गर्लफ्रेंड बनी मेरे बच्चे की माँ

Girlfriend bani mere bachche ki maa:

hindi sex kahani

हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप लोग ? मैं उम्मीद करता हूँ की आप सभी लोग ठीक ही होगे | दोस्तों मैं आप लोगो की तरह काफी टाइम से सेक्सी कहानी पढता आ रहा हूँ  और मुझे चुदाई की कहानी पढना बहुत पसंद है | मैंने अभी तक जितनी कहानी पढ़ी है वो मुझे बहुत पसंद आई हैं | मैं आज आप लोगो के सामने अपने जीवन की सच्ची घटना को लेकर आया हूँ | मैं अपनी कहानी को शुरू करने से पहले अपना परिचय दे देता हूँ |

दोस्तों मेरा नाम अवनीश है और मैं रहने वाला बिहार का हूँ | मेरी उम्र 28 साल है और मेरी हाईट 6 फुट 8 इंच है | मैं दिखने में कभी स्मार्ट हूँ और गोरा भी जिससे मैं अच्छा लगता हूँ | मेरी पढाई पूरी हो गयी है और अब मैं एक कम्पनी में जॉब करता हूँ | दोस्तों मैं जो कहानी आप लोगो को सुनाने जा रह हूँ | ये कहानी तब की है जब मैं अपनी पढाई करता था और अपने घर ही रहता था |

दोस्तों मैं आप सभी लोगो का ज्यादा  टाइम न लेते हुए कहानी को आगे बढ़ता हूँ | मेरे घर के पास ही एक लड़की रहती थी जिसका नाम दिया था और वो दिखने में बहुत सुन्दर थी | दोस्तों उसके बड़े बड़े बूब्स जोकि एकदम गोल थे जिसको देख कर किसी के मुंह में पानी आ जाये | दिया जब चलती थी तो उसकी कमर क्या मटकती थी जिसको देखकर मेरा 6 इंच लम्बा लंड तन कर खड़ा हो जाता था |

दोस्तों दिया की दिवाने तो मेरे मोहल्ले के लड़के भी थे पर वो मुझसे प्यार करती थी और मैं उससे बहुत प्यार करता था | मैं और दिया फ़ोन पर रात को भी बाते करते थे | दोस्तों जब मेरी और दिया की बाते होती थी तो मैं उससे मजाक में कभी कभी उसके बूब्स की तारीफ भी करता था जिससे वो बोलती की तुम बहुत बिगड़ गए हो |

मैं बोलता हाँ यार तुम्हारा सेक्सी फिगर देखकर किसी की भी नियत ख़राब हो जाये |

दिया – मेर फिगर इतना सेक्सी है क्या ?

मैं – हाँ दिया माँ कसम पुरे मोहल्ले के लड़के तुम्हारे दीवाने हैं और तुम्हारी चढ़ती जवानी के मज़े लेना चाहते हैं |

दिया – अच्छा |

मैं – हाँ दिया मुझे अपनी जवानी का मज़ा दे दो ?

दिया – आओ मेरे राजा तुम्हे मना किसने किया है |

दोस्तों मैं और दिया ऐसे ही बाते किया करते थे उसके कुछ दिन बाद की बाद है जब मैंने दिया से रात को मिलने को कहा और उसके घर रात को गया | क्यूंकि उसका घर मेरे घर के पास मे ही है | दोस्तों उस रात पहली बार मैं उसके कमरे मे गया था | वो मुझे बैठा कर मेरे साथ बैठ गयी और मैं उसके साथ बैठ कर धीरे धीरे उसकी और बढ़ता गया |

कुछ ही देर में मैंने उसके एक हाथ को पकड लिया और उसकी आँखों में देखने लगा | मैं दिया की आँखों में देख रहा था और वो मेरी आँखों में देख रही थी | तब मैं धीरे से उसके हाथ को छोड़ कर उसके चेहरे को पकड कर उसकी होठो के पास अपनी होठो को ले गया और रोक दिया

दोस्तों जब मैंने उसकी होठो के पास अपनी होठो को रोक दिया तो उसकी सांसे तेज स्पीड से चलने लगी और वो अपनी आँखों को बंद करके अपनी होठो को मेरी होठो पर रख दिया | फिर मुझे किस करने लगी | क्या मीठा सा अहसास था दोस्तों और मैं उसको पकड कर धीरे से बेड पर लेटा दिया |

फिर मैं उसकी मीठी होठो को चूसने लगा | दोस्तों मैं और दिया दोनों ही एक दुसरे मे डूब गए थे और एक दुसरे को प्यार कर रहे थे | मैं उसकी होठो को चूसने के साथ उसके कपडे के अन्दर अपने हाथ को डाल कर उसके चिकने बूब्स को दबाने लगा | मैं उसके चिकने बूब्स को जब दबा रहा था तो उसके मुंह से हां ह ह ह ह.. उह उह उह यहह उई… की हल्की आवाज करने लगी जिसको सुनकर मुझे मज़ा सा आ रहा हा था |

मैं और दिया ऐसे ही करीब २० मिनट तक एक दुसरे को चुमते रहे | दोस्तों ये सब करने के बाद मैं अब पूरी तरह से सेक्स के नशे में डूब चूका था और दिया मेरा साथ देती हुई मेरे लंड को पैंट के ऊपर से सहलाने लगी थी | मैं समझ चूका था की आज मैं दिया को चोद पाउँगा और उसके जवानी के मज़े ले पाऊंगा |

दोस्तों मैं उस टाइम का पूरा फायदा उठाते हुवे उसके कपडे निकाल दिए और उसने मेरे कपडे निकाल दिए जिससे मैं उसके सामने अंडरवियर में था और वो मेरे सामने अपने बड़े बड़े बूब्स को अपने हाथ से छुपाते हुए शर्मा रही थी |

तब मैं उसके एक दूध को हाथ में पकड लिया और उसे मुंह में रख कर चूसने लगा जिससे वो मेरे सर के बालो का पकड कर तेज सांसे लेती हुई हु हु हु… हा… उई मई… करती हुई अपने मम्मो को चुसाने लगी | दोस्तों मैं उसके दोनों दूधो को ऐसे ही एक एक करके चूस रहा था और वो मेरे लंड को अंडरवियर से निकाल हिला रही थी जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था | मैं उसके दोनों बूब्स को एक एक करके बच्चे की तरह पी रहा था |

फिर मैंने उसको बेड पर लेटा कर उसकी गुलाबी चूत में अपनी ऊँगली को घुसा कर धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा और वो आह अह अह.. उह उह उह.. उई उई मई… की सिसिकियाँ लेती हुई मज़ा लेने लगी थी | मैं उसकी गर्म चूत मैं अपनी ऊँगली को अन्दर बाहर कर रहा था |

मैं उसकी चूत में ऊँगली को अन्दर बाहर करने के साथ उसकी चूत में अपनी जीभ को घुसा दिया और चाटने लगा | दोस्तों क्या खुशबू थी जो मुझे मदहोश कर रही थी और मैं उसकी भीनी भीनी खुशबू में मदहोश होता जा रहा था | मैं उसकी चूत को ऐसे ही 5 मिनट तक चाटता रहा और वो सिसिकियाँ लेटी हुई अपने बूब्स के निप्पल को मशल रही थी |

फिर दोस्तों मैं अपने लंड को उसके मुंह में दिया और वो मेरे लंड को लोलीपोप की तरह चूसने लगी | जब वो मेरे लंड को मुंह में रख कर चूस रही थी तो मैं उसके सर को पकड कर अपने लंड को उसके मुंह में अन्दर बाहर करने लगा | ऐसे ही मैं अपने लंड को 5- 6 मिनट तक चुसाने के बाद मैं उसकी टांगो को फैला कर उसकी चूत मुंह पर अपने लंड को रख दिया |

फिर अपने लंड को दिया की चूत में घुसाने लगा जिससे उसके मुंह से हल्की हल्की आहें निकलने लगी | तब मैं उसकी होठो पर अपनी होठो को रख कर उसकी चूत में धीरे धीरे धक्के मारने लगा जिससे मेरा लंड कुछ ही देर में आधा उसकी चूत में समा गया और उसकी चूत से खून की एक धार निकल पड़ी |

तब मैंने अपने लंड को उसकी चूत से निकाल लिया और खून को साफ करने के बाद उसकी चूत में लंड को घुसा कर चोदने लगा | मैं उसकी चूत में धीरे धीरे अन्दर बाहर करते हुए चोद रहा था और वो हां हा ह…. उह उह.. अ अ अ अ.. उया.. की आवाज करती हुई बिस्तर पर इधर उधर होती हुई चुद रही थी |

मैं उसकी चूत मैं जोरकर धक्के मारने लगा जिससे धक्को की आवाज कमरे में आने लगी फच फच फच…. ? मैं उसको ऐसे ही पुरे 15 मिनट तक चोदता रहा और फिर झड गया | मैंने अपने लंड से निकलने वाला सारा माल उसके मुंह के ऊपर निकाल दिया |

दोस्तों उस रात मैंने दिया को 2 बार जमकर चोदा और दिया चुदाई के मज़े लेती हुई चुदती रही | फिर मैं अपने घर चला आया और उस रात के बाद दिया को जब मौका मिलता तो वो मुझे बोला लेती और मैं उसकी चूत के मज़े लेने उसके घर पहुच जाता और दिया को पूरा नंगा करके रातभर चोदता और सुबह होते ही अपने घर चला आता था |

दोस्तों अब चुदाई का ये सिलसिला चलने लगा और मैं अब रोज ही उसको चोदने के बारे मैं सोचने लगा | पर रोज मौका नही मिलता था जब उसके घर पर उसके भाई नही होते थे तो मैं उसके घर जाकर पूरी रात रुकता और उसको रात भर चोदता और वो मेरा पूरा साथ देती चुदाई में | हम दोनों इसी तरह से 2 महीने तक चुदाई करते रहे | फिर उसके कुछ दिन बाद उसकी शादी का रिश्ता आया और उसके पापा ने उसकी शादी करने के लिए हाँ कह दी | पर दोस्तों दिया मुझसे बहुत प्यार करती थी और शादी की बात होने के बाद भी वो मेरे लंड को अपनी चूत में लेती और मुझसे चुदती रही |

दोस्तों उसके कुछ दिनों बाद उसकी शादी हो गयी और वो अपने पति के घर चली गयी | फिर जब वो अपने पति के घर से कुछ दिन बाद आई तो मुझे देखकर स्माइल की और मुझसे बोली मुझे तुमसे कुछ बात करनी है | मैंने उससे कहा हाँ बोलो मेरी जान मैं तो तुम्हारे बिना आधा हूँ |

उस दिन वो मुझसे बोली की मैं प्रेगनेन्ट हूँ और वो बच्चा तुम्हारा है | दोस्तों ये बात सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई की दिया जिस बच्च को जन्म देगी वो मेरा होगा और उसके 9 महीने बाद उसने एक लकड़े को जन्म दिया |

दोस्तों मैं आप लोगो को बता देता हूँ उस बच्चे के जन्म के बाद भी दिया मुझसे चुदती थी और ऐसे ही वो अपनी शादी के 1 साल तक मुझसे चुदती रही थी | उसके बाद मेरी भी शादी हो गयी और अपनी शादी के बाद मैंने दिया को कभी नही चोदा |

दोस्तों  ये थी मेरी कहानी मुझे उम्मीद है की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी |


Comments are closed.