दोस्त की बहन के साथ रंग रलियाँ

Dost ki bahan ke sath rang raliyan:

hindi chudai ki kahani

मेरी कहानी पढने वाले हवसी लोगों को मेरा नमस्कार | मैं रतलाम का रहने वाला एक साधारण सा लड़का हूँ लेकिन हूँ बहुत कमीना | मेरा नाम विवेक है और दिखने में ठीक ही हूँ लेकिन हीरो आलोम से बहुत ज्यादा स्मार्ट हूँ | मेरी उम्र 24 साल है और कद काठी भी अच्छी है और मैं जिम जाता हूँ तो बॉडी भी अच्छी है | अभी मैं इंजीनियरिंग कर रहा हूँ | आज मैं आपको अपनी एक कहानी बताने जा रहा हूँ जिसमें मैंने अपने दोस्त की बहन को चोदा था | चलिए कहानी को विस्तार से देखते है |

तो ये बात है लगभग एक साल पहले की है जब मैं सेकंड ईयर में था | मेरी क्लास में एक लड़की थी आयुषी नाम की | दिखने में अच्छी थी और हमारी अच्छी दोस्ती भी थी लेकिन हम दोनों के बीच कुछ ऐसा नहीं था | एक बार आयुषी का मुझे फ़ोन आया और उसने कहा कि क्या तुम मुझे लेने आ सकते हो ? तो मैंने हाँ कर दी और उसे लेने उसके घर चला गया | आयुषी बाहर आई तभी उसकी बहन भी बालकनी में आई | उसकी बहन को देखकर मेरा तो मुँह फटा रह गया | हाय क्या लड़की थी यार ! मतलब क़यामत | उस वक़्त वो नहा के आई थी इसलिए और ज्यादा सैक्सी लग रही थी | मैं तो उसको देखता ही रह गया और वो भी बार बार देख रही थी | तभी आयुषी आई और कहा चलें ? तो मैंने कहा ठीक है चलो और हम दोनों चले गए |

मैंने आयुषी से पूछा कि वो कौन थी बालकनी में ? तो उसने बताया उसकी बहन ईशा | फिर मैंने उसको बारे में आयुषी से पूछना शुरू किया कि वो कहाँ पढ़ती है , और भी बहुत कुछ और उसका कोई बॉयफ्रेंड है या नहीं ? उसने मुझे उसके बारे में सब कुछ बताया और उसका कोई बॉयफ्रेंड भी नहीं था | ये सुनकर मेरे दिल को बहुत तस्सली मिली | फिर आयुषी ने उसके बारे में बुराई शुरू कर दी | जैसे की जो आयुषी को पसंद आता वो उसे भी चाहिए और भी बहुत कुछ लेकिन मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया क्यूंकि मैं तो उसके ख्यालों में खोया हुआ था | फिर मैंने आयुषी से कहा मैं कुछ दिन तुम्हारे घर के पास से ही जाऊंगा तो तुम मेरे साथ चलाना चाहो तो मेरे साथ चल सकती हो | तो उसने हामी भर दी और मुझे बहुत ख़ुशी हुई |

अगले दिन मैं उसे लेने घर पहुँचा तो उसकी बहन बाहर ही खड़ी थी | ले लग गयी लौटरी ! मैं उसके घर के सामने पहुँचा और ईशा से कहा आयुषी को बुला दो | तो उसने अन्दर आवाज़ लगाई दीदी तुम्हें लेने वाले आये हैं | फिर उसने मेरी तरफ देखा और मैंने हाय किया और उससे बात करना शुरू कर दिया | वो भी बड़े मज़े लेकर मुझसे बात कर रही थी और अपने बालों से खेल रही थी | दोस्तों क्या बताऊँ कितना मज़ा आ रहा था उससे बात करने में लेकिन तभी कबाब में हड्डी आयुषी आई कहा चलो चलते है| फिर आयुषी मेरे पीछे बैठी और इस बार वो कुछ ज्यादा ही चिपक कर बैठी थी, मुझे थोडा अजीब लगा लेकिन जो भी था अच्छा था | फिर हम चले गए और आयुषी रास्ते में मुझे बताने लगी की मैं ईशा से ज्यादा बात ना करूँ उसका चाल चलन ठीक नहीं है | बस मैं भी तो यही सुनना चाहता था और ये सुनकर मेरे हौसले और प्रबल हो गए |

 

अब मैं अगले दिन उसके घर पहुँचा तो ईशा फिर से दरवाज़े पे खड़ी थी | मैंने अपनी किस्मत को शुक्रिया कहा और उसके पास पहुँच गया और उससे बातें करने लगा | इस बार मैंने आयुषी को बुलाने के लिए नहीं कहा और उसने भी आवाज़ नहीं लगाई | उसने एक ढीली सी टी शर्ट पहनी थी तभी मैंने अपने हाँथ से गाड़ी की चाबी गिरा दी और वो उठाने के लिए नीचे झुक गई | उसने ब्रा नहीं पहनी थी और उसके दूध बहुत साफ़ साफ़ नज़र आ रहे थे | उसने एकदम से ऊपर देखा और मुझे उसके दूध देखते हुए देख लिया लेकिन उसने कुछ नहीं कहा | मुझे थोडा डर लगा था लेकिन उसने कुछ नहीं कहा तो सब ठीक था | फिर उसने पूछा क्या आप दीदी के बॉयफ्रेंड हो ? तो मैंने कहा नहीं ऐसा कुछ नहीं है | फिर आयुषी आई और हम चले गए | मैं आयुषी से कहा मुझे कुछ पढना है तो मैं तुम्हारे रूम में आ जाऊंगा मुझे पढ़ा देना | मुझे पता था आयुषी 5 बजे कोचिंग जाती है और 7 बजे आती है | तो मैं उसके रूम पर 6 बजे पहुँचा | तो मैंने दरवाज़ा खटखटाया तो उसकी बहन ने दरवाज़ा खोला और एक प्यारी सी स्माइल दी | फिर हम दोनों अन्दर बैठे और खूब बातें की फिर उसने कहा रुकिए मैं आपके लिए कॉफ़ी बना के लाती हूँ | वो अन्दर गई तभी मैंने आयुषी को फ़ोन लगाया और कहा आयुषी तुम फ्री हो गई क्या ? तो उसने कहा आज मेरी कोचिंग 8 बजे तक लगेगी | तुम कल आ जाना तो मैंने कहा ठीक है |

फिर थोड़ी देर में ईशा कॉफ़ी लाकर आई | जब हम दोनों साथ बैठे थे तब उसने एक जैकेट भी पहनी थी लेकिन जब वो कॉफ़ी लेकर आई तो उसने वही ढीली वाली टी शर्ट पहनी थी | तो मैंने कहा कपडे भी चेंज कर लिए तो उसने सिर्फ एक स्माइल दी और मुझे कॉफ़ी पकड़ा दी | फिर मैंने कहा तुम्हरी बहन तुमसे जलती क्यूँ है ? तो उसने कहा मैं ज्यादा अच्छी हूँ ना इसलिए | तो मैंने कहा बात तो सही है | उसने कहा जो उसे पसंद आता है वो मुझे पसंद कर लेता है | मैंने कहा जैसे ? तो उसने कहा जैसे आप | मैं समझ गया लड़की कहाँ जाना चाह रही है तो मैंने भी बात वही ले जाना शुरू कर दिया | मैंने उसकी तारीफ करना शुरू कर दिया और उससे उसका नंबर ले लिया और थोड़ी देर बाद चला गया क्यूंकि आयुषी के आने का समय हो गया था | हमारे बीच बहुत बातें हुई प्रोपोस भी कर दिया और वो मान भी गई | एक दिन मैंने उससे कहा आयुषी घर पर है क्या ? तो उसने कहा नहीं कोचिंग गई है आ जाओ |

मैं भी उसके घर पहुँच गया कंडोम लेकर | उसने जैसे ही दरवाज़ा खोला मैंने उसके दूध दबा दिए | उसने भी आँखें बड़ी करके कहा अरे आसपास का भी तो ध्यान रखो | फिर उसने मुझे अन्दर खींच लिया और हम दोनों एक दूसरे की कमर में हाँथ दाल खड़े थे तभी उसने कहा बस हो गया क्या ? तो मैंने कहा इतनी जल्दी क्या है अभी तो मैंने स्टार्ट किया है और उसे किस करना शुरू कर दिया | हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूस रहे थे और मैं उसके दूध भी दबा रहा था | फिर मैंने उसकी टी शर्ट उतारी और उसके दूध चूसने लगा | वो धीरे धीरे सिसकियाँ ले रही थी आःह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह उम्म्मम्म्म्म उम्म्मम्म्म्म उम्म्मम्म्म्म | उसके दूध ज्यादा बड़े नहीं थे नॉर्मल साइज़ ब्राउन निप्पल और बहुत सॉफ्ट सॉफ्ट थे | मैं थोड़ी देर तक उसके दूध चूसता रहा और फिर अपनी पैंट खोल दी और लंड बाहर कर दिया | उसने कहा मस्त चीज़ है तुम्हारी और लंड पकड़कर हिलाने लगी | फिर वो नीचे झुकी और चूसना शुरू कर दिया | हाय मरजावां जब वो लंड चूस रही थी मुझे इतना मज़ा आ रहा था क्या बताऊँ | थोड़ी ही देर में मेरा माल उसके मुँह में निकल गया और वो बाथरूम में मुँह धोने भाग गई |

मैं उसके पीछे पीछे बाथरूम में गया वो कुल्ला कर रही थी और मैं उसकी गांड दबा रहा था | फिर मैंने उसका पजामा नीचे कर दिया और पीछे से उसकी चूत चाटने लगा | वो खड़े खड़े आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह उम्म्मम्म्म्म उम्म्मम्म्म्म याआआआआ याआआआआअ अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह कर रही थी | थोड़ी देर में मेरा लंड फिर उठ खड़ा हुआ और फिर मैं भी खड़ा हुआ कंडोम पहना और पीछे से ही उसकी चूत में लंड डाल दिया | मैं धीरे धीरे उसको चोदना शुरू किया और वो आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हह्हह्ह्ह ह्ह्ह्हह्हह्ह्ह उह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह उह्ह्ह्हह्ह्ह्हह्ह याआआआआ याआआआअ अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह करने लगी | मैंने थोड़ी देर तक पीछे से उसको चोदा और फिर उसको घुमा दिया और उसका एक पैर उठा के उसको चूत में लंड डाल दिया और उसे चोदने लगा | वो अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्हह्ह्ह्ह उह्ह्ह्हह्ह्ह्ह यह्ह्ह्हह्ह्ह्ह य्ह्ह्हहह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह कर रही थी | करीब 20 मिनिट की चुदाई के बाद मेरा झड़ने को हुआ तो मैंने लंड बाहर निकाला और कंडोम हटा के उसकी चूत पर गिरा दिया |

फिर जब भी आयुषी कहीं जाया करती तो वो मुझे बुला लिया करती थी और हम चुदाई किया करते थे | लेकिन कुछ दिन बाद मैंने उससे ब्रेकअप कर लिया क्यूंकि आयुषी ने मुझे प्रोपोसे कर दिया था और हमारा रिलेशन अभी भी चल रहा है और मैं आयुषी को भी चोदता हूँ लेकिन वो सब फिर कभी | आशा करता हूँ आपको मेरी कहानी पसंद आई होगी |


Comments are closed.