हो गया मेरे लंड का पदार्पण

Ho gaya mere lund ka padarpan:

hindi sex stories हैलो दोस्तों वैलेंटाइन वीक चल रहा है और मेरी कहानी जो पढ़ रहा है वो या तो हवस का पुजारी है या फिर बेचारा सिंगल | तो मेरे दोस्तों मैं आज अपनी कहानी लेकर हाज़िर हूँ जो मेरे साथ आज ही हुई है इसका मतलब मेरी कहानी बिलकुल ताज़ी है | तो मेरी फ्रेश कहानी पर चलने से पहले थोडा मैं अपने और अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बता दूँ | मेरा नाम अनुज है उम्र 26 साल कद 5 फुट 10 इंच गोरी शकल  चौड़ी छाती और मोटा लंड | मेरी गर्लफ्रेंड नेहा उम्र 25 साल कद लगभग 5 फुट 6 इंच गोल चेहरा दूध ठीक हैं पतली कमर और मस्त गांड | वैसे नेहा की आँखें बहुत प्यारी है भूरे रंग की नशीली आँखें हाय मर जावां | तो अब बढ़ते है मेरी हवस भरी चुदाई की कहानी की तरफ |

अब मैं आपको ये बता के बोर नहीं करूँगा की मैंने उसको पटाया | बात शुरू करते है दो दिन पहले से जब वैलेंटाइन वीक शरू हुआ था और हमारी चुदाई का सिलसिला भी | तो बात चालू होती है सुबह 6 बजे से जब उसका फ़ोन आया और मैं अपने रूम में बिस्तर पर मस्त सो रहा था | मैंने फ़ोन उठाया और दिमाग तो ख़राब हो ही रहा था लेकिन कहना पड़ता है हाय बेबी बस तुम्हारे बारे में सोच रहा था और तुम्हारा फ़ोन आ गया | उसने कहा अच्छा बाबु आज न हम घूमने जा रहे है और जगह तुम बताओ | मैंने सोचा बहुत दिन हो गए है और मैं बस घूम ही रहा हूँ हाँथ पकड़ के और कुछ पकड़ने ही नहीं मिला तो मैंने कहा चलो पार्क चलते है और थोड़ी देर बाद हम लगभग 11 बजे पार्क चले गए | जिस पार्क में हम गए वो हमारे यहाँ का सबसे बड़ा पार्क है और ज्यादातर खाली रहता है लेकिन जब मैं गया तो बहनचोद बहुत भीड़ थी लेकिन मैंने जगह और मौका मार ही लिया और उसको एक कोने में लेकर गया और हम हाँथ में हाँथ डाल के बैठे थे | मैंने आसपास देखा कोई नहीं था तो मैंने उससे कहा बेबी तुम मुझसे प्यार करती हो तो मुझे किस करो | वो शरमाने लगी और मैंने एक बात सीखी है अगर किसी बात को सुनकर लड़की शरमाए तो इसका मतलब ज्यादातर हाँ ही होता है | तो मैंने उसको किस किया और उतने ही मेरा लंड खड़ा हो गया |

मुझे तो बहुत खुजली मची थी लौड़े में तो मैंने अपनी पैंट खोली और लौड़ा बाहर निकला और उससे कहा हिलाओ ना | वो मना करने लगी तो मैंने उससे थोड़ी बिनती की और वो मान गई और मेरा लंड पकड़ के हिलाने लगी | मैं भी पीछे हो के आराम से बैठ गया और मज़े लेने लगा थोड़ी देर तक उसने मेरा हिलाया और फिर मेरा निकलने को हुआ तो मैंने खड़े होकर उसके ऊपर हिलाना शुरू किया तो उसने कहा नहीं मेरे ऊपर नहीं तो मैंने वहीँ किनारे माल गिरा दिया | फिर हम घर जाने लगे तो मैंने कहा अच्छा कल कब मिलोगी ? तो उसने कहा क्यूँ क्या करना है ? तो मैंने कहा कल चॉकलेट डे है तुम्हें चॉकलेट देना है | तो उसने कहा अच्छा तुम बताओ कल कहाँ आना है ? तो मैंने कहा अच्छा कल मेरे रूम आ जाना कल कहीं घूमने नहीं जायेंगे | तो उसने मुझे घूर कर देखा और फिर हसकर कहा ठीक है आ जाउंगी | वो भी समझ गई थी कि कल उसकी मरने वाली है लेकिन उसने मना नहीं किया तो इसका मतलब था वो भी मरवाना चाहती थी और मैं तो हूँ ही ठरकी |

अब मैं अगले दिन की चुदाई की तैयारी में मैंने पूरी रिसर्च कर रखी थी कि क्या क्या खाना चाहिए और कौन कौन सी पोजीशन में करना चाहिए जिससे ज्यादा मज़ा आये क्यूंकि ये मेरा पहली बार था | मैंने चुदाई के स्वामी जॉनी सिंस के वीडियो और उसके ब्लॉग्स भी पढ़े जिसमें अच्छी चुदाई के नुस्खे दिए थे | मतलब पूरी तैयारी थी और मैंने रूम को दिनभर ठीक से जमाया और साफ़ किया और शाम को वो आई और उसने अन्दर घुसते ही उसने कहा वाह यार तुम्हारा रूम तो बहुत अच्छे से जमा है | मैंने भी मन में सोचा हाँ भोसड़ी वाली जमाने में गांड मर गई है | मैंने उसको बैठाया और कहा पहले खाना खाना है या सरप्राइज | साली भुक्खड़ ने कहा पहले खाना खा लेते बाकी सब के लिए तो बहुत टाइम है खैर उसकी बात भी सही तो तो हम दोनों ने खाना खाया और आराम से बिस्तर पर बैठकर टी.वी. देखने लगे | टी.वी. पर कुछ ख़ास आ नहीं रहा था तो उसने कहा यार टी.वी. बंद कर दो कुछ अच्छा आ ही नहीं रहा है और मैं तो यही चाहता था | बस फिर बातें शुरू हुई और होते होते बात पहुंची सैक्स पर | तो मैंने पूछा अच्छा सच सच बताना तुमने पहले कभी किया है तो उसने कहा अच्छा मैं सच बताउंगी तो बुरा तो नहीं मानोगे तो मैंने कहा नहीं | तो उसने कहा हाँ लेकिन सिर्फ एक ही बार तो मैंने कहा फिर से मन है तो उसने कुछ नहीं कहा और फिर से शरमाने लगी और मैं भी तो इसी इशारे का इंतज़ार कर रहा था | तो मैंने कहा अच्छा आज चॉकलेट डे है तो तुम्हें चॉकलेट देना तो बनता है तो मैंने पैंट उतारी और अपना लौड़ा उसके आगे कर दिया |

मैंने पहले से ही लौड़े पर चॉकलेट कंडोम चढ़ा रखा था मैंने अपना लंड सामने करके कहा बेबी ये रही तुम्हारी चॉकलेट ले लो | उसने भी बिना देर किये मेरा लंड पकड़ा और अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी | मैंने सोचा था कि बहुत गुज़ारिश करनी पड़ेगी बहुत मनाना पड़ेगा तब कहीं जाके कुछ हो पायेगा लेकिन ये तो देख के ही शुरू हो गई | चलो जो भी है इसमें फायदा तो मेरा भी है | वो बड़े शौक से मेरा लंड चूसे जा रही थी और मैं मज़े ले रहा था | थोड़ी देर में मेरा निकल पड़ा और मैं सिर्फ एक ही कंडोम लाया था | अब मुझे क्या पता ? मैंने सोचा इसको धोके फिर से इस्तेमाल कर लूँगा लेकिन ऐसा होता नहीं है ये मुझे बाद में पता चला | मैंने सोचा बिना कंडोम के खतरा है लेकिन मौका अभी है बाद में मिले न मिले तो मैंने बिना कंडोम चुदाई के करने का फैसला लिया | अब मेरा माल तो निकल चुका था और मैंने कंडोम डस्टबिन में भी फेंक दिया और वो मेरी तरफ बड़ी आस भरी निगाहों से देख रही थी | तो कारवाँ आगे बढ़ाते हुए उसके कपडे उतारना शुरू किया | अब मैंने उसके पूरे कपडे उतार दिए और जैसा जैसा ब्लू फिल्म में देखा था वैसा वैसा करने लगा | मैंने उसके दूध दबाये और उसकी चूत घिसने लगा | चूत बहुत गरम थी और गीली थी और दूध बहुत सॉफ्ट बड़ा मज़ा आ रहा था | फिर मैंने उसको किस किया और उसके दूध चूसने में लग गया | मैं निप्पल चूस रहा था और खींच भी रहा था और वो हलकी हलकी आवाज़ में आह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह कर रही थी जो मेरा हौसला और बढ़ा रही थी |

अब मैंने सोचा चलो चूत चाटी जाये तो मैं नीचे गया और उसकी चूत से नज़रें मिलाने लगा | चूत देखकर मेरा मन तो नहीं हो रहा था चाटने का लेकिन फिर मैं टूट पड़ा और चूत चाटने लगा | चूत चाट ही रहा था तभी उसने मेरा सिर पकड़ा और अपनी चूत में दबा दिया | चलो ठीक है दबा दिया तुमने लेकिन मेरी नाक भी दब गई मैं ठीक से साँस नहीं ले पा रहा था | अगर मैं मर जाता तो पेपर में न्यूज़ क्या आती गर्लफ्रेंड की चूत में घुस कर मरा प्रेमी | जैसे तैसे मैं बचा और अब मेरा लंड खड़ा हो गया था और गुफा में जाने को तैयार था | मैंने अपना लंड चूत पर रखा और अन्दर करने लगा तो उसने कहा वहां नहीं और उसने मेरा लंड पकड़ा और अन्दर किया | मुझे लगा बहनचोद थू है मेरे पे लड़की मुझे चोदना सिखा रही है | फिर मैंने उसे चोदना शुरू किया और वो आअह्ह्ह्ह आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह आअह्ह्ह्ह आआआआह ह्ह्ह्हह्हह्ह्ह ह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआअ ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह उम्मम्मम्म उम्म्म्मम्म्म्म अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह करने लगी | चोदते चोदते मैं उसके ऊपर लेट गया और झटके मारते हुए चोदने लगा और किस भी |

फिर मैंने उससे कहा क्या तुम मेरे ऊपर उचकना चाहोगी ? और लेट गया | तो वो मेरे ऊपर बैठी और लंड अन्दर करके उचकने लगी और आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्हा ह्ह्हह्ह्ह्ह आआआआ आआआआआ अह्ह्हह्ह्ह्ह करने लगी | थोड़ी देर में मेरा मुट्ठ निकलने को हुआ तो मैंने जल्दी से लंड बाहर निकाला और मुझे याद नहीं मुट्ठ गिरा कहाँ ? शायद उसके ऊपर ही गया होगा क्यूंकि मेरी आँखें बंद थी और गोलियां लौड़े से चल रही थी | बस फिर क्या था हम दोनों लिपट के लेट गए और किस करते रहे | तो दोस्तों कैसी लगी आपको मेरी कहानी |


Comments are closed.


error: