रईस से चुदाई

Raees se chudai:

sex stories in hindi हाय फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सब ? मैं आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे | आप सभी को मेरा सादर प्रणाम | मेरा नाम आयुषी है और मैं सतना की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 26 साल है और मैं अभी फिलहाल कुछ नहीं करती हूँ और बस घर में रह कर मम्मी के काम में हाँथ बंटाती हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 4 इंच है और मेरा फिगर थोडा मोटा है हालंकि तोंद नहीं निकली है | दोस्तों मैं चुदाई की कहानियां बहुत ही शौक से पढ़ती क्यूंकि मुझे किताब पढने का बहुत शौक था जो अब पूरा हो चुका है तो मैं एक साल से यही चुदाई की कहानियां पढ़ते आ रही हूँ | खास कर मुझे इस साईट की कहनियाँ ज्यादा मजेदार लगती हैं | दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी पेश करने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की कुछ सच्ची घटनाओ में से एक है | तो मैं ऐसी उम्मीद करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी | ये मेरी पहली कहानी है तो हो सकता है इसमें कुछ मिस्टेक निकल जाये तो उसे इग्नोर कर देना | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय नहीं लूंगी और अपनी कहानी पर आती हूँ |

ये घटना तब की है जब मैं कॉलेज में पढाई करती थी | मेरे घर में मैं हूँ और मेरा छोटा भाई ( नीरज ), बड़ा भाई ( धीरज ), पापा ( वाल्मीकि ), ( राधा ) रहते हैं | पापा बैंक में मेनेजर हैं और मम्मी कॉलेज में प्रोफेसर | बड़ा भाई भी अभी प्राइवेट जॉब कर रहा है लेकिन वो दिल्ली में है | दोस्तों ये घटना तब से चालू होती है जब मैंने स्कूल पास कर के कॉलेज में एडमिशन लिया | जब मैं फर्स्ट इयर में पढ़ रही थी तब मेरी कुछ नयी ससहेलियां बनी | मेरी जितनी भी दोस्त बनी थी सब काफी अच्छी थी और आज तक हमारी दोस्ती कायम है | मेरी क्लास में जो लड़के थे उनमे से दो या तीन ही लड़के हमरे ग्रुप में थे | एक लड़का था जो मेरी ही क्लास में था उसका नाम जतिन थोर और उसकी हाईट और हेल्थ बहुत अच्छी थी | क्यूंकि वो जिम जाता था | उसके पीछे मेरी कई सारी दोस्त पड़ी थी | सब उससे दोस्ती करना चाहती थी लेकिन वो बहुत ही रुड नेचर का था | वो किसी से सीधे मुंह बात नहीं करता था | मैं भी उसे पसंद करती थी लेकिन एक बार मैंने उसे सिगरेट पीते हुए देख लिया था इसलिए वो मुझे बुरा लगने लगा था लेकिन दिल से नहीं बस उसके शौक से | उसका एक अलग ही रुतबा था | सारे टीचर उससे बहुत अच्छे से पेश आते थे और वो एक बिल्डर का बेटा था | उसके पापा का काफी पैसा इस कॉलेज को बनाने में भी लगा था और वो यहाँ के पार्टनर भी हैं |

एक दिन की बात है मैं कॉलेज से निकल कर अपने घर जा रही थी की तभी मेरे बाजु में एक ऑडी कार आ कर रुकी | मैंने देखा तो उसमे जतिन ही बैठा हुआ था | उसने कार का कांच खोला और मुझसे कहा की मुझे तुमसे बात करना है | मैंने कहा हाँ कहो | तो उसने कहा कि मैं तुम्हे लाइक करता हूँ और तुम मुझे कॉलेज के फर्स्ट डे से ही पसंद आ गई थी | मैंने कहा कि देखो मुझे घर जाना है क्या मैं घर जा सकती हूँ | तो उसने कहा हाँ तुम घर जा सकती हो लेकिन पहले मेरी बात तो सुन लो | मैंने कहा हाँ बोलो पर जल्दी तो उसने कहा कि मैं तुमसे प्यार करता हूँ क्या तुम मुझसे शादी करना चाहोगी | मैंने तुरन्त ही अपने फ्यूचर के बारे में सोच लिया तो मैंने उसे हाँ कर दिया | उसके बाद उसने मुझे एक फोन दिया जिससे हमारी बात हो सके | मैं बहुत ही संभल कर उससे फोन पर बात करती थी क्यूंकि मेरे घर वालो ने मुझे फ़ोन नहीं दिलाया था | फिर हमारी फ़ोन पर रोज रात में बात होने लगी और हम कई घंटो तक बात किया करते थे फोन पर | उसके बाद जब मैं भी उससे प्यार करने लगी तो हमारे बीच किस्सिंग और एक दूसरे को दबाना भी होने लगा | फिर एक दिन उसने मुझसे सेक्स के लिए कहा तो मैं भी उसे मना नहीं किया | हम फर्स्ट सेम खत्म होने का इन्तेजार कर रहे थे और जब खत्म हो गया तब उसने मुझे अपने घर बुलाया तो मैं भी उसके घर की ओर चल पड़ी | उस दिन मैंने रेड कलर की टॉप और ब्लैक कलर की जीन्स और अन्दर से पिंक ब्रा और पेंर्टी पहना हुआ था | जब मैं उसके घर पंहुच गई तब उसने मुझे तुरन्त ही अपनी बांहों में भर लिया और यहाँ वहां चूमने लगा | मैं भी उसे यहाँ वहां चूम रही थी | हम दोनों एक दूसरे को चूमते हुए एक दूसरे के बदन को भी सहला रहे थे | उसके बाद उसने मेरे होंठ में अपने होंठ रख दिए और मेरे होंठ को चूसने लगा तो मैं भी उसका साथ देती हुए उसके होंठ को चूस रही थी | वो मेरे होंठ को चूसते हुए अपनी जीभ भी मेरे मुंह के अन्दर घुमाता तो मैं भी उसके जैसा ही कर रही थी |

कुछ देर किस करने के बाद उसने मेरे टॉप को निकाल दिया और मेरे दूध को ब्रा के ऊपर से ही मसलने लगा तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा की आवाज़ निकलने लगी | उसके बाद उसने ब्रा को भी उतार दिया और मेरे दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा तो मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए सिस्कारियां भरने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से होंठ से दबा कर चूस रहा था और मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए बस आन्हे भरे जार रही थी | दूध पीने के बाद उसने मेरी पेंटी को भी उतार दिया और मेरी चिकनी गुलाबी और डबल रोटी जैसी चूत को देख कर उस पर जीभ फेरने लगा | उसने मुझे लेटाया और मेरी टांगो को खोल कर मेरी चूत को चाटने लगा तो मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए मदहोश होने लगी | वो बहुत ही अच्छे से मेरी चूत को चाट रहा था और चूत की झिल्ली को भी चूस रहा था और मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए मचल रही थी | मेरी चूत चाटने के बाद मैंने उसके कपडे उतार कर उसे भी नंगा कर दिया मैं तो पहले ही नंगी हो चुकी थी | जब मैंने उसके नंगा कर दिया तो मैंने उसके लंड को हिलाना चालू कर दिया और तब तक हिलती रही जब तक उसका लंड अपने सही अकार में नहीं आ गया | फिर मैंने उसके लंड पर अपनी जीभ फेरने लगी तो उसके मुंह से भी आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा की सिस्कारियां निकलने लगी | मैं उसके लंड को चाट रही थी और गोटों को भी चूस रही थी और वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए मजे ले रहा था | लंड को चाटने के बाद मैं उसके लंड को अपने मुंह के अन्दर डाल कर चूसने लगी तो वो आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए मेरे मुंह की चुदाई करने लगा | मैंने उसके लंड को करीब 10 मिनट तक चूसा | फिर उसने मुझे लेटाया और अपने लंड को मेरी चूत में रख कर एक ही झटके में अन्दर डाल दिया और चोदने लगा तो मैं आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए चुदाई के मजे लेने लगी | कुछ देर बाद उसने अपनी चुदाई तेज कर दिया और जोर जोर से धक्के मारते हुए चोदने लगा तो मैं भी अपनी गांड उठा उठा कर चुदाई में साथ देने लगी | फिर उसने मुझे घोड़ी बना दिया और और मेरे पीछे आ कर गांड चाटने लगा | मैं समझ गई थी कि अब ये मेरी गांड चोदेगा | मेरी गांड चाटने के बाद उसने अपना लंड मेरी गांड के अन्दर डाल दिया और चोदने लगा तो मैं भी गांड खोल कर आहा ऊंह ऊमन ऊंह ऊम्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंहू ऊम्ह अहा करते हुए चुदवा रही थी | कुछ देर की चुदाई के बाद उसने अपना माल मेरी गांड में ही भर दिया |
दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी बेहद अच्छी लगी होगी | आप सभी का मेरी कहानी पढने के लिए धन्यवाद |


Comments are closed.


error: