नगर पालिका की मां का भोसड़ा – 1

Nagar Palika ki maa ka bhosda -1:
aunty sex storyहेल्लो दोस्तों, कैसे हैं आप लोग ? आशा करता हूँ की बकचोदी पेल रहे होंगे और लड़कियां चोद रहे होंगे हमेशा की तरह और जिनके पास नही हैं वो मुठ मार रहे होंगे | दोस्तों मेरा नाम राज है और मैं कानपूर का रहने वाला हूँ | मेरी कद काठी अच्छी है और दिखने में मैं काफी स्मार्ट दिखने वाला इन्सान हूँ | चलिए ये तो हो गया मेरा छोटा सा परिचय | अब आता हूँ मुद्दे पर |
दोस्तों मेरे दोस्तों के ग्रुप में एक लड़का है जिसका नाम रिजवान है | वो काफी बक्चोद लड़का है और उसकी बकचोदी की वजह से हम सब उसे नगर पालिका बुलाते हैं | हम दोनों एक दुसरे के घर आते जाते रहते थे खासकर किसी मौके पर | उसके घर मे उसकी मां और वो रहते हैं और उसके पापा दुबई में रहते हैं | अभी कुछ दिनों पहले की बात है | मैं दिवाली की मिठाई लेकर उसके घर गया तो दरवाजा बंद था | जब मैंने काफी देर तक खटखटाया तो उसकी मां ने दरवाजा खोला | वो गीले कपडे पहने हुई थीं और उन कपड़ों में उनके सूट पहने होने के बावजूद भी उनका बदन लगभग पूरा दिख रहा था | वो आते ही बोलीं “रिजवान तो है नही बेटा | आओ बैठो | मैं नहा रही थी इसीलिए दरवाजा खोलने में टाइम लग गया” | मैंने बोला “कोई बात नही आंटी” | फिर वो वापस बाथरूम में चली गयीं | अब मैंने रिजवान यानि की नगर पालिका को कॉल किआ तो उसने बताया की उसको आने में अभी कम से कम 5 घंटे लग जाएँगे क्यूंकि वो किसी काम से लखनऊ गया हुआ है | मैंने सोचा की अब नगर पालिका भी नही है और आंटी भी नहा रही हैं तो अब मैं अकेला क्या करून यहाँ पर | तभी मेरे मन का शैतान जाग गया और मैंने सोचा की क्यूँ न थोड़ी बकचोदी की जाये | मैंने तुरंत मेन दरवाजा बंद किया और बाथरूम की तरफ बढ़ने लगा | मुझे मालूम है की उसके बाथरूम में पीछे की तरफ एक छोटी सी खिड़की है जोकि आसानी से तो नही लेकिन सीढियों से लटक कर मिल जाएगी मुझे | मैं उसी खिड़की की तरफ जाने लगा | जब मैंने खिड़की से लटक कर देखा तो एकटक देखता ही रह गया | नगर पालिका की मां एकदम माल थी | आज से पहले मैंने उनके बारे में कभी कुछ ऐसा नही सोचा था लेकिन आज उनके भीगे कपड़ों ने मुझे ऐसा करने पर मजबूर कर दिया था | उम्र तो थी चालीस के पार लेकिन उन्होंने खुद को मेन्टेन कर रखा था | बड़े दूध और सेक्सी गांड वाली नगर पालिका की मां का पेट बिलकुल भी नही निकला था और चूत भी बिना झांटों वाली थी | वो धीरे धीरे साबुन से अपनी चूत को साफ़ कर रही थीं और बीच बीच में अपने दूध भी धीरे से सहला रही थीं और पानी से खेल रही थी | थोडा और ज्यादा ध्यान से देखने के चक्कर में जब मैं अपने एक पैर की जगह बदलने लगा तो अचानक खुद को संभल नही पाया और लड़खड़ा कर गिर पड़ा | इससे पहले की मैं खुद को संभल पता और उठ पाता, नगर पालिका की मां तौलिया लपेट के आ गयीं और बोलने लगी की क्या हो गया, चोट तो नही लगी | मैंने बोला नही तो वो बोली की इधर क्या कर रहे थे | उनके इस सवाल पर मैं झेंप गया और चुप हो गया | मुझे चुप देख कर वो बोलीं की मुझे भी पता है की तुम क्या कर रहे थे इधर | मैंने उनको मनाने के लिए सॉरी बोला लेकिन वो मानी नही और बोलीं की एक शर्त पर मानेंगी | मैं मां गया तो वो बोलीं की तुमने मेरा सामान तो देख लिया लेकिन अब तुम्हे अपना भी दिखाना पड़ेगा | मैं चौंक गया तो वो बोलीं की तुम्हे ही सेक्स करने का मन नही करता सिर्फ, मेरा भी करता है और तुम्हारे अंकल क्यू साल से घर नही आये | मैंने शरमाते हुए बोला की ठीक है आंटी | मेरा इतना कहना था की उन्होंने तुरंत अपनी तौलिया भी हटा दी और मेरे कपडे उतारने लगीं | बाथरूम में तो इतना क्लियर नही दिख रहा था लेकिन अभी एकदम पास से उनका नंगा बदन देख के तुरंत मेरा लंड खड़ा हो गया | उन्होंने जैसे ही मुझे नंगा किया, तुरंत वो खुश हो कर बोलीं “वाह, कमाल का है तेरा लंड तो” | मैंने बोला की आज ये बस आपका है | उनसे कंट्रोल नही हुआ और वो तुरंत मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगीं | मुझे मजा आने लगा | वो एकदम किसी पोर्न विडियो की मिल्फ़ पोर्नस्टार की तरह मेरे लंड को पूरा मुंह में लेकर चूस रही थीं और अपनी थूक उस पर डाल कर गप.. ग़प.. की आवाज़ भी कर रही थीं | क्या बताओं दोस्तों वो क्या पल था | इस तरह से तो मेरी जवान गर्लफ्रेंड भी मेरा लंड नही चूसती जिस तरह से वो मेरा लंड चूस रही थीं | मैंने भी उनका मुंह पकड़ा और उनके मुंह को चोदने लगा | धीरे धीरे उनके मुंह को चोदने की स्पीड बढ़ा दी और उनके मुंह में ही झड गया | वो मेरे माल को पूरा गटक गयीं | अब हम दोनों उनके बेडरूम में आ गये और साथ में लेट गये | मैंने उनके होठों पर किस करना शुरू किआ उअर काफी देर तक करता ही रहा | फिर मैंने अपना हाथ उनके बूब्स पर रखा और उन्हें दबाने लगा | क्या मस्त दूध थे उनके.. गोरे से.. गुलाबी निप्पल | उनके निप्पल को मैंने एक बार थोडा तेज से मसल दिया तो वो चिल्ला पड़ीं और आराम से करने को कहा | मैं मान गया और अब मैं उनके दूध चूसने लगा | एक दूध को मैं चूस रहा था और दुसरे को अपने हाथ से दबा रहा था | फिर मैं एक हाथ उनकी चूत पर ले गया और चूत के दाने पर रख दिया | वो ख़ुशी से पागल हो गईं | मैंने उनके चूत के दाने को धीरे से सहलाना शुरू किआ और उनके मुंह से सिसकियाँ चालू हो गयीं | वो लगातार आह.. ऊह्ह… ह्म्म्म.. उम्म्म आ आआआह अहा आआअ आया ऊऊ ऊऊ ऊऊ ऊऊऊउ ऊ ऊऊऊईई ईईई ई ई ईईइअ अ अ आअ आ आआ आआ आआआ आ आ अ अ आः ह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह ह ह ह आः करने लगीं | अब मैंने अपनी एक ऊँगली उनकी चूत में घुसा दी | उनकी चिकनी चूत पहले से ही गीली थी | जैसे से मैंने अपनी ऊँगली से उनकी चूत को चोदना चालू किआ, उनकी सिसकियाँ फिर से शुरू हो गयीं | मैंने अब दो उँगलियाँ डाल दी और उनकी चूत को उँगलियों से ही चोदने लगा | वो लगातार आआ आआआअ अह्ह्ह आआ ह्ह्ह ह ह हह ह हह हह ह ह ऊऊ उ ऊऊऊ ईई इ ईईइ इ इ इ इ ई इ ईईईइ ई ईई इ आह आया अ आआ अ अ अ अ अ अ अ अ अ अआआअ अ आः आःह्ह्ह किये जा रही थीं | थिदी देर बाद वो बोलीं की उनसे अब और रहा नही जा रहा है | मैंने बोला ठीक है | अब मैंने उनके पैरों को फैलाया और अपना लंड उनकी चूत में एक झटके में ही डाल दिया | वो चिल्ला पड़ीं | उम्र के हिसाब से उनकी चूत काफी टाइट थी | उनके बहुत कहने पर मैंने अपना लंड निकल लिया और दोबारा डाल दिया लेकिन इस बार थोडा धीरे से | मैंने धीरे धीरे उनकी चूत को चोदना शुरू कर दिया | वो आआआअ ह्ह्ह्हह ह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह ह ह ह ह हह ह ह ह ऊऊ उ उ ऊ उ उ ऊऊउ ईई इ इ इ ई इ इ इ इ इ इ इ ईईइ ईई ईईईई ऊऊउ उ उ ऊ उ उ उ उ उ उ ऊऊउ ऊ उईइ ईई इ इ ई ई ई इ ई आ आ अ आआअ अ अ अ हह ह ह हह ह ह ह ह्ह्ह्हह हह ऊऊ ऊ उ उ उ उ उ ऊ ऊउईइ इ ईई ई इ इ ईईईईईई ईईईईईईइ करने लगीं | उनके ऐसा चिल्लाने पर मुझे और जोश आने लगा और मैंने चुदाई की स्पीड बढ़ा दी | अब वो जोर जोर से चिल्लाने लगी, कहने लगीं आआह्ह्ह ह्ह्ह्ह ह ह्ह्ह्ह ऊऊ ऊऊऊउ ऊऊउ ईई इ ई इ ई ई इ ई ईईईईइ अ अ आआअह्ह आआअह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह ह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह हह ऊऊउ ऊऊऊ ऊईइ ईई ईई ई इ इ इ इ ईईइ.. चोद दो आज मुझे.. फाड़ दो मेरी चूत.. बना दो भोसड़ा इसका.. उईईइ.. आःह्ह्ह.. ऊऊह्ह्ह्ह. ईई इ ईई इ इ ईई इ ईईइ.. आःह.. और जोर से चोदो मुझे.. चोद को आज… आआह्ह्ह्ह ऊऊऊउ उईई ऊऊ ईईई ईईइ ईईइ इ ई इ इ इ ईईइ ई इ ईई ई इ इ ऊऊऊउ उ उ ऊ ऊईईइ ईई ई इ इ इ ईई इ | करीब आधे घंटे की जोरदार चुदाई के बाद हम दोनों झड गये | वो खुश हो कर बोलीं की आज तूने मुझे खुश कर दिया | बता क्या चाहिए तो मैंने बोला की आपकी गांड | वो बोलीं तेरे लिए कुछ भी.. ऐसे ही मुझे चुदाई का सुख देता रह और जो मन करे लेता रह.. मेरा सब कुछ तेरा है | मैंने खुश हो गया | आगे की कहानी अगले पार्ट में बताता हूँ |
दोस्तों ये थी मेरी कहानी |


Comments are closed.