गांड की लकीर के बीच मे रगडता हुआ लंड

Kamukta, desi kahani, antarvasna:

Gaand ki lakeer ke bich me ragadta hua lund मैं विलायत में नौकरी करता हूं कुछ दिनों के लिए मैं अपने घर चंडीगढ़ आया हुआ था मैं अपने बचपन के दोस्तों से मिलना चाहता था तो मैंने आकाश को फोन किया और आकाश को कहा तुम अभी कहां हो। आकाश कहने लगा अभी तो मैं अपने किसी जरूरी काम से आया हुआ हूं मैं जैसे ही फ्री हो जाऊंगा तो मैं तुम्हें फोन करता हूं मैंने आकाश को कहा ठीक है तुम जब फ्री हो जाओ तो मुझे फोन करना। मैं घर पर ही आकाश के फोन का इंतजार कर रहा था आकाश ही अब सिर्फ चंडीगढ़ में रह गया था मेरे बाकी के दोस्त चंडीगढ़ से जा चुके थे। जब आकाश का फोन मुझे आया तो आकाश मुझसे कहने लगा कि राहुल तुम घर कब आए तो मैंने आकाश को कहा मैं तो कल रात को ही घर पहुंचा था लेकिन रात को मैं काफी थक गया था इसलिए मैं आराम कर रहा था आज मैंने तुम्हें फोन किया तो तुम बिजी थे।

आकाश मुझे कहने लगा कि मैं अभी तुमसे मिलने के लिए तुम्हारे घर पर आ रहा हूं मैंने आकाश को कहा ठीक है तुम घर पर आ जाओ मैं घर पर तुम्हारा इंतजार कर रहा हूं। जब आकाश घर पर आया तो वह मेरे गले लग कर कहने लगा राहुल तुम से 3 साल बाद मुलाकात हो रही है और तुम कितने बदल चुके हो। मैंने आकाश को कहा चलो आओ मेरे रूम में बैठते हैं मेरी मम्मी कहने लगी कि बेटा मैं आकाश के लिए भी खाना बना देती हूं आकाश कहने लगा हां आंटी मेरे लिए भी आप खाना बना दो। आकाश बिल्कुल भी नहीं बदला है वह पहले की तरह ही है उसके स्वभाव में कोई भी बदलाव नहीं आया है लेकिन मैं बहुत ज्यादा बदल चुका हूं आकाश और मैं साथ में बैठे हुए थे मैंने आकाश को कहा अब सिर्फ तुम ही चंडीगढ़ में रह गए हो बाकी तो सब चंडीगढ़ से जा चुके हैं। मैंने आकाश से कहा कि क्या ऐसा संभव हो सकता है कि हम लोग एक बार दोबारा से मिले तो आकाश कहने लगा क्यों नहीं मैं सब लोगों से बात कर लेता हूं तुम यह सब मुझ पर छोड़ दो। मैंने आकाश को कहा ठीक है आकाश मैं सब तुम पर छोड़ देता हूं जब आकाश और मैं बात कर रहे थे तो मैंने आकाश को कहा तुम्हारी जिंदगी में क्या चल रहा है आकाश मुझे कहने लगा मैं पापा के साथ ही काम कर रहा हूं और मेरे जीवन में भला क्या नया होगा।

आकाश मुझसे कुछ तो छुपा रहा था मैंने आकाश को कहा कि तुम मुझसे कुछ तो छुपा रहे हो तो आकाश मुझे कहने लगा कि मैं तुमसे क्या छुपाऊँगा। मैंने आकाश को कहा देखो आकाश मैं तुम्हें बचपन से जानता हूं कोई तो बात है जो तुम मुझे बताना नहीं चाहते हो आकाश ने मुझे कहा कि तुम रवीना को जानते थे। मैंने आकाश को कहा क्या तुम उसी रवीना की बात कर रहे हो जो हमारे साथ पढ़ा करती थी तो आकाश कहने लगा हां मैं उसी रवीना की बात कर रहा हूं मैंने आकाश को पूछा लेकिन तुम्हारा रवीना से क्या लेना देना। आकाश ने मुझे बताया रवीना की शादी पिछले वर्ष ही हुई थी लेकिन उसकी शादी किसी कारणवश टूट गई और रवीना की शादी टूट जाने के बाद मैंने रवीना का हाथ थामने के बारे में सोचा हम दोनों की मुलाकात बढ़ती चली गई और अब हम दोनों एक दूसरे से रिलेशन में है लेकिन मुझे यह डर लग रहा है कि क्या मैं इस रिश्ते की बात अपने माता पिता से कर पाऊंगा। आकाश ने जब मुझे यह बात बताई तो मैंने आकाश को कहा क्या तुम्हें मेरी मदद की जरूरत है। आकाश कहने लगा कि राहुल अभी तो मैं और रवीना एक दूसरे से मिलते रहते हैं लेकिन जल्द ही हम लोग शादी करने के बारे में सोच रहे हैं रवीना का परिवार इस बात के लिए तैयार है। हालांकि वह लोग पहले इस बात के लिए तैयार नहीं थे लेकिन अब वह लोग इस बात के लिए तैयार हो चुके हैं। मैंने आकाश को कहा आकाश यदि तुम्हें मेरी जरूरत हो तो मैं तुम्हारी मदद करने के लिए हमेशा तैयार हूं आकाश कहने लगा राहुल मुझे यह बात पता है लेकिन मैं सोच रहा हूं कि कुछ समय बाद मैं अपने पापा मम्मी से इस बारे में बात करूंगा और उन्हें समझाने की कोशिश करूं की रवीना अच्छी लड़की है और मुझे पता है कि वह मेरा साथ हमेशा देगी। आकाश और मैं एक दूसरे से बात कर रहे थे कि मां की आवाज आई और कहने लगी कि तुम दोनों खाना खाने के लिए आ जाओ। मैंने और आकाश ने साथ में डिनर किया और आकाश कुछ देर बैठा रहा फिर वह चला गया अगले दिन आकाश का मुझे फोन आया और वह कहने लगा कि मैंने अपने दोस्तों से बात कर ली है वह लोग हमसे मिलने के लिए चंडीगढ़ आ रहे हैं।

आकाश ने सारी व्यवस्था खुद ही संभाली हुई थी जब मैं सब लोगों से मिला तो मैं सब से मिलकर बहुत खुश हुआ आकाश ने बड़ी अच्छे से सारा अरेंजमेंट किया इतने वर्षों बाद अपने पुराने दोस्तों से मिलना मुझे बहुत अच्छा लगा। सब कुछ ठीक चल रहा था लेकिन आकाश के जीवन में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा था आकाश ने शायद अपने पापा मम्मी से यह बात की थी लेकिन वह लोग इस रिश्ते को मंजूरी देने को बिल्कुल तैयार नहीं थे। मैंने सोचा कि मुझे ही आकाश की मदद करनी चाहिए और मैंने आकाश के पापा से इस बारे में बात की आकाश के पापा मुझे बहुत ही अच्छा मानते हैं लेकिन वह मुझे कहने लगे कि बेटा तुम ही मुझे बताओ कि आकाश हमारा एकलौता लड़का है और हम कैसे उसकी शादी रवीना के साथ कर दें। मैंने अंकल से कहा अंकल मैं रवीना को अच्छे से जानता हूं वह एक अच्छी लड़की है यदि वह आप लोगों के घर की बहू बनेगी तो आप लोगों को वह कभी कोई कमी महसूस नहीं होने देगी मैं उसे भली भांति जानता हूं।

अंकल मेरी बात को माने तो नहीं थे लेकिन मुझे उम्मीद थी कि अंकल मेरी बात जरूर मान लेंगे और कुछ समय बाद ऐसा ही हुआ आकाश और रवीना की शादी के लिए वह मान चुके थे। आकाश की शादी अब नजदीक थी सब कुछ इतनी जल्दी में हुआ कि मुझे तो ऐसा लग रहा था कि जैसे यह सब बड़ी जल्दी में हो रहा है मुझे घर आए हुए अभी कुछ ही समय हुआ था लेकिन आकाश की शादी रवीना से तय हो गई थी और आकाश और रवीना की शादी बड़ी ही धूमधाम से हुई। आकाश की शादी जब रवीना से हो गई तो उसके बाद आकाश और रवीना बहुत खुश थे कुछ दिनों तक तो आकाश से मेरी मुलाकात नहीं हो पाई लेकिन जब आकाश मुझसे मिलने के लिए घर पर आया तो आकाश ने मुझे कहा कि राहुल यह सब तुम्हारी वजह से ही संभव हो पाया है। मैंने आकाश को कहा मैंने तो सिर्फ तुम्हारे पापा से बात की थी और वह मेरी बात मान गए। आकाश बहुत ही ज्यादा खुश नजर आ रहा था क्योंकि उसे उसका प्यार जो मिल चुका था। मैं अब भी अकेला ही था जल्द ही मेरी तलाश खत्म होने वाली थी रवीना की कजन बहन से जब मैं मिला तो मुझे नहीं पता था कि पहली नजर में ही वह मुझे पसंद कर लेगी। वह मेरे साथ प्रेम संबध मे है हम दोनों एक दूसरे को मिलने लगे थे उसका नाम पायल है। पायल और मैं एक दूसरे को जब भी मिलते हो तो हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत अच्छा समय बिताया करते। पायल और मेरे बीच एक दिन किस हो गया उस दिन जब किस हुआ तो पायल और मुझे दोनों को ही अच्छा लगा। पायल बिंदास लड़की है इसलिए उसे इस बात से कोई आपत्ति नहीं थी मैं भी बहुत ही खुले विचारों का हूं। मैंने पायल को अपने घर पर बुला लिया पायल मेरे घर पर आ गई उस दिन घर पर कोई भी नहीं था हम दोनों के लिए यह बडा ही अच्छा मौका था हम एक दूसरे के साथ अच्छे से समय बिता पाए। हम दोनों ने एक दूसरे के साथ बहुत अच्छा समय बिताया मैं पायल के होठों को चूम रहा था उसके होठों को चूम कर मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। पायल के बदन से जब मैंने पूरे कपड़े निकाल कर उसे नंगा कर दिया था तो वह मेरे सामने खड़ी थी अब मैं उसकी चूत मारने के लिए तैयार था मैंने पायल की चूत की तरफ देखा तो उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था।

मैंने उसकी चूत को देखती ही उसकी चूत को सहलाना शुरू किया और अपने कपड़े उतारकर मैंने पायल को अपनी गोद में बैठा लिया पायल की चूतड़ों की लकीरों के बीच में मेरा लंड टकरा रहा था मेरा लंड खड़ा होने लगा था। पायल ने उसे मुंह के अंदर समाते हुए चूसना शुरू किया वह काफी देर तक लंड को चूसती रही लेकिन जब उसने मेरे लंड को अपने स्तनों के बीच में लगाना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा मैं बहुत खुश हो गया मैंने पायल को अपनी गोद में बैठाया पायल की चूत के अंदर मैंने धीरे धीरे अपने लंड को डालना शुरू किया तो उसकी चूत के अंदर तक लंड जा चुका था जैसे ही पायल की चूत के अंदर मेरा लंड घुसा तो मैंने पायल को कहा बहुत मजा आ गया। पायल मुझे कहती मुझे भी बहुत मजा आ रहा है। पायल अपनी चूतडो को ऊपर नीचे कर रही थी उसने मुझे कसकर पकड़ा हुआ था मैंने उसके स्तनों को दबाना शुरू किया और उसके स्तनो को मैं बहुत देर तक चूसता रहा उसके निप्पल को जब मैं चूसता तो वह उत्तेजित हो जाती और अपनी चूतड़ों को ऊपर नीचे करती। पायल ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया था अब वह अपनी चूतड़ों को बड़े अच्छे से ऊपर नीचे कर रही थी मैंने पायल को अपने नीचे लेटाया और उसे धक्के देने शुरू किए तो पायल बहुत ज्यादा गरम हो गई।

मेरा वीर्य बाहर की तरफ आने लगा था मेरा वीर्य जैसे ही पायल की चूत के अंदर गिर गया तो मुझे बहुत ही मजा आया मैंन पायल के बदन को बहुत देर तक महसूस किया। पायल भी कहां अपने आपको रोकने वाली थी दोबारा से हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स करने के लिए तैयार हो चुके थे। मैंने पायल के मुंह में अपने लंड को घुसाया और उसने मेरे लंड को सकिंग करना शुरू किया तो मेरा लंड खड़ा होने लगा जैसे ही मैंने पायल की चूत के अंदर बाहर अपने लंड को डालना शुरू किया तो उसे मज़ा आने लगा। दोबारा से हम दोनों एक दूसरे के साथ संभोग का आनंद ले रहे थे 10 मिनट की चूत चुदाई के बाद मेरा वीर्य दोबारा से बाहर आने को तैयार हो चुका था। मेरा वीर्य बहार आ गया मैं और पायल बहुत ज्यादा खुश हो गए मैंने इस बारे में सोचा भी नहीं था कि पायल के साथ मै कभी सेक्स कर पाऊंगा लेकिन उसकी चिकनी और कोमल चूत मारकर मुझे जो आनंद आया वह मेरे लिए एक अद्भुत फीलिंग थी। मैं इस बात से बड़ा खुश हूं कि पायल के साथ में सेक्स कर पाया।


Comments are closed.