बीवी को बड़े लंड से जिंदगी भर मज़ा दिया

Biwi ko bde land se zindagi bhar mja dia:

हेल्लो मेरे भाई लोगों आप लोगों से मेरा यही कहना है कि अपनी गांड संभाल के रखो क्यूंकि आजकल हवसियों की कमी नहीं है | यार आप लोगो के सामने मैं आज इसलिए आपके सामने आया हूँ क्यूंकि मुझे लगता है की सेक्स का ज्ञान आप लोगों में बहुत कम है क्यूंकि माँ बाप भी इस विषय पर खुल के बात नहीं करते | हमे ज्यादा ज्ञान या तो दोस्तों से मिलता है या फिर जब हम कोई सेक्सी फिल्म देखतें हैं | मुझे भी सेक्स का ज्ञान बिलकुल नहीं था पर जब मैंने सेक्सी फिल्म देखी तो में सब समझ गया और उसी समय मेरी चुदाई भी हो गयी |

मैंने अपनी जिंदगी में यही सोचा था की मैं या तो शादी के बाद चोदुंगा या फिर पढाई ख़त्म होने के बाद किसी रंडी को चोदुंगा | पर दोस्तों जिंदगी बिलकुल भी एक सी नहीं होती क्यूंकि इसमें कब क्या हो जाए ये किसी को नहीं पता और मुझे भी नहीं पता था | मैं कॉलेज में पढ़ाई करता था और मैं लड़कियों से बिलकुल दूर दूर रहता था क्यूंकि लड़की का दूसरा नाम मुसीबत है | इसलिए मैंने कोई दोस्त भी नहीं बनायीं थी | पर जैसा की मैंने कहा की जिंदगी में कुछ भी बता के नहीं होता वही मेरे साथ भी हुआ |

मैं एक दिन कॉलेज से बहार निकल ही रहा था कि एक लड़की जिसका नाम ऋतू है वो मेरे पास आई और कहने लगी की यार मुझे कुछ मदद चाहिए | पहले तो मैं थोडा डर गया पर फिर मैंने पूछा की क्या हुआ क्या मदद चाहिए ? वो बोली की मुझे कुछ चीजें समझ नहीं आ रही हैं तुम उन्हें समझा दो | दोस्तों मैं पढाई में बहुत अच्छा हूँ और अक्सर लड़कियां मुझे मदद मांगने आती है पर मैं मना कर देता था |

पता नहीं क्यों मुझे ऋतू के साथ ये सब अच्छा लगता था पर मैं उसे बोल नहीं पता था | वो कॉलेज की सबसे सुन्दर और शरीफ लड़की थी | सारे लड़के उसपे मरते थे और मैं भी और उसका आज तक कोई दोस्त भी नहीं बना था | मतलब हम दोनों एक ही नाव पर सवार थे बस अलग अलग रास्तों पर चल रहे थे | मुझे पता ही नहीं चला की कब वो लड़की मेरे दिल में घर कर गयी | जब वो मुझसे पूछ रही थी तो मैं उसे देखता और जैसे ही वो मुझे देखती मैं अपनी नज़रें नीचे कर लेता |

अब तो एसा लग रहा था की उसके मन में भी वही था | फिर मैंने धीरे से उससे कहा यार अगर कॉलेज में मदद करूँगा तो दुसरे लड़के तुम्हे बदनाम करेंगे और मेरी भी लड़ाई हो जाएगी | उसने मुझे कहा मेरी फिकर है तुम्हे | मैंने कहा यार पहली बार किसीने मदद मांगी है मैं क्यों उसकी इज्ज़त खतरे में डालू | वो हल्का सा मुस्कुरायी और मुझसे कहा तो फिर जनाब आप ही बता दो कहा मिलना है मदद के लिए | मैंने कहा देखो मैं कार में आता हूँ तो तुम्हे पिक और ड्राप कर लिया करूँगा और घर में मेरा एक अलग से कमरा है |

उसने मुझे कहा चांस मार रहे हो मुझपे तो मैंने झट से उससे कहा की नहीं अभी तो हमारी दोस्ती भी नहीं हुयी है | तो वो बोली मतलब दोस्ती हो जाने के बाद चांस मारोगे | हम दोनों मुस्कुरा के एक दूसरे को देखने लगे और फिर अपने अपने घर चले गये | अगले दिन हमलोग फिर से मिले पर हम दोनों ने बिलकुल भी बात नहीं की बस एक दूसरे को देख देख कर मुस्कुरा रहे थे |

अब मुझे बिलकुल भी डर नहीं लगता था जब ऋतू मेरे पास अति थी क्यूंकि मैंने अपने मान को शांत कर लिया था | हम दोनों में धीरे धीरे दोस्ती हो रही थी और मुझे पता था की ये दोस्ती प्यार में बदलने वाली है | पर सबसे बड़ी दिक्कत ये थी की मैं उसे खोना नहीं चाहता था | इसलिए मैं उसे अपने प्यार का इज़हार करने से डरता था | फिर एक दिन मैंने हिम्मत की और जब हम दोनों साथ में घर में बैठ के पढ़ रहे थे तब मैंने कहा ऋतू तुझे केसा पति चाहिए |

उसने कहा देख अभी शादी का मन तो है नहीं पर फिर भी अगर तू पूछ रहा है तो बता देती हूँ | मुझे एक ऐसा पति चाहिए जो मुझे बेपनाह प्यार करे और मेरा ख़याल रखे | सबसे बड़ी बात की वो इम्मंदारी की नौकरी करे और मेरी मदद करे | फिर वो मेरे पास आई और कहा “ सुन ये सब मैंने तेरे लिए कहा है शादी करेगा मुझसे” | में आदर से फूला नहीं समां रहा था क्यूंकि मेरे मान की बात उसने बोल दी थी | अब बस एक ही काम बचा था और वो था ऋतू को गले लगाना जो कि मैंने बड़े अच्छे से कर लिया |

फिर हम दोनों ने अपने माँ बाप से बात की और वो सब मान गये | हमारी पढ़ाई भी ख़त्म हो रही थी |  बस रिजल्ट का इंतज़ार था और पापा का बिज़नस भी मैंने संभाल लिया था और वो मेरा घर संभाल रही थी | फिर हमारी सगाई हो गयी और हम दोनों बहुत खुश थे | पर मेरा सबसे बड़ा सवाल ये था की मैं सेक्स केसे करूँगा क्यूंकि मुझे तो इसके बारे में कुछ भी नहीं पता था और मैं किसी से पूछ भी नहीं सकता था |

दोस्तों आपको तो पता ही है कि इन्टरनेट पे आजकल सब कुछ मिल जाता है तो मैंने सोचा कि क्यों न इसी की मदद से मैं सब जान लेता हूँ | जेसे ही मैंने सर्च करना शुरू किया मुझे बहुत ही रोचक चीजें पढने को मिली | पर सबसे बड़ी दिक्कत यह थी की मुझे देखे बिना कुछ समझ नहीं आ रहा था | इसलिए मैंने एक काम किया कि मैंने सेक्स फिल्म देखने का मन बनाया | पर उस दिन के लिए उतना ही काफी था |

एक दिन ऋतू ऑफिस में मेरा काम संभल रही थी और माँ बाप भी बहार गये हुए थे तो उस दिन मैंने फैसला किया की मैं आराम से बैठ कर सेक्स फिल्म देखूंगा | मैंने सारे विडियो की लिस्ट निकली और अपनी बड़ी टीवी पे सब चालू कर दिया | उस दिन मुझे नहीं पता था की ऐसा होगा पर ऋतू एक दम से आबदार आ गयी और सब देख लिया | उसने कहा ये क्या कर रहे हो मैंने उसे कह दिया यार मुझे इसके बारे में कुछ नहीं पता इसलिए ये देख रहा था | उसने कहा पागल मुझे बुला लेता मुझे भी नहीं पता कुछ सेक्स के बारे में |

अब हम दोनों फिर से एक बार एक नि नाव पर सवार थे पर यहाँ हालात एक से थे | हम दोनों ने साथ में फिल्म देखना शुरू किया और जेसी ही उसमे कपडे उतरे ऋतू मुझसे चिपक गयी | मैंने भी ऋतू के कपडे उतारना शुरू अब वो आधी नंगी थी क्यूंकि बस उसका ब्रा ही उसपे था | मैंने उसका ब्रा भी उतार दिया और उसके छोटे दूध मेरे सामने आ गये | मैंने उसके दूध पे मुह रखा और चाटने लगा | वो ऊम्म्मम उम्म्म्म्म करने लगी और मदहोशी छा गयी |

अब मेरी बारी थी कपडे उतारने तो मैंने अपनी पैंट उतार दी और अपना पेनिस बाहर निकला वो एकदम खड़ा हुआ था और जैसा की फिल्म में लड़के का था मेरा भी वैसा ही बड़ा था | ऋतू तो उसे देखकर डर ही गयी थी | पर मैंने उसे मनाया की कुछ नहीं होगा तो उसने भी मेरा साथ देना शुरू कर दिया | मैंने फिर उसकी अंडरवियर उतारी और उसकी चूत साफ़ थी और बिलकुल गीली हो चुकी थी | तो मैंने उसी पल उसे चाटने लगा | वो उम्म्मम्म अह्हह्हह्हह्हह ऊऊओह्हह्हह करने लगी और मुझे तो एसा लग रहा था की मैं उसकी चूत को खा ही जाऊ | मुझे बहुत अच लग रहा था और मेरे पेनिस से भी कुछ गीला गीला बहार निकल रहा था | मैंने ऋतू से बोला तुम भी मेरा चाटो ना | तो वो उठी और मस्ती में मेरा लंड चूसा और मुझे बड़ा ही अजीब सा लग रहा था | मेरे पेनिस से कुछ निकला जो की ऋतू ने अपने मुह से बाहर निकाल दिया | फिर मैंने उसकी चूत को एक बार और चाटा और फिर से एक बार वो गीली हो चुकी थी |

फिर जैसा की फिल्म में हुआ की उसने चूत के छेद में डाला मैंने भी वैसा ही किया पर मेरा पेनिस फिसल गया | फिर ऋतू ने खुद ही अपने छेद पे रखा और कहा डालो | मैंने थोडा सा अन्दर डाला और वो अह्हह्हह्हह्हह करके रह गयी | पर वो हिम्मत करके मेरा पूरा पेनिस अपनी चूत में लेने को तैयार हो गयी | फिर मैंने उसे लगातार तीस मिनट तक चोदा और झड गया | मैंने कंडोम नहीं पहना था इसलिए मुझ्हे डर लग रहा था पर उसने कहा कुछ नहीं होगा और एक महीने के बाद हम दोनों ने शादी कर ली और हम दोनों रोज़ सेक्स करतें हैं |


Comments are closed.


error: