चूत के साथ बहार आ गयी

Chut ke sath bahar aa gayi:

sex stories in hindi, desi porn kahani

मेरा नाम सूरज है और मैं दिल्ली का रहने वाला एक नौजवानों युवक हूं। मेरी उम्र 24 वर्ष है और मैंने अभी-अभी नई नौकरी ज्वाइन की है। मैंने जिस ऑफिस में नौकरी की है वहां पर एक लड़की मुझे बहुत ही पसंद है। उसका नाम शीला है। उसकी उम्र भी 30 वर्ष के आसपास है लेकिन वह मुझे बहुत ही ज्यादा पसंद है। मैं कई बार उससे बात करने की कोशिश करता हूं लेकिन उससे मेरी कभी अच्छे से बात नहीं हो पाती। मुझे यहां पर काम करते हुए 6 महीने हो चुके हैं। हमारे बॉस उनका नाम अजय है। उनकी उम्र भी 35 वर्ष के लगभग है। वह भी एक अच्छे व्यक्ति हैं। वह हमें काम में बहुत ही मदद करते हैं और हमेशा कहते रहते हैं कि अपने काम में अच्छे से ध्यान दिया करो। जिससे कि मुझे भी बहुत अच्छा लगता है। अब मैं शीला के पीछे पढ़ा हुआ था। मैं कोई ऐसा मौका देख रहा था जिससे मैं उससे बहुत ही अच्छे से बात कर सकूँ। एक दिन मैंने उससे बात की तो उसने भी मुझसे बात की। उस दिन उसने मुझसे बहुत ही ज्यादा बात की।

अब हमारी भी बातें भी अच्छे से होने लगी थी। जब भी वह ऑफिस आती तो हमेशा मुझसे बात किया करती। उसके बाद अपना काम करने लग जाती और मैं ऐसे ही उससे बात करना चाहता था। एक दिन मुझे मेरे दोस्त ने बताया कि शीला का चक्कर हमारे बॉस अजय के साथ है लेकिन मुझे विश्वास नहीं हुआ। मैं उससे कहने लगा की तुम झूठ बोल रहे हो लेकिन वह तो सच बोल रहा था। मैंने इसके बारे में पता लगाने की कोशिश की। मैं जब भी शीला से इस बारे में बात करता तो वह इस बात से मुकर जाती और कहती कि अजय सर से मेरे बहुत ही अच्छे संबंध हैं। वह एक नेक इंसान है। एक दिन जब वह अजय सर के केबिन में थी तो मैंने उन दोनों को देख लिया। वह दोनों बहुत ही हंसते हुए बात कर रहे थे। अजय सर ने शीला का हाथ भी अपने हाथों में लिया हुआ था। जिससे कि मुझे थोड़ा शक हुआ लेकिन वह दोनों ऑफिस में किसी को भी पता नहीं चलने देते थे कि उन दोनों का आपस में रिलेशन है। इस वजह से मुझे कई समय बाद इसकी जानकारी हुई।

एक दिन जब शीला मेरे साथ बैठकर लंच कर रही थी तो मैंने ऐसे ही बातों में उससे पूछ लिया, क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है। या तुम्हारे घरवाले तुम्हारी शादी के लिए कोई लड़का देख रहे हैं। वह कहने लगी कि ऐसी कोई बात नहीं है। ना तो मेरा कोई बॉयफ्रेंड है और ना ही मेरे घर वाले लिए शादी के लिए कोई लड़का ढूंढ रहे हैं। मैंने उसे कहा कि ऐसा तो हो ही नहीं सकता। तुम इतनी सुंदर और इंडिपेंडेंट लड़की हो। तुम्हारा तो पक्का कोई ना कोई बॉयफ्रेंड होगा। वह अब भी मुझे कुछ नहीं बता रही थी। बातों ही बातों में मैंने उससे अजय सर के बारे में बात छेड़ दी और उससे पूछा की अजय सर तुम्हें कैसे लगते है। वह कहने लगी कि अजय सर तो बहुत ही अच्छे और शरीफ इंसान हैं। लेकिन फिर भी उसने यह बात एक्सेप्ट नहीं की, की अजय सर से उसका कोई संबंध है। वह कहने लगी कि मेरा कोई भी बॉयफ्रेंड नहीं है। वह मुझ से भी रिलेशन बना कर रखना चाहती थी। क्योंकि उसके दिल में मेरे लिए भी कुछ था और अजय सर के साथ भी उसका रिलेशन चल रहा था लेकिन मैं नहीं चाहता था कि मैं उससे रिलेशन रखू। क्योंकि वह मेरे साथ तो टाइम पास कर रही थी। या फिर अजय सर के साथ ही टाइम पास कर रही हो लेकिन मैं यह बात अजय सर को भी नहीं बताना चाहता था और हम दोनों का ऐसे ही रिलेशन चल रहा था। वह अजय सर से भी बहुत ही हंस के बात करती थी और मुझसे भी बहुत ही अच्छे से रिलेशन चला रही थी।

मैंने सोच लिया था कि मैं शीला की चूत मार कर ही रहूंगा और उसे मैं छोड़ने वाला नहीं था क्योंकि वह बहुत ही ज्यादा रंडीपना कर रही थी। वह मेरे बॉस के साथ भी खेल रही थी और मेरे साथ भी वह गेम खेल रही थी इसलिए मैं चाहता था कि उसकी चूत की भड़ास को मैं उतारूंगा। उसे सबक सिखाऊगा कि तुम दो-दो लोगों के साथ कैसे कर सकते हो। इस संदर्भ में मैंने अपने बॉस से बात कर ली मैंने जब सर से इसके बारे में बात की तो वह मुझ पर गुस्सा हो गया और कहने लगे कि अगर यह बात सही नहीं हुई तो मैं तुम्हें ऑफिस से निकाल दूंगा। मैंने उन्हें कहा कि सर अगर आपको यकीन नहीं है तो आप किसी से भी ऑफिस में पूछ लीजिए। उन्होंने जिस से भी पूछा तो वह यही कहने लगे कि उसका करेक्टर सही नहीं है और मैंने एक दिन अजय सर से कहा कि आप अपने केबिन के अंदर छुप जाइऐ और मैं आपके केबिन में शीला को लेकर आऊंगा। उसके बाद आप देखना कि वह मुझसे किस तरीके से बात करती है। उन्होंने कहा ठीक है अगर यह बात सही नहीं निकली तो तुम अपनी नौकरी से खुद-ब-खुद रिजाइन दे देना।

मैं शीला को उनके केबिन में ले आया और मैंने उसके हाथों को पकड़ लिया और उसके गालों पर भी पप्पी दे दी। मै उसके होठों पर भी किस करने लगा यह सब अजय सर देख रहे थे। उसने भी मुझे किस करना शुरू कर दिया और मेरे लंड को अपने हाथों से हिलाने लगी जैसे ही वह मेरे लंड को हिलाती तो मेरा और ज्यादा खड़ा हो जाता। उसने मेरा लंड अपने मुंह के अंदर समा लिया और उसे चूसने लगी। मैंने भी उसके सारे कपड़े खोलकर उसे नग्नावस्था में कर दिया। जब मैंने उसे नंगा किया तो वह बहुत खुश हुई और मैंने उसे वही जमीन पर लेटा दिया। मैंने उसके स्तनों को चूसना शुरू किया और बहुत देर तक उसके पूरे शरीर को मैं चाटता रहा और मैंने उसकी चूत के अंदर अपने लंड को डाल दिया जैसे ही मैंने उसकी गरम चूत के अंदर अपने लंड को डाला तो वह बड़ी तेजी से चिल्लाने लगी और कहने लगी कि तुमने मेरी चूत फाड़ दी है। मैंने उसे कहा क्यों तुम्हें मजा नहीं आ रहा वह अब और उत्तेजित होने लगी और मैं ऐसे ही उसे तीव्र गति से चोदते जाता।

मैंने उसे अब अपने ऊपर से लेटा दिया और उसके शरीर को कसकर पकड़ लिया। वह अपने चूतडो को मेरे लंड पर हिलाए जा रही थी उसे बहुत ही मजा आ रहा था जब वह अपनी चूतड़ों को हिला रही थी। तब पीछे से अजय सर आ गए और उन्होंने अपने लंड को बाहर निकालते हुए उस पर सरसों का तेल लगा लिया और उन्होंने बड़ी तीव्र गति से शीला की गांड के अंदर आपने लंड को डाल दिया। जैसे ही उन्होंने अपने लंड को डाला तो वह बड़ी तेज चिल्लाने लगी जैसे कुत्तिया चिल्लाती है जब उसकी चूत मे कुत्ते का लंड चला जाता है वैसे ही वह बड़ी तेजी से चिल्लाने लगी। मैंने भी उसे अब कस कर पकड़ लिया और धक्के देने लगा और अजय सर भी उसकी गांड को अच्छे से मार रहे थे। उन्हें भी बहुत मजा आ रहा था और कुछ देर बाद शीला को भी मजा आने लगा और वह अपनी चूतडो को मेरी लंड पर धक्का मारने लगी और अजय सर के भी लंड पर धक्का मारती जाती।

ऐसे ही हम दोनों को बहुत मजा आने लगा लेकिन अब वह बहुत खुश थी। उसे कुछ भी फर्क नहीं पड़ रहा था वह बहुत ही मजे लेती जा रही थी और हम दोनों उसे ऐसे ही चोदने पर लगे हुए थे लेकिन उसकी इच्छा बिल्कुल भी नहीं भरी थी।  वह ऐसे ही अब भी अपनी गांड को आगे पीछे करने पर लगी हुई थी और वह बड़ी तेज मादक आवाज मे चिल्लाने मे लगी हुई थी। मैंने उसके स्तनों को अपने मुंह के अंदर ले लिया और अजय सर ने उसके चूतड़ों को पकड़ते हुए धक्का मारना शुरू कर दिया। उसकी चूतडे पूरी लाल हो चुकी थी लेकिन अब भी वह हार नहीं मान रही थी और वो झड़ी नहीं थी। हम दोनों ने अब उसे बड़ी तेजी से झटके मारने शुरू किए उसका पूरा शरीर हिलने लगा और थोड़ी देर बाद उसका झड गया और हमने उसे इतने गंदे तरीके से चोदना शुरू किया कि उसका शरीर पूरा हिल जाता। उसके स्तन को मे अपने मुंह में लेकर चूसने लगा और अजय सर उसकी गांड के अंदर अपना माल गिरा दिया। उन्होंने अपने लंड को बाहर निकालते हुए अपनी कुर्सी पर बैठ गए उसके बाद मेरा वीर्य उसकी चूत मे जाकर गिर गया। जैसे ही वह खड़ी हुई तो उसकी चूतडो से हम दोनों का वीर्य बड़ी तेजी से टपक रहा था और वहां बहुत ज्यादा खुश थी। उसके बाद से अजय सर और मैंने उसे बहुत चोदा अब उस रंडी की कही और शादी हो चुकी है।


Comments are closed.