लंड का कमाल जालिम को बना डाला अपना जमाल

Lund ka kamaal zalim ko bana dala apana jamal:

क्या हो रहा है मेरे दोस्तों कैसे हो आप सब | अपने अपने लोडे बचा के रखना आजकल कई सारी रंडियां घूम रही हैं आपका लंड काट लेंगी | मुझे ये कहते हुए बिकुल भी शर्म नहीं कि लड़के चूतिया होते हैं | ये बिलकुल सच बात है क्यूंकि वो किसी पर भी आसानी से भरोसा कर लेते हैं और जैसे ही कोई लड़की देखी समझो इनकी नियत फिसली | मुझे तो खुद पर भी गुस्सा आता है कि मैं कितना बड़ा गांडू हूँ | हाँ दोस्तों क्या करे ये साला दिल हर दूसरी लड़की पर फिसल जाता है और साला प्यार तक तो ठीक है पर यहाँ चुदाई तक कि बात आ जाती है |

इसी के साथ मैं आपका दोस्त रवि किशन आज कि कहानी का आरम्भ करता हूँ और आप सब को बताता हूँ कि क्या, कैसे और कब हुआ मेरे साथ | मैं एक अच्छा सा लड़का था मुझे फिल्म लाइन में जाने का बड़ा मन था पर बाप ने दो टूक कह दिया था कि बनेगा तो डॉक्टर नहीं तो लात मारके घर से निकाल दूंगा | अब मुझे लग रहा था कि क्या यार कहा से पैदा हो गया इस घर में पर माँ बाप जो बोलते है अच्छे के लिए ही बोलते हैं | पर बच्चों की भी कुछ ख्वाहिशे होती हैं जो कि उनको जानना ज़रूरी है |

मुझे भी बहुत अच्छा लगता था जब कोई मेरी फ़िक्र करता था और माँ बाप से अच्छा ये काम को नहीं करता इसलिए मैं भी जुट गया मस्त पढ़ाई करने में | मैंने अपनी शिक्षा जारी रखी | मैं दिखने मैं चार्मिंग टाइप का बंदा था बड़ी क्लास कि लड़कियां कभी कभी मेरे गालों को चूम लेती थी | और मैं भी बहुत हरामी टाइप का था कभी कभार मैं भी मैं भी उनके चुचे दबा देता था मुझे पता था कि उन्हें भी मज़ा आता है एक दिन अचानक एसा हुआ की मेरी पूरी जिन्दगी का लक्ष्य सिर्फ चूत मरना बन गया और पढाई गयी माँ चुदाने

हुआ यूँ कि एक दिन एक लड़की जो कि मेरे से कुछ साल बड़ी थी मेरे गालो को दबा रही थी मैं जानबूझ कर उससे भागने लगा और वो मेरे पीछे आने लगी मैं उसको अपने पीछे भागते हुए एक कोने कि जगह पर आ गया | मुझे पता ही नहीं चलता था कब दिन हो गया और कब रात मैं इस तरह कि पढाई करने लगा था | उसके बाद मेरी १२ वी कि पढ़ाई पूरी हुयी और मैंने पूरे स्कूल में अवाल स्तन हासिल किया | मेरे माता पिता इतने खुश हुए कि उन्होंने मुझे नयी गाड़ी खरीद कर देदी | इतनी महंगी गाडी ५ लाख रुपये कि गाडी थी | उसके बाद मेरी ख़ुशी का भी ठिकाना नहीं रहा और मैं और ज्यादा महनत करने लगा | मैंने एक साल का ब्रेक लिया था पढ़ाई से ताकि मुझे कोई अच्छा कॉलेज मिले |

अगले साल जब मैंने डॉक्टर बनने के लिए पेपर दिया तो उसमे भी मुझे अच्छे नंबर मिले और मैं खुश हो गया कि न जाने इस बार मुझे क्या मिलेगा | मुझे जयपुर में कॉलेज मिला था और पापा मम्मी बड़े खुश थे क्यूंकि इसके बाद तो मैं खुद लाखों में कमाने वाला था | इस बार पापा ने मुझे सस्ता गिफ्ट दिया पर था बड़े काम का | जी हाँ मुझे लैपटॉप मिला और इसके सहारे मैंने कई एक्साम्स निकाले क्यूंकि लेक्चर में जाना और टीम बर्बाद करना मेरे बस का नहीं था | मुझे तो बस अपनी उपस्तिथि दर्ज करनी होती थी और बाकि तो मैं कॉलेज का एक होनहार बच्चा था ही | मेरे टीचर्स को भी मुझपे नाज़ था और मेरे पास बोहत काम होता था | मैंने भी कई सारे प्रोजेक्ट्स ले रखे थे जिससे मेरा खर्च आसानी ने निकल आता था | मुझे भी बड़ा आ रहा था इस अब में |

दोस्तों जैसे कि आप जानते हैं कि हर चीज़ का एक समय होता है और मेरी पढाई का भी समय अब हो चला था | हौले हौले मेरी पढाई भी ख़त्म होने को आई और इस बार मेरे माँ बाप और टीचर्स को मुझसे बहुत उम्मीद थी | मैंने भी खूब पढाई की पर किसी ये बात झाजम न हो सकी | दोस्तों अब मैं आपको बताता हूँ उस इंसान के बारे में जो है तो अच्छा पर मुझसे पीछे ही रहा हमेशा | जी हाँ आप सोच रहे होंगे कि इस बन्दे का दुश्मन कौन हो सकता है | दोस्तों ये एक लड़की थी जो हमेशा दूसरे स्तन पर रहती थी और मुझसे बड़ा जलती थी | मैं भी ध्यान नहीं देता था उस पर पर थी वो बड़ी सुन्दर | अगर कोई मुझसे पूछता कि कौनसी लड़की पसंद है तो उसका नाम सबसे पहले लेता |

एक दिन वो मेरे पास आई और कहा तुम जैसे लोग पढाई नहीं करते फिर भी अव्वल कैसे आ जातें हैं | मैंने कहा यार नही लगता लेकिन पढाई मै भी करता हूँ और महनत भी बस मेरा तरीका थोडा अलग है | वो गुस्सा होकर वहां से निकल गयी और मुझे लगा कि शायद नाराज़ है किसी बात पे | पर दोस्तों जहाँ से लडको का सोचना ख़तम होता है वह से उनका सोच्च्ना शुरू होता है | पर होता भी वही है जो मंज़ूर- ए – खुदा होता है | मैंने सोचा था कि मैं मस्त पढाई करूँगा अपने हॉस्टल में बैठकर पर उस लड़की ने मुझे कहा कि यार तुम्हरी मदद चाहिए और मैंने हाँ कर दी | मैं तो सीधा सादा था मुझे क्या पता कि वो कुछ ऐसा वैसा कर देगी |

वो मेरे हॉस्टल आई रात में और कहा कि चलो मुझे पढाओ | दोस्तों हमारे कॉलेज का हॉस्टल थोडा अजीब है यहाँ लड़के और लडकियाँ दोनों साथ में रहते है और कोई भी किसी के भी रूम में आ जा सकता है | मुझे तो यकीन नहीं था कि ये लड़की मुझसे कोई मदद मांगेगी पर फिर भी मैंने उसपे भरोसा किया और उसकी मदद की | मुझे लगा कि हो सकता है सच में इसे इस चीज़ कि ज़रूरत हो | मैं बड़ा दिलदार बनने चला था जबकि पता था कि आगे गांड फटने वाली है |

नहीं ऐसा मत सोचो एक तंग डॉक्टर कुछ भी कर सकता है गाली बकना तो बहुत छोटी सी चीज़ है | तो दोस्तों आगे हुआ यह कि वो मुझसे कुछ ज्यादा ही चिपकने लगी और मुझे पूरी दाल काली नज़र आने लगी | मुझे लगा कि शायद मैं गलत हूँ पर ऐसा नहीं था | एक रात वो मेरे रूम में दारु लेके आई और पीने लगी और टल्ली हो गयी और मुझे भी पिलाने लगी | मैंने मन किया पर फिर मैंने भी मार ही लिए दो चार घूँट | जैसे ही दारु मेरे अन्दर गयी मेरा हवस से भरा मर्द बाहर निकल आया | मैंने बोला शुरू किया आशी तुझे पता है तू मुझे पसंद है और तेरे बड़े दूध देखकर मेरा लंड खड़ा हो जाता है | वो बोली साले ऐसा है तो मुझसे बात क्यों नही की मैंने कहा तेरी चूत थोड़ी मिल जाती बात करने से |

उसने ले आज तेरे सामने हूँ चोद साले आज देखती हूँ कितना सुडोल है तेरा लंड | मैंने तुरंत अपने कपडे उतारे और हम दोनों टल्ली तो थे ही तो मैंने उसको किस करना चालु कर दिया | वो भी गरम तो थी ही और दारु ने तो आग में घी डालने का काम किया था | वो भी किस करने लगी और हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे को गाली दिए जा रहे थे और हस रहे थे | फिर उसने धीरे से मेरा लंड पकड़ा और कहा आजा इसकी मालिश कर दूँ | मैंने भी कहा हाँ कर दे | उसने मेरा लंड हिलाना चालु किया और मुझे मज़ा आने लगा | मेरा लंड जेसे ही खड़ा हुआ वो बोली कमीने इतना बड़ा हथियार तूने आजतक छुपा के कहाँ रखा था | मैंने कहा चड्डी में | फिर मैंने कहा अपना भी सामन दिखा न आशी | तो उसने कहा खुद ही देखले न मन किया क्या मैंने तुझे |

मैंने उसका कुरता उतारा और सामने देखा तो बिलकुल सुडोल स्तन थे उसके और पिंक निप्पल देखकर तो मेरा लंड और खड़ा हो गया | अब उसने मेरा लंड मुह में भर लिया था और में उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आअह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह और अन्दर तक कह रहा था | उसने भी मेरा लंड गले टक उतार लिया और दो मिनट बाद मैं आअह्ह्ह्ह ऊओह्हह्ह करके झड़ गया और उसने मेरा माल पी लिया | फिर मैंने उसकी सलवार खोली और सीधा चूत पे अपनी जीभ टिका के अन्दर बाहर करने लगा | वो भी ऊम्म्म्मम्म्म्म ऊओह्हह्ह करने लगी और थोड़ी देर बाद झड़ गयी | फिर मैंने उसकी चूत को अपने लंड कि मोटाई से गहरा कर दिया | उसने भी जोर जोर से आआह्हह्हह्हह्ह ऊऊओह्हह्हह फाड़ दे आज कहना शुरू किया | मैंने रफ़्तार बढ़ा दी और तीन घंटे टक उसकी चूत चोदी | फिर हम दोनों का नशा उतरा और वो रोने लगी और कहा तू कितना अच्छा है और एक मैं हूँ जो तेरा बुरा करने आई थी | फिर उसने मुझसे कहा तू कल ही मुझसे शादी करेगा और में ही तुझसे चुदुंगी हमेशा और हम दोनों जिंदगी के हमसफर बन गए |

दोस्तों आप सभी को मेरी ये कहानी कैसी लगी कमेंट कर के जरुर बताइयेगा | मुझे इंतजार रहेगा |


Comments are closed.