हॉस्टल में गे सेक्स

Hostel me gay sex:

indian sex stories

गुड इवनिंग फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सब ? मैं आशा करता हूँ कि आप सब अच्छे होंगे | मेरा नाम सूरज खटवानी है और मैं गंगा नगर का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र बीस साल है और मैं अभी ग्रेजुएशन कर रहा हूँ | मेरी हाईट पांच फुट आठ इंच है और मेरा बदन गँठीला है और मेरा रंग काला है | फ्रेंड्स, मैं इस साईट का रोजाना पाठक हूँ और मैं यहाँ पर रोज ही गे सेक्स स्टोरी पढता हूँ क्यूंकि मैं एक गे हूँ और मुझे गे सेक्स करना बहुत पसंद है | मैंने यहाँ पर कई लोगो की कहानी पढ़ा हूँ और मुझे अच्छा लगता है तो मैंने सोचा कि क्यूँ न मैं आप लोगो के लिए अपनी कहानी पेश करूँ | तो दोस्तों मैं आप सब के सामने अपनी कहानी पेश करने जा रहा हूँ ये मेरी जिन्दगी की एक दम सच्ची घटना है और मेरी पहली कहानी है | मैं आशा करता हूँ कि आप सब को मेरी कहानी पढ़ कर उत्तेजना जरुर होगी और मजा भी आएगा | तो अब मैं आप लोगो के समय को महत्त्व देते हुए अपनी कहानी शुरू करता हूँ |

ये ये घटना तब की है जब मेरा कॉलेज के हॉस्टल में नया नया आया हुआ था | वैसे फ्रेंड्स, मेरे घर में , मेरे मम्मी पापा, बड़े भाई बहन रहते हैं | मैं अपने घर का सबसे छोटा और सबसे लाड़ला बेटा हूँ | मेरे पापा बुसिनेस में हैं और मम्मी हाउसवाइफ हैं | मेरे भैया भी पापा के काम में हाँथ बटा देते हैं और मेरी दीदी बैंक में जॉब करती हैं | दोस्तों मैं जब स्कूल में पढ़ाई करता था तब मैं एक दम सीधा सादा और स्ट्रैट था | लेकिन जब मैं कॉलेज में गया तो दुसरे शहर में जा कर मुझे कुछ अटपटा सा लग रहा था | इसीलिए पापा ने कहा कि बेटा तुम एक काम करो हॉस्टल में रह लो इससे तुम्हारी पहचान भी बनेगी और तुम्हे किसी चीज़ की दिक्कत भी नहीं रहेगी | मैंने पापा की बात नहीं टाली और हॉस्टल में मैंने एक रूम ले लिया | कुछ दिन मेरे पापा मेरे साथ रहे और फिर वो भी घर वापस आ गए मुझे छोड़ कर | मेरे रूम में एक रूममेट था जिसका नाम उज्जवल है और वो कर्णाटक का रहने वाला है | मेरी उससे कुछ ख़ास नहीं पटती थी | मैंने कई बार सोचा कि यार रूम चेंज कर लूं पर और कोई रूम खाली था नहीं | इसलिए मैंने नहीं किया | तभी एक दिन कॉलेज खत्म होने के बाद मैं अपने हॉस्टल जा रहा था अब मैं अपने रूम के पास गया तो देखा कि सभी बच्चे लाइन से लगे हैं और एक लाइन में पूरे लड़के और दूसरी लाइन में कुछ सीनियर |

मुझे समझ नहीं आया और मैं अपने रूम की तरफ जाने लगा तभी एक लड़के ने मेरी पीछे से कॉलर पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और कहा क्यूँ बे लौड़े चुपचाप यहाँ लाइन में लग | तो मैंने कहा अरे मैं क्यूँ लगूं लाइन में मैं कोई रेल का डिब्बा थोड़ी हूँ | ये बात सुन कर सभी हंसने लगे तभी उस लड़के को गुस्सा आ गया जिसका नाम अनुज है | उसने मुझे कन्सीट के एक लपाड़ा मार दिया तो मुझे भी गुस्सा आ गया और मैंने भी उसको एक कंटाप जड़ दिया | उसके बाद वो और उसके कुछ साथी मिल कर मुझे मारने लगे और बहुत मारा मुझे | मार मार कर मुझे कुत्ता बना दिया | मैं रोने लगा तभी एक सीनियर आया जिसका नाम सुनील था | उसने सभी को अलग किया और मुझसे पूछा कि क्या हुआ बे ? तो मैंने कहा पता नहीं ये लोग कौन हैं और मुझे मारने लगे बेकार में ही जबकि मेरी कोई गलती नहीं थी | ये बात सुन कर सुनील ने कहा कि ये मेरे पहचान वाला है इसकी कोई रैगिंग नहीं लेगा | उसके बाद सब मुझसे डरने लगे | फिर एक दिन उसने मुझे अपने रूम में बुलवाया तो मैं ख़ुशी ख़ुशी गया | उसने मुझे अपने पास बुलाया और कहा कि मुझे तेरे साथ सेक्स करना है | ये सुन कर मैं भी उत्त्जेजित हो गया और तो वो उठा मेरे होंठ में अपने होंठ रख कर मेरे होंठ को चूसने लगा तो मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठ को चूसने लगा |

वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे लंड को मसलने लगा और मैं भी उसके होंठ को चूस्ते हुए उसके लंड को मसलने लगा | हम दोनों ने दस मिनट तक किस किया | उसके बाद हम दोनों ने एक दुसरे के कपडे उतार दिए और बस अंडरवियर में हो गए | उसके बाद हम दोनों सिस्कारियां लेते हुए एक दुसरे के बदन से लिपटने लगे | थोड़ी देर के बाद उसने अंडरवियर को उतार कर मुझे नंगा कर दिया और मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर हिलाने लगा और उसके बाद उसने मेरे लंड पर जीभ फेरते हुए चाटने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगा | वो मेरे लंड को बड़े ही शौक के साथ हर तरफ जीभ फेर कर चाट रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रहा था | फिर उसने मेरे लंड को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसकी पीठ को सहलाने लगा | वो मेरे लंड जोर जोर से आगे पीछे करते हुए चूस रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके सिर के बालो को सहला रहा था |

उसने मेरे लंड को करीब पंद्रह मिनट तक चूसा और मेरे गोटों को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके मुंह पर अपना लंड पटकने लगा | उसके बाद मैंने उसे कुर्सी पर बैठा दिया और उसकी अंडरवियर को उतार कर उसे भी नंगा कर दिया | अब मैंने उसके लंड को अपने हाँथ में ले कर खूब हिलाया और फिर अपनी जीभ फेरते हुए उसके लदन को चांटे लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए आन्ह्हे लेने लगा | मैं उसके लंड को चाटते हुए उसके दोनों गोटों को भी सहला रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे चेहरे पर हाँथ फेर रहा था | उसके बाद मैंने उसके गोटों को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां भरने लगा | पांच मिनट के बाद मैं उसके लंड के सुपाड़े को चाटते हुए चूसने लगा तो वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मुझे लंड को पूरा लेने को कहने लगा | तो मैंने देर न करते हुए उसके लंड को पूरा अपने मुंह में ले कर ऊपर नीचे करते हुए चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे लेने लगा |

मैंने उसके लंड को बीस मिनट तक चूसा | उसके बाद उसने मुझे घोडा बना दिया और मेरी गांड को पहले थूक से गीला किया उसके बाद उसने एक ही शॉट में मेरी गांड के अन्दर अपना लंड डाल कर चोदने लगा तो मैं भी मजे लेते हुए आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां लेने लगा | उसके बाद उसने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दिया और जोर जोर से धक्के मारते हुए चोदने लगा और मैं भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई में उसका पूरा साथ दे रहा था | करीब दस मिनट की चुदाई के बाद उसने अपना माल मेरी गांड में ही छोड़ दिया | उसके बाद मैंने उसको घोडा बनाया और उसकी गांड में अपना लंड डाल कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने पैरो से लॉक फंसा लिया | फिर मैंने अपनी चुदाई तेज कर दिया  और जोर जोर से चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेटे हुए मजे लेने लगा | मैंने अपना माल उसकी भी गांड में झड़ा दिया |


Comments are closed.