डॉक्टर बनने के फायदे उठाये

Doctor banne ke fayde uthaye:

antarvasna, kamukta हाय दोस्तो, आज मैं आपको उस दिन जो मैंने किया था उसके विषय में कुछ सुनाने के लिए जा रहा हूँ | मैं एक डॉक्टर हूँ लेकिन मैं सिर्फ घुटने के दर्द दूर करने वाला डॉक्टर हूँ | एक दिन एक लड़की मेरे क्लिनिक पर आई हुई थी उस लड़की के घुटने पर दर्द हो रहा था | जब मेरा परिचय उस लड़की से हो गया तो वो लड़की मेरे घर पर भी आया करती थी | वो लड़की मेरे पड़ोस में रहती थी | वो लड़की मेरे पड़ोस में रहती थी इसलिए वो उस दिन मेरे क्लिनिक पर आई थी और मुझ से उसके घुटने के दर्द का इलाज करवा रही थी | क्योकि उस लड़की को किसी एक्सिडेन्ट के कारण उसके पैर के घुटने पर दर्द चालू हो गया था | पैर के घुटनो पर दर्द होने से कुछ आराम मिलने की वजय से वो लड़की मेरे घर पर आने लगी थी | एक दिन जब वो लड़की मेरे घर पर आई हुई थी तब मैंने उस लड़की को सरलता से चोदने की सफलता प्राप्त कर लिया |

मैं लड़की को उस दिन नंगा करके चोद रहा था | जब मैं उस लड़की को चोद रहा था तब उस दिन मेरे घर पर कोई नही था इसलिए मैंने मौका का फायदा उठाया | मौके का फायदा उठाने के लिए ही मैंने अपने घरवालो को कही बाहर भेज दिया था | मेरे घर पर मेरे पापा और मम्मी ही सिर्फ रहते थे | इसलिए जब मुझे मालूम चला की वो लड़की मुझ से मिलने के लिए और उसके पैर के घुटने का इलाज करवाने के लिए मेरे घर आने वाली है तब मैंने अपने घरवालो को कही बाहर भेज दिया था | मेरे पापा और मम्मी घर के बाहर गए हुए थे | जब वो लड़की मेरे घर पर आई हुई थी तब मैंने उस लड़की के पैर को देखा | मैंने उस लड़की के पैर को अपने हातो से पकड़ा हुआ था | उसके घुटने का दर्द धीरे धीरे जा रहा था | उस लड़की को मेरे इलाज पर भरोसा हो चूका था | जब उस लड़की को भरोसा हो चूका था तब मैं उस लड़की को मेरे घर आने के लिए कहता था | वो लड़की मेरे घर जिस दिन आई हुई थी तब मैं उस लड़की के घुटने को अपने हाथो से पकड़ा हुआ था | फिर मैं उस लड़की की चूत को पकड़ने लगे बिने उस लड़की का पजामा खोलते हुए | फिर मैं उस लड़की को अपने लंड को चुसवाने के लिए मैंने अपना पेन्ट को खोला और अपनी चड्डी से अपने लंड को बाहर निकाला | फिर मैंने अपने लंड को उस लड़की के मुह के अन्दर डाला और वो लड़की फिर मेरा लंड चूसने लगी | वो लड़की मेरे लंड को ऐसे चूस रही थी जैसे की रस मलाई हो |

कुछ समय के बाद मेरे लंड से असली का रस मलाई निकलने लगा मतलब मेरे लंड से माल बाहर आने लगे | जब माल बाहर गिर रहा था तब उस लड़की ने मेरे लंड को चुसना रोक दिया | कुछ समय के बाद फिर मैंने अपना गिला चिप चिप्पा लंड उस लड़की के चूत में डाल दिया | जब मैं अपना लंड उस लड़की के चूत के अन्दर हिला रहा था | तब मेरा गिला चिप चिपा लंड उस लड़की के चूत के अन्दर धीरे धीरे घुस रहा था | मेरे लंड में चिकनाई आ गयी थी इसलिए मैं उस लड़की को आसानी से चोद पा रहा था | चुदाई करने के दौरान मैंने उस लड़की के कपडे उतार दिया था | कपडे उतारने के बाद जब वो लड़की नंगी बिना किसी कपडे के थी तब मैं उस लड़की के दूद को पी रहा था |

कुछ समय तक तो मैं उस लड़की के दूद को पिता रहा | फिर उस लड़की के दूद को पीने के बाद मैंने उस लड़की के गाड के अन्दर अपने लंड को डाल दिया | कुछ समय चली इस चुदाई ने मुझे वो दिया जिसके लिया मैंने उस लड़की को अपने घर पर बुलाया था | फिर वो लड़की मुझ को छोडकर चली गयी और मेरे पास उस लड़की का फोन नम्बर था इसलिए मैं आसानी से उस लड़की को कभी भी बुला सकता था | उस लड़की को मुझ पर भरोसा था इसलिए वो लड़की कभी भी मेरे घर पर आ जाती थी | एक दिन जब अपनी क्लिनिक पर बैठा हुआ था तब उस लड़की ने मुझे बताया की उसकी एक परिचित की सहेली को घुटने पर दर्द हो रहा है क्योकि वो सीडी से गिर गयी है | तब वो मेरे पड़ोस की लड़की मेरे क्लिनिक पर आई हुई थी और उसने उसकी सहेली को भी मेरे क्लिनिक पर लाई थी | उस लड़की की सहेली से मेरा पहचान हो गया तब उस लड़की की सहेली अकेले मेरे क्लिनिक पर आने लगी | उस लड़की को फिलहाल उसका इलाज करवाना था इसलिए वो लड़की मेरे क्लिनिक आने लगी थी क्योकि वो लड़की कुछ दिन पहेले सीडी से गिरी थी | सीडी से गिरने पर उस लड़की के घुटने पर चोट आ गयी थी जिसके वजय से उस लड़की को मेरे क्लिनिक पर आना पडता था |

कुछ दिन के बाद उस लड़की की सहेली को आराम मिलने लगा | उस लड़की को उसकी चोट से राहत मिलने लगी तब उस लड़की की सहेली को मुझ पर भरोसा हो गया | जब भी लोग मेरे पास उनके घुटने का इलाज करवाने के लिए आया करते थे | उनको मेरी दिए हुए इलाज से राहत मिल जाती थी इसलिए उनको मुझ पर भरोसा हो जाता था | एक दिन उस पड़ोस वाली लड़की ने मेरे घर पर उसके मामी को लेकर आई हुई थी क्योकि उसकी मामी के घुटने पर दर्द हो रहा था | दर्द की वजय से उसकी मामी आसानी से चल नही पा रही थी | उस लड़की ने जब उसकी मामी को मेरे घर पर लाई थी तब मैंने उसकी मामी के घुटने का इलाज शुरु किया | वो लड़की और उसकी मामी मेरे पड़ोस पर रहती थी इसलिए उस लड़की की मामी आसानी से मेरे घर पर आ जाती थी | एक दिन जब मेरे घर पर मेरी मम्मी और पापा घर पर नही थे तब मैंने उसकी मामी को आसानी से चोदा | मेरे इलाज से उस लड़की की मामी को आराम मिलने लगा था इसलिए उसकी मामी मेरे घर पर आ जाती थी | एक दिन जब मेरे घर पर कोई नही था | तब मैंने उस लड़की की मामी को चोदने की योजना बनाई | फिर मैं उस लड़की की मामी को चोदा जब मेरे घर पर कोई नही था | चुदाई शुरु करने से पहेले मैंने उस लड़की की मामी के घुटने को अपने हातो से पकड लिया और फिर मैं उनके घुटने को अपने हाथो से दबा रहा था तभी मैंने उस लड़की की मामी के दूद को दबाना शुरु किया | फिर मैं उस लड़की की मामी की चूत को चाटना शुरु कर दिया |

जब मैं उस लड़की की मामी की चूत को चाट रहा था | तब मैंने पाया की उस लड़की की मामी के चूत में झाट के बाल उगे हुए है | फिर मैं उस लड़की की मामी के झाट के बाल को हटाकर अपना लंड उसकी चूत के अन्दर घुसेड दिया | कुछ समय तक तो ये चलता रहा | जब मैं उसकी मामी को चोद रहा था तब मेरे लंड से वीर्य गिरना शुरु हो गया और फिर मैंने अपने लंड को उसकी मामी को चूसने के लिए दिया | उसकी मामी मेरे लंड को देर तक चुस्ती रही | जब मैं उस लड़की की मामी को चोद रहा था तभी वो लड़की आ गई और वो दरवाजे पर खड़ी हो कर मामी कह रही थी | मैं उस समय चोद रहा था और उसकी मामी की लडकी दरवाजे पर थी | इसलिए मैंने उसकी मामी से कहा की आज के लिए इतना ही जब आप फुर्सत में रहोगे तब मुझ से मिलने के लिए आना | उसकी मामी को कपडे पहनने में देरी हो रही थी इसलिए मैंने तब तक दरवाजा नही खोला जब तब उस लड़की के मामी ने कपडे नही पहन लिए थे |

जब उस लड़की की मामी ने कपडे पहन लिए तब वो लड़की मेरे घर के अन्दर आ गई | उस लड़की को मैंने बताया की मैं उसकी मामी का इलाज कर रहा था | इलाज करने के दौरान मैंने दरवाजा बन्द कर लिया था | उस लड़की को मुझ पर भरोसा हो गया था इसलिए उस लड़की ने फिर मुझ से कहा हा चलते है | फिर वो लड़की उसकी मामी को लेकर मेरे घर से बाहर चली गयी | मैं उस लड़की की सहेली का इलाज कर रहा था तब उस लड़की की सहेली को अपने क्लिनिक में चोदा | वो लड़की सीडी से गिरी थी इसलिए उस लड़की के इलाज में थोडा समय लग रहा था | इसलिए उस लड़की की सहेली महीने में एक सप्ताह तक मेरे क्लिनिक आया करती थी | एक दिन उस लड़की की सहेली इलाज करवाने के लिए मेरे क्लिनिक आई हुई थी | वो एक सप्ताह तक मेरे क्लिनिक आया करती थी |

एक दिन वो लड़की मेरे क्लिनिक पर आई हुई थी | तब मैंने उस लड़की को चोदने की योजना बनाई | क्लिनिक में उस लड़की का इलाज करने के दौरान मैंने उस लड़की के दूद को दबाना शुरु कर दिया था | उस लड़की को कोई फर्क नही पड़ा | उस लड़की ने मेरे साथ दिया | वो लड़की फिर मेरे होटो को चूमने लगी | कुछ समय के बाद उस लड़की ने उसके कपडे उतार दिया और फिर वो लड़की नंगी हो चुकी थी | तब मैंने उस लड़की की चूत की चुदाई करने के लिए अपने लंड को घुसेड दिया | कुछ समय के बाद मेरे लंड से मलाई निकलने लगा | जब मेरा लंड मलाई की उलटी करने लगा तब उसकी चूत पर मेरे लंड इतनी आसानी से घुस रहा था जैसे की मेरे लंड पर तेल लग गयी थी | फिर मेरे लंड से निकले मलाई की सहायता से मैं उस लड़की का मसाज किया | जब मैं उस लड़की का मसाज कर रहा था तब मैं अपने लंड से मलाई निकाल रहा था | जब मैंने उस लड़की को चोद लिया था तब मैंने उस लड़की से कहा की आज के लिए इतना ही | फिर वो लड़की उसके घर चली गयी | मेरे पास कई लडकिया आती है | जो की मेरे पास इसलिए आते थे क्योकि उनके घुटने पर दर्द होता था | दर्द से आराम पाने के लिए लोग मेरे पास आते थे | काफी लोग मेरी दी हुई दवाई से आराम पा लेते थे | आराम पाने के लिए लोग मेरा फोन नम्बर ले लेते थे | जब कोई मेरे क्लिनिक तक नही आ पाता था तब वो लोग मुझे फोन लगाते थे | उनका फोन आने पर मैं उनके घर जाता था | उनका इलाज करने के लिए मैं उनके घर जाया करता था |


Comments are closed.