मैडम आज तो चूस कर चोदुंगा

Madam aaj to chus kar chodunga:

hindi sex story, desi porn kahani

गुड मोर्निंग मेरे प्यारे पाठको कैसे हो आप सब ? मुझे तो बड़ा आनंद आता है जब भी मैं आप सभी के लिए कुछ नयी कहानियां लेकर आता हूँ क्यूंकि इससे मेरा मन आनंदित हो जाता है | मेरे घर में कई लोग रहते हैं और मेरे दोस्त हैं सब पर उनकी जिंदगी में कभी न कभी कुछ न कुछ होता ही रहता है और इसी वजह से मुझे बताने का मौका मिल जाता है और कहानी बनाने का मौका मैं नहीं छोड़ता | मुझे एक दिन में काफी ऐसे लोग मिलते हैं जो मुझे बताते हैं की क्या हुआ है उनके दिनचर्या में और क्या करने का मन होता है उनका | मैंने अधिकतर बार सुना है जो मुझे थोडा अजीब सा लगा पर मुझे ये नहीं पता था कि मुझे ऐसा किस्सा मिल जाएगा जिससे उसका कोई नाता ही न हो | दोस्तों ये बड़े ही इत्तेफाक की बात है जिंदगी में और ये कब कहाँ और कैसे हो जाए ये कोई भी नहीं समझ सकता पर ये होता ज़रूर है किसी न किसी के साथ | मैंने भी महसूस किया है इसे अपनी जिंदगी में चाहता हूँ कि आप सब भी इसका लुत्फ़ उठाये और इसका आनन्द ले | अब शुरू करता हूँ अपनी कहानी जिसमे है कुछ मसालेदार कि आप लोग जाने के लिए तड़प जाएंगे कि ये हमारे साथ कुछ नहीं हुआ |  आज की कहानी के साथ मैं सुरेश आप सब का हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ और बताना चाहता  हूँ अपने सबसे प्यारे दोस्त भीमा की कहानी | ये घटना तब की है जब मुझे और उसे उंचाई में चढ़ने का शौक हुआ था | मैंने कभी भी नहीं सोचा था भीमा इतना मादरचोद निकलेगा और वो किसी लड़की के साथ बिना किसी मकसद के चुदाई कर लेगा | दोस्तों चुदाई करना कोई भी गलत बात नहीं है पर मुझे लगता आप जिस इंसान को जानते हो और उसके लिए कुछ महसूस करते हो तब इसे करोगे तो ज्यादा मज़ा आएगा | मुझे अब इस बात से कोई भी फर्क नहीं पड़ता कि आप क्या सोचते हैं मेरे बारे में या मुझे चोदु कहते हैं पर मैं तो ऐसा ही हूँ  और मुझे बिलकुल भी शर्म नहीं आती |

 

दो साल पहले हम लोग उत्तराखंड गये हुए थे और वहां पे तो आप जानते हैं कई सारी पहाड़ियां है और ये किसी भी इंसान के लिए जिसे पहाड़ चढ़ने का शौक हो उसके लिए किरी रोमांचक तथ्य से कम नहीं है | मैंने भी सोचा हम लोगों ने काफी अभ्यास कर लिया है तो किसी कठिन पहाड़ी पे चढ़ना हमारे लिए सही रहेगा | मेरे साथ भीमा था उसकी दोस्त थी और जो हमारी ट्रेनर है वो | दोनों ही लडकियां खूबसूरती के मामले में एक से गजब माल एक और उन दोनों का कोई जवाब नहीं | उसकी दोस्त आकांशा की गांड चौड़ी थी और हमारी ट्रेनर के दूध परफेक्ट थे | दोनों ही मस्त गोरी और चिकनी थी | मै छोटा था उन लोगों से तो वो लोग मेरा बचो जैसा ख्याल रखते थे | भीमा को इस चीज़ से बड़ी चिढ होती  | वो मैडम पे भी लाइन मारता था पर मैडम मेरी तरफ ज्यादा रहती थी क्यूंकि उन्हें मुझसे बात करना मेरे साथ मस्ती करना मेरी खिचाई करना अच्छा लगता था | मैंने कभी भी उनसे कोई गलत बात नहीं की थी और वो मुझे हर समय अपने साथ रखती थी और मुझे पप्पू कहकर बुलाती थी | भीमा भी कई बार उनके पास आता और कहता कि मैडम आप इस बच्चे के साथ लगे हुए हो चलो मस्ती करते है बड़ो वाली | मैडम कहती चलो फिर थोड़ी देर बाद मेरे लिए कुछ लेकर आई और कहने लगी कि मेरा बेबी अकेला था क्या ? मैं उनका हाथ पकड़ा और कहा आप क्यों गये थे | फिर उन्होंने कहा अरे यार नहीं जाती तो वो और उसकी दोस्त मुझे बोलते कि मैडम हमारे साथ बेईमानी करती है | इसलिए मुझे जाना पड़ा और मुझे तो तुझे अकेला छोड़ देना बिलकुल भी अच्छा नहीं लगता | मैंने उनसे पुछा मैडम मुझे लगता है कि मैं आपको पसंद करने लगा हूँ | मैडम ने कहा अच्छा बच्चे मुझसे ही और मुझे गुदगदी करने लगी और मैं गले लग गया फिर उन्होंने कहा कि यार तुझसे दूर नहीं होना चाहती क्यूंकि तुझे पसंद तो मैं भी करती हूँ | मुझे उनसे प्यार होने लगा पर वो मुझसे दो साल 4 थी पर इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता | मुझे फर्क पड़ता था बस भीमा और उसकी हरकतों से | वो अपनी दोस्त के साथ रोज़ सेक्स करता था और मैडम को भी ये बात पता थी पर वो कुछ कर नहीं सकती थी क्यूंकि वो दोनों अच्छे थे और दोनों जवान थे |

 

एक दिन मैंने देखा भीमा आकेला पहाड़ी पे गया और उसने कुछ करने की कोशिश की पर मैं उसके पास तक जा नहीं पाया | पर मैंने अपने दूरबीन से देखा कि जहाँ से मैडम चड़ने वाली थी वहां से उसने एक पत्थर हिला दिया | मैं समझ तो गया था कि इसका प्लान मैडम को नीचे गिराने का है पर ये रियल में चाहता क्या है | फिर मैंने सोचा इसके कैंप में जा कर देखता हूँ | जैसे ही मैं वह पहुंचा तो मैंने सुना ये किसी दोस्त से बात कर रहा है कि सुरेश का पाटा आज काट दूंगा अब मैडम मेरे नाम की माला जपेगी | मैं समझ गया कि इसके दिमाग में चल क्या रहा है | मैंने मैडम से कहा सुनो न तो उसने कहा हाय जान कहो न | मैंने कहा क्या आज मैं तुमाहरे बाजु में रह सकता हूँ | उसने कहा तुम मेरे दिल में रह लो बाजू में क्या करना | मैंने कहा बस ऐसे ही मन है मेरा आपसे दूर रहा नहीं जाता | मैडम ने कहा ठीक है मेरे बाजू में आज तुम रहना | हमने चढ़ने की तैयारी की और जब चढ़ने लगे तो मैडम उसी जगह पर थी जहाँ का पत्थर हिलाया गया था | मैडम एक दम से नीचे गिरी पर भीमा से पहले मैं कूदा और उनको पकड़ लिया | भीमा ये सब समझ नहीं पाया और ना चाहते हुए भी हम दोनों को ऊपर खींचना पड़ा | मैडम ने कहा कैसे हुआ ये ? और वो डर गयी थी पर वो मेरे पास दौड़ के आई और गले लगा के बोली तुम ठीक हो न | भीमा का चेहरा देखने लायक था उस समय | मैंने कहा जिसने गड्ढा खोदा वो उसी जाल में फास गया | मैडम मुझे अन्दर ले गयी और गोद में लिटा के कहा सच सच बताओ कुछ हुआ ? तो नहीं न मैंने कहा नहीं पर भीमा बाजू में होता तो हो जाता | मैंने मोबाइल में रिकॉर्डिंग दिखाई और बताया देखिये | फिर उन्होंने मुझे और जोर से गले लगा लिया और कहा कि काश पहले बता दिया होता | मैंने कहा पहले बता देता तो ऐसे गले लगने और गोद में सर रखने का मजा थोड़ी न मिलता | फिर मैंने कहा वैसी आपके मम्मे काफी बड़े बड़े है मेरे मुह में लग रहे हैं | वो हसने लगी और कहा अच्छा देखना चाहोगे मेरे मम्मे  |

 

मैंने कहा क्या सच में देखने को मिलेंगे आपके मम्मे  | उन्होंने मुझसे कहा सब तुमाहरा है जो चाहो कर लो | मैंने कहा ठीक है पर मुझसे अगर कुछ ज्यादा हो गया तो | तब उसने कहा मैं कुछ भी नहीं कहूँगी कर लो तुम्हे जो करना है | मैंने जैसे ही उसका टॉप उतारा ब्रा के अन्दर इतने बड़े बड़े मम्मे थे कि मै तो देख के ही पागल हो गया | मैंने कहा मैं इनको आज़ाद करने वाला हूँ तो प्लीज ब्रा खोल लेने दो | उसने मुझे एक जोर का किस किया लिप्स पे और कहा बोला न सब तुम्हारा  है करलो जो करना है | मैंने ब्रा खोला और उसके बूब्स में अपना मुह दबा दिया | अब मैंने उसके निप्पल चूसना शुरू किया ही था की उसने आहें भरना शुरू कर दिया और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह  करो न मुझे अच्छा लग रहा है | मैंने जोर जोर से उसकी निप्पल चूसी और फिर कहा मुझे अब आपकी चूत में अपनी जीभ लगाना है | उसने अपना लोअर नीचे कर दिया और कहा लो कर लो | जैसे ही मैंने छाटना चालू किया वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करने लगी और ये सब बहार से भीमासुन रहा था | मैंने चाटना बंद किया और फिर उसकी चूत में लंड रगड़ के अनदार डाल दिया | वो फिर से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करने लगी और मैं उसे चोदता रहा | २० मिनट के बाद मेरा गाढ़ा माल उसकी चूत के अन्दर रह गया और उसका माल मेरे लंड पे लग गया | वो अब मुस्कुराने लगी थी और तीन घंटे की चुदाई के बाद हम दोनों बाहर निकले और भीमा अपना लटका हुआ चेहरे लेकर यहाँ वहां घूम रहा था |


Comments are closed.