चोदकर हाल बेहाल हो गया

Antarvasna, hindi sex kahani:

Chodkar haal behaal ho gaya मैंने आदित्य को फोन किया जब मैंने आदित्य को फोन किया तो उसने मुझे कहा की रोहित आज तुमने काफी समय बाद मुझे फोन किया। मैंने आदित्य से कहा कि सोच तो मैं काफी दिन से रहा था कि तुम्हें फोन करूं लेकिन अपने काम के चलते मैं तुम्हें फोन नहीं कर पाया। मैंने आदित्य से उसका हालचाल पूछा और कहा कि तुम कैसे हो तो वह मुझे कहने लगा मैं तो ठीक हूं। मैंने आदित्य से पूछा तुम्हारा बिजनेस कैसा चल रहा है तो आदित्य मुझे कहने लगा कि मेरा बिजनेस भी अच्छा चल रहा है और मैं काफी खुश हूं। आदित्य ने कुछ समय पहले ही अपने ऑफिस से रिजाइन दिया है और उसके बाद वह अपना बिजनेस कर रहा है। आदित्य और मेरी दोस्ती काफी ज्यादा पुरानी है हम दोनों की उस दिन फोन पर काफी देर तक बात हुई फिर मैंने फोन रख दिया था। काफी समय बाद आदित्य से फोन पर बातें कर के मुझे अच्छा लग रहा था और आदित्य भी बहुत ज्यादा खुश था।

आदित्य का मुझे 10 दिन बाद फोन आया जब आदित्य ने मुझे फोन किया तो उसने मुझे कहा कि रोहित क्या तुम कुछ दिनों के लिए अपने ऑफिस से छुट्टी ले सकते हो। मैंने आदित्य से कहा लेकिन मुझे छुट्टी किस लिए लेनी है तो आदित्य ने मुझे बताया कि वह चाहता है कि हम लोग कहीं साथ में घूमने के लिए जाएं। मैंने आदित्य को कहा कि लेकिन हम लोगों के साथ और कौन कौन आने वाला है तो आदित्य ने मुझे कहा कि मैं सोच रहा हूं कि हम लोग फैमिली टूर पर चले तुम भी भाभी जी से कह देना कि वह हमारे साथ चलें। मैंने आदित्य को कहा कि ठीक है मैं तुम्हे बाद में पूछ कर बताऊंगा। थोड़ी देर बात करने के बाद मैंने फोन रख दिया था मैंने उस दिन शाम के वक्त ऑफिस से लौटने के बाद अपनी पत्नी से पूछा कि क्या तुम मेरे साथ घूमने के लिए चलोगी। मेरी पत्नी कहने लगी कि भला ऐसा हो सकता है कि आप मुझे कहे और मैं आपके साथ घूमने के लिए ना जाऊं। मेरी पत्नी ने मुझसे कहा कि हम लोग कहां जा रहे हैं तो मैंने उसे कहा कि यह तो मुझे भी नहीं पता कि हम लोग कहां जा रहे हैं लेकिन आदित्य का मुझे फोन आया था और उसने मुझे कहा कि हम लोग कहीं घूमने का प्लान बनाते हैं।

मेरी पत्नी इस बात से बहुत ज्यादा खुश थी और वह कहने लगी कि चलो काफी समय बाद ही सही लेकिन तुमने कहीं घूमने की बात तो कही। हम लोगों की शादी को दो वर्ष हो चुके हैं इन दो वर्षों में मैं अपने काम से बिल्कुल भी फ्री नहीं हो पाया हूं इसलिए मैं अपनी पत्नी को कम ही समय दे पाता हूं जिससे कि मेरी पत्नी को अक्सर मुझसे शिकायत रहती है। उस दिन जब आदित्य ने मुझे घूमने के लिए कहा तो मुझे भी लगा कि मुझे कुछ दिनों के लिए अपनी पत्नी के साथ घूमने जाना चाहिए और अपनी फैमिली के साथ अगर हम लोग जाएंगे तो शायद हम लोगों के लिए यह अच्छा रहेगा। मैंने आदित्य से फोन पर पूछा कि हम लोग कहां जाने वाले हैं तो आदित्य ने मुझे कहा कि रोहित मैं तुम्हें आज शाम के वक्त मिलता हूं मैंने आदित्य से कहा ठीक है तुम मुझे शाम को मिलना। हम लोगों ने शाम के वक्त मिलने का प्लान बना लिया था तो हम लोग शाम के वक्त मिले, जब हम दोनों शाम के वक्त मिले तो मैंने आदित्य से पूछा की हां आदित्य अब बताओ हम लोग घूमने कहां जा रहे हैं। आदित्य ने मुझे कहा कि कुछ समय पहले ही मेरे एक दोस्त ने माउंट आबू में एक होटल लिया है। मैंने आदित्य से कहा कि क्या हम लोग माउंट आबू जा रहे हैं तो आदित्य ने मुझे कहा कि हां मैं बचपन में अपने मम्मीपापा के साथ माउंट आबू गया था लेकिन इस समय पहली बार ही मैं अपनी पत्नी के साथ घूमने के बारे में सोच रहा था। मैंने आदित्य को कहा चलो यह तो अच्छा है कि हम कुछ दिनों के लिए माउंट आबू हो आएंगे। हम दोनों बात कर ही रहे थे कि मेरी पत्नी हम दोनों के लिए चाय बना कर ले आई जब वह हम दोनों के लिए चाय बना कर लाई तो मुझे आदित्य ने कहा कि इस बहाने तुम भी कम से कम भाभी को घुमा लाओगे। मैंने आदित्य को कहा कि हां यह तो तुम बिल्कुल ठीक कह रहे हो काफी समय हो गया है जब से मैं भी कहीं घूमने के लिए नहीं जा पाया हूं और कई बार मुझे लगता है कि मैं अपने परिवार को बिल्कुल भी समय नहीं दे पाता हूं। मैं और आदित्य साथ में बैठकर एक दूसरे से बातें कर रहे थे तभी आदित्य ने मुझे कहा कि अब मैं चलता हूं मैंने आदित्य को कहा कि ठीक है हम लोग कुछ दिनों में मिलते हैं। हम लोगों ने कुछ दिनों बाद ही माउंट आबू जाने का प्लान बना लिया और फिर हम लोग पूरे परिवार के साथ माउंट आबू चले गए। आदित्य शादी मुझसे पहले ही हो चुकी थी और उसके दो बच्चे भी हैं। हम लोग जब माउंट आबू गए तो वहां पर हम लोगों को काफी अच्छा लग रहा था और हम सब लोग बहुत ही खुश थे कि एक लंबे समय बाद ही सही लेकिन हम लोग कहीं घूमने के लिए तो जा पा रहे हैं।

हम लोगों ने माउंट आबू में खूब इंजॉय किया और मुझे बहुत अच्छा लगा कि इस बहाने मैं अपनी पत्नी के साथ घूमने आ पाया। मैं अपनी पत्नी के साथ घूमने गया और वहां से वापस आने के बाद मैं अपने काम में बिजी हो गया मुझे बिल्कुल भी समय नहीं मिल पाता था कि मैं अपने बिजी सिट्यूल में से समय निकाल पाऊं। मेरी पत्नी और मैं एक दूसरे के साथ कम ही कहीं घूमने के लिए जा पाते थे। मुझे एक दिन ऑफिस जल्दी जाना था। उस दिन मैंने अपनी पत्नी से कहा तुम मेरे लिए नाश्ता बना दो। उसने मेरे लिए जल्दी से नाश्ता बनाया मैं अपने ऑफिस के लिए चला गया। जब मैं अपने ऑफिस गया था तो उस दिन शाम को ऑफिस से लौटते वक्त मुझे हमारे क्लास में पढ़ने वाली सरिता मिली। जब मुझे सरिता मिली तो मैं काफी खुश था सरिता ने मुझसे पूछा रोहित तुम कैसे हो? हम दोनों ने एक दूसरे से एक दूसरे का हालचाल पूछा मुझे काफी अच्छा लगा। मुझे नहीं मालूम था सरिता और उसके पति के बीच बिल्कुल भी नहीं बनती है जिससे कि वह किसी ऐसे को ढूंढ रही थी जो उसका साथ दे पाए। सरिता मुझे कुछ ज्यादा ही फोन करने लगी थी।

वह मुझ से फोन पर घंटों बातें करने लगी थी शुरुआत में तो मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगा लेकिन मुझे एहसास होने लगा था सरिता को शायद मुझसे प्यार की जरूरत है। एक रात मैंने अपनी पत्नी के सो जाने के बाद सरिता से अश्लील बातें की वह खुश हो गई। वह चाहती थी हम दोनों एक दूसरे के साथ अंतरंग संबंध बनाएं। इस बात के लिए वह बहुत ज्यादा खुश थी मैं अब तैयार हो चुका हूं। मैं जब सरिता से मिलने के लिए उसके घर पर गया तो मैंने सरिता की जांघों पर हाथ रखा। सरिता और मैं उसके बेडरूम पर लेटे हुए थे। मै सरिता की जांघों को सहला रहा था उसे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था और मुझे भी बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा था। हम दोनों पूरी तरीके से उत्तेजित होते जा रहे थे मेरे अंदर की गर्मी अब इतनी ज्यादा हो चुकी थी कि मैं बिल्कुल भी अपने आपको रोक नहीं पा रहा था। मैंने सरिता के सामने अपने मोटे लंड को किया। उसने मेरे मोटे लंड को अपने हाथों में लेकर उसे हिलाना शुरू कर दिया था। जब वह ऐसा कर रही थी तो मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था और सरिता को भी बहुत ही ज्यादा अच्छा लग रहा था। वह बहुत ज्यादा खुश थी वह मुझे कहने लगी मुझे तुम्हारे मोटे लंड को अपने मुंह में लेकर अच्छा लग रहा है। मैंने सरिता को कहा मुझे भी बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है। सरिता और मैं एक दूसरे के लिए बहुत ही ज्यादा तड़पने लगे थे उसने मेरे लंड से पानी बाहर निकाल दिया था। अब मैं बिल्कुल भी नहीं रह पा रहा था। मैंने सरिता से कहा मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा है।

सरिता ने मुझे कहा रहा तो मुझसे भी नहीं जा रहा है। यह कहकर मैंने जब सरिता की योनि को चाटने शुरू किया तो वह पूरी तरीके से उत्तेजित हो गई थी। जब सरिता की चूत के अंदर मेरा मोटा लंड गया तो वह बहुत जोर से चिल्लाकर मुझे बोली मेरी चूत में दर्द हो रहा है काफी समय बाद किसी का मोटा लंड मेरी योनि के अंदर प्रवेश हुआ है। मैंने सरिता से कहा मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है। मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था। मैने सरिता के पैरों को चौडा कर लिया था जिससे कि मुझे उसे चोदने मे आसानी हो रही थी। मुझे सरिता को धक्के मारने में बहुत ज्यादा मजा आ रहा था। मैं सरिता को तेज गति से धक्के मार रहा था वह काफी ज्यादा खुश हो गई थी जब मैं उसे धक्के मारता।

सरिता और मेरे अंदर की गर्मी पूरी तरीके से बढ़ चुकी थी मैंने अपने वीर्य को गिराकर सरिता की चूत की खुजली को मिटा दिया था। सरिता के अंदर दोबारा से सेक्स को लेकर इच्छा जागने लगी उसने मेरे लंड को चूसना शुरू किया। वह मेरे लंड पर लगे वीर्य को अपने मुंह के अंदर ले रही थी। मैंने सरिता को डॉगी स्टाइल पोजीशन में चोदना शुरू किया सरिता की चूत के अंदर बाहर मेरा लंड जा रहा था और मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था। जब मैं ऐसा कर रहा था तो वह बहुत ज्यादा खुश थी और मैं भी काफी ज्यादा खुश हो गया था। मै जिस प्रकार से सरिता की चूत के अंदर बाहर अपने लंड को कर रहा था उस से मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था। मैंने उस दिन सरिता को चोदा तो मैं बहुत खुश था। मै अब सरिता के पति की भूमिका निभाने लगा था। जब भी उसे मेरे लंड को लेना होता तो वह मुझे फोन कर दिया करती और मैं उसे चोदने के लिए उसके घर पर चला जाता।


Comments are closed.