पड़ोस का चुदक्कड परिवार और मेरी अन्तर्वासना – 2

Pados ka chudakkad pariwar aur meri antarvasna – 2:

hindi sex stories

हेल्लो Free Hindi Sex Stories के पाठकों, मैं विनय फिर से हाजिर हूँ आप लोगों के सामने अपनी चुदाई की कहानी को लेकर | चलिए अब बिना देर किये कहानी शुरू करता हूँ |

मैं सीमा को किस किये जा रहा था और वो भी मेरा साथ दे रही थी | अब मैंने सीधा उसके छोटे छोटे बूब्स को चुसना शुरू कर दिया | उसके गुलाबी निप्पल बहुत मीठे थे और मुझे चूसने में बहुत मजा आ रहा था | बूब्स चूसते समय मैं बीच बीच में उसके निप्पल को हलके से काट भी ले रहा था जिसकी वजह से वो ऊई इ ई ईई इ ईई इ ई इ इ आह हह ह ह हह हह ह ह करने लगती थी | इसके बाद मैंने उसकी चूत में ऊँगली करनी शुरू कर दी | उसकी चूत इतनी कसी थी की मेरी ऊँगली भी उसने नही जा रही थी | मैंने थोडा थूक लगाया अपनी ऊँगली पर और उसकी चूत में डाल दिया | वो आह हह ह हह ह ह हह ऊऊ ऊ ऊ ऊ उ उई ई इ ई इ ई इ इ ई इ इ करने लगी | मैंने उसकी चूत में अपनी ऊँगली को अन्दर बाहर करा शुरू कर दिया | वो स्किस्क्याँ ले रही थी | मुझे मजा आ रहा था | मैंने अब दो उँगलियाँ डाल दिन उसकी चूत में और अन्दर बाहर करने लगा | उसकी सिसकियाँ और तेज हो गयीं |

मैंने थोड़ी देर बाद अपनी अंडरवियर भी उतार दी | अब मेरा खड़ा हुआ लंड सीमा के सामने था | सीमा ने उसे हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दिया | थोड़ी देर तक सहलाने के बाद वो उसे चूसने लगी | उसने मेरे लंड को बड़े प्यार से शुरू कर दिया | वो लंड के टोपे को बड़े प्यार से चूम रही थी | मैंने उससे मुंह के और अन्दर लंड को लेने को बोला | सीमा मान गयी और मेरे लंड को अपने मुंह के और अन्दर तक लेने लगी | बीच बीच में वो मेरे टट्टे भी चाट रही थी | उसके टट्टे चाटने का अंदाज मुझे बहुत पसंद आया | मुझे उसका लंड चाटना बहुत अच्छा महसूस करवा रहा था | मैंने उसके मुंह में पकड़ा और जोर से से उसके मुंह को अपने लंड से चोदना शुरू कर दिया | उसके मुंह से गप्प गप  पप प पप प पप पपप प पपप प पपप पप प पप की आवाज़ आने लगी |

उसके मुंह को चोदने में मुझे इतना मजा आ रहा था की मैंने धक्के लगाना और तेज कर दिया और उसके मुंह में ही झड गया | वो मेरा सारा माल पी गयी | उधर रिज़वान अपनी बेटी के चूत चोदकर झड चुके थे और उनका बीटा भी अपनी माल की चूत को फाड़ कर अपना सारा माल गिरा चूका था | मैंने आज तक किसी की चूत नही चाटी थी लेकिन सीमा की गोरी और चिकनी चूत देखकर मुझसे रहा नही गया | उसकी चूत से एक भीनी से खुसबू आ रही थी | मैंने अब उसकी टांगों को फैलाया और उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया | वो सिसकियाँ लेने लगी और जोर जोर से आह्ह्ह्ह हह ह्ह्ह ह ह्ह्ह ह्ह्ह ह हह ह उम् मम म मम मम्म मम म मम मम्म मम म म मम म मम मम मम करने लगी |

मैंने उसकी चूत के और अन्दर तक अपनी जीभ ले जानी शुरू कर दी | उसकी चूत का स्वाद बहुत मजेदार था | मुझे वो नमकीन स्वाद आज तक याद है | मैंने उसकी चूत को चाट कर उसे बहुत मजे दिए | वो खुश हो गयी | वो बोली आज वो मुझे ऐसे मजे देगी की मैं हमेशा याद रखूंगा | मैं खुश हो गया | अब मेरा लंड दोबारा खड़ा हो चूका था | मैंने अब उसको लिटाया और उसकी चूत पर अपना लंड टिका दिया | मैंने उसको किस करना शुरू कर दिया और किस करते करते एक हल्का सा धक्का दे दिया | मेरे लंड का टोपा अब उसकी चूत के अन्दर था | उसके मुंह से चीख निकल पड़ी | उसकी चूत की सील टूट चुकी थी और मेरे लंड पर भी उसकी चूत का खून लग चूका था | मैंने खून साफ़ किया और उसके  मुंह को अपने मुंह से बंद किया और चूमने लगा | अब मैंने और धक्का दिया और इस बार पूरा लंड उसकी चूत में समां चूका था | वो दर्द से रोने लगी और आःह्ह ह ह्ह्ह ईई ईईई इ इ ई इ ऊ ओऊ ओऊ ऊ ऊ ओऊ ओऊ ओऊ ऊ ऊऊऊऊईई ईई ईईइ ईई ईई आह्ह ह ह उ इ ई इ ई इ इ करने लगी |

थोड़ी देर बाद मैंने उसके मेरे लंड पर बैठकर कूदने को कहा | वो वैसा ही करने लगी | लगभग आधे घंटे की जोरदार चुदाई के बाद मैं झड़ने को हुआ तो मैंने लंड निकाल कर साइड में झाड दिया | हम सब थक चुके थे | फिर रिज़वान बोले – रुको, सब में फिर से जोश लाने के लिए मैं एक स्पेशल दवा लाता हूँ | मैं समझ गया की वो वियाग्रा लाने गये हैं | फिर वो लौटे तो उनके हाथ में वियाग्रा की दवा थी | मैंने भी खाया | लड़कियों ने नही खायी | अब हम तीनो का लंड खड़ा हो चूका था | रिज़वान की बीवी और बड़ी बेटी मेरा बड़ा लंड अपनी चूत में लेने को तैयार थी | अब हमने अदला बदली की और फैसला किया की कोई किसी को भी चोद सकता है | अब मैंने रिज़वान की बीवी की टांगे फैलायीं और बिना थूक लगाये एक ही झटके में अपना लंड घुसेड दिया | वो दर्द से कराहने लगी और जोर जोर से आह ह ह हह ह्ह्ह ह ह हह ह ह हह ह हह ह ऊऊ ऊ ऊऊ ऊई ई ईई ईई ई इ इ इ ईई इ चोद दो मुझे… चोद दो.. फाड़ दो मेरी चूत.. भोसड़ा बना दो इसका.. आह्ह्ह्ह ह हह ह हह उई इ इ ई इ ई कितना बड़ा लंड है तेरा.. आह्ह्ह ऊई ई इ इ करने लगीं | मैंने चोदना जारी रखा | थोड़ी देर में वो थक गयीं |

अब मैंने रिज़वान की बड़ी बेटी को घोड़ी बनाया और उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया | उसकी भी चूत कसी थी | मुझे मजा आ रहा था | मैं रुका नही और चोदता था | अचानक से मेरे मन में एक शैतानी ख्याल आया | वो घोड़ी बनी थी और उसकी गांड का छेद मुझे दिख रहा था | वो छोटा सा छेद मुझे बहुत अच्छा लग रहा था | मैंने उसकी चूत में से अपना लंड निकाला और उसकी गांड के छेद पर ढेर सारा थूक लगा कर उसकी गांड पर लंड टिका दिया | वो डर गयी | अभी वो पीछे मुड़ने ही वाली थी की मैंने उसकी गांड में एक जोर का धक्का दिया | उसकी गांड से खून आने लगा था लेकिन अच्छी बात ये थी की मेरा आधा लंड घुस चूका था | उसकी गांड का हाल बहुत बेकार हो चूका था लेकिन उस टाइम मेरी कामुकता मुझ पर सवार थी | मैं रुका नही और उसकी गांड में लंड को अन्दर बाहर करने लगा | वो रो रही थी लेकिन मैं उसकी गांड चोदे जा रहा था |

बहुत जोर लगाने पर लगभग 10 मिनट बाद मेरा लंड पूरा उसकी गांड में घुस चूका था | अब वो भी दर्द को एन्जॉय करने लगी थी | जब मैंने देखा की उसे मजा आ रहा है तो मैंने धक्के तेज कर दिए | वो जोर जोर से आह हह ह हह हह ह उ ऊऊ ऊ उ ऊ ऊ ऊ इ इ ईई ई इ ई इ ई ईई इ ई ई इ ओह ह ह हह करने लगी और अपनी गांड मरवाने लगी | उसकी गांड इतनी कसी थी की मेरे लंड में दर्द होने लगा लेकिन अपनी अन्तर्वासना को शांत करने के लिए मैंने वो दर्द झेलना बेहतर समझा | लगभग 15 मिनट की जोरदार गांड चुदाई के बाद मैं उसकी गांड में ही झड गया |

उस दिन के बाद मैं लगभग हर रोज उनके घर में रात में जाता हूँ और चुदाई के मजे लेता हूँ | दोस्तों, ये थी मेरी सेक्स कहानी | आशा है की आप लोगों को पसंद आई होगी | और ऐसी ही मजेदार चुदाई की कहानियों का स्वाद लेने के लिए आते रहें इस वेबसाइट पर मेरी तरह | चलिए, चलता हूँ दोस्तों, सीमा की चूत चोदने का टाइम हो गया है |

 


Comments are closed.


error: