चूत आई है ज़मीन पर- 1

chut aayi hai jameen par 1:

मेरा नाम संकेत है और मैं आगरा का रहने वाला हूं। मेरी उम्र 28 वर्ष है और मैं आगरा में ही रहता हूं लेकिन मैंने पढ़ाई दिल्ली से की है और अब मैं आगरा में अपने पिताजी का ही काम संभाल रहा हूं। क्योंकि घर में मैं ही बड़ा हूं। इस वजह से मुझे घर में मेरे पिताजी ने कहा कि तुम ही अब मेरा काम संभाला करो। मेरा छोटा भाई अभी स्कूल ही पड़ रहा है। इसलिए मुझ पर सारी जिम्मेदारियां हैं और मैं बहुत अच्छे से अपने पिताजी का कारोबार सम्भाल रहा हूं। एक दिन मेरे एक पुराने दोस्त का फोन आया। जब हम लोग कॉलेज में पढ़ा करते थे। तब हम लोग साथ में ही थे। उसका नाम रवीश है और वह मुझे कहने लगा कि तुम कैसे हो। मैंने उसे बताया कि मैं तो बहुत अच्छा हूं। अब मेरी उससे काफी लंबी बात होने लगी। उसने फोन में मुझे बताया कि मेरी शादी 6 महीने बाद है। तो तुम्हें मेरी शादी में आना है। मैंने उससे कहा कि तुम इतनी जल्दी शादी कर रहे हो। वह कहने लगा कि बस मुझे एक लड़की पसंद आ गई थी तो मैंने उसके बारे में घर में बता दिया और हम दोनों के घरवाले मान चुके हैं। इसलिए मैं अब शादी कर रहा हूं और हम दोनों के घर वाले भी बहुत खुश हैं। मैंने उसे कहा कि यह तो बहुत ही अच्छी बात है। मैं यह सोचकर बहुत ही खुश था लेकिन मैं अपने काम में लगा हूं और मुझे ध्यान ही नहीं रहा कि रवीश की शादी नजदीक है। मैं अपने काम में इतना व्यस्त हो गया कि मुझे मालूम ही नहीं पड़ा।

एक दिन उसका मुझे फोन आया और मुझे कहने लगा कि तुम मेरी शादी के लिए वहां से कब निकलोगों। तो मैंने उसे बताया कि मैं कुछ दिनों बाद तुम्हारी शादी में पहुंच जाऊंगा। मुझे बिल्कुल भी ध्यान नहीं था लेकिन मुझे उसे यह सब कहना पड़ा। अब मैं दिल्ली के लिए निकल गया और जब मैं दिल्ली उसके घर पहुंचा तो वह मुझसे मिलकर बहुत ही खुश था और कहने लगा मुझे तुम्हें देख कर बहुत खुशी हो रही है। हम इतने वर्षों बाद मिले हैं लेकिन तुम अभी भी बिल्कुल नहीं बदले। अब वह हमारे कॉलेज की पुरानी यादें कुछ ताजा करने लगा। किस तरीके से हम लोग कॉलेज में मस्ती किया करते थे और हमारे क्लास की लड़कियों को हम परेशान किया करते थे। वह बहुत ही खुश था अपनी शादी से। मैंने उससे पूछा कि तुम्हारी मुलाकात कैसे हुई। तो वह कहने लगा कि मैं जिस कंपनी में जॉब कर रहा था वहीं पर मेरी मुलाकात हुई और हम दोनों के बीच में नजदीकियां बढ़ गई। उसके बाद हमने शादी करने का फैसला कर लिया। मैंने उसे कहा यह तो बहुत ही अच्छी बात है। अब हम लोग बहुत सारी बातें कर रहे थे। तभी एक लड़की सामने से आई और रवीश को  कहने लगी कि आपको पिता जी बुला रहे हैं। उसने मुझे अपनी बहन से मिलाया। उसका नाम कावेरी था और वह बहुत ही सुंदर लग रही थी। मुझे उससे पहली नजर में देखते ही प्यार हो गया लेकिन वह मेरी दोस्त की बहन थी। इसलिए मैं उससे कुछ भी नहीं कह पाया और जब रवीश ने हम दोनों का इंट्रोडक्शन करवाया तो वह भी मुझसे मिलकर बहुत खुश थी और रवीश अपनी बहन को कहता है कि संकेत को किसी भी तरीके से कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। तुम्हें ही संकेत का पूरा ध्यान रखना है। क्योंकि रवीश अपनी शादी के सिलसिले में बहुत बिजी था।

इस वजह से उसने कावेरी को मेरा ध्यान रखने के लिए कहा। अब कावेरी मेरे साथ बैठकर बातें करने लगी और पूछने लगी कि आप भैया को कब से जानते हो। मैंने उसे कहा कि हम लोग कॉलेज में साथ में ही पढ़ते थे। क्योंकि मैं आगरा का रहने वाला हूं इसलिए मैं हॉस्टल में ही रहा करता था और तब मेरी रवीश से बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी। मैंने कावेरी से पूछा कि तुम क्या करती हो। वो कहने लगी कि मैं अभी फैशन डिजाइनिंग का कोर्स कर रही हूं और उसके बाद मैं अपना ही खुद का कोई ब्रेंड खोलना चाह रही हूं। मैं यह बात सुन कर बहुत खुश हुआ और मैंने उसे कहा कि तुम्हें कभी भी मेरी मदद की जरूरत होगी तो तुम मुझे बता देना। अब हमारे बीच में भी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई और कावेरी मेरे इशारों को समझ रही थी कि मैं भी उसकी तरफ आकर्षित होने लगा हूं लेकिन मुझे यह डर था कि कहीं कावेरी मेरी बातों का गलत मतलब ना ले ले और वह रवीश को इस बारे में बता देती तो रवीश मुझसे बात भी नहीं करता। वह मेरे बारे में गलत धारणा अपने दिमाग में पैदा कर लेता लेकिन फिर भी मैं कावेरी को देखे जा रहा था और वह भी मुझसे बड़े अच्छे से बात किया करती। मैं समझ गया था कि कावेरी के दिल में भी मेरे लिए कुछ चल रहा है। अब रवीश अपनी शादी के कामों में बिजी था और मैं भी उसके साथ थोड़े बहुत काम कर लिया करता। एक बार उसने मुझे कहा कि तुम बाजार से कुछ सामान ले आओ। अब मैं और कावेरी बाज़ार सामान लेने के लिए चले गए। वह मेरे साथ कार में ही थी और मैं भी सोच रहा था कि कावेरी से अपने दिल की बात कर लेता हूं। मैंने ड्राइव करते-करते उसके हाथों को अपने हाथों से पकड़ लिया और वह अब मेरे इशारे समझ चुकी थी कि मेरे दिल में क्या चल रहा है। उसने भी मुझसे अपने दिल की बात कह दी और मैंने भी उसे अपने दिल की बात बता दी।

मैंने उसे कहा कि तुम मुझे पहली नजर में ही पसंद आ गई थी और तुम मुझे बहुत ही अच्छी लगी। वह यह बात सुनकर बहुत ही खुश हुई और मुझे भी कहने लगी कि मैंने भी जब तुम्हें पहली बार देखा तो तुम मुझे बहुत पसंद आ गए थे। अब हम दोनों एक दूसरे का साथ बहुत ही खुश थे और कावेरी भी बहुत ज्यादा खुश थी। हम लोगों ने अब सामान खरीदा और उसके तुरंत बाद हम लोग घर वापस लौट गए। जब हम लोग घर पहुंचे तो हम लोग घर का छोटा मोटा काम कर रहे थे और अब लगभग शादी की पूरी तैयारियां हो चुकी थी। ज्यादा कुछ तैयारियां बची नहीं थी। रवीश के घर के सारे सदस्य बहुत ही खुश थे और रवीश भी बहुत खुश था। क्योंकि वह जिस लड़की से प्यार करता था। उससे उसकी शादी होने वाली थी। जब इस बारे में मैंने रवि से बात की तो वह कहने लगा यार मुझे तो बहुत ज्यादा खुशी हो रही है। क्योंकि मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि मेरी शादी इतनी जल्दी हो जाएगी और मेरे घर वाले भी मान जाएंगे। अब रवीश चला गया और कावेरी मेरे साथ बैठी हुई थी।

कावेरी और मैं बैठकर बातें कर रहे थे तभी कावेरी ने मेरे हाथों को अपने हाथ में ले लिया और मुझे ऐसा लगा कि उसके अंदर की उत्तेजना जागने लगी है वह पूरे मूड में है। मैं उसे छत में ले गया और हम दोनों वहीं पर बैठे थे और मैंने उसके होठों को किस करना शुरू किया। मै उसे बहुत अच्छे से किस कर रहा था और वह भी मुझे बहुत ही अच्छे से किस करती जा रही थी। अब उसने मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और उसे अच्छे से चूसने लगी। वह इतना अच्छा से लंड को चूस रही थी मुझे बड़ा मजा आ रहा था। थोड़ी देर बाद मैंने उसको नंगा कर दिया और जब मैंने उसके शरीर को देखा तो उसका शरीर बहुत नरम और मुलायम था। मैंने उसी गांड को अपने हाथ से दबाना शुरु किया और जब उसकी गांड को मैं अपने हाथ से दबाता तो उसे बड़ा मजा आता। अब मैंने उसे घोड़ी बनाते हुए उसकी चूत मे जैसे ही अपने लंड को डाला तो वह चिल्ला उठी और मैं उसे ऐसे ही बड़ी तीव्र गति से धक्के दिया जा रहा था। मैं इतनी तेज तेज उसे धक्के दे रहा था उसका शरीर पूरा गरम हो गया। वह भी अब अपनी चूतड़ों को मुझसे मिलाने लगी उसे बड़ा मजा आ रहा था जब वह अपने चूतड़ों को मेरे लंड से टकराती जाती। वह बहुत ही खुश हो रही थी मुझे कह रही थी तुम्हारा लंड लेकर मुझे बड़ा मजा आ रहा है। मैंने उसे कहा तुम्हारी चूत बहुत ज्यादा टाइट है और मुझे धक्का मारने में बहुत ही मजा आ रहा है। मैंने उसके चूतड़ों को पकड़ा और बड़ी तेजी से उसे चोदना शुरू कर दिया उसके चूतडे मेरे लंड से टकरा रही थी  वह बहुत ही खुश हो रही थी। वह अपने मुंह से बड़ी मादक आवाज निकल रही थी थोड़ी देर बाद उसकी चूत से कुछ ज्यादा ही गर्मी बाहर निकलने लगी और मेरा वीर्य उसकी योनि के अंदर गिर गया।

 


Comments are closed.