मेरी सज़ा – सैक्स

Meri saza – sex:

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम है देवराज और मैं गोरखपुर का रहने वाला हूँ | मैं अपनी पढाई पूरी कर चूका लेकिन जो कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूँ वो तब की है जब मैं कॉलेज में था | मेरा बचपन से सपना था कि मैं आर्मी में जाऊं इसलिए मैंने अपने कॉलेज में एन.सी.सी. ज्वाइन कर रखा था | कॉलेज की तरफ से मुझे बहुत से कैम्प में जाने मिलता था और मैं वहां पर बहुत मज़े भी किया करता था | लेकिन एक कैम्प जिस में मैं गया था और वहां पर मेरी इज्ज़त लूट ली गई लेकिन मज़ा बहुत आया था |

वो कॉलेज में मेरा तीसरा साल था और मेरे कॉलेज में कुछ आर्मी वाले आये हुए थे और वही लोग हमारी एन.सी.सी. की ट्रेनिंग करवाते थे | उन्होंने ने कहा था जो भी ट्रेनिंग में परफॉर्म करेगा उसे राँची कैम्प में बुलाया जायेगा और वहां अच्छा किया तो सीधा दिल्ली | इसलिए मैं पुरे जोश से कैम्प में ट्रेनिंग किया करता था और मेरी महनत सफल हुई और मैं सेलेक्ट हो गया और राँची पहुँच गया | मैं शाम को राँची पहुंचा और थोड़ी देर बाद कैम्प में पहुंचा और खाना खाके सो गया |

अगले दिन मुझे 5 बजे उठा दिया गया और मैं बाहर बैठा था | फिर उन्होंने ने हमें दौड़ाना शुरू कर दिया और दौड़ते दौड़ते मेरा पैर फिसला और मैं गिर गया | मुझे चोट लग गई थी तो सर ने कहा जाओ मेडिकल डिपार्टमेंट में और पट्टी करवा लो | मैं एक बिल्डिंग में गया और मेडिकल डिपार्टमेंट के अन्दर पहुंचा | वहां पर कोई नहीं था तो मैंने आवाज़ लगाई कोई है | तो अन्दर से नर्स निकल कर बाहर आई | वो बहुत सुन्दर थी और उसने मिलिट्री की यूनिफार्म पहनी थी |

उसने मुझसे पूछा क्या हुआ ? तो मैंने अपना हाँथ दिखाते हुए कहा वो मुझे लग गई | तो उसने मुझे बैठने को कहा और वो फर्स्ट ऐड बॉक्स लेकर आई और मेरी पट्टी करने लगी | वो मेरी पट्टी कर रही थी और मुझे लग रहा था जैसे कि वो पट्टी करने के बहाने मुझे यहाँ वहां छू रही है | उसने कहा तुम इतनी अच्छे दिखते हो और फ़ौज में तो मैंने कहा मैं एन.सी.सी में हूँ | तो मैंने भी उससे कहा आप भी इतनी सुन्दर हैं और फ़ौज में तो उसने कुछ नहीं कहा और मुझे देखककर मुस्कुराने लगी |

तभी पीछे से एक और नर्स आई और उसने कहा क्यों सुप्रिया पट्टी करना भी शुरू कर दी ? तो मैंने कहा मतलब आप नर्स नहीं हो ? तो उसने कहा नहीं | मेरी पट्टी हो गई थी और फिर वो उठी और नर्स से कहा बहुत क्यूट लड़का है इसको दवाई दे देना और इतना बोलकर वो वहां से चली गई | फिर पट्टी करवाने के बाद मैं बाहर गया और दौड़ने लगा | जब मैं दौड़कर वापस आया तो वो वहां पर खड़ी थी | उसने मुझे देखा और मेरे पास आकर कहा तुम्हें चोट लगी है तुम्हें आराम करना चाहिए |

तो मैंने कहा कोई प्रॉब्लम नहीं मैम मैं ठीक हूँ | तो उसने मेरी कंधे पे हाँथ रखा और कहा टफ बॉय और फिर हाँथ नीचे किया और मेरे हाँथ को छूते हुए नीचे कर लिया | मुझे कुछ कुछ समझ में आ रहा था कि ये मेरा फायदा उठा रही है लेकिन वो थी तो माल इसलिए मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं थी | मैं शाम के वक़्त खाना पारस कर जा रहा था तभी उसने मुझे आवाज़ लगाई और अपने साथ बैठा लिया और मेरे बारे में पूछने लगी |

अगले दिन सुबह ग्राउंड में मैं डिप्स कर रहा था तभी वो मेरे पास आई और उसने कहा तुम ठीक से नहीं कर रहे हो | तो मैंने कहा अच्छा तो आप बताईये कैसे करते है ? तो उसने मुझे एक डिप्स करने के लिए कहा और मैं करने लगा तभी वो मेरी कमर को पकड़ कर उठाने लगी और कहने लगी अब करो | मैं वैसे ही करने लगा और 25 के बाद मेरी हवा निकलने लगी तो वो मेरी गांड पर मारने लगी और कहने लगी और करो |

उस दिन दोपहर का वक़्त था और मुझे कुछ अजीब सा लग रहा था और उलटी जैसा लग रहा था तो मैं अपने रूम से बाहर निकला और ग्राउंड में जाकर घूमने लगा | मुझे वहां पर एक सर दिखे और अगर वो मुझे पकड़ लेते तो मुझसे काम करवाने लग जाते | तो मैं भाग कर उसी बिल्डिंग में घुस गया जहाँ पर मेडिकल डिपार्टमेंट था | मैं वहां पर दूसरी बार आया था लेकिन पहली बार सिर्फ मेडिकल डिपार्टमेंट तक आया था इसलिए अन्दर घूम रहा था |

तभी मुझे उलटी जैसा लगा और मुझे बाजू में टॉयलेट दिखी और मैं बिना कुछ देखे अन्दर घुस गया और उलटी करने लगा | लेकिन कुछ ज्यादा निकला नहीं बस थोडा सा पानी | तभी और मैं पानी लेकर कुल्ला करने लगा तभी तभी पीछे से आवाज़ आई देव तुम | तो मैं पीछे पलटा और देखा सुप्रिया मैम खड़ी थी | मैं समझ गया कि ये लेडीज टॉयलेट है और मैंने कहा वो मैं गलती से आ गया और इतना कहकर मैं जाने लगा | तो मैम ने कहा रुको क्या करने आये थे ? मैंने कहा वो मुझे उलटी हो रही थी |

तो उन्होंने कहा अच्छा सच बताओ वरना आवाज़ लगाउंगी और तुम्हारी क्या हालत होगी तुम सोच भी नहीं सकते | तो मैंने कहा सच में तो उन्होंने कहा तुमने गलती की है सज़ा तो मिलेगी | तो मैं डर गया और कहने लगा वो गलती से आ गया था मैंने देखा नहीं | तो उन्होंने ने कहा अच्छा मैं क्या तुम्हें बेवक़ूफ़ दिखती हूँ ? तो मैंने कहा मैम प्लाज़ भरोसा कीजिये तो मैम ने कहा चलो कपडे उतारो | तो मैंने कहा आई एम सॉरी मैम तो मैम ने कहा तुम उतारते हो या मैं आवाज़ लगाऊं |

तो मैंने कहा ठीक है मैं कपडे उतारता हूँ लेकिन किसी से बताना मत | फिर मैंने अपने कपडे उतारे और सिर्फ चड्डी में उनके सामने खड़ा हो गया | वो मेरे पास आई और मेरी चड्डी नीचे करने लगी तो मैंने अपनी चड्डी पकड़ ली तो मैम ने कहा लगाऊं आवाज़ और यर सुनकर मैंने चड्डी छोड़ दी और उन्होंने मेरी चड्डी नीचे कर दी | अब उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और हिलाने लगी और मेरी तरफ देखकर कहा अगर किसी से कुछ कहा तो सोच लेना | तो मैंने कहा किसी से कुछ नहीं कहूँगा और मैंने मैम को किस कर दिया |

मैम मुस्कुराने लगी और कहने लगी तुम्हें कोई प्रॉब्लम नहीं है तो मैंने कहा नहीं | फिर मैडम नीचे झुकी और मेरा लंड चूसने लगी | मैं पहली बार अपनी उम्र से बड़ी लड़की के साथ सैक्स कर रहा था | फिर मैम ने मेरा लंड चूसा और खड़ी हो गई और हम फिर से किस करने लगे | अब मैंने मैम के कपड़ों के ऊपर से ही उनके दुडक को पकड़ा और दबाने लगा | तो मैम ने अपने कपडे उतारना शुरू कर दिए और मैं वहीँ खड़े होकर देखने लगा |

एक तो मैम बहुत गोरी थी और ऊपर से उनका फिगर तो जानलेवा था पतली कमर गोरे गोरे दूध और चिकनी चूत मुझे पागल कर रही थी | मुझे से कण्ट्रोल नहीं हुआ और मैं जाके उनसे चिपक गया और किस करने लगा | फिर मैंने उनके दूध चुसना शुरू किया और उनकी चूत मलने लगा | तभी किसी के आने की आहट हुई तो हम दोनों ने कपडे उठाए और अन्दर घुस गए | मैं मैम के दूध चूस रहा था और उनकी चूत में ऊँगली करे जा रहा था |

वो धीरे धीरे आह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह ऊम्म्मम्म ऊउम्मम्म कर रही थी | फिर मैंने उनका एक पैर पकड़ा और उठा दिया और अपना लंड पकड़कर उनकी चूत में डालने लगा | मेरा लंड थोडा सा अन्दर गया और मैंने वैसे ही चूत में लंड ऊपर नीचे करना शुरू कर दिया | मैं उनको चोदे जा रहा था और वो आह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्ह ऊह्ह्ह्हह इस्स्स्सस्स्स्स अह्ह्ह्हह्ह इस्स्स्सस्स्स्स करे जा रही थी | हमें चुदाई करने में प्रॉब्लम हो रही थी इसलिए मैं उनसे कहा देखो बाहर कोई है क्या ? उन्होंने बाहर झांक कर देखा और कहा कोई नहीं है और हम दोनों बाहर जाकर चुदाई करने लगे |

वो वहां एक जगह पर बैठी थी और मैं घुटनों पर बैठकर उसकी चूत चोद रहा था | फिर उसने कहा हटो और मैंने अपना लंड बाहर निकाला और वो घूमकर कर बैठ गई और कहा अब मारो | फिर मैंने उसकी चूत में लंड डाला और उसको चोदना शुरू कर दिया | मैंने थोड़ी देर बाद उसको जोर जोर के झटके मारना शुरू कर दिया और वो भी जोर जोर से आअह्ह्ह्ह आह्हह्ह्हह्ह्ह्ह ऊउम्म्म्ह इस्स्स्सस्स्स्स आह्ह्हह्ह्ह्ह करने लगी |

फिर उसको चोदते चोदते मेरा निकलने को हुआ तो मैंने अपना लंड निकाला और उसके मुंह के ऊपर करके हिलाने लगा | मेरी पिचकारी छूट गई और सारा माल जाके उसके मुंह पर गिर गया | फिर हम दोनों ने कपडे पहने और वहां से चले गए | मैं उस कैम्प में एक हफ्ते तक रुका और हर दिन हम दोनों एक बार तो चुदाई करते ही थे और कभी कभी तो दो बार भी |


Comments are closed.