हॉस्टल में चुदाई -2

Hostel me chudai 2:

indian porn stories

हाय फ्रेंड्स, कैसे हैं आप सब ? मैं श्रुति पाठक फिर से आपके सामने अपनी कहानी ले कर प्रस्तुत हुई हूँ | जो कहानी पिछले भाग मैंने कहानी अधूरी छोड़ी थी वो इस भाग में पूरी करने आप लोगो के लिए आई हूँ | मैं ऐसी आशा करती हूँ कि हाँ आप लोगो को मेरी कहानी का पहला भाग जरुर पसंद आया होगा | तो आज मैं अपनी कहानी पूरी करने के लिए झाजिर हूँ | तो अब मैं मैं अपनी कहने शुरू करती हूँ |

मैंने आप लोगो को अपनी पिछली कहानी में बताया कि कैसे अनुष्का ने मुझसे झूट बात कही और फिर मैंने भी उससे झूट बात कही | फिर हम दोनों में ऐसे ही नार्मल बात हो रही थी तो मैंने पूछा कि यार मुझे बहुत जोर से भूख लगी है खाना आ गया क्या ? तो उसने कहा नहीं यार अभी तो नहीं आया है मैंने तो बाहर से खा लिया था इसलिए मुझे यहाँ के खाना आने का वेट नहीं है  | मैंने भी ओके कह कर बात ख़त्म कर दी | उसके बाद अनुष्का कहीं चली गई और मैं अपने बेड पर लेटी रही | मैं लेटे लेटे सोच रही थी कि यार मैंने अपनी चूत में ऊँगली डाली तो मुझे इतना दर्द हुआ और जबकि अनुष्का ने इतना मोटा और बड़ा लंड अपनी चूत में डाला उसे तो बिलकुल भी दर्द नहीं हुआ | ये ही सब सोचते हुए मेरी नींद लग गई | सपने में मैंने देखा कि सर मेरी चुदाई कर रहे हैं अपनी गोद में उठा कर और मैं ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह  आहा करते हुए चुदाई के मजे ले रही हूँ | तभी मेरी नींद अनुष्का ने खुलवा दी और कहा यार चल खाना आ गया है | मेरी नींद खुली तो मैंने कहा चल ठीक है जाती हूँ | उसके बाद मैं उठी और ऊपर गई तो देखा कि अनुष्का भी खाना खा रही थी | मैं जानती थी कि ये झूट बोल रही है मुझसे कि इसने बाहर से खाना खाया है पर असल में कुछ भी नहीं खाया था | मैंने पूछा कि यार तूने तो पहले ही खा लिया था अब क्यूँ खा रही है ? तो उसने कहा यार काफी पहले खाया था |

अब फिर से भूख लग आई है | मैंने कहा ठीक है फिर मैं भी खाना खाने लगी | उसके बाद जब मैं रूम में आई तो मैंने सोचा कि थोड़ी देर आराम कर लूं फिर पढाई करुँगी | पर सोते वक़्त मुझे दो लोगो के बात करने की आवाज़ आ रही थी मैंने अपनी एक आँख खोल कर देखा तो विडियो कालिंग में किसी से बात कर रही थी | मुझे समझते देर न लगी कि वो सर से ही बात कर रही है | फिर मैं सो गई | उसके बाद जब मेरी नींद खुली तो अनुष्का रूम में नहीं थी | मैं मुँह धो कर आई फिर पढ़ने बैठ गई | पढाई में मेरा मन नहीं लग रहा था क्यूंकि मुझे ये समझ में ये नहीं आ रहा था कि उसकी चूत में लंड गया कैसे और मेरी चूत में एक ऊँगली भी नहीं जा रही है | यही सब सोचते हुए रात हो गई और मेरी पढाई भी नही हो पाई | फिर रात का खाना खाया मैंने और फिर अपने रूम में आ गई | अनुष्का सो चुकी थी उस समय | मैं बाथरूम गई और अपने शोर्ट को उतार कर अपनी पेंटी उतार कर नंगी हो गई और उसके बाद अपनी चूत में ऊँगली डालने की बेजोड़ कोशिश करने लगी | जब मेरी चूत में ऊँगली चली गई तब मेरी चूत से खून बहने लगा | ये देख कर मैं डर गई और जल्दी से अपनी चूत को पानी से साफ़ किया और सोने चली गई | उस दिन मेरी बिलकुल भी पढाई नही हो पाई | उसके बाद अब मैं रोज चूत में ऊँगली करने लगी तो अब खून बहना बंद हो गया | फिर अब मेरा ऊँगली से काम नहीं चलता तो मैंने सब्जी से अपनी चूत की चुदाई करना चालू कर दी | अब मुझे मोटा और बड़े सब्जी लेने की आदत सी हो गई |

अब मुझे भी लगने लगा कि मैं लंड ले सकती हूँ पर सबसे बड़ी दिक्कत थी कि मैं लंड का जुगाड़ कहाँ से करूँ | मेरी ही क्लास में एक लड़का था जो दिखने में अच्छा था | मैं उसपे डोरे डालने लगी | वो भी धीरे धीरे मेरी लाइन में आने लगा | मैंने भी सोचा कि चलो अब मेरे लिए भी लंड का जुगाड़ हो गया था | मेरी उससे दोस्ती हो गई और हम दोनों काफी जल्दी एक दूसरे से घुल मिल गए | फिर धीरे धीरे हम दोनों में सेक्स वाली बात होना चालू हो गई और उसके बाद हम दोनों ने फैसला लिया कि जब भी हमे मौका मिलेगा हम सेक्स करेंगे | हम दोनों फ़ोन में काफी देर तक सिर्फ सेक्स की ही बात करते और वो बताता कि मैं तुम्हारे साथ ऐसा सेक्स करूँगा ये करूँगा वो करूँगा | यहाँ ये सुन कर मेरी चूत गीली हो जाती और मैं गरम हो कर अपनी चूत में ऊँगली डाल कर अपनी चूत को शांत करती | फिर मैं जब उसे बताती कि मैं तुम्हारे साथ ऐसा करुँगी तो वो भी अपने लंड से मुट्ठ मार कर अपने वीर्य का समपर्ण कर देता | यही सब बात करते हुए हमे काफी महीने हो चुके थे | फिर एक दिन अनुष्का को कॉल आया कि तुम्हारी बहुत याद आ रही है जल्दी घर आओ तो उसने मुझे बताया की घर से मम्मी का कॉल था इसलिए मुझे जाना है | मैंने कहा ठीक है | अब मेरे पास काफी समय था अपनी चूत की मरम्मत करवाने के लिए | जैसे ही वो गई अगले दिन ही मैंने अपनी क्लास से छुट्टी मार ली | मैंने रोशन को कॉल कर के कहा कि मेरे रूम आ जाना मेरा रूम खाली है | वो कुछ ही देर में मेरे रूम में आ गया | मैंने उससे पूछा कि किसी ने तुम्हे देखा तो नहीं | तो उसने कहा नहीं | फिर मैं जल्दी से दरवाजा लगा कर उसकी बांहों में सिमट गई | उसने भी मुझे जकड लिया | फिर मैंने अपने होंठ उसके होंठ से लगा दिए और उसके होंठ के रस को पीने लगी | वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगा और मेरे दूध को ऊपर से ही मसलने लगा | हम दोनों ने लगभग 10 मिनट तक खूब किस किया | उसके बाद मैं उसकी टी-शर्ट उतार कर उसकी छाती चूमने लगी और उसके निप्पल भी चूसने लगी तो वो मुझे प्यार करने लगा | फिर उसने मेरे टॉप को उतार कर ब्रा के ऊपर से ही दूध को दबाने लगा तो मेरे मुँह से ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह  आहा की सिस्कारियां निकलने लगी | फिर उसने मेरे ब्रा को भी उतार दिया और मेरे दूध को बारी बारी से अपने मुँह से लगा कर चूसने लगा तो मैं ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह  आहा करते हुए उसके सिर के बालो को सहलाने लगी | ये सब मैंने अनुष्का से सीखा था |

वो मेरे दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रहा था और मैं ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह  आहा करते हुए सिस्करियाँ ले रही थी | उसके बाद मैंने उसके लंड को अपने मुँह से लगाया और उसके लंड को चाटने लगी तो उसके मुँह से भी ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह  आहा की सिस्कारियां निकलने लगी | मैं अच्छे से उसके लंड को चाट कर गीला कर रही थी | फिर मैंने उसके लंड को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगी तो वो भी ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए मेरे मुँह की चुदाई करने लगा | फिर उसने मेरी टांगो को फैलाया और अपने मुँह को मेरी चूत में लगा कर चूत को चाटने लगा तो मैं ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए सिस्कारियां भर रही थी | फिर उसने अपने लंड को मेरी चूत में ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह  आहा टिकाया और अन्दर पेल दिया और चोदने लगा तो मैं ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह आहा करते हुए आँखे बंद कर ली | फिर उसने अपनी चुदाई की रफ़्तार बढाया और जोर जोर से मेरी चूत को चोदने लगा तो मैं भी ऊनंह ऊम्म्ह उन्नह आहा उन्नह ऊउम्म्ह आहा ऊम्ह ऊंह ऊनंह  आहा करते हुए अपनी चूतड़ उठा उठा कर चुदाई में साथ देने लगी | कुछ देर चोदने के बाद उसने अपना वीर्य मेरी चूत के ऊपर ही निकाल दिया |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी | मैं वादा करती हूँ कि आप लोगो के लिए ऐसी ही मजेदार कहानियां पेश करती रहूंगी | आप लोगो का मेरी कहानी पढने के लिए धन्यवाद |


Comments are closed.