नौकरी के बाद छोकरी भी वाह !

Naukari ke baad chhokri bhi waah:

kamukta, desi kahani

नस्मकर दोस्तों, मेरा नाम राहुल साहू है और मैं प्रेत्नगर का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 23 साल है और मैं एक नौजवान लड़का हूँ और मैं आर्मी में जॉब करता हूँ | मैंने इस जॉब के लिए काफी महनत किया था जिससे मुझे जल्दी ही नौकरी मिल गई | मैं दिखने में गोरा हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 11 इंच है और मेरा बदन अच्छा ख़ासा फिट है | मैं दिखने में एक दम मुस्टंडा लगता हूँ | दोस्तों आज जो मैं कहानी लिखने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है | मैं आशा करता हूँ कि आप सभी को मेरी कहानी पसंद आएगी | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा टाइम वेस्ट नहीं करूँगा और अपनी कहानी लिखना शुरू करता हूँ | मेरे घर में मेरे मम्मी पापा एक भाई और एक बहन हैं | मेरे पापा प्राइवेट जॉब करते हैं और मेरी मम्मी भी प्राइवेट जॉब करते हैं | दोस्नो अच्छे पोस्ट पर हैं इसलिए हमारे घर का खर्च बड़े ही आराम से होता था उसके बाद भैया भी की भी जॉब लग गई लेकिन प्राइवेट | खैर उससे तो कोई फर्क नहीं पड़ता क्यूंकि भैया को भी अच्छी जॉब मिली | मेरी बहन उसकी शादी हो चुकी है | हमारे घर में बस अब हम चार ही लोग बचे हैं |

जब मैं स्कूल में पढता था तब से मुझे बड़ा ही शौख था आर्मी में जॉब करने का | मैं घर में भी हमेशा सबसे बोलता था कि मुझे आर्मी में जाना है | पर आर्मी में जाना कोई आसान बात तो है नहीं | पर फिर भी मैं मेहनत करता रहा | मैं स्कूल के समय से ही रनर था और मुझे हमेशा फर्स्ट प्राइज ही मिलता था | फिर मैंने आर्मी के लिए ट्राय किया स्पोर्ट्स कोटे से मेरा आर्मी में सिलेक्शन हो गया | मेरे घर वाले भी खुश थे कि चलो हमारे घर का कोई एक सदस्य तो सरकारी नौकरी में है मेरी पोस्टिंग उस समय दुमना के पास हुई थी और वहां मुझे रहने के लिए क्वार्टर मिला हुआ था | वहां पर मैं अकेले ही रूम में रहता था | जहाँ पर मैं रहता था वहां सारे आर्मी के लोग ही रहते थे | मेरे घर के जस्ट सामने एक परिवार रहता था | उनमे एक अंकल जो कि ज्यादातर बाहर ही रहते थे और बहुत ही कम घर आते थे | उनकी बीवी जो दिखने में अच्छी खासी थी | उनके दो बच्चे थे एक लड़का जो कि बोर्डिंग स्कूल में पढता था और एक बेटी जो कॉलेज में थी | उसकी बेटी की उम्र लगभग 20 साल होगी | उसका रंग एक दम दूध जैसा गोरा और लेम घने काले बाल | उसका एक दम गदराया हुआ शरीर | बड़े बड़े दूध और बड़ी चौड़ी गांड |

वो दिखने में एक दम क़यामत थी | मेरी उससे कुछ खास बात नहीं होती थी लेकिन उसकी मम्मी से मेरी अच्छी बात होती थी | जब मैं वहां नया नया था तब वो मुझे खाना खिलाती थी | इसलिए हमारी अच्छी खासी पहचान थी | एक दिन की बात है ठण्ड का समय था – मैं छत पर नहा कर कपड़े सुखाने के लिए गया हुआ था | मैंने देखा कि तनिषा ( उनके बेटी ) पढ़ रही थी | उस समय उसका ध्यान मेरी तरफ नहीं गया था | मैं बस एक टॉवल लपेटे हुए था | जब उसकी नजर मुझ पर पड़ी तो वो मुझे तिर्चि निगाहों से देख रही थी | ये चीज़ मैं नोटिस कर रहा था कि वो मेरी चौड़ी छाती को ज्यादा घूर कर देख रही थी | मैंने सोचा कि क्यूँ न इसे पटा कर चोदा जाये | मैंने जानबूझकर अपने टॉवल को नीचे गिरा दिया तभी उसकी नजर मेरे 7 इंच लम्बे और 2.5 इंच मोटे लंड पर पड़ो | ये देख कर उसकी गांड फट गई और वो तुरंत ही वहां से उठ कर भाग गई | मुझे लगा कि कहीं वो अपने घर में न बता दे | इसीलिए मैं भी जल्दी से अपने कपड़े डाल कर नीचे आ गया | उसके बाद से मैंने नोटिस किया कि वो मेरी र्तारफ देख कर मुस्कुराया करती थी और वो मुझसे बात करने की कोशिस किया करती थी | फिर एक दिन हमारी बात हो गई और हम दोनों भी अच्छे दोस्त बन गए | उसने खुद से ही मुझसे मेरा नंबर माँगा और खुद से ही ही मुझे फ़ोन लगा कर बात करने लगी | अब हम दोनों की सेक्सी बात भी चालू हो गई तो एक दिन मैंने उसे सेक्स के लिए पुछा तो उसने भी हाँ कर दी |

अगले ही रात उसकी मम्मी सोने के बाद वो मेरे घर चुपके से आ गई | मैंने तुरंत ही उसको अपनी बांहों में लेकर चूमने लगा और वो भी मुझे चूमने लगी | थोड़ी देर की लिप्त झपटी के बाद मैंने उसके होंठ से अपने होंठ लगा कर किस करने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी किस्सिंग में | मैं उसके होंठ को दबा कर उसके दूध को मसल रहा था और वो मेरे होंठ को चूसते हए मेरे लंड को लोअर के ऊपर से ही दबाने लगी | हम दोनों ने एक दूसरे को दस मिनट तक किस किया | फिर मैंने उसके टॉप को निकाल दिया और उसके दूध को दबाने लगा तो उसके मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आवाज़ निकलने लगी | फिर मैंने उसके ब्रा को भी निकाल कर अलग कर दिया और उसके दूध को अपने मुंह में लेंकर चूनसे लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | मैं उसके दूध को बारी बारी से दबा दबा कर चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे सिर पर हाँथ से सहला रही थी | उसके बाद मैंने उसकी लेगी को भी उतार दिया और फिर उसकी पेंटी को निकाल कर अलग कर दिया | उसके बाद मैंने उसे जमीन पर टांगे फैला कर लेटा दिया और उसकी चूत पर अपनी जीभ फेरते हुए चाटने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मचलने लगी | मैं उसकी चूत को चाटते हुए उसकी चूत में ऊँगली डाल कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने दूध को दबाने लगी | मैंने उसकी चूत को करीब 15 मिनट तक चाटा | उसके बाद मैंने अपनी बनियान उतार दिया और हाफ पेंट भी और वो मेरे लंड को चड्डी के ऊपर से ही सहलाने लगी | फिर उसने मेरी चड्डी को उतार दी और मेरे लंड को हाँथ में लेकर हिलाने लगी |

जब मेरा लंड एक दम तन के खड़ा हो गया तो वो अपनी जीभ से मेरे लंड को गीला करने लगी चाट कर तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | वो मेरे लंड को बहुत अच्छे से चाट रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हए उसके बाल को सहला रहा था | कुछ देर के बाद उसने मेरे लंड को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके दोनों निप्पलस को दबाने लगा | वो मेरे लंड को जोर जोर से आगे पीछे करते हुए चूसने लगी तो मैं भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके मुंह में धक्के मरने लगा | उसने मेरे लंड को 20 मिनट तक चूसी और फिर मैंने उसकी चूत में अपने लंड को डाला और चोदने लगा धक्के मारते हुए और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | मैं जोर जोर से उसकी चूत को चोद रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने दूध को दबा रही थी | फिर मैंने उसे कुतिया बना दिया और उसके पीछे से चूत में लंड डाल कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदाई में साथ देने लगी | कुछ देर की चुदाई के बाद मैंने अपने वीर्य को उसके दूध के ऊपर ही झड़ा दिया | फिर अपने घर चले गई और हम रोज ही चुदाई करते हैं |


Comments are closed.