कर ले यार कर ले चुदाई

Kar le yaar kar le chudai:

sex stories in hindi, antarvasna sex stories

दोस्तों कैसे हो आप सब ? मेरा नाम राजवीर है और मैं बी.कॉम लास्ट ईयर का स्टूडेंट हूँ | मैं हरयाणा का रहने वाला हूँ लेकिन अभी दिल्ली में रहकर पढ़ाई कर रहा हूँ | भाईयों अपनी वैसे तो तीन ही गर्लफ्रेंड हुई है जिसमें से एक अभी भी चल रही है लेकिन पहली वाली गर्लफ्रेंड से मैं कुछ समय पहले ही मिला था और जो तब नहीं हुआ था वो मैंने अब किया है | उसका नाम अंजलि है और ये वही लड़की है जिसने मुझे खड़े लंड पे धोखा दिया था | मैं आपको वो भी बताता हूँ उसने वो कैसे किया था | चलिए मैं आपको कहानी शुरू से बताता हूँ |

अब भाई हरयाणा में हम रहने वाले रोहतक के है और एक तो हम जाट ऊपर से स्मार्ट, तो कहानी तो बननी ही थी | हुआ कुछ यूँ कि तब थे हम दोनों स्कूल में और एक ही क्लास में, वैसे तो क्लास की बहुत सी लड़कियाँ मुझे पसंद करती थी लेकिन बोलती कोई नहीं थी क्यूंकि सबको पता था राजवीर को अंजलि पसंद है और अंजलि को भी ये बात पता थी | मेरी और अंजलि की दोस्ती तो अच्छी थी लेकिन मैंने उसको आई लव यू बोलने में बहुत टाइम लगा दिया | फिर भी जब मैं उसको आई लव यू बोला तो उसने मुझे एक थप्पड़ मारा और मेरे गले लगकर कहा कोई इतना टाइम लगाता है | मेरा ये पहली बार था इसलिए मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ ? फिर मैंने सोचा इसने मुझे थप्पड़ मारा है तो मैं भी इसको एक थप्पड़ मारके काम ख़त्म करूँ | फिर उसने कहा मैं भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ और तुम्हारे बिना नहीं रहना चाहती | बस फिर क्या शुरू जाट के प्यार की दास्ताँ, हाँथ पकड़ के क्लास में बैठे रहना, साथ में घूमना, लस्सी पीना और भी बहुत कुछ | अब भाई बारी आई लड़की के देने की मतलब अभी मैं चूत नहीं मांग रहा था बस एक किस ही माँगा था लेकिन साली ने मना कर दिया | भाई उसके बाद तो बहुत तेज़ गुस्सा आ गया क्यूंकि साली ने मेरे इतने पैसे उड़वा दिए लेकिन जब खुद के कुछ देने की बारी आई तो मुँह मोड़ लिया |

फिर मैंने होंसला रखा और उसको घुमाता रहा और एक दिन जल्दी से उसका किस भी ले लिया और उसके बाद उसने किस के लिए मना करना बंद कर दिया | एक बार की बात है मैं उसको अपने दोस्त के रूम ले गया और उसको किस करने लगा | बहुत सारा किस करने के बाद मैंने उसके कपड़े उतारना शुरू किया और उसने रोका भी नहीं | जब मैंने उसके पूरे कपड़े उतार दिए तो फिर मैंने भी अपने कपड़े उतारे और उसकी चूत में लंड डालने लगा | जब मेरा लंड थोडा सा ही अन्दर घुसा उसने बोलना शुरू कर दिया नहीं नहीं बाहर निकालो बहुत दर्द हो रहा है, तो मैंने बाहर निकाला और सोचा की पहले ऊँगली कर लेटा हूँ, उतने में ही वो खड़ी हो गई और कपड़े पहनने लगी | अब तो मुझे बहुत गुस्सा आ गया और मैंने उससे वहीँ पे झगड़ा शुरू कर दिया | फिर मैंने उसको एक थप्पड़ भी मारा और उसको वहीँ छोड़के चला गया | उसके बाद उसने मुझे मनाने की कोशिश की लेकिन गुस्सा तो गुस्सा मैं नहीं मना क्यूंकि मुझे लग रहा था कि कहीं ये फिर से खड़े लंड पे धोखा न दे दे इसलिए मैंने मना कर दिया और तब तक हमारे स्कूल भी ख़त्म हो चुके थे | उसके बाद से हमारी कभी बात नहीं हुई उसके एक दो बार मैसेज आये थे लेकिन मैंने रिप्लाई नहीं किया |

मगर उसकी किस्मत में मुझसे चुदना लिखा था इसलिए कुछ समय पहले मेरी उससे मुलाकात हुई | जब मैं हरयाणा से दिल्ली आ रहा था तो उसकी सीट मेरे सामने ही फासी और हमारी फिर से बात शुरू हुई | मैं ट्रेन में बैठा हुआ था तभी वो आई और बैठ गई, उसने मुँह पर कपड़ा बंधा हुआ था इसलिए मैं उसको पहचान नहीं पाया | उसने थोड़ी देर जब कपड़ा खोला और मैंने उसको देखा तो मैं मुँह घुमा के बैठ गया | थोड़ी देर तक वो मेरे को बार बार देखती रही और फिर मैंने कहा क्यों देख रही हो ? उसके बाद उसने एक दो रोने धोने वाली बातें की और मैं पिघल गया और उसके बाद हमारी फिर से पहले जैसी बातें शुरू हो गई | फिर यो आके मेरे पास बैठ गई और मेरे कंधे पर सिर रखकर बोली तुम अभी भी मुझे पसंद करते हो ? तो मैंने कहा उसके बाद से नहीं | तो उसने कहा अरे मैंने उसके बाद तुमसे कितनी बात करने की कोशिश की लेकिन तुमने कुछ कहा ही नहीं और उसके बाद तो मैं तैयार भी हो गई थी | तो मैंने कहा अच्छा अभी भी तैयार हो क्या ? तो उसने कहा लेकिन तुम तो मुझे पसंद नहीं करते, तो मैंने कहा कैसी बात कर रही हो मैं तो तुमको अभी भी पसंद करता हूँ | बस फिर क्या हम दोनों जब दिल्ली पहुँचे तो वो किसी काम से आई थी इसलिए वो एक होटल में रहने चली गई और मैं अपने हॉस्टल पहुँच गया |

नहाने धोने और परफ्यूम लगाने के बाद मैं उसके पास उसके होटल पहुँच गया और जैसे ही मैं अन्दर घुसा तो मैंने उसको गोद में उठाया और उसको लेके बिस्तर पर कूद गया | फिर मैंने उसके कपड़े उतार दिए और उसके दूध चूसने लगा और वो मेरे सिर पर हाँथ फिराती रही | उसके दूध चूसने के बाद मैंने अपने लंड पे थूक लगाया और उसकी छुए में लंड डाल दिया और उसको चोदने लगा और वो अ ह्ह्ह करने लगी | मैंने उसको इसी तरह थोड़ी देर तक चोदा और वो सिस्कारियां लेती रही | फिर मेरा मुट्ठ निकला और मैंने लंड बाहर निकाल के उसके पेट पर गिरा दिया | फिर उसने वो साफ़ किया और लेटी रही और फिर कहा मज़ा आया चलो थोड़ी देर से घूमने चलते है | फिर हमने कपड़े पहने और उसके बाद हम घूमने गए और बाहर ही हमने खाना खाया और सिटी में घूमते रहे | हम मॉल पहुँचे और हाँथ में हाँथ डालके के चल रहे थे तभी मेरी गर्लफ्रेंड मुझे सामने से आती हुई दिखी और मैंने फ़ौरन अपना रास्ता बदला और उसको लेकर नीचे चला गया | फिर हमने ऑटो किया और होटल वापस पहुँच गए | होटल में मैं बैठ के सोच रहा था कि कहीं उसने मुझे देखा तो नहीं इसलिए मैंने उसको मैसेज किया और उससे थोड़ी देर बात की, तब जाके मुझे तसल्ली हुई | फिर मैं कमरे के अन्दर गया तो मैंने देखा कि अंजलि पहले से ही ब्रा पैंटी में बैठी है और मुझे देख रही है कि कब मैं आऊँ और उसको चोदूं |

उसके पास पहुँचते हुए मैंने भी अपने कपड़े उतारे और उसके पास पहुँचा तो मैं सिर्फ कच्छे में था | फिर हम दोनों ने किस करना शुरू किया और किस करते करते बिस्तर पर लेट गए | किस करते हुए फिर वो मेरे ऊपर चढ़ी और फिर अपनी गांड से मेरे लंड को रगड़ने लगी | फिर वो रुकी और नीचे होके मेरे कच्छे को उतारकर मेरा लंड चूसने लगी और मैं लेटे लेटे अहह अह्ह्ह ह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्ह ह्हह्ह ह्हहा उह्ह्ह्ह उह्ह्ह करता रहा | उसने हिला हिला के मेरा लंड चूसा और जब मेरा मन भर गया तो मैं उठा और उसको लेटा दिया और पहले उसकी पैंटी उतारी और उसकी चूत चाटने लगा | मैंने उसकी चूत में ऊँगली और उसकी चूत चाटी और वो लेटकर ऊपर से अपनी चूत रगड़ती रही | फिर मैं उठाकर खड़ा हुआ और उसकी चूत में लंड डाल दिया और आगे होके उसकी ब्रा से उसके दूध निकाल के दबाने लगा | फिर मैंने उसी तरह झुककर उसके दूध चूसे और उसकी चूत में लंड को डाले रहा | दूध चूसने के बाद मैं उठा और उसको चोदने लगा और वो मादक तरह की आवाज़ करने लगी | मैंने उसको उस तरह ज्यादा नहीं चोदा और फिर थोड़ी देर बाद उसको घोड़ी बना दिया और पीछे से उसकी चूत में लंड डालके उसको चोदने लगा और वो बस मस्ती में मेरा साथ देती गयी और जैसा मैं बोलता गया वो करती गयी करती रही | मैं उसको उसी तरह चोदता रहा और थोड़ी देर बाद मैं ज़ोर ज़ोर के झटके मारकर उसको चोदना शुरू कर दिया और वो ज़ोर ज़ोर से अहह अहह ह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह अआआ य्ह्ह्ह य्ह्ह्ह य्य्ह्हह्ह अह्ह्ह करने लगी | थोड़ी देर बाद मेरा मुट्ठ निकला और मैंने उसके मुँह पर ही मुट्ठ छोड़ दिया | फिर मैं लेट गया और वो मेरा लंड चूसकर साफ़ करने लगी | लंड चूसने के बाद वो बाथरूम गई और अपना चेहरा साफ़ करके आई और आके मेरे साथ लेट गई | फिर जब तक वो दिल्ली में रुकी हमने कई बार सैक्स किया |


Comments are closed.