साथ मे काम करने वाली महिला को होटल में चोदा

Sath me kaam krne wali mahila ko hotel me choda:

desi porn kahani, antarvasna

मेरा नाम कुलदीप है और मैं  लुधियाना का रहने वाला हूं, मेरी उम्र 32 वर्ष है और मैं शादीशुदा हूं। मेरी शादी को 5 वर्ष हो चुके हैं और मेरी पत्नी मेरा बहुत ही ध्यान रखती है और हम दोनों के बीच में बहुत ही ज्यादा प्यार है क्योंकि हम दोनों ने लव मैरिज की है इस वजह से हम दोनों के बीच बहुत ही ज्यादा प्यार है। जब मैंने काम शुरू किया था उस वक्त मेरी पत्नी ने अपने पिता से मुझे कुछ पैसे दिलवाए थे और उसके बाद ही मैं अपना काम शुरू कर पाया, अगर मुझे वह पैसे नहीं मिलते तो मैं अपना काम शुरू नहीं कर पाता। उन्होंने ही मेरी आर्थिक रूप से मदद की थी और उनकी मदद से ही मैंने अपना काम शुरू किया। शुरुआत में मुझे काफी तकलीफ होती थी लेकिन धीरे-धीरे जब मेरा काम बढ़ने लगा तो हमारे पास में मेरा स्टाफ भी हो चुका था और मेरे स्टाफ में बहुत से लड़के और लड़कियां हैं जो कि बहुत अच्छे से मार्केटिंग का काम संभाल रहे हैं और मुझे अच्छा खासा प्रॉफिट हो जाता है।

मेरी पत्नी भी बहुत खुश है और कहती है कि तुमने बहुत ही मेहनत की है लेकिन मैं उससे कहता हूं कि यह सब तुम्हारी ही बदौलत हुआ है यदि तुम मेरा साथ नहीं देती तो शायद कभी मैं इतना अच्छा नहीं कर पाता और मैं सिर्फ अपनी नौकरी तक ही सीमित रह जाता लेकिन तुमने अपने पापा से मुझे पैसों की मदद दिलवाई, उसके बाद ही मुझे इतनी सफलता मिल पाई है। मेरे माता-पिता भी हमारे साथ ही रहते हैं और वह मुझसे ज्यादा बात नहीं करते क्योंकि मैं सिर्फ अपने काम में ही व्यस्त रहता हूं। मेरे पापा एक छोटी मोटी नौकरी कर के घर का खर्चा चलाया करते थे और उन्होंने जैसे तैसे मेरी दोनों बहनों की शादी करवा दी इसी वजह से मैं नहीं चाहता कि अब उन्हें किसी भी प्रकार से कोई तकलीफ हो और अब वह सिर्फ घर में ही रहते हैं और मैं उन्हें कभी भी कोई तकलीफ नहीं होने देता। मेरी पत्नी भी उनका पूरा ध्यान रखती है वह उनकी हर चीज पर पूरा ध्यान देती है कि उन्हें किसी भी प्रकार से कोई समस्या ना हो। मैं अक्सर अपने काम के सिलसिले में नए नए लोगों से मिलता रहता हूं क्योंकि जब मैं लोगों से मिलता हूं तो मुझे कई तरीके से उनसे मिलकर फायदा ही होता है और मेरा काम भी ऐसा ही है कि मुझे कई लोगों से मिलना पड़ता है, उसके बाद ही मेरा प्रोडक्ट मार्केट में बिकता है।

एक बार मैं अपने काम के सिलसिले में एक महिला से मिला, उसे मेरा परिचय मेरे एक मित्र ने करवाया था और उसका नाम सोनिया है। वह काम के प्रति बहुत ही मेहनती है और जब उसने मुझे कहा कि मुझे आपके प्रोडक्ट से रिलेटेड अपना काम शुरू करना है तो मैंने उसे कहा ठीक है हम लोग एक बार कहीं मिल लेते हैं उसके बाद ही मैं आपको अच्छे से अपने प्रोडक्ट की सेल लेटर  दिखा पाऊंगा। मैं उसे मिलने एक होटल में गया। मैंने वहां पर अपनी मीटिंग फिक्स की थी और सोनिया को कहा था कि तुम होटल में ही आ जाना। मैंने उसे उस होटल का एड्रेस भेज दिया और जब वह मुझसे मिलने आई तो मुझे उससे मिलकर काफी अच्छा लगा क्योंकि मेरी उससे पहले एक बार ही मुलाकात हुई थी और उसके बाद हमारी सिर्फ फोन पर ही बात होती थी लेकिन जब वह मुझसे मिलने आई तो मुझे काफी अच्छा लगा और जिस प्रकार से उसने मुझसे बातें कि मुझे लगा कि वो बहुत ही मेहनती है। मैंने सोनिया को अपने प्रोडक्ट के बारे में बताया और वह कहने लगी कि आपका प्रोडक्ट बहुत ही अच्छा है, मैं आपके साथ जुड़कर काम करना चाहती हूं और इसी में से कुछ प्रॉफिट कमाना चाहती हूं। मैंने उसे अपने सामान की डिटेल दे दी और उसे सारा कुछ बता दिया कि हम लोगों की कॉस्टिंग कितनी आती है और उसके बाद हमें कितना मार्जिन होता है। वह कहने लगी यह तो बहुत ही अच्छी बात है। उस दिन मेरी सोनिया से मुलाकात बहुत ही अच्छी रही और उसके बाद अक्सर ही मैं उसे मिल लिया करता था और जब भी मैं उसे मिलता तो वह भी मुझसे मिलकर बहुत खुश होती थी और कहती थी कि आप बहुत ही अच्छे व्यक्ति हैं। मैंने जब सोनिया से पूछा की क्या तुम्हारी शादी हो चुकी है, तो वो कहने लगी हां मेरी शादी तो हो चुकी है लेकिन मैं अपने पति के साथ नहीं रहती क्योंकि मेरी उनसे बिल्कुल भी नहीं बनती इस वजह से मैं उनके साथ बिल्कुल भी रहना पसंद नहीं करती और मैं अलग ही अपना ही काम करती हूं क्योंकि मुझे अकेले रहना ही पसंद है इसलिए मैं अकेली ही रह कर अपना काम कर रही हूं। मुझे सोनिया से मिलकर बहुत ही अच्छा लगा और उसके बाद वो मुझे बहुत ही पसंद आई। वह मेरे साथ मिलकर काम करने लगी और उसने मुझे बहुत ही अच्छी डील दे दी। उसने मुझसे काफी सामान भी लिया और मुझे उससे काफी प्रॉफिट भी हो रहा था। हम दोनों अब अक्सर मिल लिया करते थे। मुझे उससे मिलना भी अच्छा लगता था क्योंकि वह बहुत ही अच्छी बातें करती थी और मुझे ऐसा लगता था कि वह बहुत ही फ्रैंक किस्म की महिला है। जैसे जैसे हम दोनों के बीच अच्छी बातचीत होने लगी तो वह मेरे सामने ही सिगरेट पीने लगी और मैं भी उससे सिगरेट शेयर कर रहा था। मुझे तब पता चला कि वह ड्रिंक भी करती है तो मैं कई बार मैं उसे भी बार मे ले गया और हम दोनों साथ में बैठकर शराब पिया करते थे और अपने काम के बारे में बात करते थे क्योंकि वह काम को लेकर बहुत ही सीरियस है।

एक दिन सोनिया और मैंने बहुत ज्यादा शराब पी ली और उस दिन मेरी हिम्मत बिल्कुल भी नहीं थी कि मैं घर जाऊं। हम दोनों ने होटल में ही रूम ले लिया और जब मैंने होटल में रुम लिया तो सोनिया ने अपने सारे कपड़े खोल दिया वह मेरे सामने नंगी लेटी हुई थी। जब मैंने उसकी योनि को देखा तो मुझसे बिल्कुल भी नहीं रहा गया  मैंने उसकी योनि पर हाथ लगा दिया। मैंने उसके स्तनों को भी अपने मुंह में लेकर चूसने शुरू कर दिया और बहुत  अच्छे से उसके स्तनों का रसपान करता रहा। अब उससे भी बिल्कुल नहीं रहा जा रहा था और उसने भी मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर समा लिया। वह बड़े ही अच्छे से मेरे लंड को चूस रही थी और सोनिया को बहुत अच्छा लग रहा था। उसने अपने दोनों पैरों को चौड़ा करते हुए कहा कि तुम अपने लंड को मेरी चूत में डाल दो। मैंने जैसे ही उसकी योनि में अपना लंड डाला तो वह चिल्ला उठी और वह मादक आवाजे निकालने लगी उसका शरीर गर्म हो गया मैंने उसके दोनों पैरों को कसकर पकड़ लिया मैंने उसे बड़ी तेजी से धक्के मारना शुरू कर दिए।

मैंने उसे इतनी तेजी से धक्के मारे कि उसका पूरा शरीर गर्म होने लगा और मुझे बड़ा मजा आने लगा। कुछ देर तक ऐसे ही चोदने के बाद मैंने उसे अपने ऊपर से बैठा लिया और जैसे ही मेरा लंड उसकी योनि में गया तो उसकी उत्तेजना भी पूरी चरम सीमा पर पहुंच गई। वह अपनी चतडो को ऊपर-नीचे करती जाती वह बड़ी तेजी से अपने चूतड़ों को ऊपर नीचे कर रही थी और मुझे बहुत ही मजा आ रहा था। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं सोनिया को चोदता ही रहूं क्योंकि वह मेरा पूरा साथ दे रही थी। वह सेक्स को लेकर वह बहुत ही जंगली किस्म की दिख रही थी उसने मेरे शरीर में भी नाखून मार दिए और मैंने भी उसके शरीर में नाखून मार दिया थे। मैंने अपने लंड को उसकी योनि से बाहर निकालते हुए उसके मुंह के अंदर डाल दिया और जैसे ही मैंने उसके मुंह में लंड डाल तो वह अच्छे से चूसने लगी। वह मेरे लंड को अच्छे से सकिंग करने लगी मेरे लंड से पानी निकलने लगा उसने वह अपने मुंह के अंदर लेना शुरू कर दिया। वह मेरे लंड को अपने गले तक लेती मैंने उसे घोड़ी बना दिया और जैसे ही मैंने अपने लंड को उसकी योनि में डाला तो वह चिल्ला उठी। मैं उस तेजी से चोद रहा था मुझसे बिल्कुल नहीं रहा जा रहा था एक समय बाद मेरा वीर्य उसकी योनि में गिर गया। वह बहुत ही खुश हो गई और कहने लगी कि तुम्हारे साथ मुझे सेक्स करके बहुत अच्छा लगा। हम दोनों एक दूसरे को पकड़कर ही सो गए मुझे इतनी गहरी नींद आई जब मैं सुबह उठा तो सोनिया के चूचे मेरे मुह के अंदर थे। मैने सोनिया को उठाया तो उसकी चूत से मेरा वीर्य टपक रहा था और उसकी योनि पूरी गीली हो रखी थी हम दोनों फ्रेश होने के बाद अपने घर पर चले गए।


Comments are closed.


error: