लंड आग उगलने लगा

Antarvasna, desi kahani:

Lund aag ugalne laga: पापा के दोस्त घर पर आए हुए थे मैं अपने ऑफिस जाने की तैयारी कर रहा था उन्होंने मुझसे कहा रोहन बेटा तुम्हारी जॉब कैसी चल रही है। मैंने पापा से कहा पापा जॉब तो ठीक चल रही है। कुछ देर मैंने उनसे बात की और फिर मैं अपने ऑफिस के लिए चला गया, मैं अपने ऑफिस पहुंच चुका था जब मैं अपने ऑफिस पहुंचा तो मैं अपना काम करने लगा, काम खत्म हो जाने के बाद में घर वापस लौटा। जब मैं घर वापस लौटा तो उस वक्त पापा और मैं साथ में बैठे रहे क्योंकि पापा भी अपने ऑफिस से लौट चुके थे। घर में मैं एकलौता हूं इसलिए मुझे ही पापा और मम्मी की देखभाल करनी होती है क्योंकि पापा और मम्मी की उम्र भी हो चुकी है और उन लोगों की तबीयत खराब रहने लगी है जिस कारण मुझे ही उन्हें अस्पताल लेकर जाना पड़ता है। पापा से मैंने कई बार कहा कि आप जॉब छोड़ दो लेकिन वह हैं कि मानते ही नहीं। मां ने भी उनसे कहा कि अब तो रोहन कमाने लगा है तो अब आपको आराम करना चाहिए लेकिन पापा मां की बात भी नहीं मानते। हमारे पड़ोस में रहने वाले राजेंद्र अंकल के घर पर उन्होंने एक छोटी सी पार्टी रखी थी जिसमें कि उन्होंने हमें भी बुलाया था मैं भी उस दिन उनके घर पर गया।

वह हमारे पड़ोस में रहते हैं और उनके साथ हमारा काफी अच्छा घरेलू संबंध है इसलिए हम लोगों का उनके घर पर आना जाना रहता है। उसी पार्टी के दौरान मैंने कावेरी को देखा कावेरी को मैं कॉलेज के दिनों से ही प्यार करता था लेकिन कावेरी से मैं कुछ कह ना सका। कावेरी मुझसे एक क्लास जूनियर थी और मैं तब से उसे दिल ही दिल प्यार करता था लेकिन उस समय मैं कावेरी को कुछ कह ना सका। उस दिन मैंने कावेरी से बात की और कावेरी से पूछा कि तुम कैसी हो तो कावेरी ने मुझे बताया कि वह ठीक है और उसने कुछ दिनों पहले ही एक कंपनी में जॉब ज्वाइन की है। कावेरी से मेरी काफी बात हुई और मुझे भी कावेरी से बात करके अच्छा लगा। कावेरी भी हमारी कॉलोनी में ही रहती है लेकिन यह पहली बार था जब मैं उससे इतनी खुलकर बातें कर रहा था। उस दिन हम लोग घर चले आए और मैं इस बात से बड़ा खुश था कि मेरी कावेरी से बात हो पाई। मैं अगले दिन अपने ऑफिस जा रहा था उस वक्त जब मैं अपने ऑफिस जा रहा था तो मुझे कावेरी मिली कावेरी मुझे कहने लगी कि रोहन तुम कहां जा रहे हो। मैंने कावेरी को कहा कि मैं तो ऑफिस जा रहा हूं कावेरी ने मुझे कहा कि क्या तुम मुझे मेरे ऑफिस तक छोड़ दोगे मुझे ऑफिस के लिए देर हो रही है। मैंने कावेरी को कहा क्यों नहीं। हालांकि मुझे भी ऑफिस के लिए देर हो रही थी लेकिन मैंने कावेरी की बात मान ली और उसे उसके ऑफिस तक छोड़ा। कावेरी ने मुझे धन्यवाद कहा और कहने लगी कि रोहन अगर आज तुम मुझे मेरे ऑफिस नहीं छोड़ते तो मुझे बहुत देरी हो जाती।

मैंने कावेरी को कहा कोई बात नहीं और उसके बाद मैं अपने ऑफिस के लिए निकल गया। हालांकि मुझे ऑफिस पहुंचने में देरी हो चुकी थी लेकिन मुझे कावेरी के साथ काफी अच्छा लगा था और मैं मन ही मन कावेरी के बारे में सोच रहा था। मैं उस दिन बहुत ज्यादा खुश था तो मेरा दोस्त कहने लगा कि रोहन आज तुम काफी खुश नजर आ रहे हो। मैंने उसे बताया कि आज मैं काफी खुश हूं क्योकि मैंने आज कावेरी को उसके ऑफिस तक छोड़ा। मैं अपने दोस्त को कावेरी के बारे में सब कुछ बता चुका था इसलिए वह भी मुझे कहने लगा कि रोहन चलो कम से कम तुम्हारी बात आगे तो बढ़ रही है। कावेरी मुझे जब भी मिलती तो मुझे बहुत ही अच्छा लगता और कावेरी को भी मेरा साथ बहुत ही अच्छा लगता। अब समय आ चुका था कि मैं कावेरी को अपने दिल की बात कह डालूं और मैंने उस दिन कावेरी को अपने साथ डिनर पर चलने के लिए इनवाइट किया तो वह भी मेरी बात मान गई और उस दिन मैं कावेरी को अपने साथ डिनर पर ले कर गया। कावेरी को मुझ पर पूरा भरोसा था और वह इस बात को अच्छे से जानती है कि मैं उससे प्यार करता हूं। मैंने उस दिन कावेरी को अपने दिल की बात कह दी तो कावेरी ने मुझे कहा कि रोहन मैं भी तुमसे प्यार करती हूं यह बात सुनकर मैं बहुत ज्यादा खुश हो गया और कावेरी भी बहुत ज्यादा खुश थी कि हम दोनों का रिलेशन अब चलने लगा है। हम दोनों उसके बाद एक दूसरे को ज्यादा से ज्यादा मिलने की कोशिश करने लगे और जब भी मुझे समय मिलता तो हम दोनों साथ में अच्छा समय बिताया करते हैं और हम दोनों बहुत ही खुश थे। कावेरी के साथ मैं जब समय बिताता तो मुझे अच्छा लगता था।

एक दिन मैं और कावेरी साथ में बैठे हुए थे उस दिन कावेरी ने मुझे कहा कि अब पापा और मम्मी मेरे रिश्ते की बात करने लगे हैं और उन्होंने मेरे लिए लड़के भी देखने शुरू कर दिए है अगर तुम कहो तो मैं घर पर तुम्हारे बारे में बता दूं। मैंने कावेरी से कहा कि कावेरी मुझे थोड़ा समय और चाहिए तो कावेरी कहने लगी कि ठीक है जब तक मैं पापा और मम्मी को समझा सकती हूं तब तक मैं पूरी कोशिश करूंगी। कावेरी भी मेरा साथ हमेशा ही अच्छे से दिया करती और मुझे बहुत अच्छा लगता जब भी कावेरी और मैं साथ में होते, हम दोनों को साथ में समय बिताना बहुत ही अच्छा लगता। कावेरी और मैं साथ में बहुत ही अच्छा समय बिता रहे थे। मुझे कावेरी के साथ बहुत अच्छा लगता जब भी हम दोनों साथ में होते तो हम दोनों काफी अच्छा समय बिताया करते। एक दिन मैंने कावेरी को किस कर लिया उस दिन हम दोनों पार्क में बैठे हुए थे। मुझे कावेरी के होठों को चूमकर बड़ा ही अच्छा लगा। जिस तरह से मैं कावेरी के होंठों का रसपान कर रहा था उससे वह बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो रही थी। वह मुझे कहने लगी मुझसे रहा नहीं जा रहा है मैंने उसके हैंठो को बहुत दूर तक चूमा। उसके आगे हम दोनों कुछ कर ना सके लेकिन अब वह मेरे लिए तड़पने लगी थी। हम दोनों के बीच सेक्स को लेकर भी बातें होने लगी थी। जब भी कावेरी और मैं साथ में होते तो हम दोनों एक दूसरे के साथ गरम बाते करने लगे थे। मैं जब भी कावेरी को देखता तो मै अपने आपको रोक नहीं पाता। मैं चाहता था कावेरी के साथ सेक्स के मजे लूं और मैंने ऐसा ही किया। मैंने एक दिन कावेरी को घर पर बुला लिया वह घर पर आ गई।

वह घर पर आई तो हम दोनों साथ में बैठे हुए थे। मैं कावेरी के होठों को चूम रहा था और कावेरी मेरा पूरा साथ दे रही थी मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब मैं और कावेरी एक दूसरे के होठों को चूम रहे थे। मैंने कावेरी के बदन को पूरी तरीके से गर्म कर दिया था मैंने कावेरी के बदन से कपड़े उतारने शुरू किए। मैं जब उसके बदन से कपड़े उतारने लगा तो वह उत्तेजित होने लगी। मै उसके स्तनों को दबाने लगा था उसे मजा आने लगा। उसके स्तनों को दबाने में काफी आनंद आ रहा था मैंने उसके स्तनों को बहुत देर तक दबाया। उसके स्तनों को चूसने मे मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था। कावेरी ने मेरे लंड को बाहर निकाल लिया। वह मेरे लंड को हिलाने लगी कुछ देर तक उसने मेरे लंड को हिलाए फिर उसने अपने मुंह के अंदर मेरे लंड को ले लिया। पहले वह मेरे आधे लंड को अपने मुंह में ले रही थी लेकिन फिर उसने मेरे पूरे लंड को अपने मुंह में लेकर उसका रसपान करना शुरू कर दिया था। मुझे बहुत ही मजा आने लगा था और उसे भी बड़ा मजा आने लगा था जिस तरीके से वह मेरे लंड को सकिंग कर रही थी। अब हम दोनों की गर्मी बढ़ती जा रही थी मैंने कावेरी को कहा मुझसे रहा नहीं जाएगा। कावेरी मुझे कहने लगी मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था मैंने कावेरी के कपड़ों को उतारकर उसकी योनि को सहलाना शुरु किया तो उसकी चूत से पानी निकल रहा था। जिस तरीके से मेरी उंगलियां उसकी चूत पर लगती तो उसकी चूत से पानी निकलने लगता और मुझे बड़ा मजा आने लगा था जिस तरीके से हम दोनो एक दूसरे का साथ दे रहे थे। मैंने कावेरी की योनि को बड़े ही अच्छे से सहलाया।

उसकी चूत को मैंने पूरी तरीके से गर्म कर दिया था मैंने कावेरी की योनि के अंदर की गर्मी को इतना ज्यादा बढ़ा दिया था वह मेरे लंड को अपनी चूत मे लेने के लिए तैयार हो गई थी। मैंने उसकी चूत में अपने लंड को घुसाया तो वह मुझे बोली मेरी चूत से खून निकलने लगा है। उसकी चूत से निकलता हुआ खून मेरी गर्मी को और भी ज्यादा बढ़ा रहा था। वह मुझे बहुत ही  उत्तेजित करती जा रही थी और जिस तरीके से वह अपनी मादक आवाज में सिसकारियां ले रही थी उससे मुझे मज़ा आ रहा था। वह मुझे कहती मुझे और भी तेजी से चोदते जाओ। मैं उसे तेज गति से धक्के मार रहा था। मैं उसे जिस तेज गति से धक्के मारता मुझे मजा आता। वह बहुत ही तेजी से सिसकारियां लेने लगी थी। मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा था। जब मेरा माल बाहर गिरने के लिए तैयार था तो मैंने अपने माल को कावेरी की चूत में गिराकर उसकी इच्छा को पूरा कर दिया और मेरी इच्छा भी पूरी हो चुकी थी। कावेरी को भी बड़ा मजा आया जिस तरीके से उसने मेरे साथ में सेक्स संबंध बनाए। हम दोनो एक दूसरे के साथ बहुत ज्यादा खुश है। अब कावेरी के पापा मम्मी भी हम दोनों के रिश्ते को स्वीकार कर चुके हैं और हम दोनों एक दूसरे से हर रोज मिलते हैं।


Comments are closed.