ड्राइवर ने मुझे ठंड में कड़क माल दिलाया

Driver ne mujhe thand me kadak maal dilaya:

antarvasna, kamukta

मेरा नाम शोभित है मैं पटना का रहने वाला हूं, मेरी उम्र 35 वर्ष है, मेरी शादी को 7 साल हो चुके हैं, मेरी एक लड़की भी है उसकी उम्र 3 वर्ष है। हम दोनों पति पत्नी के बीच अब रिलेशन थोड़ा ठीक नहीं रहता इसलिए मैं काफी समय से सोच रहा था कि कहीं अकेले घूमने निकल जाऊँ, शादी से पहले मैं घूमने का बहुत शौक रखता था लेकिन जब से शादी हुई है उसके बाद से तो कहीं घूमने का भी समय नहीं मिल पाया इसी के चलते मैंने सोचा कि क्यों ना इस बार मैं कहीं घूमने का प्लान बना लूं। मैंने अकेले जाने का ही निर्णय किया था, मैंने यह बात अपनी पत्नी को भी बताई तो वह थोड़ा गुस्सा हो गई थी लेकिन मैंने उसे समझाया और कहा कि मैं भी अपनी जिंदगी जीना चाहता हूं और कुछ समय के लिए मैं अकेला रहना चाहता हूं। मैंने अपनी पत्नी को समझा दिया था इसलिए उसने मुझे ज्यादा नहीं कहा  परन्तु वह मुझसे थोड़ा गुस्सा तो थी।

मेरा जितना भी काम था वह सारा काम मैंने निपटा लिया उसके बाद मैंने शिमला जाने का निर्णय किया, मैं शिमला जाने के लिए तैयार था, मैंने पटना से दिल्ली का रूट पकड़ा क्योंकि मुझे दिल्ली किसी काम से जाना था, मैंने सोचा कि दिल्ली में मैं अपना काम कर लूंगा और उसके बाद वहां से मैं शिमला निकल जाऊंगा। मैंने अपना  बैग पैक कर लिया और मैं दिल्ली के लिए निकल पड़ा, जब मैं दिल्ली पहुंचा तो दिल्ली में मैं दो दिन रुका क्योंकि वहां मेरा काम भी था और मैंने सोचा कि मैं दिल्ली घूम भी लूं। मैंने अपना काम पूरा करने के बाद एक टैक्सी बुक कर ली और उससे ही मैं दिल्ली घूमने के लिए निकल पड़ा। ड्राइवर ने मेरी बहुत मदद की, उससे जितना संभव हो सकता था उसने उतना मुझे घुमा दिया। मैं काफी समय बाद अकेले निकला था इसलिए मैं खुश था और अपने आप को मैं बैचलर समझ रहा था, हालांकि यह सिर्फ एक कल्पना थी लेकिन मेरे लिए यह एक सुखद अनुभव था। मैं जब वहां से शिमला के लिए निकला तो मैंने दिल्ली से वोल्वो बस की टिकट ले ली और मैं बस में बैठ गया, मैं जब बस में बैठा तो मेरे साथ में कुछ लड़के भी बैठ गए, वह लोग भी शिमला जा रहे थे। मैंने उनसे पूछा क्या आप लोग भी शिमला जा रहे हैं, वह कहने लगे हां हम लोग भी शिमला जा रहे हैं।

उन्हें देखकर मुझे अपने पुराने दिन याद आ गए, मैं सोचने लगा कि हम लोग भी अपने कॉलेज के समय में किस प्रकार से घूमते थे और अपने दोस्तों के साथ कितना मजाक मस्ती किया करते थे लेकिन शादी के बाद तो जिम्मेदारियों का बोझ कंधो पर पड़ गया उसके बाद अपने लिए भी समय नहीं निकल पाता।  अपने परिवार की खुशियों को पूरा करते करते काफी समय बीत जाता है। मैंने उन लड़कों से पूछा कि तुम लोग क्या करते हो तो वह कहने लगे हम लोग कॉलेज की पढ़ाई कर रहे हैं और कुछ दिनों के लिए हम लोग शिमला जा रहे है। मैंने उनके साथ काफी देर तक बात की, जब हम लोग शिमला पहुंच गए तो मैंने वहां पर एक होटल बुक कर लिया। वहां की वादियां और वहां का मौसम मेरे लिए बहुत ही अच्छा था और मैं बहुत रिलैक्स फील कर रहा था, काफी समय बाद मुझे ऐसा लगा कि मैं अपने आप को बहुत अच्छा महसूस कर रहा हूं,   मैंने अब वहीं पर कुछ दिन रुकने का निर्णय कर लिया। मैं जब रिसेप्शन पर आया तो रिसेप्शन पर मैंने पूछा कि यहां पर कौन कौन सी जगह घूमने के लिए हैं, वहां रिसेप्शन पर बैठे व्यक्ति ने मुझे बताया कि आप हमारे होटल से कार कर लीजिए वह आपको सब जगह घुमा देगा और जितने दिन भी आप बोले वह आपके साथ रहेगा। मैंने होटल से ही एक कार को कर लिया और मेरे साथ जो ड्राइवर था वह बड़ा ही मस्त किस्म का व्यक्ति था, मैं भी खुश था मैं अपने तरीके से अपना जीवन बिताना चाहता था इसलिए मैंने उसे सब कुछ बता दिया कि मैं पटना का रहने वाला हूं और मैं कुछ दिनों के लिए अकेले घूमने के लिए निकला हूं, वह कहने लगा साहब आप चिंता मत कीजिए। मैंने उसे कहा अब तुम मेरे साथ ही रहोगे और तुम ही मुझे सब जगह घूमाओगे, वह कहने लगा ठीक है साहब। वह मेरे साथ बड़े अच्छे से व्यवहार कर रहा था, उसका व्यवहार भी मुझे बहुत अच्छा लगा। वह मुझे अपने घर पर लेकर गया, उसका घर भी शिमला के पास ही था।

जब मैं उसके घर पर गया तो मैं उसके परिवार वालों से मिलकर भी खुश हुआ, मेरे लिए यह एक सुखद अनुभव था, मैंने उस ड्राइवर से बीडी मांग ली, वह कहने लगा साहब आप कहां बीड़ी पिएंगे, मैंने उसे कहा हम भी मिडिल क्लास के हैं और बीड़ी पीने में मुझे कोई आपत्ति नहीं है, मेरा मन कर रहा है तो क्या तुम मुझे बीड़ी नहीं पिलाओगे। उसने मुझे बीड़ी दी। मैंने वह बीड़ी पी तो मुझे मेरे पुराने दिन याद आ गए, हम लोग कॉलेज के वक्त भी बहुत बीड़ी पीते थे और हमारे कॉलेज के सारे लड़के बड़े ही बडीबाज थे। मैं बीड़ी पी रहा था, वह मुझे बड़े घूर कर देखने लगा और कहने लगा साहब आपने तो अपने समय में बहुत लड़कियां चोदी होंगी। मैंने उससे कहा हां मैंने बहुत लड़कियां चोदी है लेकिन अब चूत मारने में मजा नहीं आता, कोई ऐसा माल ही नहीं मिलता जो एक नंबर का सॉलिड हो। वह मुझे कहने लगा आज मैं आपको एक गरमा गरम माल दिलाता हूं आपने ऐसा माल कभी भी नहीं देखा होगा। वैसे भी उस वक्त बहुत ज्यादा ठंड हो रही थी उसने एक लड़की को फोन किया और कहा मैं तुम्हारे पास एक कस्टमर लेकर आ रहा हूं। मैं उसकी बातें सुन रहा था वह मुझे एक कमसिन लड़की के पास ले गया।

जब मैं उस लड़की के पास गया तो मैं उसे देखकर खुश हो गया क्योंकि उसकी हाइट लगभग मेरे जितने ही थी और उसका फिगर पूरा सेप में था, मैं समझ गया आज तो मैं सेक्स का सुख भोगने वाला हूं। वह मुझे अपने कमरे में ले गई, जब हम दोनों कमरे में थे तो उसने लाइट बंद कर दी और वहां पर रखी एक मोमबत्ती उसने जलाई, जिससे कि माहौल पूरा रोमांटिक हो चुका था। वह मुझे रजाई के अंदर ले गई और उसने मेरे सारे कपड़े खोल दिए, जब उसने बिना बोले ही मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर लिया तो मैं सोचने लगा यह तो एक नंबर की रंडी है लेकिन यह तो बड़ी जबरदस्त माल है। मेरा शरीर तपने लगा था, वह मेरे लंड को ऐसे मुंह में ले रही थी जैसे कि आइसक्रीम को चूस रही हो, उसने काफी देर तक मेरे लंड का रसपान किया। जब मैंने उसे अपने नीचे लेटाया तो मैंने उसके होठों को बहुत देर तक चूसा, उसके होठों से मैंने खून भी निकाल दिया। मैंने जब उसके स्तनों का रसपान किया तो उसके स्तन बड़े ही मजेदार और गरमा गरम थे, मैंने उसके स्तनों को 5 मिनट तक चूसा जब मैंने उसकी योनि पर उंगली लगाई तो उसकी योनि में एक भी बाल नहीं था और वह बिल्कुल चिकनी थी। मैंने उससे कहा तुम मेरे लंड पर तेल लगा दो उसने मेरे लंड पर सरसों का तेल लगा लिया और जब मेरा लंड पूरा चिकना हो गया तो मैंने उसके दोनों पैर चौडे कर लिए, हम दोनों ही रजाई के अंदर लेटे हुए थे ठंड भी बड़ी जोरदार थी। जैसे ही मैंने उसकी योनि के अंदर अपने लंड को प्रवेश कराया तो वह चिल्ला उठी और कहने लगी साहब आपका लंड बड़ा ही मोटा है लेकिन मुझे आपके इस मोटे लंड को अपनी चूत में लेकर बड़ा आनंद आ रहा है। मैंने उसे बड़ी तेज गति से धक्के देने शुरू कर दिए हम दोनों पूरे गरम हो चुके थे और रजाई के अंदर हमारे पसीने छूटने लगे। मैं कभी उसके होठों का रसपान करता और कभी उसके स्तनों को अपने मुंह में लेकर चूसता मै उसे तेजी से भी चोद रहा था। मैंने उसके साथ 5 मिनट तक संभोग किया जब मेरा वीर्य पतन हुआ तो उसने कपड़े से अपनी योनि को साफ किया और मेरे लंड को भी उसने कपड़े से साफ किया। अब वह मेरे ऊपर आ कर लेट गई, उसने अपनी योनि में मेरे लंड को उतार लिया। जब मेरा लंड उसकी योनि के अंदर था तो वह अपने मुह से इतनी तेज चिल्लाती की मुझे मजा आ रहा था। मैं आराम से लेटा हुआ था और पूरे मजे ले रहा था कुछ ही मिनट बाद जब मेरा वीर्य पतन हुआ तो वह खुश हो गई। उसे मैं रात भर चोदता रहा जब ड्राइवर सुबह मुझे लेने आया तो कहने लगा साहब कैसा लगा आपको माल? मैंने उसे हजार रुपए टिप में दिए वह भी खुश हो गया।


Comments are closed.


error: