दूर की फूफी और मेरा कुंवारा लंड 2

Door ki fufi aur mera kunwara lund 2:

desi sex kahani हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग ? मैं आशा करता हूँ की आप सभी लोग ठीक ही होगे और अपनी लाइफ में चुदाई का मज़ा ले ही रहे होगे | दोस्तों मैं सेक्सी कहानी का बहुत पुराना पाठक हूँ और मेरा नाम समीर है | मेरी उम्र 22 साल है और मैं आज सेक्सी कहानी के नये पाठको को बता देता हूँ की मैं अपनी कहानी – दूर की फूफी को अपने कुवांरे लंड से चोदने के बाद उनकी लड़की को चोदा का भाग 2 लेकर आय हूँ |

| मैं आशा करता हूँ की आप लोगो को मेरी पहली कहानी पसंद आई होगी और आप सभी लोगो को मेरी कहानी पढने में मज़ा तो जरुर आया होगा | दोस्तों मैं आज उसी कहानी का दूसरा भाग आप लोगो के समक्ष पेश करने जा रहा हूँ और इस कहानी को पढने में आप लोगो को उस कहानी से ज्यादा मज़ा आएगा |

मैं अब अपनी कहानी को आप लोगो के सामने लिखने जा रहा हूँ और आप सभी लोग मेरी कहानी को पढ़कर मज़े ले | दोस्तों जैसा की मैंने आप लोगो को उस कहानी में बताया था की मैं अपनी फूफी की चुदाई कर रहा था | अब इसके आगे की कहानी मैं बताऊंगा |

उस रात मेरी फूफी मेरे लंड की सवारी कर रही थी और उठा पटक कर रही थी जिससे उनकी बड़ी बड़ी चूचियां साथ में उछल रही थी | मैं जिनको देखकर मज़े ले रहा था और वो जोर जोर से मेरे लंड के मज़े लेती हुई चुद रही थी | वो मेरे लंड से चुदने के साथ उत्तेजित करने वाली सिसकियाँ ले रही थी | वो मेरे लंड पर ऐसे ही 10 मिनट तक उछल कूद मचाती रही जिससे उनकी चूत से पानी निकलने वाला था तो उनकी स्पीड और तेज हो गयी जिससे उनकी चूत से पानी निकल गया | अब वो उछल कूद बंद कर दिया था जिससे उनकी उछल कूद मचाती हुई चूचियां भी शांत हो गयी |

फिर वो मेरे लंड के ऊपर से उतर कर नीचे आ गया और जब फूफी ने मेरे लंड को लोहे की तरह खड़े देखा तो वो बहुत ख़ुशी हुई | फिर मेरे लंड के मज़े लेने के लिए वो बेड के सिर को पकड कर ठीक एक कुतिया की तरह खड़ी हो गयी और मुझसे अपनी गांड में लंड को घुसाने को कहा |

मैं फूफी मुझे नही पता है की कैसे करूँ | मैंने अभी तक कभी किसी की गांड या चूत में नही लंड को घुसाया है | तब फूफी ने मुझसे कहा तुम कुछ मात करो बस अपने लंड को मेरी गांड के मुंह पर रख दो | मैं फूफी के कहने के अनुसार उनकी गांड के छेद पर लंड के मुंह को रख दिया और वो अपनी गांड का दबाव मेरे लंड पर बनाया जिससे मेरा लंड उनकी गांड को फाड़ते हुस पूरा समां गया | मेरा लंड जैसे ही उनकी गांड में घुसा तो उनके मुंह से आह आह उई माई की आवाज निकल गयी और गांड से खून की धार बा की और निकल आई |

दोस्तों उनकी गांड फट चुकी थी | फिर फूफी ने मुझसे कहा की धीरे धीरे धक्के मारो और मैं फूफी के कहे अनुसार उनकी गांड में धक्के मारने लगा | मुझे फूफी की चूत से ज्यादा मज़ा तो उनकी गांड मारने में आ रहा था | मैं उनकी गांड में धीरे धीरे धक्के मार रहा था जिससे कुछ ही देर में फूफी अपनी गांड को आगे पीछे करती हुई चुदने लगी साथ में आह उह उई औच की आवाजे भी करती | मैं उनकी गांड में ऐसे ही 10 मिनट तक धक्के मारता रहा और मेरे लंड से माल निकलने वाला था |

तब मैंने ये बात फूफी को बताया और वो मेरे लंड को अपने मुंह में रख कर चूसने लगी | मेरे लंड से निकलने वाला सारा माल पी गयी | वो मेरे लंड को तब तक चूसती रही जब तक मेरे लंड की एक एक बूंद नही निचोड़ ली थी | हम दोनों लोग लेट गए और उसके कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था तो मैंने उनकी फिर से एक बार चुदाई की थी |

उस रात उधर कार्यक्रम चल रहा था रतजगा का और मैं इधर फूफी के साथ रात जग रहा था | उस रात मैंने फूफी को खुश कर दिया था इसलिए अब फूफी मुझे रोज ही चुदने लगी थी | दोस्तों शादी के दुसरे दिन की बात है जब सब लोग चले गए थे पर उस दिन फूफी नही गयी थी क्यूंकि उस रात वो मेरे लंड से चुदना चाहती थी | उस रात भी वो मेरे कमरे में आ गयी और मेरे कपडे उतारने के बाद अपने कपडे उतर दिए थे |

फिर हम दोनों सेक्स करने लगे थे पर दरवाजा मेरा थोडा सा खुला था जिससे उनकी लड़की आयेशा ने हम दोनों को सेक्स करते देखा लिया और अपनी मम्मी पर घुस्सा होने लगी और बोली अभी पापा को फ़ोन करके बताती हूँ | उस टाइम मेरी हालत क्या थी आप सभी लोग सोच नही सकते और आयेशा फूफी को धमकी दे रही थी की वो पापा को बता देगी |

फूफी आयेशा को  तरह से मानने की कोशिश कर रही थी पर वो फूफी को खुली चुनोती दे रही थी की वो पापा के घर के सब लोगो को उनकी इस करतूत के बारे में बताएगी | तब फूफी बहुत गुस्सा हुई फिर उसके बल पकडे और बेड पर पटक दिया और मुझसे दरवाजे को बंद करने को कहा |

मैं ठीक फूफी के कहने पर दरवाजा बंद कर दिया और फूफी ने मुझे आयेशा की जींस को उतारने का इशारा किया | मैं आयेशा की जींस को उतारने लगा और बहुत देर बाद उसकी जींस उतारने में कामयाब भी हुआ | दोस्तों उस टाइम आयेशा ऐसे तडफ रही थी जैसे कोई मछली बिना पानी के तडफ रही थी | कुछ ही देर में फूफी और मैंने मिलकर आयेशा को पूरी तरह से नंगा कर दिया | तब फूफी ने मुझे आयशा की चूत को चाटने को कहा और मैं उनके कहने के अनुसार आयेशा की चूत को चाटने लगा |

मैं आयेशा की कुवांरी चूत में अपनी जीभ को घुसा कर चाट रहा था और वो मुझे गन्दी गन्दी गलियां दे रही थी | वो भी नन्ही सी जान 18 साल की कमसिन जवान लड़की तब तक हम दोनों का मुकाबला करती और वो छोड़ने को कह रही थी | तब मैंने उसकी छोटी सी चूत में अपनी उँगलियाँ घुसा दी जिससे उसके मुंह से आह माई छोड़ हरामी में मार जाउंगी मुझे जाने दो |

मैं फूफी की आज्ञा का पालन करता हुआ उसकी चूत को चाट रहा था जिससे कुछ ही देर में उसका बिरोध कम हुआ और आह आह उई माई की सेक्सी आवाजे करने लगी | आयेशा ने उतने टाइम में कई मार अपनी कमर को उठा उठा कर मेरे मुंह पर अपनी चूत को मारती रही थी पर मैं भी हार नही मानी और उसकी चूत में अपनी जीभ को घुसा कर चाटता रहा था जिससे उसकी चूत मेरी गर्म जीभ का सामना नही कर पाई और अपना पानी छोड़ दिया |

आयेशा की चूत से निकलने वाला पानी नमकीन था जिसको मैं पी गया और उसकी चूत को चाट चाट कर साफ कर दिया | अब आयेशा भी गर्म हो गयी थी और लंड को चूत में लंड के लिए तैयार थी | तब फूफी ने मुझे हुकम किया की तुम इसकी चूत में लंड को घुसा दो | मैं भी उनके कहने पर एक आज्ञाकारी बच्चे की तरह आयेशा की चूत के ऊपर लंड को रख कर धीरे से घुसाने लगा | आयेशा की चूत काफी टाईट थी जिसकी वजह से मेरा लंड उसकी चूत में नही घुस रहा था पर मैंने हार नही मानी और उसकी चूत में अपने लंड को घुसा ही दिया |

मेरा लंड उसकी चूत को फाड़ते हुस पूरा अन्दर तक समां गया और उसके मुंह से जोर की चीख निकल गयी | वो मेरे लंड को बा निकलने लगी पर मैंने उसकी कमर को कस के पकड लिया और जोरदार के धक्के मारने लगा | मैं उसकी चूत में जोरदार के धक्के मार रहा था और वो भी मेरा साथ देती हुई अपनी चूत को उठा उठा कर चुदने लगी | मैं उसको ऐसे ही कुछ देर तक चोदता रहा पर फूफी मेरे लंड को अपनी चूत में लेने के लिए तडफ रही थी |

तब मुझसे बोली की तुम मेरे मेरी चूत में लंड को डाल दो ? दोस्तों अब आयेशा गर्म थी और चुदने के लिए तडपने लगी थी | फूफी मेरी यही चाहती थी की उसे भी पता चले की लंड लेने की तडफ क्या होती है | मैंने भी फूफी के कहने पर फूफी की चूत में लंड को घुसा दिया और चोदने लगा | मैं उनकी चूत में धक्के मारने लगा और वो मेरे धक्को के मज़े लेती हुई चुदने लगी साथ में आह उह उई औह की आवाजे करती थी | मैं उनको ऐसे ही ठीक पुरे 20 मिनट तक चोदता रहा और आयेशा अपनी चूत में उँगलियों को डाल कर अन्दर बाहर कर रही थी |

तब मैंने अपने लंड को फूफी की चूत से निकाल कर आयेशा के मुंह में घुसा दिया और चुसाने लगा | आयेशा ने मेरे लंड को मुंह में लेने से माना कर दिया पर मैं उसके मुंह में लंड को घुसा कर चुसाने लगा और अपने लंड का माल उसके मुंह में ही निकाल दिया | उसे मेरे लंड से निकलने वाले पानी का स्वाद अच्छा लगा इसलिए मेरे लंड को चूसने लगी |

मेरे झड़ने के बाद दोनों माँ और बेटी ने मेरे लंड को खड़ा किया और मैंने फिर से माँ और बेटी दोनों की मस्त ठुकाई की थी | उस रात मैंने दोनों को एक एक करके चोदता रहा था और वो दोनों मस्त मज़े लेती हुई पूरी रात चुदी थी |

उस चुदाई के बाद आयेशा में मेरे लंड को दीवानी हो गयी थी और मेरे लंड से चुदने के लिए वो अक्सर मेरे घर आती रहती है | मैं अब उसे भी चोदता हूँ और अपनी फूफी को भी |

ये थी मेरी कहानी | मुझे उमीद है की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी | धन्यवाद…….


Comments are closed.