मैं दीवाना हो गया

Antarvasna, hindi sex story:

Mai diwana ho gaya मैं और काजल साथ में ही कॉलेज में पढ़ा करते थे लेकिन काजल की फैमिली चंडीगढ़ शिफ्ट हो गई उसके बाद मेरी काजल से काफी वर्षों तक तो मुलाकात हो ही नहीं पाई और ना ही कोई बात हो पाई। एक दिन काजल का मुझे फोन आया मेरा नंबर काजल को मेरे दोस्त ने दिया था मैंने काजल से पूछा तुम कैसी हो तो वह मुझे कहने लगी कि मैं ठीक हूं। मैंने काजल को कहा चलो इतने साल बाद ही सही लेकिन तुमने मुझे याद तो किया तो काजल मुझे कहने लगी कि संजय मैं अब जॉब करने के लिए दिल्ली आ चुकी हूं। मैंने काजल को कहा कि क्या हम लोगों की मुलाकात हो सकती है तो काजल ने मुझे कहा हां क्यों नहीं हम लोग आज शाम को मिल सकते हैं और उसी शाम मैं काजल को मिला। काफी बरसों के बाद मैं काजल को मिला था लेकिन काजल के व्यवहार में कोई भी बदलाव नहीं था वह पहले की जैसी ही थी। मैंने काजल को कहा कि तुमने दिल्ली में कितने समय पहले अपना ऑफिस ज्वाइन किया है तो काजल ने मुझे बताया कि उसे दिल्ली में तीन महीने हो चुके हैं। मैंने काजल को कहा चलो तीन महीने बाद ही सही लेकिन तुम्हें मेरी याद तो आई। उस दिन काजल और मैंने एक घंटा साथ में बिताया तो मुझे काफी अच्छा लगा। काजल और मेरी दोस्ती कॉलेज के समय में काफी अच्छी थी और अभी भी हम दोनों एक दूसरे से बिल्कुल ऐसे ही मिल रहे थे जैसे कि कॉलेज के समय में मिला करते थे।

मैं अपने घर लौट चुका था और उसके बाद मेरी बात काजल से होती रहती लेकिन हम लोगों की मुलाकात कम ही हो पाती थी। मैं अपने ऑफिस के काम के चलते काफी बिजी रहता था जिस वजह से मुझे समय नहीं मिल पाता था लेकिन काजल के साथ जब भी मैं होता तो मुझे अच्छा लगता। मैं काजल के बारे में जानना चाहता था, मैंने काजल से पूछा कि क्या तुम किसी के साथ रिलेशन में हो तो काजल ने मुझे कहा कि नहीं मैं सिंगल ही हूं। मुझे काजल से बात करना हमेशा से ही अच्छा लगता था लेकिन हम दोनों की दोस्ती कब प्यार में बदल जाएगी इसका अंदाजा मुझे बिल्कुल भी नहीं था। काजल मुझसे अपनी बातें शेयर करने लगी थी जिससे कि मुझे भी काफी ज्यादा अच्छा लगता और काजल को भी बहुत ज्यादा अच्छा लगता। समय के साथ हम दोनों के बीच प्यार भी हो गया और हम दोनों ने साथ में अपना जीवन बिताने का फैसला किया। मेरे लिए यह काफी खुशी की बात थी क्योंकि काजल को मैं काफी वर्षों से जानता हूं और यह भी एक अजीब इत्तेफाक था कि काजल और मेरे बीच बहुत ज्यादा प्यार बढ़ चुका था जिससे कि हम दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया। मेरे परिवार को काजल से कोई भी एतराज नहीं था और उन्होंने काजल को अपनी बहू के रूप में स्वीकार कर लिया था मैं काफी ज्यादा खुश था कि काजल और मैं साथ में रिलेशन में है। काजल को कुछ दिनों के लिए चंडीगढ़ जाना था काजल ने मुझे कहा कि संजय मैं कुछ दिनों के लिए चंडीगढ़ जा रही हूं।

मैंने काजल को कहा तुम चंडीगढ़ से कब लौटोगी तो काजल ने कहा कि मैं जल्द ही चंडीगढ़ से लौट आऊंगी क्योंकि पापा की तबीयत ठीक नहीं है इसलिए मुझे चंडीगढ़ जाना पड़ रहा है। मैंने काजल से पूछा कि आखिर तुम्हारे पापा को क्या हुआ है तो काजल ने मुझे बताया कि कुछ दिनों पहले उनका एक्सीडेंट हो गया था जिससे कि उन्हें चोट लगी थी और उनकी तबीयत भी काफी खराब रहने लगी है। मैंने काजल को कहा ठीक है तुम कुछ दिनों के लिए चंडीगढ़ हो आओ और उसके बाद काजल कुछ दिनों के लिए चंडीगढ़ चली गई। मेरे और काजल के बीच सिर्फ फोन पर ही बातें होती थी काजल 15 दिनों बाद जब दिल्ली वापस लौटी तो मैं और काजल साथ में समय बिताना चाहते थे। मुझे काफी ज्यादा अच्छा लग रहा था जब काजल और मैं साथ में बैठे हुए थे हम दोनों एक दूसरे से बातें कर रहे थे तो काजल को भी अच्छा लग रहा था और मुझे भी काफी ज्यादा अच्छा लग रहा था। मैंने काजल को कहा कि चलो यह तो बहुत ही अच्छी बात है कि अब तुम्हारे पापा की तबीयत ठीक है। काजल ने मुझे कहा हां संजय पापा की तबीयत पहले से बेहतर है काजल और मैंने उस दिन साथ में काफी अच्छा समय बिताया और फिर काजल अपने घर लौट गई काजल अपनी फ्रेंड के साथ रहती है। मैं भी घर वापस लौट आया था जब मैं घर वापस लौटा तो मेरी बहन घर पर आई हुई थी मेरी बहन का नाम महिमा है और वह काफी समय के बाद घर पर आई थी। मैंने महिमा से कहा कि तुम काफी समय बाद घर आ रही हो तो महिमा कहने लगी कि भैया आप तो जानते ही हैं कि ससुराल में कितना काम रहता है और मेरे पति के पास तो बिल्कुल भी समय नहीं होता। महिमा मुझसे उम्र में छोटी है और उसकी शादी अभी एक वर्ष पहले ही हुई थी वह अपनी शादीशुदा जीवन से बहुत खुश है और हमें भी इस बात की खुशी है कि महिमा अपने ससुराल में काफी खुश है। कुछ दिनों तक महिमा घर पर रही और फिर वह चली गई। मैं और काजल एक दूसरे के साथ रिलेशन में बहुत खुश हैं और साथ में हम दोनों काफी समय बिताया करते है। मैं जब भी काजल के साथ होता हूं तो मुझे काफी ज्यादा अच्छा लगता है और काजल को भी बहुत अच्छा लगता है। काजल और मेरे रिलेशन के बारे में मेरे परिवार वालों को भी मालूम है और उन्हें हम दोनों के रिलेशन से कोई भी एतराज नहीं है। मैंने काजल को घर पर बुलाया काजल जब घर पर आई तो उस वक्त घर पर कोई भी नहीं था। काजल और मैं साथ में बैठे हुए थे मेरे दिल में काजल के साथ सेक्स करने की इच्छा जानने लगी और मैंने उसके हाथ को पकड़ लिया। मैंने जब काजल के हाथ को पकड़कर सहलाना शुरू किया तो वह भी मेरे साथ सेक्स करने के लिए तैयार हो चुकी थी। मैंने काजल के बदन को महसूस करना शुरू कर दिया था। काजल की गर्मी को मैं पूरी तरीके से बढ़ाने लगा था।

मैंने काजल के जींस को उतारते हुए जब उसकी योनि को सहलाना शुरु किया तो उसे मज़ा आने लगा और मुझे भी बड़ा मजा आने लगा था। मैं काजल के लिए तड़पने लगा था। काजल मेरे लंड को अपनी चूत में लेने के लिए बेताब हो चुकी थी वह बहुत ज्यादा तड़पने लगी थी। वह मेरी गर्मी को इस कदर बढ़ाने लगी थी कि मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा था। मैंने काजल के सामने जब अपने लंड को किया तो काजल मुझे कहने लगी तुम्हारा लंड बहुत ही ज्यादा मोटा है। मैंने काजल को कहा तुम मेरे लंड को अपने मुंह में ले लो। काजल ने उसे अपने मुंह में समाते हुए चूसना शुरू कर दिया। काजल ने जब मेरे मोटे लंड को अपने मुंह में लेकर संकिग करना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा और काजल को भी मजा आने लगा था। काजल और मै एक दूसरे के साथ बहुत ही ज्यादा खुश थे हम दोनों एक दूसरे की खुशी को लगातार बढ़ाते जा रहे थे। हम दोनों में एक दूसरे को पूरी तरीके से गर्म कर दिया था मैंने अपने लंड को काजल की चूत पर लगाया। काजल की चूत पर अपने लंड को लगाने के बाद मैंने काजल से कहा मैं तुम्हारी चूत मारना चाहता हूं। काजल ने अपने पैरों को खोल लिया। काजल की योनि से बहुत ज्यादा पानी बाहर बह चुका था जिसके बाद मेरा लंड आसानी से काजल की योनि में प्रवेश हो गया। मेरा लंड काजल की योनि में प्रवेश होते ही वह बहुत जोर से चिल्ला कर बोली अब मुझे मजा आ गया। मैने काजल के दोनों पैरों को चौड़ा कर लिया था जिसके बाद मै उसे लगातार तीव्र गति से पेल रहा था। मैं काजल को बड़ी तेजी से धक्के देने लगा काजल को भी मजा आ रहा था। वह कहने लगी मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है मैंने काजल को कहा मुझे भी बहुत ज्यादा मजा आ रहा है हम दोनों एक दूसरे के साथ जमकर सेक्स के मजा ले रहे थे।

मैंने देखा काजल की योनि से खून बाहर की तरफ निकल रहा है जिस से की काजल की सिसकारियां तेज होती और मुझे काजल को चोदने में बहुत ज्यादा मजा आ रहा था। वह बहुत तेजी से सिसकारियां ले रही थी और मेरी गर्मी को लगातार बढ़ाती जा रही थी। मैंने काजल के दोनों पैरों को अपने कंधों पर रख लिया जिसके बाद मैंने उसे इतनी तेज गति से धक्के देने शुरू किए कि उसका पूरा शरीर हिलने लगा था। थोड़े ही देर बाद मेरा वीर्य पतन हो गया लेकिन मेरे वीर्य पतन हो जाने के बाद मैंने उसके साथ दोबारा से शारीरिक संबंध बनाना शुरू किया। काजल की चूत में मेरा लंड प्रवेश हो चुका था। मेरा मोटा लंड काजल की योनि के अंदर जा चुका थ।

अब मैं उसे लगातार तेजी से चोद रहा था मैं उसे इतनी तेज गति से धक्के दे रहा था मुझे बहुत ज्यादा मजा आने लगा था और उसको भी काफी ज्यादा मजा आने लगा था। मैंने काजल को बहुत देर तक चोदा जिसके बाद मुझे महसूस होने लगा मेरा वीर्य मेरे अंडकोषो से बाहर की तरफ को आने वाला है और काजल की चूत में जाने के लिए बेताब थ। मैंने काजल की योनि के अंदर अपने वीर्य को गिराकर अपनी इच्छा को पूरा कर लिया काजल बहुत ज्यादा खुश थी जिस प्रकार से मैंने उसके साथ सेक्स किया। काजल की योनि से अभी भी खून बाहर की तरफ को निकाल रहा था। मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आया जिस प्रकार से मैंने काजल के साथ शारीरिक सुख का मजा लिया और काजल ने मेरे साथ जमकर सेक्स का मजा लिया। हम दोनों ने एक दूसरे के साथ बहुत ही अच्छे से सेक्स किया उसके बाद भी मेरा मन होता तो मैं काजल को घर पर बुला लिया करता और काजल मेरे साथ सेक्स करने के लिए तैयार रहती।


Comments are closed.