कमसिन भाभी की चूत और मेरा गरम लंड

Kamsin bhabhi ki chut aur mera garam lund:

हैल्लो दोस्तों मैं रवीश अपनी पहली स्टोरी के साथ हाजिर हुआ हूँ आप लोगों के सामने | कैसे हैं आप सभी उम्मीद करता हूँ सब कुशल मंगल हो कर अपनी चुदाई कर रहे होंगे और करवा रहे होंगे | ये मेरी पहली कहानी है अगर आप लोगों को इसमें कोई गलती नजर आती है तो कृपया मुझे माफ़ करना | ये कहानी मेरे और मेरी भाभी के बीच हुई चुदाई के बारे में हैं | इस कहानी में मैं आप लोगों को बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी भाभी की चुदाई की और कैसे उनकी उबलती चूत की प्यासा बुझाया | अब मैं कहानी शुरू करता हूँ |

मेरे घर में मैं, मम्मी पापा मेरे भैया भाभी रहते हैं | हमारा घर बहुत बड़ा है और ये घर हमारे दादा जी ने बनवाया था इस वजह से ये तबसे ही बहुत बड़ा है और इसमें हम लोगो ने कुछ नहीं करवाया | ये जो मैं कहानी आप लोगों को बताने जा रहा हूँ ये पिछले गर्मी की बात है | मेरे भैया एक बहुत ही सुन्दर और सुशील लड़के है वो बहुत सीधे सादे हैं और उनका ध्यान कभी गलत काम में नहीं लगता | वो प्राइवेट जॉब करते हैं और मुंबई में उनकी पोस्टिंग है | मेरे भैया की शादी पिछले साल ठंड के महीने में हुई थी जनवरी में | फिर जब से वो मुंबई गए चले गए मतलब अभी गर्मी की अप्रैल में तब से मेरी गर्मी की छुट्टियां चल रही थी | और गर्मी के दिनों में हम सब खाना खाने के बाद छत में टहलते रहते थे | मैं शुरू से ही बिगड़ा लड़का था पर मैं कभी किसी के साथ गलत नहीं करता था | मैं अपने दोस्तों के साथ कई बार अश्लील फिल्म देख चूका हूँ | एक दिन मेरे एक दोस्त ने मुझे एक ब्लू फिल्म के बारे में बताया था जिसका नाम था “उबलती ज्वाला” |

रोज की तरह सब छत पर टहल रहे थे कि अचानक मुझे उस फिल्म के बारे में याद आया और मैंने सोचा की सब तो ऊपर हैं चल रवीश देख ले अभी मौका है | मैं नीचे आ गया और अपने रूम में आ कर दरवाजा बंद करके कंप्यूटर में फिल्म देखने लगा और फिल्म देखते देखते मैं बहुत जोश में आ गया था | मैं गर्मी के टाइम में सिर्फ हाफ पेंट है पहनता था | फिर मैं फिल्म देखते हुए अपना लंड सहलाने लगा सहलाते सहलाते वो एक दम से खड़ा हो गया तो मैंने सोचा की चलो मुठ ही मार ली जाये | तो मैं अपना लंड निकाल कर उसमे आयल लगा कर मुठ मारने लगा | उतने में भाभी ने मुझे आवाज़ दी कि रवीश क्या कर रहा है ? मम्मी तुझे बुला रही हैं मैं झट से उठा अपना पेंट पहना और सिस्टम ऐसे ही बंद कर दिया और दरवाजा खोला तो भाभी मुझसे बोल पड़ी तू क्या कर रहा था रे अन्दर ? मैंने कहा कुछ नहीं भाभी ऐसे ही लेटा था फिर उनकी नजर मेरे पेंट पर पड़ी जो तम्बू बन के खड़ा था | भाभी ये देख कर मेरी तरफ मुस्कुराते हुए देख रही थी तो मैं कुछ समझ नहीं पाया और फिर ऊपर छत चला गया | वहाँ सामने से एक बरात जा रही थी | तो मम्मी मुझे वो दिखाने के लिए बुला रही थी | ये देख के मैंने मम्मी से कहा कि मम्मी मैं बच्चा हूँ क्या ? जो मुझे आप बारात देखने के लिए बुला रहे हो और फिर मैं नीचे आ गया | और सब लोग हंस रहे थे मेरी इन बचकानी बातों से | फिर आधे घंटे के बाद सब नीचे आ आ गये थे |

रात के करीब 11 बजे रहे होंगे उस टाइम | फिर सब सोने के लिए चले गए मेरा रूम और मेरे भैया भाभी का रूम आजू बाजु है | मैं रात को 1 बजे नींद से उठा और फिर से वो फिल्म लगा के देखने लगा देखते देखते फिर से मैं जोश में आ कर अपने पूरे कपडे उतर कर नंगा हो के मुठ मारने लगा और 10 मिनट के बाद मेरा वीर्य नीचे जमीन पर गिर गया | फिर तुरंत ही भाभी ने मेरे दरवाजे पे दस्तक दी मैं घबरा गया और जल्दी से कंप्यूटर बंद करके अपना पेंट पहना और दरवाजा खोला | भाभी ने मुझसे पूछा कि तू क्या कर रहा है इतनी रात में तेरे कमरे में लाइट कैसे चालू थी | मैं एक दम से घबरा गया था | मैंने भाभी से कहा की भाभी कुछ नहीं कर रहा था मैं क्यूँ क्या हुआ ? तो उन्होंने कहा की तेरे कमरे में से लाइट क्यूँ जल रही थी रात में और वो अन्दर चली आई | मैंने बोला भाभी सच में मेरा यकीन करो मैं कुछ भी नहीं कर रहा था और फिर उनका पेर मेरे वीर्य पर पड़ा तो वो बोली कि ये चिपचिपा सा क्या है ? मैं कुछ नहीं बोला पाया और उतने में भाभी ने लाइट जला दी और उन्हें समझते देर न लगी की ये क्या है ? वो बोली क्यूँ रे क्या करा रहा था सच बता मैंने बोला भाभी कि मैं ब्लू फिल्म देख रहा था और मैं भी जवान हो गया हूँ और मेरे अन्दर की अनातार्वसना बाहर आने लगी है | तो मैं मुठ मार रहा था और वीर्य यहीं निकल गया और मैं इसे साफ भी नहीं कर पाया और आप आ गए उतने में | तो वो बोली कि रुक मैं अभी मम्मी को बताती हूँ कि तू आज कल बड़ा हो गया है और ये आज कल गन्दी गन्दी पिक्चरे देखने लग गया है | मैं डर गया और भाभी से माफ़ी मांगने लगा पर भाभी थी कि सुन ही नहीं रही थी |

फिर भाभी ने मुझसे कहा की मैं तुझे एक ही शर्त पे माफ़ करुँगी तो मैंने पुछा क्या शर्त है बोलो भाभी मैं सब शर्ते मानने के लिए तैयार हूँ | तो वो बोली चल अपने रूम का दरवाजा बंद कर | मैंने दरवाजा बंद किया और फिर जैसे ही पलटा भाभी को एक एक दम नंगी देख कर मेरी आँखे चमक उठी | जिसे मैंने कभी गलत नजर से नहीं देखा था आज वो सामने एक दम नंगी खड़ी थी | मैंने भाभी से कहा भाभी ये सब क्या है ? भाभी बोली तू ये चाहता हैं न की मैं तुझे माफ़ कर दूँ और घर में तेरी ऐसी हरकत के बारे में न बताऊँ तो चल जैसा मैं बोलूंगी वैसा ही करना | मैंने बोला ठीक है भाभी फिर भाभी अपनी टाँगे चौड़ी करके लेट गई मेरे बिस्तर पर और बोली इधर आ और मेरी चूत चाट |

भाभी के मुंह से चूत शब्द सुन कर मैं हैरान रह गया था लेकिन मैं फिर इगनोरे करते हुए भाभी की चूत के पास जा कर लेट गया और उनकी चूत चाटने लगा | भाभी हलकी हलकी सिस्कारिया भर रही थी आआआअहाअ स्सस्सस्सस आहहाआ आहाहहः अआहहा स्सस्सस्स अहहहहा और मैं उनकी चूत में ऊँगली डाल कर चोद रहा था और चूत चाट रहा था | 15 मिनट के चूत चाटने के बाद भाभी ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मुझे किस करने लगी मैं भी भाभी को किस करने लगा | फिर किस करते करते भाभी ने मुझे अपना हाफ पेंट उतारने को कहा तो मैंने अपना पेंट उतार दिया भाभी ने बोली कि बड़े टाइम बाद लंड मिल रहा है |

और भाभी मेरे सुए हुए लंड को जगाने लगी पहले तो वो अपने हाँथ में मेरे लंड को ले के हिला रही थी जब मेरा लंड खड़ा हो गया तब वो मेरा लंड मुंह में ले के चूसने लगी और मुझे भी मजा आने लगा था | फिर मैं उनका मुंह पकड़ के चोदने लगा अपने लंड से और वो ऊम्म्ह ऊऊम्ह ऊम्म्म्ह ऊउम्म्ह ऊउम्म्म्ह ऊउम्म्म्ह करते हुए अपनी मुह की चुदाई करवा रही थी | 10 मिनट तक उनके मुंह को चोदने के बाद मैंने ने उन्हें लेटा दिया और तुरंत हिन् उनके दूध को पकड़ के जोर जोर से चूसने लगा | भाभी एक दम मदहोश हुए जा रही थी और फिर उनने कहा कि चल अब मेरी चूत जो इतने टाइम से प्यासी थी उसको चोद के प्यास बूझा दे | मैंने भी मस्ती में बोल दिया जो हुकुम मेरी रंडी भाभी !

हम मुकुराने लगे और भाभी फिर अपनी टाँगे फैला कर लेट गई और मैं उनकी चूत पर थूक रगड़ने लगा फिर एक ही झटके में पूरा लंड उनकी चूत में उतार दिया | मैं चुदाई करने लगा भाभी को बहुत मजा आ रहा था और वो अआहा आहाहहहा अहहहहा अहहहः हहहहः आआआअह अहह्हहः अहहहह्हा अहहहा चोद रवीश चोद दे आज मेरी भोसड़ी को आअहहाआअ अहह्हाहा अ बहुत अच्छा लग रहा है | इतने टाइम बाद चुदाई मुझे नसीब हो रही है आहाहहहह्ह्हहा अहहहह्हाहा आआआह आआआआआह्ह अह्हहाआ | और मैं जोर जोर से धक्के मार मार के उनकी ठुकाई कर रहा था | आधे घंटे की जोरदार चुदाई के बाद मैं उनके दूध के उपर अपना वीर्य निकाल दिया और लेट गया |

अब हम दोनों रोज ही रात में सबके सो जाने के बाद चुदाई करने लगे थे | भाभी को मैं बहुत चोदता था | फिर एक दिन फोन आया भैया का कि वो घर वापस आ रहे हैं उनकी पोस्टिंग अमेरिका में हो गई है और भाभी को साथ ले जायंगे उस टाइम हमने रात भर चुदाई की थी  फिर जबसे भाभी विदेश गई हैं तबसे हमने कभी चुदाई नहीं की फिर |


Comments are closed.