ममेरी भाभी की अन्तर्वासना मिटाई

Mameri bhabhi ki antarvasna mitai:

antarvasna kahani हैलो दोस्तो, आप सब को मेरा नमस्कार, मेरा नाम आर्यन है और मैं मध्यप्रदेश  का रहने वाला हूँ | यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है और मैं आशा करता हूँ कि आप लोगों को अच्छी लगेगी | यह चुदाई कहानी मेरे और मेरी भाभी के बीच की है |

जैसा कि आप सब जानते हैं कि चूत हमारे जीवन में कितना मायने  रखती है आजकल हर कोई इसी के पीछे पड़ा है | सब लोग सेक्स करना चाहते हैं, मैं भी सेक्स का बहुत बड़ा पुजारी हूँ, पर मैंने आज तक कोई गर्लफ्रेंड नहीं बनाई है | तो मुझे ज्यादातर हाथ से ही काम चलाना पड़ता है |

बात तब की है, जब मैं किसी काम से नागपुर  गया हुआ था और वापस आ रहा था |  तभी मुझे याद आया की मेरे ममेरे भाई रजत भैया अपनी फैमिली के साथ यही रहते है मैंने उन्हें कॉल किया | रजत भैया ने अपने पता बता दिया मैं उनके घर के पते पर पहुंचा दरवाजा भाभी ने आकर खोला | मैं तो भाभी को देखता ही रह गया क्या कमाल लग रही थी वो | मैंने भाभी को नमस्ते किया तो भाभी ने मुझे अन्दर आने को कहा | मैंने पुछा की भैया कहा है उन्होंने बताया की भैया ऑफिस गए हुए है साम तक आयेंगे | फिर मैं और भाभी आपस मैं बात करने लगे फिर भाभी चाय बना कर ले आई जब वो चाय देने के लिया झुकी तो उनके दोनो मम्मे साफ़ दिखाई दे रहे थे मेरा लंड उनको देख कर खड़ा हो गया | वैसे मैं और भाभी काफी क्लोज थे भाभी और मेरी जान-पहचान उनकी शादी में हुई थी वो कभी-कभी मुझ से मजाक कर दिया करती थी | पर भाभी जब से यहाँ आई थी तब से एकदम बदल गयी थी क्या मस्त लाल-लाल गाल थे उनके एकदम सेब की तरह मन कर रहा था की काट लूं | भाभी पीछे से तो और अधिक मस्त और सेक्सी माल लग रही थीं | भाभी की उम्र यही कोई 25 साल होगी | कुछ देर मैंने और भाभी ने बातें कीं और मैं फ़िर स्नान करने चला गया | मैं मस्ती से बाथ रूम में खड़ा होकर भाभी के नाम की मुट्ठ मार रहा था तभी मुझे लगा कि कोई बाथरूम के गेट पर है और मुझे स्नान करते देख रहा है | मैंने देखा तो वो भाभी थीं तो मैंने गेट खोल कर पूछा- क्या भाभी कोई काम है क्या हुआ भाभी कोई काम था तो भाभी ने कहा मैंने तुम्हारे लिए भैया के कपडे निकाल के रख दिए है वो तुम्हारे भैया के रूम मैं रखे है जाके पहन लेना | मैं भैया के रूम मैं पहुँचा तो दोस्तो जो मैंने वहां देखा उससे तो मेरा होश उड़ गये | वहां पर कन्डोम के पैकेट और ब्लू फिल्म की सीडी रखी थीं जिन पर ऊपर से नंगी फोटो बनी थीं और कुछ सेक्सी मैगजीन भी राखी थी | मेरी आंखे तो फटी रह गयी इससे पहले मैं कुछ सोंच पाता तब तक भाभी रूम में आ गयी मेरे हाथ मैं कन्डोम का पैकट था |

भाभी मुस्कुरा कर बोली क्यों ऐसे कन्डोम को देख रहे हो कभी इस्तेमाल नहीं किया है | मैंने कहा नहीं तभी भाभी बोली कुछ करने की हिम्मत है तुममे की अपने भैया की तरह तुम भी बेकार हो | मैंने कहा एक बार मौका देकर देख लो भाभी शिकायत का मौका नही मिलेगी मेरी तरफ से उन्होंने बताया की भैय्या का लंड बहुत छोटा है और वो बहुत जल्दी झड जाते है |

मैं जान चुका था की भाभी बहुत दिनों से लंड की भूखी है मैंने भी अपने लंड को सहलाते हुए उनकी चुनौती स्वीकार किया | फिर क्या था भाभी भूखी शेरनी की तरह मुझ पर झपट पड़ी और मेरी तौलिया खींच ली अब मैं उनके सामने नंगा खड़ा था मेरे लंड को भाभी देखते रह गयी वो बोली तुम्हारा लंड तो बहुत मोटा है |शायद मुठ मारने के कारण मेरा लंड कुछ बड़ा हो गया है | मेरा काफी लम्बा और मोटा है, जैसा कि आप लोग जानते हैं कि सभी औरतें लम्बा और मोटा लंड पसंद करती हैं | तो भाभी को भी मेरा लंड पसंद आ गया भाभी नीचे बैठ गयी और मेरे लौड़े को अपने मुह में डाल लिया और उसे आइसक्रीम की तरह चूसने लगी मैं भी उनके मम्मो को उपर से ही मसल रहा था फिर मैंने उनके सारे कपडे उतार दिए | अब हम दोनों 69 की पोजीसन में थे भाभी मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उनकी चूत के दानो पर अपनी जीभ धीरे-धीरे फेर रहा था | भाभी की चूत पर एक भी बाल नहीं था | दस मिनट बाद भाभी गर्म हो गईं और बोलने लगीं जल्दी चोद दो फाड़ दो मेरी चुत को अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है | मैंने भाभी की चूत में ऊँगली डाल दी और उनकी चूत को ऊँगली से चोदने लगा भाभी मदहोश होने लगी और अपने मुह से आह्ह्ह ओह्ह्ह इह्ह्ह उम्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह और डालो आह्ह्ह ओह्ह्ह उम्ह्ह्ह आआह्ह्ह ओह्ह्ह उम्ह्ह्ह उह्ह्ह इह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह ओह्ह्ह इम्ह्ह्ह आह्ह्ह उह्ह्ह ओह्ह्ह्ह आह्ह्ह की आवाज़े निकलने लगी फिर मैंने भी समय न गंवाते हुए भाभी को चुदाई की पोजीसन में लिटाया और अपने लंड को उनकी चुत पर सेट कर दिया | मैंने लंड से एक जोरदार झटका लगाया तो भाभी चिल्लाने लगीं आह्ह बाहर निकालो  मैं मर जाऊँगी बहुत मोटा लंड है फट गयी मेरी चूत निकालो इसे बाहर लेकिन मै उनकी कहा सुनने वाला था मैंने अपने होंठ उनकी होंठो पर रखे और उनको किस करने लगा और धीरे-धीरे चोदने लगा फिर क्या था थोड़ी देर बाद भाभी को भी मज़ा आने लगा और भाभी के मुँह से आवाजे आने लगी जोर से आह जोर से और जोर से मरो फाड़ दो मेरी चूत को पहली बार कोई मर्द चोद रहा है इस चूत को आह मारो और मरो मजा आ गया इतना मज़ा आज तक मुझे कभी नहीं मिला आह ओह्ह्ह उह्ह इह्ह्ह अह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह अह्ह्ह्ह उम्ह्ह आह ओह्ह्ह्ह आह और जोर से चोदो इसे आह्ह्ह्ह ओह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह्ह इह्ह्ह्ह उम्ह्हह्ह आह्ह्ह्ह इह्ह्ह ओह्ह्ह्ह कामुक आवाज़े भाभी के मुह से और तेज होती जा रही थी | तो मैं भाबी को किस करने लगा | अब पूरे कमरे में फच फच फच की मधुर आवाज़ गूँज रही थी |

कुछ समय बाद भाभी झड गयी और फिर थोड़ी देर बाद मैं भी झड गया और फिर हम दोनों एक दुसरे के ऊपर ऐसें ही पड़े रहे थोड़ी देर बाद भाभी ने मेरा लंड चूसकर फिर तैयार कर दिया मैं भाभी की गांड मारना चाहता था पर वो नहीं मानी कहने लगी तुम्हार लंड बहुत मोटा है मेरी गांड फट जाएगी |मैंने बहुत कोसिस की पर भाभी नहीं मानी उन्होंने कहा मेरी तुम फिर चोद लो पर मैं अपनी गांड नहीं फड़वा सकती | मैं भाभी को फिर किस करने लगा और उनके मम्मो को मसलकर लाल कर दिया वो गरम होने लगी थी मैं लगातार उनको किस किये जा रहा था फिर मैंने अपना लंड उनकी चूत पर रखा और धक्के मारने लगा वो भी गांड उठा-उठा कर अपनी चूत में मेरा लंड ले रही थी मैं धक्के तेज करने लगा उनका पूरा शरीर अकड़ने लगा थ वो झड़ने वाली थी मैंने धक्के और तेज कर दिए थोड़ी देर बाद भाबी झड गयी पर मैं अभी नहीं झडा था | मैंने अपना लंड भाभी के मम्मो के बीच मैं रखा और उनके मम्मो को चोदने लगा 15 मिनट उनके मम्मे छोड़ने के बाद मैं झड गया फिर हम दोनों ने स्नान किया स्नान करते वक़्त मेरा लंड भाभी की गोरी गांड देख कर फिर खड़ा हो गया मैंने भाभी को अपनी बाँहों मैं भर लिया और उनकी गर्दन से लेकर उनकी पीठ तक किस करने लगा भाभी भी गरम होने लगी मैंने एक ऊँगली भाभी गी गांड मैं डाल दी और हलके से अन्दर-बाहर करने लगा भाभी को भी मज़ा आने लगा मैंने भाभी को इतना गरम कर दिया की वो मुझे मन न कर सके गांड मरने से फिर भाभी ने कहा तुम नहीं मानोगे मेरी गांड फाड़कर ही मानोगे मैंने कहा हां | फिर मैंने अपना लंड उनके चुतडो के बीच मैं रख के धीरे से धक्का लगाया मेरा लंड अन्दर नहीं जा रहा था | फिर मैंने अपने लंड पे थोडा थूक लगाया और फिर से जोर लगाया मेरे लंड का टोपा घुस चुका था मैंने एक धक्का लगाया भाभी कुछ दूर आगे बढ़ गयी मेरा लंड भाभी की गांड में घुस चुका था भाभी की आँखों से आंसू निकल आये थे भाभी कहने लगी तुमने मेरी गांड फाड़ दी मैंने कहा था की तुम्हारा लंड बहुत मोटा है पर तुम नहीं माने मुझे बहुत दर्द हो रहा है मैं धीरे से धक्के लगाने लगा अब भाभी को भी मज़ा आने लगा अब मैं सिर्फ खड़ा था भाभी खुद अपनी गांड आगे पीछे करके मरवा रही थी और आह उह्ह ओह्ह्ह आह ओह्ह उम्ह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह इह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह उम्ह्ह्ह इह्ह्ह आह्ह्ह मरो मेरी गांड और जो से आह फाड़ दो इसे आह ओह्ह उम्ह्ह और चोदो आह ओह्ह्ह अह्ह्ह ओह्ह्ह उम्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह इम्ह्ह्ह ओह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह्ह्ह आह्ह्ह आआह्ह्ह्ह आह्ह्ह ओह्ह्ह उम्ह्ह येहह्ह्ह्स ओह्ह्ह आह ओह्ह्ह आःह्ह ओह्ह्ह की आवाज़े निकाल रही थी मै पीछे से उनकी गांड मार रहा था और आगे से उनकी चूत में ऊँगली कर रहा था | थोड़ी देर बाद हम दोनों झड गए फिर हम दोनों ने नहाकर कपडे पहने शाम हो चुकी थी भैया के आने का समय हो चुका था | फिर मैं उस रात वही पर रुका और भाभी  की चूत फिर मारी और अगले दिन मैं घर चला आया उसके बाद हमने कई बार चुदाई की जब भाभी गावं आती थी हम दोनों सेक्स किया करते थे|


Comments are closed.


error: