गया.

वेडनेसडे शाम को उसका कॉल आया.
आलिया: “आज मेरी तबीयत ठीक नही है. इसलिए आज खाना नही बना पाई हूँ. सॉरी”
मे: ” कोई बात नही. तुमने दवाई ली?”
आलिया: “दो दिन से ले रही हूँ पर कुछ फ़र्क नही पड़ रहा.”

मे: “मैं शाम को लेने आऊंगा. और किसी बड़े डॉक्टर के पास जाएँगे.”
बहुत बहस के बाद वो मन गयी.
शाम को उसके घर गया. बहुत देर बाद उसने दूर खोला. वो कमज़ोर लग रही थी. ठीक से चल भी नही पा रही थी.
मैं फॉरन उसे हॉस्पिटल ले गया. वाहा उसे अड्मिट कर दिया. ग्लूकोस चढ़ाया और देर रात डिसचार्ज कर दिया. मैं उसे सीधा अपने घर ले गया. मैं रात भर नमक के पानी से उसका बुखार कम कराता रहा.

सुबह मैने उसे उठाया. सीर पर हाथ रखा, बुखार बिल्कुल नही था. वो ठीक थी. मैने उसे चाय और नाश्ता कराया. नाश्ते पर मैने कहा.
मे: “कौन से पप्पू डॉक्टर की दवाई ले रही थी. पता है कल क्या हुआ था.”
उसने जवाब नही दिया. थोड़ा स्माइल किया और मेरी और देखने लगी. मुझे आँखे पढ़नी नही आती. पर ऐसा लगा वो अंदर से बहुत रो रही है.
मे: “आज यही रुक जाना. मैं दोपार को बाहर से खाना लेकर .आऊगा. तुम आराम करना.”

जवाब नही दिया बस मुझे देखे जा रही थी.
मैं ऑफीस चला गया.

हमने लंच साथ मे किया और शाम को मैने उसके घर चोद दिया. उस दिन वो कुछ नही बोली सिर्फ़ मेरी और देखती रहती. मेरे प्जस पर फॉरमॅलिटी के लिए हँसती. मैने देखा उसका शरीर एक 20 साल की लड़की का है पर उसका चहरा एक 10 साल की मासूम लड़की का था. ऐसा लग रहा था वो बिल्कुल अकेली थी. मेरी तरह.

फ्राइडे सुबह मैने फोन किया उसकी तबीयत पूछने के लिए. उसने फोन रिसीव नही किया. मैं उसके घर गया. उसने दूर खोला. मारा लंड फिर से खड़ा हो गया. वो नाहके निकली थी. क्या लग रही थी. उसके भीगे बाल. उसकी भीगी हुई ड्रेस. उसमे मे उसके उभरे हुए बूब्स. मैने गुस्से मे कहा: “फोन क्यू नही उठाया?”

फिर से वही मासूम नज़रो से मुझे देखने लगी. मैने दोबारा पूछा. उसने उसी तरह देखते हुए कहा: “नहा रही थी.” हम दोनो खामोशी से एक दूसरे को देख रहे थे. मैं वाहा से चला गया. उस दिन शाम को वो घर पर खाना रख कर चली गयी. उस रात फिर से मुझे नींद नही आई. वो सुबह का मंज़र याद करते ही मेरा लंड खड़ा हो जाता था. अब मेरी आलिया को चोदने नही इच्छा तेज़ हो गयी. पर वो एमोशनली डिस्टर्ब थी.

फिर सॅटर्डे की शाम आई. मैं घर शाम को 5 बजे ही आ गया. मैने देखा घर खुला था. आलिया अंदर थी खाना रख रही थी. मैने उसकी तबीयत के बड़े मे पूछा. उसने कहा वो ठीक है. मैने कहा आज साथ मैं खाना खाते हैं. ठोकी बहस के बाद वो मन गयी. मैने कहा तुम बैठो मैं कपड़े बदल के आता हूँ. वो हॉल मे सोफे पर बैठ गयी. सलवार मे वो ग़ज़ब ढा रही थी. मैं चेंज करके सोफे पर ठीक उसके सामने बैठा. वो बहुत ही सेक्सी दिख रही थी. मैने बाते शुरू की.

मे: “क्या तुम हितेश को पसंद कराती हो?”
उसने जवाब नही दिया.
मे: “क्या तुमाहरी मर्ज़ी से ये रिश्ता फिक्स हुआ था?”
आलिया: “मैं ठीक हूँ.”

मे: “आलिया तुम्हे किस बात का डर है?”
आलिया: “मैं हितेश को पसंद कराती हूँ.”
मे: “क्या तुम दोनो ने कभी किस किया है?”
आलिया: “नही”
मे: “तुम्हे पता है किस कैसे करते हैं.”
वो ड्ऱ गयी और बोली: “मैं घर जा रही हूँ.”

मे: “तुम मेरे साथ सब कुछ बाँट सकती हो. मैं तुम्हे पसंद कराता हूँ. तुम्हे हस्ता और खुश देखना चाहता हूँ.”
आलिया (ज़ोर से): “मुझे ड्ऱ लग रहा है. कही तुम मेरे साथ.”
मे: “मैं तुम्हारा रेप ना कर दम.”
वही नज़र
मैने उसके करीब गया और उसको गले लगाया और कहा: “मैं तुम्हारा रेप नही करूँगा. टीवी से बाहर निकलो.”
आलिया: “तुम मुझे अकेला छोड दो. जैसे सबने चोद दिया है.”
मे: “क्या हुआ?”

आलिया: “मैं अपनी मा को बहुत मिस कराती हूँ. मेरा उनके अलावा कोई नहीं था. कोई मेरी मेरी परवाह नही कराता. मैं अपने घर मे सिर्फ़ एक कामवाली भाई हूँ. मुझे तुम्हारी मा के साथ अच्छा लगता है. वो मुझे मा की कमी महसूस नही होने देती. पर मेरा भाई उन्हे पसंद नही कराता.”
सेक्स वर्जिन आलिया – Hot Alia bhatt Age Like Girlfriend Sex
ऐसा लगता था वो अभी रो पड़ेगी. मैने टॉपिक चेंज कर दिया.
मे: “मैने आज तक इतनी सेक्सी कामवाली भाई नही देखी!”
आलिया: “यह सेक्स क्या होता है?”
मे: “तुम्हे अँहि पता?”
आलिया: “नही”
मे: “सच मे?”
आलिया: “हाँ नही पता.”
मे: “जब लड़का और लड़की नंगे होकर बिस्तर पर सोते है, तब सेक्स होता है!”
आलिया: “सच मे.”
मे: “क्या तुम और हितेश इन सबके बड़े मैं बात नही करते.”
आलिया: “नही.”

आलिया की ज़िंदगी बस घर और टीवी तक ही सीमित थी. वो कभी बाहर निकली ही नही थी.
हमने रात 8:00 पीयेम को साथ मे डिन्नर किया. फिर मैं उसको घूमने के लिए बाहर ले गया. वो मेरे साथ खुश थी. हँसती थी. मुझे यह देख के अच्छा लगा. मैने उसे आइस करीम खिलाई. राइड्स पर साथ बैठे. और खूब मज़े किए. वो बहुत ही ज़्यादा खुश थी.

फिर रात को 10:00 बजे उसे घर चोद के आ गया. वो बस मुस्कुराके मुझे देख रही थी.

आलिया: “आज मुझे तुम्हारे साथ बहुत अच्छा लगा.”
और फिर मैं अपने घर की और चला गया.
जैसे ही घर पर पह्ोचा आलिया का फोन आया.
आलिया: “घर की चाबी नही मिल रही है. तुम यहा आओ.”


Comments are closed.