क्लासमेट की कुँवारी चूत के मज़े लुटे

Classmate ki kunwari chut ke maje lute:

desi sex stories, hindi porn kahani

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम राज है | मैं हरियाणा का रहने वाला हूँ मेरी उम्र 25 साल है | आज मैं आप सब के सामने एक सच्ची कहानी लेकर आया हूँ जो की मेरे जीवन की सबसे हसीं यादगार है जिसे मैं कभी नहीं भूल सकता | ये कहानी उस समय की है जब मैं 10वीं कक्षा में पढता था | मेरी क्लास में शिल्पी नाम की लड़की थी | जो की दिखने में बहुत मस्त और आकर्षक लगती थी | उसकी उठी हुई गांड देखकर मेरा मन हमेशा उसकी चुदाई करने को करता था | मैं हमेशा उसको चोदने का मौका ढूंढता रहता था | उसके मस्त बूब्स देखकर तो किसी का भी लंड खड़ा हो जाये पर वो भी मुझे पसंद करती थी | मैं उसे जब भी देखता वो हमेशा मुझे एक प्यारी सी स्माइल देती थी | एक दिन बड़ी हिम्मत करके मैंने उसको बोल दिया की मैं तुमको प्यार करता हूँ | उसने भी मुझको जवाब में कहा की वो भी मुझे प्यार करती है | फिर हम दोनों की प्रेम कहानी सुरु हो गयी |

हम दोनों ने अपने नंबर एक्सचेंज किये और हम दोनों की रोज बात होने लगी | मैं उससे कभी-कभी मजाक में गन्दी बात भी कर देता पर वो बुरा नही मानती थी | फिर हम दोनों धीरे-धीरे फोन सेक्स करने लगे | हम दोनों रोज साथ में कॉलेज जाते थे और साथ ही में वापस आते थे | एक दिन की बात है हम दोनों सुबह कॉलेज जड़ी पहुच गए | हमने देखा कॉलेज में कोई नहीं आया था | मैंने एक खाली क्लासरूम देखा और मैं शिल्पी को उस क्लासरूम में ले गया | मैंने उसे पकड़ा और किस करने लगा | वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी मैं उसको किस किये जा रहा था | मैंने अपना एक हाँथ उसके बूब्स पर रख दिया और उसके बूब्स दबाने लगा | वो मदहोश होने लगी | मैंने उसको किस करते- करते अपना हाँथ उसकी सलवार के ऊपर से उसकी चूत पर रख दिया और सहलाने लगा | उसके मुहँ से आह्ह्ह ओह्ह की सिसकियाँ निकलने लगी तब तक मैंने किसी के आने की आवाज़ सुनी हम दोनों ने अपने कपडे ठीक किये फिर अपने क्लासरूम में चले गए | मेरा लंड एक दम खड़ा हो चूका था मैंने कॉलेज बाथरूम में जाकर मुठ मारी तब जाकर मेरा लंड शांत हुआ |

उस दिन से मैं उसको चोदने के दिन रात सपने देखने लगा | पर हमें सही जगह नहीं मिल रही थी | एक दिन की बात है मेरे मम्मी-पापा किसी की शादी में जा रहे थे और वो अगली सुबह वापस लौटने वाले थे | मैंने सोचा की शायद आज काम बन जाये | मैंने शिल्पी को फोन किया और उससे कहा की वो मेरे घर आ जाये | शिल्पी ने मुझसे कहा की मैं अपने घर वालों को क्या बताऊँ | मैंने कहा की उनसे कह दो की मैं अपने फ्रेंड रजनी की बर्थडे पार्टी में जा रही हूँ उसने ऐसा ही किया | उसने अपनी फ्रेंड रजनी को फोन करके बता दिया की वो मेरे घर जा रही है | अगर उसके मम्मी-पापा का फोन आये तो वो सम्हाल ले | फिर वो मेरे घर पहुची उसने दरवाज़ा नोक किया | मैंने जाकर दरवाज़ा खोला वो क्या कमाल की लग रही थी | उसने ब्लैक जींस और येल्लो टॉप पहन रखा था | जिसमे से उसके बूब्स और भी मस्त लग रहे थे | उसको देखते ही मेरा तो कंट्रोल खोने लगा | फिर मैंने अपने को सम्हाला और फिर मैंने दोंनो के लिए खाना लगाया | हम दोनों ने साथ में बैठकर खाना खाने लगे | वो मुझे एक दम कातिल नजरो से देख रही थी | मन तो कर रहा था की उसे वही गिरा कर चोद दूं पर मैंने सोचा की आज पूरी रात तो वो मेरे साथ ही रहेगी | इतनी जल्दी ठीक नहीं था | हम दोनों ने खाना खाया फिर मैंने उसको अपना पूरा घर दिखाया |

उसके बाद मैं उसको अपने बेडरूम में ले गया | मैंने अपने बेडरूम को सजा रखा था | जैसे की की मेरी सुहागरात हो | वो सजे हुए कमरे को देख कर बहुत खुश हुई | और मेरे गले लग गयी उसने मुझसे कहा की आज मैं बहुत खुश हूँ | मैंने कहा की आज मैं भी बहुत खुश हूँ आज हम दोनों का मिलन होने से कोई नहीं रोक सकता फिर मैंने उसके गर्दन पर किस किया और उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख कर उनको चूसने लगा | वो भी बड़े प्यार से मेरे होंठों को चुश रही थी | मैंने उसको अपनी गोद में उठाया और ले जाकर बेड पर लिटा दिया | और उसको जोर से किस करने लगा और उसकर बूब्स को अपने हांथों से सहलाने लगा फिर मैंने उसका टॉप उतार दिया | उसने नारंगी कलर की ब्रा पहन रखी थी | जिसमें उसके एकदम गोरे बूब्स संतरे की तरह लग रहे | मैंने उसकी ब्रा को खोल कर अलग किया | उसके बूब्स बहुत टाइट थे मैं उनको अपने हाँथ में पकड़ कर दबाने लगा | वो गरम होने लगी थी | उसने मेरी टी-शर्ट निकाल कर फेंक दी और मेरे बदन को चूमने लगी उसके बाद उसने मेरी पैंट निकाल दी और मेरी अंडरवियर से मेरे लंड को बाहर निकाल लिया और उसको अपने मुहँ में लेकर चूसने लगी मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था |

वो मेरे लंड को बिलकुल लोलीपॉप की तरह चूस रही थी | आजतक मेर्फे लंड को किसी ने ऐसे नहीं चूसा था | मैं उसके मुहँ में धाक्के लगाने लगा और उसके मुहँ को चोदने लगा | उसने मेरे लंड को 15 मिनट तक चुसा मैं झड़ने वाला था मैंने कहा की अब मैं झड़ने वाला हूँ तो वो मेरे लंड को और जोर से चूसने लगी थोड़ी देर बाद मैं उसके मुहँ में ही झड गया | वो मेरा सारा वीर्य गटक गयी और मेरे लंड को चाट कर साफ़ किया | फिर मैंने उसकी जींस निकाल दिया और उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर किस किया | वो मदहोश होने लगी मैंने उसकी पैंटी निकाल कर उसकी चूत पर अपना मुहँ रख दिया और उसको चाटने लगा | वो अपने हाँथों से मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगी और उसके मुहँ से जोर-जोर से आह्ह उम्ह्ह्ह ओह्ह्ह इश्ह्ह येह्ह की आवाजे निकलने लगीं थी | मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी और उसकी चूत में जीभ घुसाने लगा उसे बहुत मज़ा आ रहा था | वो जोर से कह रही थी चाटो इसे और चाटो खा जाओ इसे मुझे आज तक इतना मज़ा कभी नहीं आया | फिर थोड़ी देर बाद वो झड गयी | मैंने उसका सारा पानी चाट कर साफ़ किया | उसका पानी नमकीन था | मैंने उसकी चूत में अपनी ऊँगली डाल दी | वो चीख पड़ी उसकी चूत बहुत टाइट थी | मैंने फिर अपने लंड को उसके मुहँ में दे दिया | वो मज़े से मेरे लंड को चूसने लगी और मेरे लंड को चूस कर खड़ा कर दिया | मैंने उसकी दोनों टांगो को फैलाया और उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ने लगा | वो पागल होने लगी उसने मुझसे कहा की प्लीज अब मुझे मत तडपाओ मुझसे अब बर्दास्त नहीं हो रहा डाल दो अपना लंड मेरी चूत में फाड़ दो मेरी चूत | उसकी बातें सुनकर मेरा लंड और कड़ा हो गया फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत में एक झटके में डाल दिया | उसके मुहँ से चीख निकल पड़ी | मैंने अपने होंठ उसकी होंठो पर रख दिए और उसको जोर से किस करने लगा | उसे बहुत दर्द हो रहा था | मैं उसके मम्मे मसलने लगा और उसको किस करने लगा तब जाकर वो कुछ शांत हुई | उसकी चूत से खून निकल रहा था | मैं समझ गया की वो अब तक वर्जिन थी | मैंने उसकी चूत में अपना लंड फिर से डाला और धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा | अब उसे भी मज़ा आने लागा था वो भी कमर उचकाकर मेरा पूरा साथ दे रही थी | फिर मैंने लगभग उसकी 20 मिनट तक उसकी चूत मारी और फिर हम दोनों झड गए |

हम दोनों कुछ देर एक दुसरे के ऊपर पड़े रहे और एक दुसरे को किस करते रहे | हम दोनों का थोड़ी देर में फिर मूड बन गया | मै नीचे लेट गया और उसको अपने ऊपर आने को कहा उसने आकर मेरे लंड को अपनी चूत पर सेट किया और बैठ गयी | मैंने ढकी लगाने सुरु किये वो भी पूरे मजे के साथ उछल-उछल कर मेरा लंड ले रही थी और अपने मुहँ से आह्ह्ह ओह्ह्ह चोदो मुझे जोर से और जोर से लूट लो मेरी जवानी के मजे मेरी चूत को फाड़ कर भोसड़ा बना दो आज तक मैं इस सुख से अनजान थी | आज तक मेरी चूत किसी ने नहीं मारी आज तुम मेरी चूत की प्यास बुझा दो मेरे राजा आज से ये चूत तुम्हारी है कहकर आवाज़े निकाल रही थी इस बार मैंने उसकी 25 मिनट तक उसकी चुदाई की फिर वो झड गई | पर मेरा लंड अब तक नहीं झाडा था | मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाल कर उसके मुहँ में दे दिया और चूसने को कहा | वो मेरे लंड को चूसने लगी और मैं उसके मुहँ में झड गया | उस रात मैंने उसकी 4 बार चुदाई की | वो सुबह सही से चल नहीं पा रही थी | मैंने उसको दावा लाकर दी फिर वो अपने घर चली गयी | उसदिन के बाद हमें जब भी मौका मिलता था हम सेक्स किया करते थे और एक दुसरे की प्यास बुझाया करते थे |


Comments are closed.