मनमानी करनी है तो चूत से पानी निकाल

Manmani karni hai to chut se pani nikal:

kamukta, desi kahani

मेरा नाम आकांक्षा है मैं अपनी मम्मी की इकलौती बेटी हूं। कुछ साल पहले मैं और मेरी मम्मी मेरे पापा के देहांत के बाद मुंबई आ गए थे। मैं और मेरी मम्मी मुंबई में ही रहने लगे थे। मैंने अपनी बाकी की पढ़ाई भी यही से की है। जब मेरा एडमिशन कॉलेज में हुआ तो वहा मुझे श्वेता मिली। श्वेता मेरी बचपन की दोस्त थी। हम वहा साथ में स्कूल जाते थे और साथ साथ खेला करते थे। लेकिन उसके बाद मैं मुंबई आ गई तो मेरी श्वेता से कोई भी बात नहीं हुई थी। वह मुझे स्कूल के बाद उसी दिन कॉलेज में मिली तो मैं उसे कॉलेज के बाद अपने घर अपनी मम्मी से मिलाने ले कर आई थी। हम दोनों काफी समय तक बैठे रहे और बचपन की बातों को याद करते रहे। मैंने श्वेता को अपने घर ही रुकने के लिए कहा लेकिन वह नहीं रुकी। उसे अपने घर वापस जाना था इसलिए वह चली गई। कॉलेज में मेरा एक बॉयफ्रेंड था। मैंने उसे पहले अपनी दोस्त श्वेता से मिलाया। मेरे बॉयफ्रेंड का नाम रोहन था। वह मुझे पहली बार कॉलेज मे ही मिला था फिर उसके बाद मैंने सोचा की रोहन को अपनी मम्मी से मिलाऊं। रोहन को अपनी मम्मी से मिलाने की बात मैंने अपनी दोस्त श्वेता से कही। श्वेता ने भी कहा कि आंटी को यह बात पता होनी चाहिए ताकि बाद में कोई परेशानियां ना हो।

कुछ दिन बाद मैंने अपनी मम्मी को रोहन के बारे में बताया। मेरी मम्मी ने मुझसे पूछा कि वह कहां का रहने वाला है और कैसे घर का लड़का है। मैंने कहा रोहन एक अच्छे परिवार का लड़का है और हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं। मेरी मम्मी ने कहा कि पहले मैं रोहन से मिलूंगी उसके बाद ही तुम अपनी बात को आगे बढ़ाना। मैं भी मान गई मैं दूसरे दिन अपनी मम्मी को लेकर एक रेस्टोरेंट में गई। वही मैंने रोहन को बुलाया था रोहन को आने में काफी देर हो गई थी। मेरी मम्मी थोड़ा गुस्सा भी कर रही थी लेकिन मैंने मम्मी को संभाल लिया था और जब रोहन आया तो मेरी मम्मी ने उसे उसके बारे में पूछा। उसने अपने बारे में बताया कि वह मुंबई का ही रहने वाला है और एक अच्छे घर से है। वे दोनों आपस में खूब सारी बातें करने लगे। मैं थोड़ा खुश हो गई यह दोनों आपस में बातें कर रहे हैं। इसका मतलब की मम्मी को भी रोहन पसंद आ गया। हम थोड़ी देर तक बैठे रहे उसके बाद जब मेरी मम्मी बिल पे कर रही थी तभी रोहन ने मेरी मम्मी का हाथ पकड़ा और कहा यह बिल मैं भर दूंगा आप रहने दीजिए। रोहन ने ही बिल पे किया। मुझसे ज्यादा बात तो वह मेरी मम्मी से ही कर रहा था।

अब मुझे लग रहा था कि हम दोनों को मिलने से अब मेरी मम्मी नहीं रोकेगी। अब हम वहां से घर जा रहे थे तो रोहन ने कहा कि मैं तुम्हें घर ड्रॉप कर दूंगा। मैंने कहा हां ठीक है और जब हम गाड़ी में बैठे थे। रोहन ने मेरी मम्मी को अपने साथ आगे वाली सीट में बैठने के लिए कहा और उसके बाद मैं पीछे बैठ गई। रोहन ने मेरी मम्मी से उनका नंबर ले लिया और दोनों बातें कर रहे थे थोड़ी देर बाद हम घर पहुंच गए। घर पहुंचकर जब मम्मी ने रोहन को घर के अंदर आने के लिए कहा तो रोहन ने कहा कि फिर कभी आऊंगा। यह कह कर वह वहां से चला गया। जब हम घर आए तो मैंने अपनी मम्मी से पूछा कि मम्मी आपको रोहन कैसा लगा। मेरी मम्मी ने कहा कि मुझे रोहन बहुत अच्छा लगा। मैं खुशी से अपनी मम्मी के गले लग गई।

अगले दिन मम्मी को रोहन का मैसेज आया दोनों मैसेज में बातें करने लगे। मैंने मम्मी से पूछा कि आप इतना खुश क्यों हो रही हो क्या हुआ तो मेरी मम्मी ने कहा कि रोहन का मैसेज आया था। उसने एक जोक भेजा था इसीलिए मैं हंस रही थी। मुझे थोड़ा अजीब लगा मैंने सोचा रोहन मम्मी को इस तरह के जोक क्यों भेज रहा है और मैं कॉलेज चली गई। जब मैं कॉलेज में रोहन से मिलने जा रही थी तो वह मुझे कैंटीन में दिखा। वहां बैठकर वह मोबाइल पर चैट कर रहा था। मुझे नहीं पता कि वह किससे बातें कर रहा था। मैं उसके पास गई और उसके साथ बैठ गई। हम दोनों बातें करने लगे मैं उससे बातें कर रही थी पर वह तो फोन पर लगा हुआ था। ऐसा लग रहा था उसका सारा ध्यान अपने फोन पर ही है। मेरी बातों का उस पर कोई भी असर नहीं हो रहा था। मैंने उससे पूछा कि तुम किससे बातें कर रहे हो तो उसने बताया कि वह मेरी मम्मी के साथ बात कर रहा है। मैंने कहा मेरी मम्मी से तुम क्या बात कर रहे हो तो उसने बोला कि बस ऐसे ही मुझे उस समय उसे देखकर बहुत गुस्सा आ रहा था। मैं उसके साथ बैठी थी और वह फोन पर मेरी मम्मी से चैट कर रहा था। मैंने कहा अगर तुम्हें मेरी मम्मी से ही बात करनी थी तो तुमने मुझे यहां क्यों बुलाया। तुम मेरी मम्मी से ही मिल लेते इतना कहकर मैं वहां से चली गई।

मैं वहां से गुस्से में अपने घर की तरफ चली गई। मेरे पीछे पीछे रोहन भी आ रहा था। मैं जैसे ही अपने रूम में गई तो रोहन भी मेरे पीछे मेरे रूम में आ गया और वह मुझे कहने लगा तुम्हें प्रॉब्लम किस बात से है। रोहन ने मुझे वहीं बिस्तर पर लेटा दिया और वह मेरे साथ किस करने लगा लेकिन मेरा मन बिल्कुल भी नहीं था किस करने का पर वह मुझे किस करता जा रहा था। ऐसे ही उसने मेरे स्तनों को दबाने लगा और अब उसने मुझे पूरा नंगा कर दिया था। वह मेरी चूत को अच्छे से चाट रहा था। जिससे कि मुझे अब अच्छा लगने लगा था और मेरा शरीर में जोश आने लगा। रोहन ने जैसे ही मेरी चूत मे अपना लंड डाला तो वह धक्के मारने लगा। लेकिन मुझसे यह बर्दाश्त नहीं हो रहा था। तभी ना जाने मेरी मम्मी ने कहा से हम दोनों को देख लिया। वह भी एक दम से अंदर हमारे कमरे में आ गई। हम दोनों वहां नंगे लेटे हुए थे मेरी मम्मी ने मुझे कहा क्या तुम अच्छे से नहीं कर पा रही हो। अब उन्होंने अपने कपड़े खोल दिए और वह भी नंगी हो गई।

मैंने उनके शरीर को देखा तो वह आज भी मुझे टक्कर दे रही थी। उनके स्तन बहुत बड़े थे और उनकी गांड तो इतनी ज्यादा बड़ी थी मैंने कभी सोचा भी नहीं था। रोहन मुझे धक्के मारने लगा उन्होंने रोहन के लंड को बाहर खींचा और सीधा ही अपने मुंह में ले लिया। वह अच्छे से चुसती जा रही थी। उन्होंने रोहन के पूरा लंड को पूरे अंदर तक ले लिया। अब वह भी मचलने लगा था और मेरी मम्मी ने अपने स्तनों पर उसके मुंह को लगा लिया। वह मेरी मम्मी के स्तन को चूस रहा था। मेरी मां ने अपने दोनों पैर चौडे किए और रोहन को कहा कि अपने लंड को उनकी चूत मे डाल दे। रोहन ने भी एक झटके में उनके अंदर तक लंड डाल दिया। अब वह उन्हें धक्के मारने लगा। मेरी मां बहुत तेज चिल्ला रही थी और वह पूरे मजे ले रही थी रोहन के लंड के मैं यह सब देखती जा रही थी। जब उनकी इच्छा पूरी हो गई तो उन्होंने मुझे अपने पास बुलाया और रोहन का लंड मेरे मुंह में डाल दिया। उन्होंने मेरे गले तक उसके लंड को अंदर तक डाल दिया और मैं उसके लंड को अच्छे से चूसने लगी। अब उन्होंने मेरे दोनों पैरों को चौड़ा किया और रोहन का लंड मेरी चूत में डाल दिया। मेरे मुंह से आवाज निकल पड़ी वह मुझे धक्के मार रहा था। मेरी मम्मी मेरे स्तनों को दबा रही थी जिससे मेरी उत्तेजना और बढ़ती जा रही थी। मैंने रोहन को अपने दोनों पैरों के बीच में जकड़ लिया वह अभी भी मुझे ऐसे ही धक्के मारे जा रहा था। अब उसने बहुत तेज झटके मारना शुरू कर दिए। मेरा जैसे ही झडा तो मुझे ऐसा लगा मेरा शरीर अंदर से कमजोर हो गया है। रोहन का भी झड गया और उसने मेरे चूत मे ही अंदर डाल दिया। अब मुझे बहुत शांति हुई और मेरी मम्मी मुझे कहने लगी कि मैं तुम्हें अबसे सिखाया करूंगी कि कैसे सेक्स करना है। मैं यह सुनकर बहुत खुश हो गई और उन्हें कहने लगी कि तुम भी  रोहन के लंड के मजे ले लेना। वह यह सब सुनकर खुश हो गई थी और अब रोहन हमारे घर हम दोनों को चोदने आता था। जिससे कि हम दोनों की सेक्स की भूख मिट जाती थी और रोहन भी हमारे साथ सेक्स करके खुश होता था।

 


Comments are closed.