कोमल की सील तोड़ दी

Antarvasna, kamukta:

Komal ki seal tod di मुझे अपने ऑफिस से घर पहुंचने में बहुत देर हो गई थी मां मेरा इंतजार कर रही थी। उन्होंने मुझसे कहा सुमित बेटा तुम कहां रह गए थे। मैंने मां को कहा मां ऑफिस में आज कुछ ज्यादा ही काम था इस वजह से मुझे आज घर लौटने में देर हो गई थी। इस दुनिया में मां की सेवा मेरा कोई भी नहीं है पापा के देहांत के बाद उन्होंने ही मेरी देख रख की है उन्होंने कभी भी कोई कमी मेरी पढ़ाई और मेरी परवरिश में होने नहीं दी है मैं उन्हें कभी भी को तकलीफ नहीं देना चाहता हूं। मेरी शादी की उम्र हो चुकी है मां चाहती थी मैं शादी कर लूं मैं अभी शादी नहीं करना चाहता था क्योंकि मैं जिस लड़की को प्यार करता हूं उससे मैं कभी अपने दिल की बात कह ही नहीं पाया था मैं कोमल को प्यार करता हूं, कोमल मेरे कॉलेज में पढ़ा करती थी और उस से काफी समय से मेरा कोई संपर्क नहीं है। मैं कोमल को आज भी उतना ही प्यार करता हूं जितना कि पहले करता था हालांकि यह सब मेरे लिए इतना आसान नहीं है क्योंकि मां मुझे अक्सर कहती है बेटा तुम शादी कर लो लेकिन उसके बावजूद भी मैं मां को कुछ ना कुछ कहकर हमेशा ही टाल दिया करता हूं।

अब मुझे लगने लगा था मुझे भी शादी कर लेनी चाहिए कोमल कि कॉलेज की पढ़ाई पूरी हो जाने के बाद कोमल की फैमिली वहां से चली गई थी और उसके बाद कोमल से मेरा कोई भी संपर्क हो नहीं पाया था। एक दिन मैं अपने ऑफिस से घर लौटने के बाद मैं अपने रूम में लेटा हुआ था। मैं अपने रूम में लेटा हुआ था मैं फेसबुक पर अपने कुछ पुराने दोस्तों की कुछ तस्वीरें देख रहा था उस दिन मेरे दिमाग में आया मैं कोमल को फेसबुक पर सर्च करता हूं। मैंने कोमल को फेसबुक पर सर्च किया कोमल की प्रोफाइल मुझे दिखाई दी मैंने तुरंत ही उसे फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी मुझे उम्मीद नहीं थी कोमल को जब मैं फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजूंगा तो वह मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर लेगी। उसने मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट को तुरंत ही एक्सेप्ट कर लिया था उसके बाद हम दोनों एक दूसरे से उस रात फेसबुक चैट के माध्यम से काफी देर तक बात करते रहे यह सिलसिला काफी लंबे समय तक चलता रहा। मैं कोमल से फेसबुक चैट के माध्यम से ही बात करता था जब भी हम दोनों की बातें होती तो मुझे बहुत अच्छा लगता था और कोमल को भी बड़ा अच्छा लगता था।

अब मैं चाहता था मैं कोमल का नंबर ले लूं। एक दिन मैंने कोमल से कहा मुझे तुम्हारा नंबर चाहिए था। कोमल ने भी मुझे तुरंत अपना नंबर दे दिया उसके बाद हम दोनों की फोन पर बातें होने लगी थी। कोमल की फैमिली चंडीगढ़ में रहती है कोमल के पापा वहीं पर अपना बिजनेस कर रहे हैं मैं दिल्ली में ही रहता हूं मैं चाहता था मैं कोमल से मुलाकात करूं लेकिन फिलहाल यह संभव नहीं हो पाया था। मुझे कोमल को देखे हुए काफी समय हो चुका था कोमल मुझे अपनी तस्वीरें भेजती ही रहती थी। हम दोनों की दोस्ती अब और भी ज्यादा गहरी होती जा रही थी। मैंने एक दिन कोमल को फोन पर ही प्रपोज कर दिया लेकिन कोमल को यह बात बिल्कुल भी अच्छी नहीं लगी उसने कुछ समय तक मुझसे बात ही नहीं की थी। कोमल मुझसे कुछ कुछ छुपा रही थी मैंने जब कोमल से इस बारे में पूछा तो कोमल ने मुझे बताया उसकी सगाई हो चुकी है। हम दोनों का रिलेशन अब आगे नहीं बढ़ सकता है मैंने कोमल से कहा कोमल मुझे मालूम है लेकिन क्या हम लोग अब बात भी नहीं कर सकते हैं। कोमल कहने लगी हां हम लोग बात कर सकते हैं और हम लोग अभी भी एक दूसरे से बात कर रहे थे।

कोमल कि जिस लड़के से सगाई हुई थी उसने मुझे उसकी तस्वीर भी भेजी थी हम दोनों एक दूसरे से अभी भी बात कर रहे थे। मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि समय के साथ-साथ कोमल और मैं एक दूसरे के और भी ज्यादा नजदीक आते चले जाएंगे। अब कोमल भी मुझसे प्यार करने लगी थी वह भी चाहती थी वह मुझसे शादी कर ले लेकिन उसकी सगाई हो चुकी थी। उसके सामने सबसी बड़ी यह समस्या थी वह अपनी फैमिली को कैसे इस बारे में बताइए और उन लोगों को वह कैसे कन्वेंस करेगी। कोमल के सामने मह सबसे बड़ी समस्या थी मेरे सामने भी कोई रास्ता नहीं था सिवाय कोमल के फैमिली से बात करने के और मैंने कोमल की फैमिली से बात करने के बारे में सोचा। मैंने उन लोगों से जब बात की तो कोमल ने भी उन्हें सब कुछ बता दिया था। कोमल के पापा बहुत ही ज्यादा परेशान हो गए थे वह कहने लगे तुम्हें यह बात पहले ही बतानी चाहिए थी। मैंने उन्हें सारी बात बता दी उसके कुछ समय बाद कोमल का मुझे फोन आया वह मुझे कहने लगी मैं तुम्हारे साथ शादी करने के लिए तैयार हूं कोमल के फैमिली वाले भी मान चुके थे उसके परिवार वाले हम दोनों की शादी के लिए तैयार हो चुके थे।

मेरे लिए यह बहुत ही खुशी की बात थी हालांकि इसमें काफी ज्यादा समय लगा। कोमल के पापा को लड़के वालों को मनाने में काफी समय लग गया था उन्होंने हमारा बहुत ही सपोर्ट किया था क्योंकि कोमल उनकी इकलौती लड़की है वह लोग कोमल की खुशी को ध्यान में रखकर ही मेरे साथ उसकी शादी करवाने के लिए तैयार हो गए थे। अब कोमल और मेरी शादी भी हो चुकी थी कोमल मेरी पत्नी बन चुकी थी मैं बहुत ही ज्यादा खुश था कोमल मेरी पत्नी बन चुकी है। मैं कोमल को अपनी पत्नी के रूप पाकर बड़ा ही खुश था। मैंने कभी सोचा भी नहीं था कोमल से मेरी बात हो पाएगी और हम दोनों एक दूसरे को इतना ज्यादा प्यार करने लगेंगे कि एक दूसरे के बिना हम लोग बिल्कुल भी नहीं रह पाएंगे। हम दोनो की शादी की पहली रात थी। कोमल और मैं साथ में लेटे हुए थे हम दोनो एक दूसरे की बाहों मे थे। हम दोनों को ही बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा था हम दोनो एक दूसरे की बाहों थे। मैं और कोमल बाते कर रहे थे।

मैं और कोमल एक दूसरे से चिपकने की कोशिश कर रहे थे वह मेरी गर्मी को बढ़ती जा रही थी। मैं भी कोमल की गर्मी को बढ रहा था मैं उसके बदन को महसूस कर रहा था, वह रह नहीं पा रही थी। कोमल अब रह नहीं पा रही थी और मुझसे भी बिल्कुल रहा नहीं जा रहा था। मैंने कोमल के स्तनों को दबाना शुरू कर दिया था और उसके स्तनों को दबाने मे मुझे आ रहा था और मेरी गर्मी भी बढ़ रही थी मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा था। वह मुझे कहने लगी मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा है। मैं और कोमल एक दूसरे की गर्मी को बहुत ज्यादा बढ़ा चुके थे। मैंने कोमल से कहा तुम मेरे लंड को अपने मुंह में ले लो। उसने मेरे लंड को अपने हाथै मे ले लिया था और वह उसे हिलाने लगी। कोमल ने मेरे लंड को बहुत देर तक हिलाया फिर उसने मेरे लंड को मुंह मे लिया। वह मेरे लंड पर अपनी जीभ लगाकर चाटने लगी थी मुझे अच्छा लग रहा था। जब वह ऐसा कर रही थी मुझे मजा आने लगा था। कोमल अपने मुंह के अंदर तक लंड को ले रही थी मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जिस तरीके से वह मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूस रही थी। कोमल ने मेरी गर्मी को बढा दिया था, वह भी पूरी तरीके से गर्म हो चुकी थी।

मैंने अपने मोटे लंड को बाहर निकाल लिया। वह मेरे लंड को देख कर कहने लगी आपका लंड बहुत ज्यादा मोटा है। हम दोनों बहुत ज्यादा गर्म होते जा रहे थे अब हमारी गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ने लगी थी। उन्होने मेरे लंड को अपने हाथों में लेकर उसे चूसना शुरू कर दिया मुझे बड़ा मजा आ रहा था जिस तरीके से वह मेरे मोटे लंड को चूस रही थी। वह मेरी गर्मी को बढाए जा रही थी मैंने जैसे ही उनके बदन से कपड़ों को उतारकर उनके स्तनों को चूसना शुरू किया तो वह गर्म होने लगी। मैंने काफी देर तक उनके स्तनों का रसपान किया जब मैंने अपने लंड को उनकी योनि पर लगाकर उनकी चूत पर रगडना शुरू किया तो उनकी चूत से पानी बाहर निकलने लगा था और वह गर्म होने लगी थी। उनकी गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ने लगी थी मेरे अंदर की गर्मी भी बहुत ज्यादा बढने लगी थी।

मैंने जैसे ही उनकी चूत के अंदर अपने लंड को प्रवेश करवाया वह बहुत जोर से चिल्ला कर मुझे कहने लगी मेरी चूत में दर्द होने लगा है। उन्होंने मेरी कमर पर अपने नाखूनों के निशान भी मार दिए थे। मैं उन्हें तेजी से चोदे जा रहा था मैं उनको जिस तेज गति से धक्के मार रहा था उससे मुझे मज़ा आ रहा था और उन्हें भी बड़ा मजा आ रहा था। हम दोनों एक दूसरे के साथ में शारीरिक सुख का मजा ले रहे थे मेरी गर्मी और भी ज्यादा तेज होती जा रही थी। वह मुझे कहने लगी मुझे और तेजी से चोदते जाओ। मैंने देखा उनकी सील टूट चुकी थी मुझे अब और भी ज्यादा मजा आने लगा था मुझे उनकी टाइट चूत मारने में बड़ा मजा आ रहा था। उनकी चूत मारने में मुझे इतना मजा आने लगा था मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा था मैंने उन्हें कहा मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है जिस तरीके से हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स कर रहे थे उस से हम दोनों की गर्मी बढ़ती जा रही थी हम दोनों बहुत ही गरम हो चुके थे। जैसे ही मैंने उन्हें कहा मेरा वीर्य गिरने वाला है। उन्होने मुझे अपने दोनों पैरो के बीच में जकड लिया मुझे उनको चोदने में मजा आ रहा था। मेरे माल की पिचकारी बड़ी ही तेजी से उनकी चूत मे गिरी और उनकी चूत में मेरा वीर्य जाते ही मैं खुश हो गया था।


Comments are closed.