ऑफिस के टूर में अपने जूनियर से चूत मरवाई

Office ke tour me apne junior se chut marwayi:

office sex stories, desi sex kahani

मेरा नाम अंजलि है मैं 26 वर्ष की एक युवती हूं मेरी एक अच्छी कंपनी में जॉब है। वहां पर हम लोग काफी क्रिएटिव काम करते हैं और अपनी  मर्जी से अपने काम को कर कर घर आ जाते हैं। मुझे अपने काम में बहुत ही मजा आता है मुझे तो बिल्कुल भी बोरिग नहीं लगता है और काफी इंट्रेस्ट रहता है। अपने कामों के सिलसिले मे  हम लोग नए नए शहरों में घूमते रहते हैं और वहां पर अपने काम को करते हैं इसलिए मैंने अब तो काफी सारी जगह देख ली है।

इस बार भी हमारा टूर पंजाब का था मेरे साथ में मेरे ऑफिस के 5 लड़के भी थे। हम लोगों की सारी व्यवस्था ऑफिस ने करवा रखी थी और हम लोग अपने कामों में लगे हुए थे। हम लोग सुबह अपने काम पर जाते और शाम को अपना काम से वापस लौटते। हम लोगों को काफी मजा आ रहा था जब हम पंजाब में थे। उस समय वहां का मौसम भी बहुत बढ़िया था हम लोग नई-नई जगह पर घूम भी रहे थे। मेरे आँफिस के दोस्त लोग कहते कि काफी अच्छा लग रहा है जब यहां घूम रहे हैं वह सब घूमने के बड़े ही शौकीन है। उन में से एक लड़का मुझे बहुत पसंद था वह नया ही हमारे ऑफिस में आया था उसका नाम अभिषेक था। वह मेरा जूनियर था और मुझसे हर एक चीज में पूछा करता था कि मैडम यह काम किस तरीके से करना है तो मैं उसे सब कुछ बता देते थी कि किस तरीके से करना है। वह बहुत खुश होता था जब भी मैं उसके पास जाता थी। उसे अब ऐसा लगता था कि मैं उसे देख कर अट्रैक्ट हो रही हू लेकिन मैंने उसे कभी भी ऐसी मौका नहीं दिया कि जब मैं उससे ऐसा कह सकूं कि मैं भी तुम्हारी तरफ अट्रैक्ट हो रही हूं। वह मेरे साथ ही काम पर जाता था और जब हम जाते थे तो मैं उसका बहुत ध्यान रखती थी समय पर हम लोग लंच कर लिया करते थे और शाम को ऑफिस आ जाते थे।

अब हमारा काम पूरा होने वाला था तो मैंने सोचा आज हम लोग पार्टी कर लेते हैं। मैंने उसे कहा क्या तुम ड्रिंक करते हो उसने कहा हां करता हूं तो मैंने उसे अपने रूम में बुला लिया और वहां पर कुछ बीयर की बोतल ले आई। हम दोनों बियर पीते जा रहे थे और काफी देर से बातें कर रहे थे तो मैंने उससे बातो बातो मे पूछ ही लिया क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है। उसने बोला नहीं कोई नहीं है मैं सिंगल हूं। मैंने उसे कहा कि तुम तो बहुत अच्छे दिखते हो तो अभी तक कोई गर्लफ्रेंड क्यों नहीं बनाई। वह कहने लगा मैडम इसी वजह से तो गर्लफ्रेंड नहीं बनाई। पहले 2 3 गर्लफ्रेंड थी उनके साथ भी ज्यादा समय तक नहीं चल पाया मेरे रिलेशन और अब ब्रेकअप हो गया है। मैंने उसे कहा कि तुम किसी को गर्लफ्रेंड बना लो वह कहने लगा मैडम देखता हूं अभी तो फिलहाल नहीं बना सकता क्योंकि मैं अभी अपने काम में ध्यान दे रहा हूं। थोड़ा काम सीख जाऊ उसके बाद ही किसी को गर्लफ्रेंड बना लूंगा। मैंने उससे पूछा कि क्या तुमने किसी के साथ सेक्स किया है वह कहने लगा मैने अपनी गर्लफ्रेंड को सबको बहुत अच्छे से चोदा है। मैंने भी उसके सामने यह बात रखी कि क्या तुम मुझे पसंद करते हो। अभिषेक ने कहा मैडम क्यों नहीं करता हूं मैं आपको बहुत पसंद करता हूं लेकिन आप मेरी सीनियर हैं तो इसलिए मैं थोड़ा चुपचाप ही रहता हूं। मैंने उसे कहा कि तुम मुझे बहुत अच्छे लगते हो और देखने में भी बहुत अच्छे हो और तुम्हारा नेचर भी काफी शांत है। वह कहने लगा म शांत तरीके का स्वभाव पसंद करता हूं। मैं उस लड़के से बहुत ज्यादा इंप्रेस थी और वह भी मुझ से काफी इंप्रेस था। मैंने उसे कहा कि मैं तुम्हें सारा काम ऑफिस का सिखा दूंगी और किस तरीके से क्या करना है वह तुम सब सीख जाओगे तुम्हारा प्रमोशन भी करवा दूंगी। वह कहने लगा मैं यह तो आपका बड़प्पन होगा जो आप मेरे साथ इस तरीके से करेंगे।

मैंने उसे कहा कि लेकिन तुम्हें मेरी चूत मारनी होगी आज मेरा बहुत मन हो रहा है आज शराब भी हो गई है और मजा भी आ जाएगा अगर तुम मेरी चूत की खुजली को मिटा दो। वह कहने लगा क्यों नहीं मैडम मैं अभी आप की गर्मी को मिटा देता हूं। हम दोनों ने पहले तो काफी देर तक इंजॉय किया उसके बाद हमने सिगरेट पी जैसे ही हमारी सिगरेट खत्म हुई उसके तुरंत बाद हम दोनों फ्रेश होने चले गए। अब जैसे ही वह फ्रेश होकर आया तो बिस्तर पर लेटी हुई थी। वह मेरे पास आकर बैठ गया और उसने मेरे हाथों को अपने हाथों में लेकर सहलाना शुरु कर दिया थोड़ी देर बाद वह मेरे बालो को भी साहला रहा था। ऐसे ही मेरे होठों को भी किस करने लगा मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब वह मेरे होठों को स्मूच कर रहा था। वह इतने प्यार से कर रहा था कि आज तक शायद किसी ने मेरे होठों को इतने अच्छे से किस किया हो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब वह इस तरीके से मेरे साथ करता जा रहा था। वह मेरे स्तन पर अपनी जीभ लगाने लगा और ऐसे ही मेरे स्तन को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा। अभिषेक ने कहा की मैडम आपका फिगर तो एकदम सॉलिड है। मैंने उसे कहा कि मैंने बहुत मेंटेन कर रखा है और अपना काफी ध्यान रखता हूं। उसने बड़ी तेज तेज मेरे स्तनों को चूसना शुरु किया और अपने मुंह में लेता जाता। ऐसे ही काफी देर तक उसने मेरे स्तनों को चूसता रहा। जिससे कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा था उसने अब मेरे शार्ट को उतारते हुए मेरी पैंटी को उतार दिया और मेरे दोनों पैरो को चौड़ा कर दिया। मेरी चूत को चाटने लगा जैसे ही वह मेरी चूत को चाटता तो मेरी सिसकिया निकल जाती और मेरे मुंह से बड़ी तेज आवाज निकल रही थी। मेरा चूत से पानी गिरता जा रहा था मुझसे भी अब नहीं रहा जा रहा था। मैंने उसे 69 पोज मे बनने के लिए कहा जैसे ही वह 69 पज मे बना तो मैंने उसके लंड को अपने गले तक ले लिया और अच्छे से चूसने लगी। वह भी मेरी चूत को चाटता जाता और मैं उसके लंड को  अपने मुंह के अंदर ले रही थी उसके अंडकोष मेरी नाक पर लग रहे थे। जिनमें से एक अच्छी सी स्मेल आ रही थी। मुझे बहुत अच्छा लगता जब वह इस तरीके से मेरी चूत को चाटता जाता। अब काफी समय हो गया था ऐसा करते हुए और हम दोनों से कंट्रोल नहीं हो रहा था।

मैंने उसे कहा कि मुझे डॉगी स्टाइल में तुम चोदना। उसने कहा ठीक है मैडम मैं आपको वैसा ही करूंगा उसने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी चूत को पहले काफी देर तक चाटता। उसने मेरी चूतड़ों को अपने हाथ में पकड़ते हुए अपने लंड को प्रवेश करवा दिया। जैसे ही उसने अपने लंड को मेरी चूत मे डाला तो मेरी चीख निकल गई और वह पूरा अंदर तक डालता चला गया। मुझे काफी अच्छा लग रहा था जब वह ऐसा करता जा रहा था। उसने बहुत तेज तेज मुझे धक्के मारने शुरू कर दिए। मेरी चूतडो से आवाज निकलती वह सुनकर मैं भी उत्तेजित हो जाती और अभिषेक भी बहुत उत्तेजित हो जाता। वह मुझे बड़ी तेज झटके मारने लग जाता ऐसे ही उसने काफी देर तक मुझे झटके मारते मारते मेरी योनि में अपने वीर्य को अंदर ही डाल दिया। मुझे भी ऐसा लग रहा था मानो मेरी गर्मी शांत हो गई हो लेकिन अभी भी हम दोनों की भड़ास नहीं मिटी थी। उसने मेरे दोनों पैरों को खोलते हुए अपने लंड को घुसा दिया मेरी योनि से अब भी उसका वीर्य गिर रहा था और वह ऐसे ही मुझे धक्के मारने लगा। मेरी चूत मे जैसे ही उसका लंड जाता तो मुझे एक अलग ही तरीके की अनुभूति होती। उसने मेरे दोनों पैरों को बहुत चौड़ा कर लिया और अब ऐसे ही वह मुझे धक्के मारने लगा थोड़ी देर तक उसने मुझे ऐसे ही चोदा। उसके बाद उसने एक झटके से मुझे अपने हाथों से उठाते हुए पेलना शुरु किया और मेरे स्तनों को अपने मुंह में लेकर चाटता जाता। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था जब वह मुझे इस तरीके से चोदता। मुझे ऐसा लगता मानो यह कुछ अलग ही तरीके का बहुत अच्छा सेक्स पोजीशन है। उसने काफी देर तक मुझे ऐसे ही चोदना जारी रखा। मेरा बदन भी पूरा अंदर से कमजोर हो चुका था और उसका भी माल मेरे अंदर गिर गया था तो वह भी एक दम से कमजोर पड़ गया था। हम दोनों ऐसे ही एक दूसरे के साथ सो गए हमारी आंख सुबह ही खुली जब हमें काम पर जाना था।


Comments are closed.