मुंबई जाकर कॉल गर्ल बन गई

Mumbai jakar call girl ban gayi:

hindi sex stories, desi chudai

मेरा नाम सरिता है और मैं  अलीगढ़ की रहने वाली हूं, मुझे अलीगढ़ में रहते हुए काफी समय हो गया था और मैं कुछ समय के लिए एक छोटी सी स्कूल में पढ़ाने लगी क्योंकि मेरे पास कुछ भी काम नहीं था और मैं सोचने लगी कि कुछ दिनों के लिए मैं स्कूल में ही पढा लेती हूं जिससे कि मेरा खर्चा निकल जाया करेगा और मुझे घर से रुपये नहीं मांगने पड़ेंगे इसीलिए मैंने एक स्कूल में पढ़ाना शुरू कर दिया।  मुझे स्कूल में पढ़ाते हुए 6 महीने हो चुके हैं लेकिन मेरी तनख्वाह बहुत कम थी और उससे सिर्फ मेरा खर्चा ही निकल पाता था। मुझे अपने पिताजी से पैसे मांगने की जरूरत नहीं पड़ती थी। कई बार मेरे पिताजी ने मुझे कहा कि तुम उस छोटे से स्कूल में क्यों पढ़ा रही हो यदि हम तुम्हें घर में किसी भी प्रकार की कोई कमी नहीं होने दे रहे तो तुम्हें इस स्कूल में पढ़ाने की आवश्यकता क्या है।

मैं उन्हें कहती कि मुझे आपसे पैसे लेने अच्छे नहीं लगते, आपने जितना मुझे पढ़ाना था आपने उससे ज्यादा ही मुझे पढ़ाया है इसलिए मैं नहीं चाहती कि मैं आपसे पैसे लूँ। जो पैसे मुझे स्कूल से मिला करते थे, मैं उन्हें जमा कर लिया करती थी और कुछ पैसे मैंने पहले से ही अपने अकाउंट में जमा कर के रखे हुए थे।  मेरे साथ के जितने भी दोस्त है वह सब लोग कहीं ना कहीं बाहर जा चुके थे या फिर उनमें से कुछ लोगों की शादी हो चुकी थी इसीलिए मुझे कोई भी नहीं मिल पाता था। मुझे एक दिन मेरी सहेली पायल का फोन आया और वह मुझसे पूछने लगी कि तुम क्या कर रही हो, मैंने उसे बताया कि मैं तो एक छोटे से स्कूल में पढ़ाती हूं और यही मेरी दिनचर्या है इससे ज्यादा मैं कुछ भी नहीं कर रही हूं। मुझे पायल के बारे में पता था कि वह मुंबई में रह रही है, मैंने उसे पूछा कि तुम तो मुंबई में ही हो मैं तुम्हारी फोटो में देखती रहती हूं तुम अक्सर अपनी नई नई फोटो डालती रहती हो, वह मैं अक्से देखती रहती हूं। मैंने पायल से कहा कि तुम तो पूरी तरीके से बदल चुकी हो, पहले तो तुम कितनी सीधी थी लेकिन अब तुम बहुत ही कॉन्फिडेंट दिखाई देती हो।

पायल मुझसे कहने लगी कि यह सब मैंने मुंबई में आकर ही सिखा है यदि मैं अलीगढ़ में रहती तो शायद मैं उसी प्रकार से रहती या फिर अब तक मेरी शादी हो चुकी होती, कहीं ना कहीं मुझे फैसला लेना ही था इसलिए मैंने फैसला लेते हुए मुंबई आने की सोच ली थी और अब मैं मुंबई में बहुत ही खुश हूं। मेरी पायल से करीबन एक घंटे तक बात हुई, उसके बाद मैं अपने घर आ गई और जब मैं घर आई तो मैं भी सोचने लगी कि मुझे भी अपने जीवन में कुछ अच्छा करना चाहिए, नहीं तो मैं भी छोटे से स्कूल में पढाती रहूंगी और कुछ समय बाद ही मेरी शादी हो जाएगी। मैंने जब अपनी मां से इस बारे में बात की तो मेरी मां कहने लगी कि तुम्हारे पिताजी पहले ही तुम्हे स्कूल में पढ़ाने से मना कर रहे थे और तुम उन्हें यदि इस बारे में बताओगी कि तुम मुंबई जा रही हो तो वह बहुत ही गुस्सा हो जाएंगे, वह तुम्हे किसी भी हाल में मुंबई नहीं भेजने वाले। मैंने उनसे जिद की और कहा कि आप एक बार पिता जी से बात कर लीजिए यदि वह राजी हो जाएंगे तो मैं मुंबई जा पाऊंगी। मेरी मां ने मेरे पिताजी से बात कर लिया और वह पहले तो तैयार नहीं हुए लेकिन जब मैंने ही उनसे खुद बात की, कि मुझे भी अपने सपने पूरे करने है इसलिए मुझे एक बार तो मुंबई जाने दीजिए। उन्होंने कहा ठीक है यदि तुम इतनी जिद कर रही हो तो तुम चली जाओ लेकिन उन्होंने मुझसे पूछा कि तुम मुंबई में किसके पास रहने वाली हो, तो मैंने उन्हें पायल के बारे में बताया और मैंने अपने पिताजी की बात पायल से भी करवा दी। जब उन्होंने पायल से बात की तो वह पूरी तरीके से संतुष्ट हो गए और कहने लगे चलो यह तो अच्छा है कि कम से कम तुम्हारी सहेली वहां पर रहती है। अब वह भी पूरी तरीके से निश्चिंत हो गये और मैंने भी मुंबई जाने की तैयारी कर ली थी। मैंने अपना वह स्कूल भी छोड़ दिया था और अब मैं मुंबई जाने के लिए तैयार हो चुकी थी। जब मैं मुंबई पहुंची तो मैंने पायल से उसका एड्रेस लिया और मैं स्टेशन से ऑटो करते हुए उसके एड्रेस पर पहुंच गई। जब मैं उसके बताए हुए एड्रेस पर पहुंची तो मैंने दरवाजे की डोरबेल बजाई और पायल ने दरवाजा खोला, जब उसने दरवाजा खोला तो मैंने उसे देखा कि उसका फ्लैट तो बहुत ही अच्छा है और वह बहुत ही अच्छे से अपना जीवन यापन कर रही है।

हम दोनों बैठ कर अपनी पुरानी बातें याद कर रहे थे और काफी देर तक हम दोनों बात कर रहे थे। मुझे उससे बात करते हुए बहुत ही अच्छा लग रहा था और वह भी मुझसे बात करते हुए बहुत खुश हो रही थी और कह रही थी कि तुम मुझे इतने समय बाद मिली हो, मुझे बहुत ही खुशी हो रही है। मैंने उसे बताया कि मैं भी कुछ बड़ा करना चाहती हूं इसीलिए मैं मुंबई आ गई। पायल ने मुझे कहा कि तुम कुछ दिन घर में ही आराम करो और उसके बाद तुम्हें भी मुंबई की हवा लग जाएगी। अब मैं कुछ दिन तक तो घर पर ही थी। पायल ने मुझे बताया नहीं कि वह क्या करती है, वह मुझे कहने लगी कि मैंने कुछ दिनों के लिए अपनी छुट्टी ली हुई है इसलिए मैं घर पर हूं। पायल ने मुझे मुंबई घुमाया, यह मेरा पहला अनुभव था जब मैं मुंबई में आई थी। मैंने मुंबई में ऊंची ऊंची बिल्डिंग देखी तो मैं उसे कहने लगी कि यहां तो बहुत बड़ी बड़ी बिल्डिंग हैं, वह कहने लगी कि अभी तुम कुछ और दिन रहोगी तो तुम्हें बहुत ही अच्छा लगने लगेगा और तुम्हें यहीं की आदत हो जाएगी। एक दिन रात को पायल का कोई फ्रेंड रूम में आ गया मैं उसे जानती नही थी। जब वह कमरे में आई तो वह पायल से चिपक कर बात कर रहा था वह उसके स्तनों को भी दबाने लगा और उसे किस करने लगा। पायल ने उसे कुछ भी नहीं कहा मैं यह सब देखती जा रही थी मेरे अंदर भी सेक्स  भावना भी जागने लगी थी। उसने पायल को नंगा कर दिया और जब उसने उसे नंगा किया तो उसकी योनि के अंदर उसने अपने लंड को डाल दिया।

वह उसे बड़े अच्छे से चोद रहा था और पायल अपने दोनों पैरों को चौड़ा कर रही थी वह अपनी मादक आवाज से उसे अपनी तरफ आकर्षित करती जाती। उसने उसकी गांड भी मारी जब उसकी इच्छा भर गई तो उसने पायल को कुछ पैसे पकड़ा दिए। मैं यह सब देखी जा रही थी और अपनी उंगली चूत मे डाल रही थी मेरी इच्छा भी बहुत हो रही थी। उस लड़के ने मुझे भी कस कर पकड़ लिया मेरे कपड़े खोल दिए जब उसने मेरे कपड़े खोले तो उसने मेरे स्तनों को बहुत अच्छा से चाटा जिससे कि मेरे अंदर की उत्तेजना चरम सीमा पर पहुंच चुकी थी और मुझे बड़ा मजा आने लगा। उसने अपनी जीभ को मेरी योनि पर लगाया वह मेरी योनि को बहुत अच्छे से चाटने लगा जिससे कि मेरा गिला पदार्थ मेरी चूत के अंदर गिरने लगा। उसने अपने लंड को निकालते हुए मेरी योनि के अंदर डाल दिया। जब उसका लंड मेरी योनि में गया तो मेरी सील टूट गई और मेरी योनि से खून निकलने लगा। मुझे बड़ा मजा आने लगा जब वह मुझे झटके दिए जा रहा था। मुझे बहुत ही आनंद आ रहा था जब वह इतनी तेजी से मुझे झटके दिए जा रहा था। उसने मेरे दोनों पैरों को चौड़ा कर दिया और मुझे बड़ी तीव्र गति से चोदना शुरू कर दिया। मैं भी अपने मुंह से सिसकिया ले रही थी और वह उतनी ही तेजी से मुझे झटके दिए जा रहा था। कुछ देर उसने ऐसा करने के बाद मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी योनि के अंदर जैसे ही उसने अपने मोटा और सख्त लंड को डाला तो मेरी चूत से कुछ ज्यादा ही खून निकलने लगा वह मुझे बड़ी तेजी से झटके दिए जा रहा था। उसने मुझे इतने तेज झटके मारे की उसका वीर्य मेरी योनि में गिर गया और उसके बाद उसने मुझे कुछ पैसे दिए। मैंने जब पायल से पूछा कि यह सब क्या है तो वह कहने लगी कि मैं एक कॉल गर्ल हूं और इसी से ही मेरी जिंदगी चल रही है। मैंने पायल से कहा कि मुझे भी बहुत अच्छा लगा जब उसने मुझे चोदा मुझे भी कॉल गर्ल बनना है उसके बाद में भी एक कॉल गर्ल बन गई।


Comments are closed.


error: