कंपनी में मेनेजर को प्यार के जाल में फसा के चोदा

Company me manager ko pyar ke jaal me fasa ke choda:

जो मेरी कहानी पढ़ रहा है उसको मेरा नमस्कार | मैं एक छोटे से गाँव बरेला का रहने वाला हूँ | ये गाँव मध्य प्रदेश में है और मेरा पूरा परिवार वहीँ रहता है | मैं अपने परिवार का इकलौता लड़का हूँ और मेरा नाम है संदीप सिंह | मेरे पिता जी खेती के साथ साथ शहर में दूध का धंधा भी करते है तो हमारे घर में पैसे की कोई कमी नहीं है | मैं पढाई में बहुत सीरियस हूँ और मैंने शहर के ही एक अच्छे कॉलेज से इंजीनियरिंग करी है | उसी कॉलेज से मेरा एक कंपनी में सिलेक्शन हुआ था और मैं वहां काम करने चला गया | ये कंपनी दिल्ली में है और मैंने वहां पर अपनी सीनियर मैनेजर को चोदा था उसी के केबिन में | तो पेश है मेरी कहानी |

ये कहानी है जब मैं कंपनी में काम करने गया और मैंने कंपनी में 2 साल का बौंड भरा था तो मैं 2 साल तक कंपनी नहीं छोड़ सकता था | फिर एक बार मुझे मेरी नई मैनेजर ने बुलाया तो मैं उनके कैबिन में गया | तब वो झुक कर अपनी गिरी हुई फाइल उठा रही थी तभी मैं वहां पहुंचा और उसकी गांड देखने लगा | उसने स्कर्ट पहनी थी और उसके पैर जो कि एकदम चिकने थे जिनको देख कर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था | तभी वो उठी और कहा यस, तो मैंने कहा मैडम मैं संदीप हूँ | तो वो बोली हाँ बैठो और मैं वहीँ कुर्सी पर बैठ गया और मैडम को देखने लगा | उसने शर्ट पहनी थी तो उसके दूध अच्छे से झलक रहे थे और उसका फिगर बहुत स्लिम ट्रिम था | वो थोड़ी सी भूरे रंग की थी पर उसका फेस कट बहुत अच्छा था इसलिए वो बहुत सैक्सी लग रही थी |

फिर उसने कुछ काम कि बातें बताई और मैं चला गया | मैं बाहर आकर अपने दोस्त से पूछा कि ये कोई नई आई है क्या ? तो उसने कहा कि हाँ उसका नाम साक्षी है और उसका डाइवोर्स भी हो चूका है | इतना जान कर मैं वापस आ गया और अपना काम करने लगा | फिर एक बार उसने मुझे फिर से कैबिन में बुलाया और कहा कि तुम इस फाइल को देख कर बताओ कि इसमें क्या प्रॉब्लम है और फिर वो उठ कर मेरे पास आ गई | वो मेरे बाजू वाली कुर्सी पर बैठी और कहा देखो तो मैं उसकी आँखों में देखने लगा और खो गया | तो मैडम ने कहा कि मुझे नहीं फाइल को देखो और हलके से मुस्कुराने लगी | तो मैंने फाइल में एक जगह ऊँगली रही और कहा मैडम यहाँ कुछ गलती है तो उसने मेरा हाँथ पकड़ा और कहा कि अच्छा ये बात है | फिर उसने कहा थैंक यू संदीप और मैं चला गया |

फिर कुछ दिन बाद मैं उसके कैबिन गया तो देखा कि वो अपनी चूत में ऊँगली डाल रही थी पर वो टेबल के पीछे थी इसलिए मुझे कुछ नहीं दिखा | मुझे देख कर वो हडबडा गई और हवस भरी आवाज़ में कहा हाँ संदीप आओ अन्दर | मैं अन्दर गया और उनको फाइल दी तो वो उठी और मेरे पास आकर झुकी और कहा कि ये इसमें गलत है | पर मैं उसके दूध देखने में खोया हुआ था और वो भी मना नहीं कर रही थी | फिर मैंने कहा कि मैडम अपने कुछ कहा तो वो मुस्कुराते हुए बोली ये | तो मैं फिर उसके दूध देखने लगा और कहा, हाँ कहाँ, तो उसने मेरा सिर झुकाया और कहा कि वहां नहीं, यहाँ | तो मेरी गांड फट गई और फिर मैंने कहा कि जी मैडम ठीक हो जाएगा और वहां से चला गया | उस दिन जब मैं छुट्टी में घर जा रहा था तो वो मेरे आगे चल रही थी और हमारे बीच में ज्यादा दूरी नहीं थी | तभी वो एकदम से रुकी और मेरा एक हाँथ उसकी कमर पे और एक हाँथ उसकी गांड पे लग गया और मैंने उसकी गांड दबा दी | जैसे ही वो पीछे पलटी तो मैंने कहा कि मैडम सॉरी वो गलती से हो गया | तो मैडम मेरे बहुत करीब आ गई और कहा कि कोई बात नहीं संदीप तुम्हारे लिए कुछ भी |

फिर उस दिन रात को करीब 11:30 बजे साक्षी मैडम का फ़ोन आया और उनने कहा कि मुझे कुछ काम की बात करनी थी, तुम अभी फ्री हो क्या ? तो मैंने कहा हां मैडम | तो हमने काम की बातें करी और फिर उसने पूछा कि क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है क्या ? मैंने कहा कि नहीं मैडम क्यों | तो उसने कहा कुछ नहीं ऐसे ही | फिर उसने कहा कि तुम्हे कंपनी में कोई प्रॉब्लम है क्या ? मैंने कहा नहीं मैडम | फिर उसने पूछा कि तुम्हे कंपनी में सबसे अच्छा कौन लगता है ? तो मैंने ऐसे ही कह दिया कि मैडम आप ही अच्छी लगती हो | मैडम हसने लगीं और कहा कि क्या तुमने कभी किसी लड़की के साथ कुछ कुछ किया है ? तो मैंने कहा नहीं मैडम | तो उसने कहा ठीक है कल मेरे कैबिन आ जाना काम है और फिर फ़ोन रख दिया |

अगले दिन मैं उसके कैबिन में गया तो वो कुछ काम रही थी तो उसने कहा कि हाँ संदीप आओ बैठो इधर | इस बार मैं उसकी बाजू वाली कुर्सी पर बैठा और उसे देखने लगा | तो उसने कहा बस देखते ही रहोगे और मेरे पैर पर हाँथ रख दिया | फिर वो उठी और दरवाज़े की कुंडी लगा दी | फिर वो मेरे पास आई और कहा कि क्यों क्या करना चाहते हो ? मैंने डरते हुए कहा कुछ नहीं मैडम | तो वो बोली, कुछ नहीं, सच में और मेरे करीब आ कर मेरे होंठों पर अपने होंठ रखे और मुझे किस करने लगी | मुझे अन्दर से डर लग रहा था इसलिए मैं उसको ठीक से किस नहीं पा रहा था | उसने स्ट्रॉबेरी फ्लेवर वाली लिपस्टिक लगाई थी तो मुझे उसका टेस्ट बहुत अच्छा लग रहा था | फिर उसने मुझे छोड़ा और कहा क्या हुआ ? मैंने कहा मैडम वो मुझे मैं …. | तो उसने कहा अरे जानू डरो मत कुछ नहीं होगा और मुझे फिर से किस करने लगी | इस बार मैं भी उसे किस करने लगा और उसके होंठों का रस चूसने लगा | अब वो मेरे गले में किस करने लगी और मेरे से जमके के चिपक गई |

मैं भी पीछे से उसकी गांड पे हाँथ फैराने लगा और दबाने लगा | फिर उसने मेरे शर्ट के बटन खोले और मेरे सीने को किस करने लगी और चाटने लगी | मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और हलकी हलकी सी गुदगुदी भी लग रही थी | फिर उसने मेरे लंड को मेरी पैन्ट के ऊपर से दबाना शुरू किया और कहा कि ये तो बड़ा लग रहा है | फिर उसने मेरी पैन्ट उतारी और कहा कि वाह ये तो बड़ा है आज मज़ा ही आ जायेगा | इतना बोल कर उसने मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर हिलाना शुरू कर दिया | फिर उसने मेरे लंड के टोपे को मुंह में डाला और उसे चूसने लगी | वो मेरा लंड ठीक से नहीं चूस रही थी तो मैंने उसका सिर पकड़ा और उसके मुंह में अपना लंड अन्दर तक डालने लगा | फिर मैंने उसको छोड़ा और कहा ऐसे करो और उसने मेरे लंड को जमके चूसा | फिर वो मेरी गोटियों को भी चूसने लगी और लंड हिलाने लगी |

फिर मैंने उसको उठाया और किस करते हुए उसके दूध दबाने लगा | फिर मैंने उसकी शर्ट के बटन खोले और उसकी ब्रा को उठा दिया | उसके दूध बड़े और ताने हुए थे जैसे कि रोज इसकी मालिश करती हो | उसके दूध भी उसके रंग के थे और निप्पल काले थे | फिर मैंने उसके दोनों दूध को अपने हाँथ में लिया और दबाने लगा | उसके दूध बहुत ही मुलायम थे और उनको दबाने में बहुत आनंद आ रहा था | फिर मैंने उसके दूध को चुसना शुरू किया तो उसने ऊम्म्म उम्म्म की आवाजें निकालना शुरू कर दी | मैं उसके निप्पल को चूस रहा था और उसकी गांड को दबाए जा रहा था |

फिर मैंने उसको टेबल पर बैठाया और उसकी स्कर्ट उठा के उसकी चूत मलने लगा | फिर मैंने उसकी पैंटी उतारी और उसकी चूत चाटने लगा | उसकी चूत बिलकुल चिकनी थी जैसे कि आज ही शेव करी हो | मैंने उसकी चूत चाटी और खड़ा होकर उसकी चूत में अपना लंड घिसने लगा | तो वो बोली कि अब डाल भी दो तो मैंने अपना लंड अन्दर डाल दिया और उसने एक बड़ी सी सिसकारी ली | मैंने उसको 15 मिनिट ऐसे ही चोदा और फिर उसको खड़ा करके पीछे से उसकी चूत मारने लगा | मैंने फिर 10 मिनिट और चुदाई करी और फिर मुझे लगा कि मेरा मुट्ठ निकलने वाला है | तो मैंने उसको बैठाया और लंड हिलाने लगा | फिर मेरा मुट्ठ निकला तो उसके मुंह में जा गिरा तो उसने मेरा मुट्ठ पी लिया | फिर उसके बाद हमने कई बार चुदाई करी कभी ऑफिस में तो कभी रूम में और एक बार तो मैंने उसकी गांड भी मारी थी वो फिर कभी बताऊंगा |


Comments are closed.