काली काली चूत और मोटा मोटा लंड

Kali kali chut aur mota mota lund:

desi porn stories

मेरा नाम रोनक है और मैं एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करता हूं। मैं अपने आप को हमेशा ही अच्छा दिखाने की कोशिश करता हूं। जो भी फैशन नया आता है उसी तरीके से अपने हेयर स्टाइल करवा देता हूं।  इसलिए अक्सर मैं सलून में जाता रहता हूं और मुझे बहुत ही अच्छा लगता है जब मैं अपने हेयर स्टाइल्स को नए नए तरीके से बनाता हूं। मैं एक ही सैलून में जाता हूं और वह लोग मुझे अच्छे से पहचानते भी हैं और उन्हें पता है कि मुझे क्या चीज चाहिए। इसलिए वह अपने आप ही मुझे नए नए हेयर स्टाइल्स दिखाते रहते है।

मैं एक बार सलून में गया था। मेरे पास में एक लड़की बैठी हुई थी। वह भी बहुत ज्यादा शौकीन थी। उस लड़की ने मेरी हेयरस्टाइल देखी तो वह भी समझ गई कि मैं बहुत बड़ा शौकीन हूं और उसने मुझसे मेरा नाम पूछा। मैंने उससे अपना नाम बताया और उसके बाद मैंने भी उससे उसका नाम पूछ लिया। उसका नाम पिया था और वह भी बहुत ज्यादा सुंदर लग रही थी। उसने भी अपने बालों को सेट करवाया। उसके बाद वह वहां से बाहर निकली और मैं भी उसी के साथ बाहर निकला। हम लोग काफी सारी बातें करने लगे और हम दोनों के बीच में अच्छी दोस्ती भी हो गई। मैंने उससे उसका नंबर भी ले लिया था और मैं उससे बात भी करने लगा। हम दोनों बहुत सारी बातें करने लगे। मैंने उससे पूछा तुम क्या करती हो तो वह कहने लगी कि मैं फिलहाल कॉलेज में ही पढ़ रही हूं और और कुछ समय बाद फैशन डिजाइनिंग का कोर्स करने की सोच रही हूं। मेरी मुलाकात उससे इत्तेफाक से ही हुई थी और अब हमारी दोस्ती बहुत ज्यादा अच्छी हो गई।

वह जब भी सैलून आने वाली होती तो वह मुझे फोन कर दिया करती थी और कहती थी कि क्या तुम भी सेलून आने वाले हो। मैंने उसे कहा कि देखता हूं। मैं आता हूं या नहीं क्योंकि मुझे अपनी जॉब पर भी जाना होता है। इस वजह से मुश्किल हो पाता है लेकिन फिर भी मैं टाइम निकाल ही लेता था। जब भी वह मुझे सेलून चलने के लिए फोन करती तो इस बहाने मैं पिया से मिल भी लेता और वह बहुत खुश होती जब मैं उसे मिलता। पिया एक अच्छी लड़की भी थी और एक दिन वह मुझे अपने घर भी ले गई। उसने मुझे अपने बड़े भैया से भी मिलवाया और उसके पिताजी भी मुझसे मिलकर बहुत खुश हुए। मुझे जब भी समय मिलता हो तो हम लोग कहीं ना कहीं घूमने चले जाते या फिर कभी हम लोग मॉल में बैठ कर टाइम पास कर लिया करते। एक बार पिया मुझे अपने कॉलेज में ले गई। मैं जब उसके कॉलेज गया तो उसने मुझे अपने दोस्तों से मिलवाया। उसके दोस्त भी बहुत ही अच्छे थे और उन्होंने मुझसे बहुत ही अच्छी तरीके से व्यवहार किया। वह मुझसे मिलकर बहुत खुश हुए और मैं भी उन लोगों से मिलकर बहुत ज्यादा खुश था। फिर ऐसे ही समय बीतता गया और मैं भी अपने कामो में उलझ सा गया था। जिस वजह से मुझे समय ही नही मिल पा रहा था। समय ना होने के कारण मैं पिया से मिल भी नही पा रहा था। मैं इतना व्यस्त हो गया था। फिर एक दिन पिया से मेरा झगड़ा हो गया। क्योंकि उसने मुझे कहा कि तुम मुझे कई दिनों तक मिले नहीं। और वह कहने लगी कि तुम्हारे पास तो मेरे लिए थोड़ा भी समय नही है। इसलिए उसने मुझसे बात बंद कर दी। मैंने उसे मैसेजेस भी किया लेकिन वह मेरे मैसेज का रिप्लाई भी नहीं कर रही थी। मैने उसे कई बार फोन किया लेकिन उसने मेरा फोन ही नही उठाया। मैंने उसे मैसेजेस भी किये लेकिन उसने जवाब नही दिया। मैं उसे यह समझाने की कोशिश कर रहा था कि मैं अपने ऑफिस के कामो में थोड़ा व्यस्त हो गया था। जिससे कि मुझे समय ही नही मिल पा रहा था लेकिन मुझे जैसे ही समय मिला उसके बाद मैंने पिया से बात करने की कोशीश की। लेकिन उसने मुझसे बात नही की। वह मुझसे नाराज थी।

मैं सोच रहा था कि कैसे मैं पिया से बात करूं लेकिन वह मुझसे बात ही नहीं कर रही थी। एक दिन मैंने उसे फोन कर दिया और मै कहने लगा क्या तुम मुझसे नाराज हो उस दिन उसने मेरा फोन उठा ही लिया और वह कहने लगी कि हां मैं तुमसे बहुत नाराज हूं। मैंने उसे समझाया कि तुम बेकार में मुझसे झगड़ा कर रही हो। तुम एक काम करो तुम मुझसे मिलने के लिए मेरे घर पर आ जाओ आज मेरे घर पर कोई भी नहीं है। वह मेरे घर आ गई  जब वह मेरे घर पर आई तो मैंने उसे गले लगा लिया और उसे कहने लगा तुम मेरी बातों को समझ ही नहीं रही हो। तुम बेकार में मुझसे झगड़ा कर करके बैठी हुई हो और अपना ही मूड खराब कर रही हो। वह मुझे कहने लगा कि तुमने मुझे बहुत दिनों से फोन नहीं किया था इसलिए मैं गुस्से में थी लेकिन अब मैं तुमसे मिलकर अपने आपको बहुत अच्छा महसूस कर रही हूं। मैं अब भी उसके गले मिल रहा था और उसके स्तन मुझसे टकरा रहे थे। उसके स्तन जब मुझसे टकराते तो मुझे बहुत मजा आ रहा था क्योंकि उसके स्तन बहुत छोटा थे। वह इतने सुडोल थे कि वह मुझ पर चुभ रहे थे मैंने उसके होठों को किस कर लिया और उसके बालों को सहलाते हुए बहुत देर तक मैं उसके होठों को किस करता रहा। अब मैंने उसके बालों को भी सहलाना शुरु कर दिया और उसके होठों को ऐसे ही किस कर रहा था।

मुझे बहुत आनंद आ रहा था जब मैं उसके पतले होठों को अपने होठों में लेकर चूम रहा था। मुझे उसके पतले होठों का रसपान करने में एक अलग ही अनुभूति हो रही थी। मुझे काफी मजा आता जब मैं उसके होंठों को अपने मुंह में लेकर चूसता जाता। अब थोड़ी देर बाद वह भी कंट्रोल से बाहर हो गई और उसने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए। जब उसने मेरे कपड़े उतारे तो मेरा लंड खड़ा था। जब उसने मेरे लंड को देखा तो उसने तुरंत ही उसे अपने मुंह के अंदर लेकर चूसना शुरू कर दिया। वह इतने अच्छे से उसे चूस रही थी कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा था मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे मेरा किसी गिली चीज के अंदर गया हुआ है। वह अब भी मेरे लंड को चूस रही थी मैंने उसे बिस्तर में लेटाते हुए उसके कपड़े उतार दिए और मैं उसके स्तनों को चूस रहा था। उसके स्तन बहुत ही छोटे थे वह मेरे आधे मुंह के अंदर तक आ जाते। मैंने उसके चूचो को चूसना शुरु किया और बहुत देर तक मैं उसके निप्पल को अच्छे से चूस रहा था। फिर मैंने उसके पेट में भी जीभ लगा दी जिससे की उसकी उत्तेजना और बढ़ गई थी। मैंने उसके दोनों पैरों को खोलते हुए जब उसकी चूत में अपना मुंह लगाया तो उसकी चूत पूरी गीली होने लगी और मैं ऐसे ही काफी देर तक उसकी चूत को चाट रहा था। अब वह बहुत उत्तेजित हो गई और उसने मेरे लंड को पकड़ते हुए अपने अंदर डाल दिया। जैसे ही मैंने उसकी चूत मे लंड डाला तो वह बहुत तेज आवाज में चिल्लाने लगी।

उसकी चूत बहुत ज्यादा टाइट थी और मैं उसे ऐसे ही चोद रहा था। मुझे उसकी चूत मारने में बहुत ही मजा आता मैं उसके स्तनों को भी अपने हाथ से दबाए जा रहा था और ऐसे ही बहुत देर तक उसकी चूत मार रहा था। मुझे बहुत ही मजा आ रहा था और वह भी बहुत मस्त हो गई। मैंने अपने लंड को बाहर निकालते हुए उसके मुंह के अंदर डाल दिया और वह काफी देर तक मेरे लंड को चुसती रही। उसने बहुत ही अच्छे से मेरे लंड को चूसना जारी रखा जिससे कि मेरा वीर्य उसके मुंह के अंदर ही गिर गया और उसने वह सब अपने अंदर ही ले लिया। हम दोनों अब थक चुके थे और मैं ऐसे ही उसे पकड़कर लेटा रहा। मैंने उसे पूछा कि तुम इतना गुस्सा क्यों हो। वह कहने लगी कि तुमने मुझसे बात ही नहीं की मुझे लगा शायद तुम कहीं चले गए हो। मैंने उसे समझाया मैं थोड़ा बिजी हो गया था इस वजह से तुम से बात नहीं कर पाया और वह मेरे लंड को अपने हाथों से अब भी हिला रही थी। वह बहुत तेज तेज अब मेरे लंड को हिलाने लगी और मुझे पता ही नहीं चल रहा था कि कब मेरा वीर्य दोबारा से गिर गया और वह उसने अपने स्तनों पर गिरा दिया। हम दोनों एक दूसरे की बाहों में ऐसे ही बहुत देर तक लेटे रहे। अब उसने अपने कपड़े पहने और वह कहने लगी मैं घर जा रही हूं तुम मुझसे फोन में बात करना। अब वह अपने घर चली गई और मैंने उसे फोन पर पूछा तुम घर पहुंच चुकी हो वो कहने लगी हां मैं घर पहुंच गई हूं।

 


Comments are closed.


error: