मेरे पति ने मुझे अपने बॉस से चुदवाया

Mere pati ne mujhe apne boss se chudwaya:

हेलो दोस्तों | मेरा नाम शबाना खान है | मैं उत्तर प्रदेश में रहती हूँ | मेरी उम्र 28 साल है | मै एक शादी शुदा औरत हूँ | मेरी शादी 3 साल पहले रहमान से हुई थी | मैं शादी से पहले एक बहुत सीधी साधी लड़की थी | मुझे कई लडको ने प्रपोज़ भी किया था लेकिन मैंने मना कर दिया था क्योकि मैंने तो सोच रखा था | कि मैं अपनी जवानी सिर्फ अपने पति के लिए बचा कर रखना चाहती थी | मैंने ये भी सोच रखा था | कि मैं अपनी चूत चुदाई की शुरुवात भी अपने पति  से ही करूंगी | और मैंने ऐसा किया भी | मैंने यही सोचा था कि मैं सिर्फ अपने पति को ही अपने शरीर को हांथ लगाने दूँगी | लेकिन शादी के बाद एक घटना ने मेरी पूरी जिन्दगी बदल कर रख दी |

मेरे पति एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करते है | उनको अच्छी सैलरी मिलती है |ये बात एक साल पहले की है | मेरे पति का काम सही नही चल रहा था | उनके बॉस उन्हें जॉब से निकालने वाले थे | उन्होंने बहुत मिन्नतें की तो उसने एक शर्त रख दी | की अगर मैं उसके साथ एक रात गुजारूं तो मेरे पति की जॉब को बख्स सकता है | वो चुपचाप मेरे पास आये और मुझे ये बात बताई | मुझे बहुत गुस्सा आया | मैंने कहा कैसे पति है आप | आप ये कैसे सोच सकते है | वो मेरे सामने हाँथ जोड़ कर गिडगिडाने लगे मुझे मजबूरी में उनकी बात मानना पड़ा | फिर उन्होंने इस बारे में अपने बॉस को इन्फॉर्म कर दिया | उसने एक दी फिक्स किया | और एक होटल में कमरा बुक कर लिया | उस दिन शाम को मेरे पति मुझे अपने साथ उस होटल तक ले कर गए | मैं रो रही थी | लेकिन कर भी क्या सकती थी | होटल के बाहर मुझे छोड कर वो चले गए | और मैं बताये हुवे कमरे के सामने पहुँच गई | और बेल बजाई | मेरे पति के बॉस ने दरवाजा खोला उसने मुझे देखा और मै चुपचाप अंदर चली गई | उसने दरवाजा बंद किया और मुझे  अपने पास बुलाया | फिर मुझसे शराब डालने को कहा मैंने शराब डाली | जब मैं शराब देने गई तो उसने मेरे बूब्स को बड़े ध्यान से देखा | और बैठने को कहा | मैं बैठ गई | फिर उसने मुझे भी जबरन शराब पिला दी | मुझे ऐसा बर्ताव बहुत बुरा लग रहा था लेकिन कर भी क्या सकती थी | आखिर मेरे पति की वजह से ही तो मैं आज यहाँ थी | वो मेरे पास आया और बोला जब से तुमको देखा है मेरी जान मैं तो तुम्हारा दीवाना हो गया हूँ  बस तब से सिर्फ तुम्हारे सपने ही देखता हूँ  आज मेरी सारी हसरते पूरी कर दो | फिर वो मेरे ऊपर भूखे भेदिये की तरह कूद पड़ा | और जोर जोर से मुझे किस करने लगा | पहले तो मुझे बुरा लगा लेकिन फिर मैंने सोचा कि जब मेरा पति ही ये चाहता है तो फिर मैं क्यों टेन्सन लूँ | मैं भी उसे जोर जोर से किस करने लगी | ये देख कर वो बहुत खुश हुआ | और बोला समझदार हो बहुत जल्दी अकल आ गई | और फिर से वो मुझ पर जुट गया |  फिर उसने मुझे बेड पे  ले गया | वो भी अब बहुत गर्म हो गया था | थोड़ी देर ऐसे ही किस करने के बाद उसने अपना पैंट निकाल दिया | अब उसका लंड मेरे सामने था | मैंने जब लंड देखा तो मै बहुत डर गई | क्यूंकि ये लंड तो मेर पति के लंड से भी बड़ा और मोटा था | एकदम काला सा एकदम पोर्न फिल्म वाले लडको जैसा था लम्बा सा ,और खूब मोटा भी | मैने सोचा कि अगर ये मेरी चूत में गया तो मेरी चूत का तो एकदम  भोसड़ा बन जायेगा | और मेरा तो बहुत बुरा हाल था मैं ये सोच रही थी कि ये अंदर कैसे जायेगा | ये  कैसे अंदर जायेगा | उसने मुझे हवस भरी नजरों से देखा और बोला अरे मेरी जान आज रात ये बस तुम्हारे लिए है अभी तुम्हे बहुत मज़ा आएगा | इतना कहते ही उसने मेरा हांथ अपने लंड पर रख दिया | फिर मै लंड को  धीरे धीरे ऊपर नीचे करने लगी | वो मज़े से आन्हे भर रहा था | फिर कुछ देर बाद उसने अपना लंड मेरे मुंह में पेल दिया | मैंने थोडा सा लंड अपने मुंह में ले लिया लेकिन उसको अभी मज़ा नही आया उसने अपना पूरा लंड मेरे मुंह में दे दिया | उसका लंड मेरे गले तक जा रहा था | वो मेरे मुंह को ही चोदने लगा | मै भी अब मज़े से उसके लंड को चूस रही थी | करीब 15 मिनट तक उसने मेरे मुंह को बुरी तरीके से पेला | और वो झड़ने वाला था मैंने उसके लंड को बाहर निकलना चाहा लेकिन उसने कस कर मेरे मुंह में लंड दबा दिया | मुझे उसका सारा रस पीना पड़ा

अब उसने मेरे और अपने सारे कपड़े उतार दिए और मुझे बेड पे बिठा कर मेरी टांगे फैला दी | फिर जैसे ही उन्होंने मेरी चूत पर उंगली रखा मैंने पानी छोड दिया | वो बोला मेरी जान तू तो अभी झड गई तुझे तो अभी पूरी रात मज़े देना है | उसने अपनी उँगलियाँ मेरे चूत में दाल दी और अन्दर बाहर करने लगा | मैं आह्ह्हह्ह… आहम्म्म्म.. की मादक आवान्जे निकाल रही थी | कुछ देर बाद वो मेरी चूत चाटने लगा और  तब तक चाटता रहा जब तक कि मैं झड नही गई | उसने मेरी चूत चाट चाट कर साफ़ की |

फिर बोला आओ मेरी जान अब तुम्हे अपनी लंड की सैर कराता हूँ | उस ने मुझे सीधा किया और लंड को चूत पे रखा और अपने हाथ को मेर मुंह पे और एक हल्का सा झटका दिया | मेरे आँखों से आंसू निकल रहे थे | लेकिन उस ने मेरे मुंह को दबा रखा था इसीलिए मै  चिल्ला नही पा रही थी मुझे बहुत दर्द हो रहा था | मुझे मेरे और लंड धीरे धीरे कर के पूरा अंदर तक ले गये | मेरी जान निकल गई थी | आखिर उसका लंड इतना बड़ा जो था | फिर एक ही झटके में पूरा लंड मेरी चूत में समां गया | थोड़ी देर ऐसे ही रहने के बाद वो धीरे धीरे झटके देने शुरू किये | अब मुझे धीरे धीरे मज़ा आने लगा था अब मै आह्हह….ओह्ह्ह्ह.. चोद मुझे और तेज़ से चोद कमीने फाड़ दे मेरी चूत तू भी तो यही चाहता है और मेरे कमीना पति भी  अआह्ह्ह… उफ्फ्ह्हह…. करके आवाज़े निकाल रही थी साथ में ही अपनी गांड उठा उठा कर उसका साथ दे रहीं थी | कुछ देर के बाद वो झड गया | मेरी चूत में गरम गरम सा लग रहा था | और मैं तो इतनी ही देर में कई बार झड चुकी थी | मुझे बहुत अच्छा लगा | फिर वो उठकर खड़ा हुआऔर अपने लंड को मेरे मुंह में दे दिया |  और मैं मज़े के साथ उसे चूसने लगी |

फिर 15 मिनट के बाद उस का लंड फिर से खड़ा हो गया | और आ कर सीधे बेड पे लेट गया  | मैं उसके खड़े लंड पर जा कर बैठ गई | और खूब कूद कूद कर उसके लंड को अपनी चूत में लिया | मैं आह्हह.. आन्ह्ह… कर रही थी | अब उसने मुझको डॉगी बनने को बोला |  मै तुरंत डॉगी बन गई पीछे से गांड में लंड डाल दिया मै चीखने लगी गलत जगह है.. औउ अह्ह्ह सामने डालो पीछे से नहीं, दर्द हो रहा है | निकाल निकाल  दो मैं मर जाऊंगी…|

लेकिन फिर भी वो डालता रहा और एक लास्ट झटके में पूरा लंड गांड में डाल दिया और झुक कर मुझे किस किया | और मैंने अपनी  गांड उठा कर रखी थी |  वो मेरी गांड में लंड डाले जा रहे थे | फिर वो करीब आधे घंटे तक मेरी गांड मारता रहा | अभी वो थक गया था | वो सीधा बेड पर लेट गया | और आराम करने लगा मैंने सोचा कि अब बस ये खेल ख़त्म हुआ लेकिन ऐसा नही था | मुझे क्या पता था कि मुझे तो अभी पूरी रात चुदना है | कुछ देर बाद वो फिर शुरू हो गया | और मुझे चोदने लगा | ऐसे करीब उसने मुझे 6 बार चोदा और मेरी गांड मारी मैं तो पूरी तरह से थक कर चूर हो चुकी थी | सुबह मेरा पति आया उसने जब बेल बजाई तो मैं अभी बिना कपड़े में ही थी | मैंने बेशर्मी के साथ उसके सामने कपड़े पहने | उसने सर झुका रखा था | फिर मैं उसके साथ गाड़ी में बैठ कर घर चली गई |पूरे रस्ते उसकी हिम्मत नही हुई कुछ बोलने की |

अब मैं बहुत ही होर्नी किस्म की औरत हो गई हूँ | जब चाहूँ किसी से चुदवा लेती हूँ | लेकिन मेरे पति की हिम्मत नही होती है कि इसके लिए वो मुझे कुछ बोले क्योकि उसने ये हक़ खो दिया था |


Comments are closed.