नईं नौकरी पर ऑफिस गर्ल की गांड मारी

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम जेरी है और में पंजाब से हूँ, मेरी उम्र 27 साल है और में शादीशुदा हूँ। जो स्टोरी में आप लोगों से शेयर करने जा रहा हूँ, ये 3 महीने पहले की है जब मैंने नई-नई जॉब जॉइन की थी।  मेरे ऑफिस में बहुत से लड़के लड़कियाँ काम करते थे, लेकिन एक लड़की रूबी जो कि 23 साल की होगी और वो मुझे बहुत अच्छी लगती थी, उसकी बॉडी बहुत ही सुन्दर थी और उसकी उम्र कम थी, लेकिन उसकी बॉडी किसी जवान 26-27 साल की लड़की से कम नहीं थी, उसका फिगर साईज़ 36-28-38 था, उसके गोल-गोल बूब्स और भरे हुए चूतड़ मुझे बहुत सुंदर लगते थे। हमारी काफ़ी अच्छी दोस्ती हो गई थी और वो भी मुझमें इन्ट्रेस्ट लेती थी, वो हर बार मुझसे पूछती थी कि शादी के बाद लाईफ कैसी होती है। फिर एक दिन मैंने उससे पूछ ही लिया कि तुम अक्सर ऐसा क्यों पूछती हो? तब वो बोली कि मुझे शादीशुदा आदमी बहुत पसंद है, शुरू में तो में उसका चेहरा देखता रह गया। फिर मैंने रात को घर आकर उसको मैसेज किया कि में सब बताऊंगा कि शादी के बाद क्या होता है? लेकिन उसके लिए हमें किसी ऐसी जगह पर जाना होगा जहाँ हमारे अलावा कोई ना हो।

फिर अगले दिन उसने मुझे बताया कि उसकी फ्रेंड उसी शहर में पढाई करती है और वो वहाँ किराये के रूम में रहती है तो उसने वहाँ मिलने का प्लान बना लिया। फिर हम लोग ऑफिस से निकलकर वहाँ गये और वहाँ पहुँचकर हम सोफे पर बैठ गये। फिर मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रख दिया। फिर उसने हाथ पीछे करके कहा कि में पानी लाती हूँ। मेरा तो मन उसकी सेक्सी गांड चूमने को कर रहा था और जैसे ही वो किचन से पानी लेकर सामने आई तो मैंने बैठे-बैठे ही उसकी नाभि पर हग कर लिया और उसकी गांड पर हाथ रखकर आई लव यू रूबी बोल दिया।

फिर उसने भी ग्लास साईड पर रखा और मेरे बालों में हाथ फेरने लगी। फिर मैंने उसके पेट पर कई  किस की। फिर वो मुड़ गई। अब वो मेरे सामने उल्टी खड़ी थी और में सोफे पर बैठा था, उसकी गांड मेरे चेहरे के बिल्कुल सामने थी। फिर मैंने अपने हाथ की उँगलियाँ उसकी नाभि के आस पास फेरी और उसकी गांड में अपना चेहरा घुसाकर उसकी गांड को सूंघने लगा, वाह दोस्तों उसमें एक अजीब सा नशा था। फिर मैंने झट से उसकी सलवार को नीचे किया और उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी गांड को चाटने लगा तो वो भी थोड़ा झुक गई और मेरे चेहरे को और अंदर अपने हाथ से घुसाने लगी। फिर मैंने उसकी पेंटी उतार दी, अब मेरे सामने उसकी लाल गांड और बड़े-बड़े कूल्हे थे। फिर मैंने उसके दोनों कूल्हों पर बहुत सारी किस की और अपनी जीभ उसकी गांड के छेद पर रगड़ने लगा। फिर रूबी को नशा सा चढ़ रहा था और वो भी अपने कूल्हें बार-बार मेरे मुँह पर रगड़ रही थी।

फिर उसने मुझे सोफे पर लेटा दिया और मेरे चेहरे पर आकर बैठ गई। फिर उसने अपना कुर्ता भी उतार दिया था, अब वो सिर्फ़ ब्रा में थी और वो जैसे ही मेरे चेहरे पर बैठी तो उसकी गीली चूत मेरे होठों पर टच हो गई। वो अपने हाथों से अपने बूब्स को दबा रही थी और में पागलों की तरह उसकी चूत चाट रहा था, उसकी चूत से एक अलग ही स्वाद वाला पानी निकल रहा था और जिसने मेरे सारे होंठो को गीला कर दिया था। वो सिसकियां ले रही थी और बोल रही थी,  ऊओह्ह्ह्ह जान और चूसो मेरी चूत को हमम्म्म बहुत मज़ा आ रहा है, अपनी पूरी जीभ मेरी चूत में डाल दो जानू। फिर करीब 15 मिनट तक उसकी चूत चाटने के बाद वो झड़ गई और उसने पानी छोड़ दिया। फिर मैंने उसकी चूत का सारा पानी पी लिया, मुझे ऐसा स्वाद कभी नहीं आया था।


Comments are closed.