पहलवान से चुदाई

Pahalwan se chudai:

hindi porn stories

नमस्ते दोस्तों. कैसे हैं आप सब ? मैं आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे | मेरा नाम ख़ुशी है और मैं निवास में रहती हूँ | मेरी उम्र 21 साल है और मैं कॉलेज की पढाई कर रही हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 6 इंच है | मेरा फिगर मेरी खूबसूरती बढ़ाता है क्यूंकि मेरा फिगर बहुत ही सेक्सी और हॉट है | मैंने आज तक इस साईट पर कई कहानियां पढ़ी है लेकिन कोई भी कहानी लिखी नहीं है | आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी कहानी लिखने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे साथ बीती सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी ये कहानी बहुत पसंद आयगी | इस कहानी के अंत पर अपनी ईमेल आईडी लिख दूंगी और आपके लाइक्स और कमेंट्स का वेट करुँगी | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय बर्बाद नहीं करुँगी और सीधा अपनी कहानी शुरू करती हूँ | मेरी ये पहली कहानी है तो अगर आप लोगो को इसमें कोई गलती नजर आये तो मुझे माफ़ करना |

मैं एक बहुत ही सिंपल फॅमिली से हूँ | मेरे पापा सरकारी ऑफिसर हैं और मेरी मम्मी भी प्राइवेट कंपनी में मेनेजर हैं | हमारे पास किसी भी चीज़ की कोई कमी नहीं है | मेरी एक छोटी बहन है जिसका नाम मुस्कान है और वो अभी स्कूल में है | हम बस 4 लोग ही रहते हैं | मैं कॉलेज कम ही जाती हूँ और घर पर ज्यादा रहती हूँ कॉलेज बस प्रोजेक्ट और असाइनमेंट और पेपर देने जाती हूँ | मेरे पास स्कूटी है और मेरी बहन को पापा ऑफिस जाते टाइम छोड़ देते हैं और लौटते वक़्त मैं उसे ले आती हूँ | मेरा स्कूल टाइम में एक बॉयफ्रेंड हुआ करता था लेकिन उससे ब्रेकअप हो गया तो मैंने भी अपनी लाइफ से मूव ऑन कर लिया | कॉलेज जाती भी कम हूँ जिस वजह से मेरे कॉलेज के फ्रेंड्स बस गर्ल्स ही हैं | मैं बहुत चुदक्कड लड़की हूँ लेकिन कोई मुझे देख कर जज नहीं कर सकता कि मैं चुदक्कड़ हूँ | सब सोचते हैं कि मैं बहुत सीधी और मासूम लड़की हूँ | लेकिन ये बात सिर्फ मैं और मेरा पुराना बॉयफ्रेंड ही जानते हैं कि मैं कैसी हूँ | मैं रोज रात में अपनी चूत में कभी मूली तो कभी गाजर तो कभी भटा डाल कर अपनी चूत की प्यास बुझाती हूँ | अब मैं तो किसी लड़के को प्रोपोस करूंगी नहीं इसलिए वेट करती हूँ कि काश कोई हेंडसम बंदा मुझे पटाये और बहुत चोदे | पर ऐसा कोई मिल ही नहीं रहा था | कुछ लड़के जो मुझे लाइन मारते थे वो सब टुच्चे टाइप के लगते थे तो मैं भी भाव खाती | एक दिन की बात है शाम का समय था मैं और मेरी बहन बालकनी में बैठे चाय पी रहे थे | मम्मी पापा एक प्रॉपर्टी खरीदने की बात पर बिजी थे | चाय पीते पीते मेरी नजर सामने वाले घर के ऊपर वाले कमरे पर पड़ी |

मैंने देखा कि एक बहुत ही हेंडसम बंदा कसरत कर रहा था | हाय क्या मस्त पर्सनालिटी थी बन्दे की | मैं तो देख कर ही फ़िदा हो गई | मैंने अपनी बहन से बात भी करते जा रही थी चाय की चुसकियाँ भी  मार रही थी और उस बन्दे को ताड़ भी रही थी | एक दम जॉन अब्राहम जैसे बॉडी थी उसकी | मैं उस लड़के के बारे में नहीं जानती थी क्यूंकि वो नया था | सामने बस दो लड़कियां रहती हैं | मेरी बहन ने नोटिस कर लिया कि मैं उसकी बात पर ध्यान नहीं दे रही हूँ तो उसने कहा दीदी आप मेरी बात नहीं सुन रहे हो न ? मैंने एक दम से चौंक कर कहा अरे नहीं दे तो रही हूँ न | फिर जब मैंने उस कमरे की तरफ देखा तो वो चला गया था | मैंने ठान लिया कि अब अपनी चूत की कसरत भी इससे ही करवाउंगी | अब जब भी वो मुझे दिखता तो मैं उसे लाइन देने लगती और जब उसकी नजर मुझे पर पड़ती तो मैं भाव खाने लगती और इतराती हुई हरकत करती | अब मेरा रोज का यही काम हो गया था | मैं रोज ऐसा ही करती | पर वो शायद ये बात नोटिस कर रहा था | एक दिन की बात है मैं अपनी बहन को ले कर स्कूल से आ रही थी और वो शायद अपनी बाइक घर के बाहर ही धो रहा था | मैंने जैसे ही अपने घर के पास गाडी लगाई तो एक दम से पानी की बोछार मेरे ऊपर पड़ी | मुझे बहुत गुस्सा आया | मैंने पलट कर जवाब ही दिया कि सामने वो ही बंदा दिखा | उसने मुझे सॉरी कहा तो मैंने भी हँस कर कहा ठीक है कोई बात नहीं पर ध्यान दिया करिये | उसने कहा ठीक है | फिर मैं घर आई और अपने आप को साफ़ किया | अब वो लड़का रोज मेरी तरफ देखता तो मैं समझ गई कि ये अब मेरे जाल में फंस गया है | फिर एक दिन शाम को मैं यूँही बैठी थी तो उसने मुझे अपने कमरे से हाय का इशारा किया पर पता नहीं ना चाहते हुए भी मेरा हाँथ उठ गया | फिर कुछ दिन बस रोज हाय हैल्लो होती रही हमारी | फिर एक दिन उसने एक पेज में लिख कर मेरी बालकनी में डाल दिया जिसमे लिखा था कल सुबह 10 बजे मुझे रोहाणी पार्क में मिलना | मैंने मुस्कुरा दिया | अगले दिन मैं ब्लैक जीन्स और येलो टॉप पहन कर गई | उसने मुझे डेट पर चलने को कहा | मैंने भी हामी भर दी | उसके बाद हम दोनों कॉफ़ी पीते हुए नंबर एक्सचेंज करने लगे | कुछ समय हम दोनों की फ़ोन पर बात होने लगी और ऐसे ही चलते चलते हम दोनों फ़ोन सेक्स करने लगे | उसके बाद उसने मुझसे कहा कि यार अपन बस फोन सेक्स ही करेंगे या रियल में भी सेक्स करेंगे |

तो मैंने कहा की कल तुम मेरे घर 9 बजे आ जाना | अगले दिन सुबह का मुझे बेसब्री से इन्तजार था | अगले दिन वो जब घर आया तो सीधा मुझ पर टूट पड़ा | उसकी पकड़ इतनी मजबूत थी कि छूटना मुश्किल था | फिर वो मेरे होंठ में अपने होंठ को रख कर किस करने लगा | मुझे अच्छा लगा तो मैं भी किसिंग में उसका साथ देने लगी | हम दोनों ने काफी देर तक एक दुसरे को किस किया | उसके बाद मैंने उसकी शर्ट को उतार दिया और उसके बदन को चूमने लगी | फिर मैंने उसे सोफे पर बैठा दिया और उसके जीन्स को भी उतार दिया | अब वो मेरे सामने बस अंडरवियर में था | मैंने उसकी अंडरवियर को भी उतार कर नंगा कर दिया | फिर मैं खड़ी हुई और अपने टॉप और स्कर्ट दोनों को उतार दिया फिर ब्रा पेंटी भी उतार कर पूरी नंगी हो गई | मैंने उसके लंड को पहले जीभ से चाटना शुरू किया तो वो आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करने लगा | उसके लंड को जब मैंने पूरी तरह से चाट कर गीला कर दिया तो फिर मैं  उसके लंड को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी लोलीपोप की तरह तो वो आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए मेरे मुंह की चुदाई करने लगा | लंड चूसन क्रिया के बाद उसने मुझे बेड पर लेटाया और मेरी टाँगे खोल कर अपना मुंह मेरी चूत के पास ला कर चूत को चाटने लगा तो मैं भी आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | वो मेरी चूत को बहुत अच्छे से चाट रहा था और मैं आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए उसके मुंह को अपनी चूत पर दबा रही थी |

उसके बाद उसने अपने लंड को मेरी चूत में कुछ देर रगड़ा और एक ही शॉट में अन्दर पेल दिया | चूत गीली होने की वजह से उसका लंड आसानी से फिसल गया अन्दर | अब वो मेरी चूत की चुदाई करने लगा और मैंने आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए अपनी टाँगे उसकी कमर पर लपेट लीं | ऐसे ही चोदने के बाद उसने अपनी रफ़्तार पकड़ ली और जोर जोर से शॉट मारते हुए मेरी चूत को चोदने लगा तो मैं भी आहा ऊनंह ऊउम्म्म्ह आहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहाआअ उऊंनंह ऊउम्म्ह करते हुए अपनी गांड उचका उचका कर चुदवाने लगी | कुछ देर की चुदाई के बाद उसने अपना वीर्य मेरे दूध पर निकाल दिया जिसे मैंने अपने पूरे दूध पर मल लिया | अब मैं रोज ही उससे चुद्वाती हूँ |

तो दोस्तों, ये थी मेरी कहानी मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो ने मेरी कहानी पसंद किया होगा |


Comments are closed.


error: