पायल की गरम सिसकियाँ

Antarvasna, hindi sex stories:

Payal ki garam siskiyan बिजनेस में हुए नुकसान से मैं पूरी तरीके से परेशान हो चुका था और मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। मेरा बिजनेस में काफी बड़ा नुकसान होने के बाद मैं पूरी तरीके से टूटने लगा था लेकिन मेरी पत्नी ने मेरा उस वक्त काफी साथ दिया। अगर मेरी पत्नी पायल मेरा साथ नहीं देती तो शायद मेरी जिंदगी दोबारा से सही नहीं हो पाती और मैं अब दोबारा से मेहनत कर के अपने बिजनेस को दोबारा से शुरू कर चुका था।

मेरा बिजनेस शुरू हो चुका था और मैं इस बात से काफी खुश था कि मेरी पत्नी ने मेरा साथ दिया और मेरा बिजनेस दोबारा से अच्छे से चलने लगा था। मैं अब अपने नुकसान की भरपाई कर चुका था और सब कुछ मेरी जिंदगी में ठीक हो गया था। एक दिन मैं और मेरी पत्नी साथ में बैठ कर बात कर रहे थे उस दिन मैं सोच रहा था कि आज मैं पायल के साथ ही समय बिताऊँ। मैंने पायल को कहा कि आज मैं तुम्हारे साथ में ही समय बिताना चाहता हूं तो पायल ने मुझे कहा कि राजेश मैं भी काफी दिनों से सोच रही थी कि मैं तुम्हारे साथ में समय बिताऊं।

उस दिन हम दोनों ने कहीं साथ में घूमने का प्लान बनाया और हम दोनों साथ में चले गए। हमारी शादी को तीन वर्ष हो गए हैं और हम दोनों अपने शादीशुदा जीवन से बहुत खुश है और मुझे इस बात की बहुत खुशी है। पायल को अपनी पत्नी के रूप में पाकर मैं बहुत ज्यादा खुश हूं पायल ने हमेशा ही मेरा साथ दिया है। जब भी मुझे पायल की जरूरत पड़ी है तो वह हमेशा ही मेरे साथ खड़ी नजर आई है और मैं इस बात से बड़ा खुश हूं कि पायल और मैं एक दूसरे को बहुत अच्छे से समझते हैं। हम दोनों एक दूसरे से काफी प्यार करते हैं जिससे कि मुझे बहुत ही अच्छा लगता है कि पायल और मैं एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। हम दोनों एक दूसरे के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बताने की कोशिश करते हैं। पायल से मैं पहली बार उस वक्त मिला था जब मेरे भैया मुझे पार्टी में लेकर गए तो मैं अपने भैया के साथ उस दिन उनके दोस्त की पार्टी में गया था वहीं पर मेरी मुलाकात पायल से हुई थी।

यह पहली बार था जब मेरी मुलाकात पायल के साथ हुई थी लेकिन उसके बाद हम दोनों की नजदीकियां बढ़ती चली गई। मैं बहुत ज्यादा खुश था की हम दोनों की नजदीकियां बढ़ती जा रही थी हम दोनों एक दूसरे के बहुत करीब आ चुके थे। सब कुछ हमारे जीवन में अच्छे से चलने लगा था और मैं बड़ा खुश था कि मैं पायल के साथ अच्छा समय बिता पा रहा हूं। भैया और भाभी अब अलग रहते हैं और मैं और पायल भी अलग रहने लगे थे क्योंकि हम लोगों ने कुछ समय पहले ही नया घर खरीदा था और पायल और मैं नए घर में रहने लगे थे।

एक दिन पायल ने मुझे कहा कि मैं पापा मम्मी को मिल आती हूँ तो मैंने पायल से कहा कि हां तुम पापा मम्मी को मिल आओ। पायल काफी दिन से अपने पापा मम्मी को नहीं मिल पाई थी तो मैंने पायल को कहा कि अगर तुम्हें लगता है तुम्हें उनके पास जाना चाहिए तो तुम चली जाओ। अगले दिन पायल अपने पापा मम्मी के पास चली गई और मैं उस दिन घर पर अकेला ही था। मैं घर पर अकेला बोर हो रहा था तो मैं अपने दोस्त सुभाष के घर चला गया सुभाष से जब मैं मिला तो उसने मुझे कहा कि आज तुम काफी दिनों बाद मुझसे मिलने के लिए आ रहे हो। मैंने सुभाष को कहा कि आज पायल अपने मायके चली गई है और मैं घर पर अकेला ही था तो सोचा कि तुम से मिल लेता हूं।

सुभाष मेरे घर के नजदीक ही रहता था इसलिए मैं उसको मिलने के लिए चला गया था हम दोनों साथ में बैठे हुए थे और आपस में बातें कर रहे थे। सुभाष की पत्नी मेरे लिए चाय बना कर ले आई और वह मुझे कहने लगी कि राजेश भाई साहब आज मैं आपके लिए खाना बना देती हूं। मैंने उन्हें कहा कि हां भाभी आज आप मेरे लिए भी खाना बना दीजिएगा। उस दिन मैंने सुभाष के घर पर ही खाना खाया और मैं देर रात खाना खा कर वहां से घर लौट आया था। जब मैं घर लौटा तो मुझे पायल का फोन आया और पायल को मैंने बताया कि मैं सुभाष के घर चला गया था। पायल ने मुझे कहा कि आपने बहुत ही अच्छा किया जो सुभाष भाई साहब को मिल कर आ गए। उस दिन पायल को भी सुभाष का फोन आया था तो पायल ने मुझे इस बारे में बताया था लेकिन मेरी मुलाकात सुभाष से काफी समय से नहीं हो पाई थी। उस दिन जब मैं सुभाष को मिला तो मुझे बहुत ही अच्छा लगा और काफी समय बाद मेरी मुलाकात सुभाष के साथ हुई थी। अगले दिन मैं जब अपने ऑफिस गया तो उस दिन मैंने देखा कि हमारे ऑफिस में काम करने वाली रिसेप्शनिस्ट ऑफिस नहीं आई हुई थी।

मैंने जब उसे फोन कर के कहा कि आज तुम ऑफिस क्यों नहीं आई तो वह मुझे कहने लगी कि सर मेरी तबीयत ठीक नहीं थी। मैं जब ऑफिस से घर लौटा तो पायल भी घर लौट आ चुकी थी। पायल ने मुझसे कहा कि राजेश काफी दिनों से आप भी पापा मम्मी को नहीं मिले हैं तो आप भी पापा मम्मी को मिला लेते तो अच्छा रहता। मैंने पायल से कहा कि हां मैं कल ही पापा मम्मी को मिल आता हूं। पापा मम्मी भैया भाभी के साथ ही रहते हैं वह लोग ज्यादातर उनके साथ ही रहते हैं इसलिए मैं उन्हें मिलने के लिए जाता रहता था परंतु काफी दिन हो गए थे मैं पापा मम्मी को नहीं मिल पाया था। पायल ने मुझसे कहा कि आपको उनसे मिलकर आना चाहिए तो मैंने भी सोचा की पायल ठीक कह रही है और मैं मम्मी को मिलने के लिए चला गया था। मेरे साथ पायल भी थी और उस दिन हम लोग भैया के घर पर ही रुक गए थे। उस रात पायल और मैं साथ में लेटे हुए थे। पायल मुझसे कहने लगी राजेश आप क्या सोच रहे हैं।

मैंने पायल को कहा कुछ भी तो नहीं बस ऐसे ही मै लेटा हुआ था लेकिन पायल मुझे अच्छे से जानती है वह मुझे कहने लगी आप जरूर कुछ ना कुछ तो सोचा है। मैंने पायल से कहा पायल मैं सोच रहा था पापा मम्मी को अपने साथ ही कुछ दिनों के लिए आने के लिए कहूं लेकिन क्या पापा मम्मी हमारी बात मानेंगे। मैंने जब पायल से यह बात कही तो पायल ने मुझे कहा एक बार आप उनसे बात कर लीजिएगा हो सकता है वह आपकी बात मान लेँ पापा और मम्मी ज्यादातर भैया और भाभी के साथ ही रहते हैं पायल और मैं एक दूसरे के साथ लेटे हुए थे। मैंने अपने हाथ को पायल के स्तनों पर रखा वह गर्म होने लगी थी। वह इतनी ज्यादा गरम हो गई थी मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा लग रहा था जिस तरीके से मैं और पायल एक दूसरे के होठों को चूम रहे थे़ हम दोनों की गर्मी बढ़ती जा रही थी।

मैंने पायल को कहा मेरी गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है। पायल मुझे कहने लगी मेरे अंदर की गर्मी भी बढने लगी है। मैंने अपने लंड को पायल के सामने किया तो वह उसे अच्छे तरीके से सकिंग कर रही थी। वह जिस तरीके से मेरे लंड को चूस रही थी उस से मुझे मज़ा आ रहा था पायल को भी बड़ा मजा आ रहा था। मैंने पायल को कहा मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है। हम दोनों की गर्मी बढ़ती जा रही थी मैं इतना गर्म हो चुका था मैं अपने आपको बिल्कुल भी रोक नहीं पा रहा था। मैंने पायल से कहा मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा है। पायल मुझे बोली मुझसे भी नहीं रहा जा रहा है।

उसने अपने पैरों को चौडा कर लिया वभ अपनी पैंटी को उतार चुकी थी वह मुझे बोली आप मेरी चूत मे लंड को घुसा दीजिए। मैंने पायल की योनि के अंदर अपने लंड को घुसा दिया था पायल की चूत में लंड जाते ही वह जोर से चिल्लाने लगी और कहने लगी मेरी चूत में बहुत ज्यादा दर्द होने लगा है। मैं उसे बड़ी तेज गति से धक्के मारने लगा था जिस तरह से मैं उसे धक्के मार रहा था उससे वह बहुत गर्म होती जा रही थी और मेरी गर्मी भी बढ़ती जा रही थी। मेरी गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ने लगी थी मैंने पायल से कहा मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है। वह मुझे कहने लगी मुझे भी अच्छा लग रहा है जिस तरीके से तुम मेरा साथ दे रहे हो। मैं पायल को बड़ी तेजी से धक्के दिए जा रहा था। पायल की गरम सिसकारियां बढ़ती जा रही थी वह बहुत ज्यादा गर्म होती जा रही थी। मै जिस तरीके से उसकी गर्मी को बढ़ा रहा था उस से मैं बहुत ज्यादा गर्म हो चुका था।

मेरा माल मेरे अंडकोषो तक पहुंच चुका था। मैंने पायल से कहा मुझे लगता है मेरा माल गिरने वाला है। पायल मुझे कहने लगी तुम अपने माल को मेरी चूत मे गिरा दो। मैं उसे बड़ी तेजी से धक्के दिए जा रहा था उसकी सिसकारियां बढ़ रही थी वह मुझे अपने दोनों पैरों के बीच में जकडने की कोशिश करने लगी थी। वह जिस तरीके से मुझे अपने पैरों के बीच में जकड रही थी उसकी चूत की गर्मी बढ चुकी थी।

वह अपने आपको रोक नहीं पा रही थी मैंने पायल से कहा मुझे अच्छा लग रहा है। वह मुझे कहने लगी मुझे भी बहुत ज्यादा मजा आ रहा है। मैं पायल की चूत के अंदर बाहर अपने लंड को करने लगा था। एक समय ऐसा आया जब मेरा वीर्य पायल की चूत में गिर चुका था जैसे ही पायल की योनि में मेरा वीर्य गिरा तो मुझे बड़ा अच्छा लगा और पायल को भी बहुत ज्यादा अच्छा लगा जिस तरीके से हम दोनों ने एक दूसरे के साथ सेक्स संबंध बनाए। हमने एक दूसरे की गर्मी को बढ़ा दिया था। मैंने पायल के साथ जमकर सेक्स के मजे लिए पायल बड़ी खुश थी जिस तरीके से मैने उसके साथ सेक्स के मज़े लिए थे।


Comments are closed.