चूत है भरी भरी और तुम गांड मारने की बात करते हो

Chut hai bhari bhari aur tum gaand marne ki baat karte ho:

antarvasna sex stories, desi kahani

दोस्तों कैसे हो | मेरा नाम अर्पित है और मैं बहुत ही गन्दा लड़का हूँ क्यूंकि मेरा सबसे अच्छा दोस्त राहुल है | वो बहुत बड़ा बटेरबाज है और उसको अपने काम से कोई मतलब नहीं रहता | उसे हमेशा छुट्टी चाहिए होती है | वो इतना बड़ा बटेरबाज है कि उसने अपनी सेटिंग से मिलने के लिए अपनी सगी बुआ को बीमार बता दिया | अब मुझे तो उसकी हरकतों के बारे में पता था इसलिए मैंने उसका साथ छोड़ दिया | पर वो साला नहीं सुधरा इसलिए आज मैं आप लोगों के सामने आया हूँ ताकि मैं ऐसे कमीने लडको के बारे में आपको बता सकूँ और आपको आगाह कर सकूँ इनके नापाक मसूबों के बारे में | राहुल जैसे लड़के आपको हर गली और मोहल्ले में मिल जाएंगे और इनको किसी से प्यार नहीं होता इन्हें बस चूत की भूख होती है | वैसे चूत का भूखा तो मैं भी हु इसलिए आज मैं आपको इन लौंडों की गांड कैसे फाड़ी जाए ये बताऊंगा | तो दोस्तों आइये मैं आपको लेके चलता हूँ अपनी कहानी में और बताता हूँ कैसे मैंने राहुल की गांड फाड़के उसकी लौंडिया के साथ चोदम चुदाई की क्रिया करने में सफल हुआ |

तो दोस्तों मैं आपको राहुल के बारे में कुछ बता देता हूँ | वो एक दुबला पतला लड़का है और वो नहाता भी समय पर नहीं है | उसका रंग सांवला है और थोडा ठीक दिखता है | मैंने कई बार उससे कहा भाई नहा लिया कर तेरे पास से एक अजीब सी बदबू आती है तो वो कहता यार इसे मर्दानगी की खुशबु बोलते हैं | मैंने कहा भाई क्या काम की ऐसी मर्दानगी जिससे लोग तुझसे दूर भागें | पर उसे कोई फर्क नहीं पड़ता | ऐसे ही हम दोनों काम करते रहते और साला कभी भी मार्किट से गोल हो जाता और मुझे बोलता संभाल ले भाई | एक बार वो मार्किट से गोल हुआ काम के समय और बॉस को बता दिया मैंने उसे किसी काम से भेजा है | मैंने जैसे ही अपना काम करके बिल बनवाने ऑफिस पहुँचा तो बॉस ने मुझसे कहा कहाँ भेज दिया तुमने राहुल को | मैंने कहा बॉस कहीं नहीं वो तो मुझे मिला भी था आज तीन पट्टी के पास | फिर मेरी और बॉस कि कहा सुनी हो गयी और मेरी नौकरी जाने कि नौबत आ गयी | राहुल को फोन लगवाया बॉस ने और मुझे भी खड़ा रखा फिर कहा देखो तुमने मुझे फोन किया था एक बजे और कहा था राहुल को काम से भेज रहा हूँ आधे घंटे के लिए |

मैंने कहा बॉस मैंने ऐसा कहा ही नहीं है | फिर जैसे ही राहुल आया और कहा राहुल बेटा बताओ इसी ने फोन किया था ना | राहुल ने कुछ नहीं कहा फिर बॉस बोला देख राहुल डर मत अपन इसको नौकरी से निकाल देंगे बता इसी ने किया था ना | राहुल ने कहा नहीं बॉस मैंने इससे फोन ले लिया था और कहा मैं एक काल करके वापस कर दूंगा और मैंने ही आपको कॉल करके बोला था ये सब | बॉस भी चमक गया और फिर राहुल को डांट के भगा दिया और मुझे कहा अर्पित भाई मैं शर्मिंदा हूँ अपनी बातों पे | मैंने कहा कोई बात नहीं बॉस मैं प्राइवेट नौकरी वाला और कर भी क्या सकता हूँ | बॉस भी अपने काम में लग गया और मैं भी वापस अपना काम खत्म करके घर आ गया | मुझे राहुल का फोन आया और उसने मुझसे कहा भाई सॉरी तो मैंने कहा भाई मुझे बता तो देता | उसने कहा यार आगे से ऐसा नहीं करूँगा | मैंने कहा ठीक है भाई पर करना भी तो बता देना ताकि मैं संभाल सकूँ |

मैंने उससे ये सब कह तो दिया था पर ना जाने क्यूँ मुझे अन्दर से गुस्सा आ रहा था और मैं उसे नुक्सान देना चाह रहा था | पता नहीं क्यों वो मेरा पक्का दोस्त था पर तब भी मुझे उसके प्रति गलत भावना आ गयी थी | शायद आज उसकी वजह से मेरी नौकरी खतरे में थी इसलिए भी ऐसा हुआ होगा | इसलिए मैंने मन बनाया पहले इसको देखूंगा कि ये करता क्या है मार्किट से जाने के बाद और उसके बाद कोई प्लान बनाऊंगा | पहले मैंने देखना शुरू किया और जब भी ये मुझे फोन करता भाई मुझे बचा लेना मैं आज देर से आऊंगा तो मैं उसकी लोकेशन देख लेता और उसके बाद मैं अपना काम छोड़ के उसके पीछे जाता | एक एक घंटे तक मैं उसका पीछा करता और पता करता कि आखिर ये जाता कहाँ है | मैं ये काफी दिनों से कर रहा था और उसके बाद मुझे पता चल गया ये साला अलग अलग लड़कियों के साथ घूमता है उनके साथ चुम्मा चाटी करता है और फिर उन्हें कमरे में ले जाके चोदता है |

मैंने ये सब तो पता कर लिया था पर उन लडकियों से मेरी बात नहीं हो पायी थी | मैंने सोचा अगर मैं इसका भांडा फोड़ दूँ तो मज़ा आ जाएगा | एक दिन हम दोनों ऑफिस में बिल बनवा रहे थे और एक लड़की का फोन आया तो मैंने उसकी फोटो देखी और नंबर भी था स्क्रीन पर तो मैंने झट से उसके बिना देखे लिख लिया | वो मस्ती करने में व्यस्त था और यहाँ मेरा काम हो गया | मुझे पता था ये गोल ज़रूर होगा और अगले दिन ही मेरे पास फोन आ गया तो मैं भी निकल लिया इसके पीछे | वहां मैंने देखा ये वो लड़की ती है नहीं जिसका नंबर मेरे पास है | इसलिए मैंने तुरंत उस नंबर पर फोन लगाया और कहा आपका राहुल किसी और की बांहों में है | उसने कहा क्या बकवास है और तुम हो कौन | मैंने कहा आप सीता पहाड़ के पास आके खुद देख लो और मैं आपका शुभ चिन्तक हूँ | वो लड़की वहां पहुंची और जो हंगामा हुआ उससे मेरे दिल को थोड़ी ख़ुशी मिली | अब बेचारा राहुल पिट गया और दोनों लडकियां भाग गयी और वो गांड मलते हुआ वापस आ गया |

ऑफिस में मैंने पूछा क्या भाई मुंह क्यों लटका है तो उसने कहा ब्रेक उप हो गया यार सच्चा प्यार था मेरा | मैंने कहा लौड़ा था मेरा अपने मन में और फिर वो हँसने लगा | मैंने कहा पागल हो गया है क्या तो उसने कहा नहीं मेरी नयी सेटिंग चुदवाने को तैयार है | मेरी झांटे लाल हो गयी साला इस हरामी को मैं चोट कैसे दूँ | पर मेरा मौका आ गया क्यूंकि उसने कहा भाई कल कमरा दे दे मेरा जो दोस्त है वो बाहर गया और उसका कमरा अभी बंद है | मैंने कहा ठीक है पर बस कल के लिए | उसने कहा हाँ भाई बस कल | मैंने रात में कमरे में कैमरा लगा दिए और अगले दिन सुबह वो आ गया लड़की के साथ | उसने कमरा बंद किया और जैसे ही वो दोनों नंगे हुए और किस करने लगे मैंने कॉल किया भाई चुदाई तो मैं भी करूँगा | उसने कहा क्या बकवास कर रहा है तो मैंने कहा नहीं तो तुझे लाइव दिखा दूंगा क्यूंकि प्पोरे कमरे में कैमरे लगे हैं | उसने कहा नहीं भाई ऐसा मत कर पहले तू चोद ले |

वो लड़की डर गयी और मुझसे कहने लगी प्लीज ऐसा मत करो मैंने कहा अबे चल जा | मैंने उसको अपनी बांहों में भरा और उसे किस करने लगा और उसके पूरे कपडे उतारने लगा | वो कुछ नहीं कर रही थी बस खड़ी थी और राहुल बाहर था क्यूंकि उसकी चाबी मेरे हाथ में थी | मैंने उसको पूरा नंगा कर दिया और उसके बाद मैंने उसके दूध को पीना चालु कर दिया | वो बस ऐसे ही कड़ी थी पर थोड़ी देर उसके दूध को पीने के बाद और उसके बदन को चूमने के बाद वो आराम से मेरा साथ देने लगी | वो मेरे लंड को बाहर निकालने लगी और जैसे ही उसने मेरा खड़ा लंड देखा तो उसने कहा अरे ये तो राहुल से तीन गुना बड़ा है और तुरंत मुंह में ले लिया | मैंने आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह करते हुए अपना लंड चुसवाना जारी रखा | उसके कुछ देर बाद मैंने उससे कहा अब मुझे तेरी चूत चाहिए |

मैंने अपना मुंह उसकी चूत पे लगाया और चाटना चालु कर दिया वो भी आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा करते हुए मचलने लगी | फिर मैंने अपना लंड उसकी गांड के छेद पे रखा और एक झटके में अन्दर डाल दिया और वो रोने लगी | मैंने कहा चुप और उसको जमके चोदने लगा थोड़ी देर बाद वो भी मस्ती में चुदवाने लगी | उसके बाद मैंने राहुल की कई दोस्तों को चोदा और मेरा बदला पूरा हो गया |

उसके बाद तो ना जाने मुझे क्या हो गया | उसकी चूत में ऐसा जादू था कि मैं अपने बदले की आग को भूल गया और कहा जान तुमाहरी गांड का स्वाद चाहिए और उसने हसते हुए कहा सब आपका है जो चाहे ले लो |

 


Comments are closed.