पायल तुझे चोदने का सपना पूरा जरुर होगा – 1

Payal tujhe chodne ka sapna pura jarur hoga-1:

hindi chudai ki kahani, hindi porn kahani

मेरा नाम अमन है और मैं बारहवीं का छात्र हूं। इस साल मेरे बोर्ड एग्जाम है। तो मुझे बहुत ही अच्छे से पढ़ना था लेकिन मेरे पिताजी का ट्रांसफर हो गया। मैं जहां पहले पढ़ा करता था वहां पर जो हमारे टीचर थे वह मुझे बहुत ही अच्छे से पढ़ाते थे और उनका पढ़ाया हुआ मुझे समझ में आ जाता था लेकिन अब मेरे पिताजी का ट्रांसफर हो चुका था। इसलिए उन्होंने अब मेरा एडमिशन दूसरे स्कूल में करवा दिया। हम लोग जब नए शहर में गए तो हम लोगों को एडजस्ट करने में बहुत समय लगा। मेरा एक छोटा भाई भी है। वह भी मेरे साथ स्कूल में ही पड़ता है। हम दोनों भाई साथ ही स्कूल जाया करते हैं लेकिन जहां पर हम लोगों का एडमिशन हुआ वहां पर कुछ अच्छे से पढ़ाई नहीं होती थी और मैंने अपने पिताजी से कहा कि वहां स्कूल में टीचर कुछ अच्छे से नहीं पढ़ाते हैं। जिसकी वजह से कहीं मैं इस वर्ष फेल ना हो जाऊं। मेरे पिताजी ने कहा कि तुम एक काम करो। कोई अच्छा सा ट्यूशन देख लो और वहां पर पड़ने चला जाया करो। मैंने उन्हें कहा ठीक है मैं पता करता हूं कि यहां पर कौन अच्छे से पढ़ाता है।

मेरे पिताजी के पास कुछ ज्यादा समय नहीं रहता था। इसलिए वह भी इस बारे में मेरी हेल्प नहीं कर सकते थे। मैंने स्कूल में एक लड़के से इस बारे में पूछा तो वह कहने लगा कि मैं जहां जाता हूं वहां पर मैडम अच्छे से पढ़ाती हैं। मैंने उससे पूछा कि क्या मैं भी तुम्हारे साथ आ सकता हूं। तो उसने कहा कि तुम शाम को मैडम से आकर बात कर लेना। तब मैं जब स्कूल से घर वापस आया तो मैं शाम के समय में उन ट्यूशन टीचर के पास चला गया। उनकी उम्र कुछ ज्यादा नहीं थी। मैंने उनसे ट्यूशन के बारे में बात की। वह कहने लगी कि ठीक है। तुम कल से ही आ जाना यदि तुम पढ़ना चाहते हो तो। मैंने उन्हें कहा ठीक है। मैं कल से आपके पास आ जाता हूं। मैं जब घर वापस लौटा तो मैंने अपने पिताजी को उसके बारे में बताया। तो वो कहने लगे ठीक है। तुम कल से पढ़ने के लिए चले जाया करो। यह सुनकर मेरे पिताजी भी बहुत ज्यादा खुश है और वह अभी फिलहाल निश्चिंत हो चुके थे। क्योंकि मेरी 12वीं की परीक्षा थी और मुझे इस वर्ष अच्छे नंबरों से पास होना था।

अब मैं उन टीचर के पास पढ़ने आने लगा हूं। टीचर का नाम रेनू है। पहले दिन उन्होंने मेरे ट्यूशन में जितने भी बच्चे आते थे उन सब से इंट्रोडक्शन करवाया। अब वह मुझे पढ़ाने लगी। उस दिन उन्होंने मुझे बहुत अच्छे से पढ़ाया और मुझे भी उनका पढ़ाया सब समझ आ रहा था। अब ऐसे ही वह अच्छे से पढ़ाने लगी। मैं भी निश्चिंत हो गया था कि मुझे किसी तरीके से कोई समस्या नहीं है और मैं इस वर्ष अच्छे नंबर ला पाऊंगा लेकिन कुछ दिनों बाद उन टीचर की सगाई हो गई और अब वह अब सिर्फ फोन पर बातें किया करती हैं और बहुत ही कम पढ़ाती है। हम लोगों पर वह बिल्कुल भी ध्यान नहीं देती। जिसकी वजह से मेरी पढ़ाई में बहुत ही दिक्कत आने लगी लेकिन मैं अपनी पढ़ाई छोड़ कर कहीं जा भी नहीं सकता था। रेनू मैडम जब भी हमें पढ़ाते थे तो वह सिर्फ अपने फोन पर लगी रहती थी। इस बारे में मैंने भी कई बार उनसे कहा कि मैडम हमें थोड़ा समय दे दिया करो। क्योंकि इस बार बोर्ड की परीक्षा है और हमें बहुत ज्यादा टेंशन है। जब मैं उनसे यह बात कहता तो वह कुछ दिनों तक तो अच्छे से पढ़ाते लेकिन फिर दोबारा से अपने फोन पर लग जाती। मैं इस बारे में अपने पिताजी से नहीं कहना चाहता था। क्योंकि वह टेंशन में आ जाते। इसलिए मैंने उनसे इस बारे में कोई भी बात नहीं की और सिर्फ अपनी पढ़ाई में लगा रहता। मैं कुछ समय घर पर भी पढ़ने लगा। अब हमारे एग्जाम नजदीक आने वाले थे और रेनू मैडम से मैंने भी कहा कि मैडम हमारे एग्जाम नजदीक आने वाले हैं तो आप थोड़ा हम पर ध्यान दीजिए। नहीं तो इस साल हम फेल हो जाएंगे। उसके बाद वह हमें अच्छे से पढ़ाने लगी।

कुछ दिनों तक तो रेनू मैडम हमें बहुत ही अच्छे से पढ़ाती और मुझे बहुत ही अच्छा लगता जब वह इस प्रकार से हमें पढ़ा रही थी। मेरी ट्यूशन ऐसे ही चल रहा था लेकिन एक दिन वह पढ़ाते पढ़ाते अपने कमरे में चली गई और हम लोग ऐसे ही बैठे हुए थे सब लोग पढ़ाई कर रहे थे। मुझे एक क्वेश्चन का आंसर नहीं आ रहा था तो मैंने सोचा रेनू मैडम से पूछ लेता हूं। मैं जैसे ही उनके कमरे में गया तो वह फोन पर लगी हुई थी और अपनी चूत के अंदर उंगली डाल रही थी। वह फोन सेक्स कर रही थी जैसे ही मैंने यह सब देखा तो मुझसे रहा नहीं गया और मैं तुरंत ही उनके कमरे में चला गया। उन्होंने अपनी चूत के अंदर उंगली डाल रखी थी और मैंने भी झट से अपने लंड को बाहर निकालते हुए उनके सामने खड़ा हो गया। उन्होंने भी मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर लेना शुरू कर दिया और अपनी चूत के अंदर उंगली भी घुसाई हुई थी और वह ऐसे ही उसे अंदर बाहर करती जाती। मुझे बहुत ही मजा आ रहा था जब वह मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर चुसती जाती। उन्होंने मेरे लंड को इतना अच्छे से चूसा कि वह एकदम लाल हो गया।  वह अभी भी फोन पर अपने मंगेतर से बात कर रही थी और फोन सेक्स कर रही थी। उन्होंने अपने दोनों पैर चौड़े कर लिए और मैंने उनकी चूत को चाटना शुरू कर दिया। उस से पानी निकल रहा था और मैं उसे अच्छे से चाटता जाता मैंने बहुत देर तक उनकी चूत को चाटना जारी रखा और अब वह बहुत उत्तेजित हो गई थी तो मैंने तुरंत ही अपने लंड को उनकी चूत के अंदर डाल दिया। जैसे ही मैंने अपने लंड को अंदर डाला तो वह बहुत ज्यादा टाइट थी लेकिन मैंने बड़ी तेजी से अपना लंड घुसा दिया।

जब मेरा मोटा लंड उनकी योनि में गया तो वह चिल्ला उठी और बहुत तेज तेज चिल्लाने लगी। मुझसे यह सब बर्दाश्त नहीं हो रहा था लेकिन फिर भी मैं रेनू मैडम के दोनों पैरों को पकड़कर उन्हें धक्का दे रहा था। अब वह बहुत ज्यादा उत्तेजित होने लगी मैंने उनके स्तनों को चूसना शुरू कर दिया उनके स्तन बहुत ही बड़े थे और मैंने पहली बार जिंदगी में किसी के स्तन देखे थे। मैं उनके निप्पलों को अपने मुंह में लेकर अंदर बाहर कर रहा था उनके निप्पल थोड़ी देर बाद बहुत ही सख्त हो गए और मैं अब उनके होठों को भी अपने होठों में लेकर चूसता जाता। वह बहुत ही ज्यादा उत्तेजित होने लगी और मुझे कहने लगी अमन तुम तो बहुत ही अच्छे से मेरे साथ सेक्स कर रहे हो मुझे बहुत ही मजा आ रहा है। अब उन्होंने अपने फोन को भी साइड मे रख दिया और अब वह मेरे साथ ही सेक्स कर रही थी। थोड़ी देर बाद उन्होंने अपने बड़ी चूतडो को मेरी तरफ कर दिया और मैंने उनकी योनि के अंदर आपने लंड को दोबारा से डाल दिया। जैसे ही मैंने अपने लंड को डाला तो उनकी चूतडे मेरे लंड से टकराती और मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे उनकी चूतडे तकिया की तरह हो वह बहुत ही नरम और मुलायम थी। जैसे ही मैं उन पर बड़ी तेज प्रहार करता तो वह हिलती और दोबारा से उसी स्थिति में आ जाती मैं उन्हें बहुत देर से ऐसे ही चोदे जा रहा था और मैंने उनकी चूतड़ों को कसकर पकड़ लिया। जिससे कि उनका शरीर पूरा गरम हो गया और मेरा शरीर भी बहुत ज्यादा गर्म होने लगा लेकिन मुझे बहुत ही मजा आ रहा था और मैं ऐसे ही झटके देता जाता। मैंने उन्हें इतनी तीव्र गति से चोदना शुरू किया कि उनके गले से आवाज निकलने लगी और मुझे कहती कि अमन तुम तो बहुत ही अच्छे से मेरी चूत मार रहे हो। मुझे बिल्कुल भी ऐसा नहीं लग रहा कि तुम कक्षा 12 में हो मुझे ऐसा लग रहा है जैसे कि कोई नौजवान युवक मेरी चूत के अंदर अपने लंड को डाल रहा है। अब भी मैं ऐसे ही उन्हें चोदने पर लगा हुआ था उनका शरीर अब कुछ ज्यादा ही तपने लगा और मेरे शरीर से भी पसीने छूटने लगे। मैं भी उस गर्मी को बर्दाश्त नहीं कर पा रहा था और उसी गर्मी में मेरे शरीर से मेरी सारी ताकत मेरे वीर्य के रूप में निकल गई और वह रेनू मैडम कि चूत मे जाकर गिरी। मुझे बहुत ही मजा आया उनके साथ सेक्स करने में उसके बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और मैं अपने घर चला गया।

 


Comments are closed.


error: