भैया के साथ मुझे भी मिली चूत

Bhaiya ke sath mujhe bhi mili chut:

दोस्तों आज मैं आप सभी को एक मस्त और रियल कहानी बताने जा रहा हूँ | मेरी उम्र 30 साल है | और भोपाल का रहने वाला हूँ | दोस्तों अब में अपनी कहानी में आता हूँ | आप लोगो को यह कहानी पढने में बहुत मजा आयेगा |

मेरा एक दोस्त जिसका नाम अभिलाश पांडे है और उसकी उम्र 32 साल है | वो मुझसे उम्र में दो साल बड़ा है | तो मैं हमेशा उसे अभिलाश भैया कहा करता | वो मेरे बहुत अच्छे दोस्त है अभी भी | वो बहुत सारी लडकियों को पटाते थे और बहुत चोदते थे | वो हमेशा मुझसे लडकियों को चोदने के बारे में बात किया करते थे | जो लड़की उनको पसंद आ जाती | वो उस लड़की के पीछे पड़ जाते थे और उस लड़की को पटा ही लेते और फिर उस लड़की को बहुत चोदते थे | फिर जब उस लड़की को चोदते चोदते उनका मन भर जाता था तो वो फिर किसी और लड़की को पटाने में लग जाते थे | एक दिन हमारे घर के पास एक ऑनलाइन शॉप खुली वो शॉप एक लड़की ने खोली थी | वो लड़की बहुत ही ज्यादा सेक्सी और बहुत सुंदर दिखती थी और जब अभिलाश भैया को पता चला कि मोहल्ले में घर के पास एक न्यू शॉप खुली है और वो शॉप एक मस्त सेक्सी लड़की ने खोली है तो वो बहुत खुश हो गए और वो तुरंत उस लड़की को देखने उस शॉप पर कुछ फॉर्म भरने के बहाने से चले गए | जब अभिलाश भैया ने उस लड़की को देखा तो बहुत खुश हो गए और कहने लगे क्या माल है | मुझे तो इस लड़की को चोदने का मन कर रहा है और कहने लगे कि अब तो इसे मैं ही पटाउँगा और पटाने के बाद बहुत चोदुंगा | फिर उसके बाद अभिलाश भैया रोज उस लड़की की शॉप के सामने जाकर खड़े हो जाते | उस लड़की को बहुत लाइन मारा करते उसके बाद एक दिन उस लड़की ने भैया को देख लिया जब भैया उसे गौर से देख रहे थे और बहुत लाइन मार रहे थे | उस दिन मैं भी भैया के साथ शॉप के सामने खड़ा था | जब में और अभिलाष भैया दूसरे दिन शॉप के सामने आकर खड़े हुए और जब अभिलाष भैया ने उस लड़की को लाइन मारना चालू किया तो वो लड़की भी भैया को बहुत लाइन मार रही थी | भैया तो ख़ुशी के मारे पागल हो गए थे | और उसके बाद अभिलाष भैया रोज उस लड़की की शॉप पर जाने लगे कुछ न कुछ काम करवाने के लिए | जब वो उस लड़की की दुकान पर जाते तो भैया उस लड़की से बहुत बात किया करते | फिर एक दिन वो मुझे उस लड़की की शॉप पर लेकर गए तो उस दिन भैया ने उस लड़की से बात करते करते उसका नाम पूछ लिया उस लड़की का नाम ख़ुशी गुप्ता था | वो लड़की भी अभिलाश भैया को बहुत लाइन मारा करती थी जब भी भैया उसकी शॉप पर जाते थे | फिर उस लड़की ने भी भैया से उनका नाम पूछ लिया और भैया से बात करने लगी और उनसे पूछने लगी कि आप कहाँ रहते हो ? अभिलाष भैया ने तो उस लड़की को पूरी तरह से पटा लिया था और एक दिन तो भैया ने उस लड़की का फ़ोन नंबर ले लिया  और वो उस लड़की से फ़ोन पर रोज बात करने लगे | फिर उसके बाद एक दिन मैं अकेले उस लड़की की शॉप पर गया और तो वो मुझसे पूछने लगी कि अभिलाष कौन है तुमाहरा | तो फिर मैंने उस लड़की को बताया कि वो मेरे बहुत अच्छे दोस्त है और वो मुझसे बड़े है तो में उनको भैया बोलता हूँ वो मेरे बड़े भैया जेसे है | ….वो लड़की मुझसे उस दिन बहुत अच्छे से बात कर रही थी | फिर उसके बाद मैं जब भी शॉप पर जाता तो वो मुझसे बहुत बात किया करती और अभिलाष भैया के बारे में पूछती रहती | उस दिन वो बहुत मस्त लग रही थी | उनको देख कर तो मेरा लंड खड़ा हो गया | उनके होट इतने मस्त थे टमाटर जेसे लाल लाल की मन कर रहा था की वही पकड़कर किस करने लगु और उनके दूध भी बहुत मस्त थे | लेकिन मैं क्या करता उसे अभिलाष भैया ने पटा लिया था | फिर एक दिन अभिलाश भैया मुझसे कहने लगी कि आज ख़ुशी को चोदना है | आज चोदने का बहुत मन कर रहा है ख़ुशी को | फिर उसके बाद भैया ने ख़ुशी को फ़ोन लगाया और उसे शाम को अपने घर बुलाया मिलने के लिए | उस दिन अभिलाष भैया के घर पर कोई नहीं था सब लोग रिश्तेदारी में गए हुए थे | जब वो शाम को अभिलाष भैया के घर गयी मिलने के लिए तो फिर ख़ुशी अभिलाष भैया से पूछने लगी कि घर पर कोई नहीं है सब लोग मम्मी पापा कहाँ गए | फिर अभिलाष भैया ख़ुशी से कहने लगे की सब लोग रिश्तेदरी में गए है तो इसी लिए मैंने सोचा कि आज तुमको अपने घर बुला लूँ मिलने के लिए और मुझे आज तुमको बहुत चोदने का मन कर रहा है | यह बात सुनकर ख़ुशी बहुत खुश होने लगी और कहने लगी की मुझे भी बहुत दिन से तुमसे चुदने की चाहत थी | लेकिन मैं तुम्हारे इंतजार में थी कि कब तुम मुझे चोदने के लिए बोलो ? फिर यह बात सुनकर भैया कहने लगे कि तुमने मुझे पहले क्यों नहीं बताया मैं तो चोदने के लिए कब से इंतजार कर रहा था | फिर उसके बाद भैया कहने लगे कि चलो अब आज तो में तुमको चोदुंगा ही और बहुत चोदुंगा | फिर उसके बाद ख़ुशी चुदने के लिए तैयार हो गयी और जाकर पलंग पर लेट गयी | उसके बाद भैया ने अपने पूरे कपडे उतार दिए और वो भी जाकर ख़ुशी के बाजु में जाकर लेट गए और ख़ुशी को किस करने लगे और उसके दूध दबाने लगे | ख़ुशी आह्ह अआह्हह आआह्ह्ह ऊउह्ह्ह ऊह्ह्ह आआह्ह आआह्ह्ह अआह्हह ऊऊह्ह्ह ऊउह्ह्ह करने लगी | उसके बाद भैया ने ख़ुशी के पूरे कपडे उतार दिए और ख़ुशी की अंडरवियर फाड़ के अलग कर दिया और अपने खड़े हुए काले लंड को उसकी चूत में डालने लगे | ख़ुशी आअह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह अआह्हह अह्ह्ह आःह आह्ह जोर जोर से करने लगी | फिर भैया ख़ुशी से कहने लगे कि अभी तो मैंने अपना लंड डाला है | अभी तो तुमको बहुत चोदुंगा इसलिए अआह्हह अआह्हह आआह्ह आह्ह्ह ऊउह्ह्ह ऊउह्ह्ह ऊह्ह करना अभी बंद करो | फिर वो जैम के चोदने लगे और वो ख़ुशी को बहुत ज़ोरदार चोदने में मस्त हो गए | उनको बहुत मजा आ रहा था और ख़ुशी भी अआह्हह आःह आह्ह्ह अआह्हह आह्ह्ह्ह ऊउह्ह्ह ऊह्ह्ह ऊह्ह कर रही थी और बहुत मदहोश हो रही थी | फिर उसके बाद भैया ने अपने लंड को चूत से निकल लिया और ख़ुशी के मस्त बड़े बड़े दूध पीने लगे और ख़ुशी के मस्त टमाटर जैसे लाल लाल होंटों को किस करने लगे | वो ख़ुशी को बहुत किस कर रहे थे और बाद में फिर से अपना काला लंड ख़ुशी की चूत में डालके चोदने लगे | ख़ुशी तो बस जोर जोर से चिल्ला रही थी अआह्हह आःह आह्ह्ह अआह्हह ऊउह्ह ऊउह्ह्ह ऊह्ह्ह आआह्ह्ह अआह्हह और और चुदने का मजा ले रही थी और बोल रही थी कि और तेज चोदो अआह्हह आःह आःह अआह्हह आह्ह्ह | भैया ने चूत से लंड निकाल कर ख़ुशी के मुह में डाल दिया और मुह को चोदने लगे | और ख़ुशी भैया के काले लंड को गले तक लेने लगी | इस बार भैया ने ख़ुशी को पलंग से उठा कर उसे टेबिल पर टिका दिया और उसकी चूत में अपना लंड डालके चोदने लगे | फिर उसी टेबिल पर उसको लेटा कर चोदने लगे और दूध दबाने लगे | उनको चोदने में बहुत मजा आ रहा था और ख़ुशी को भी चुदने में बहत मजा आ रहा था | भैया का काला लंड लेने में ख़ुशी को बहुत ज्यादा दर्द का एहसास हो रहा था | पूरी रात बीत गयी और भैया का और ख़ुशी का चोदम चुदाई कार्यक्रम चालू था | चोदते चोदते भैया थक गए और फिर ख़ुशी को कहा अब बस आज बहुत चोद लिया मैंने तुम्हे | अब मैं कल तुम्हारे घर आऊंगा रात में और फिर तुम्हे चोदुंगा | ख़ुशी कहने लगी कि पक्का मुझे चोदने आओगे ना | फिर भैया कहने लगे कि हाँ मैं कल पक्का फिर से में तुम्हे चोदने आऊंगा और रोज तुमको चोदुंगा | तुमको चोदने में मुझे आज बहुत मजा आया | तुम बहुत ही ज्यादा सेक्सी हो और तुम्हारे दूध भी बहुत मस्त है मुझे तुम्हारे दूध पीने में बहुत मजा आ रहा था | फिर उसके बाद खुशीं अपने घर चली गयी और भैया रोज ख़ुशी के घर जाके उसको चोदते रहते |

ये तो हुयी भैया की बात फिर आगे क्या हुआ ये आप लोगों को नहीं पता | भैया ने ख़ुशी की चूत में लंड डाला और मुझे अन्दर आने का इशारा किआ और कहने लगे भाई किसी को मत बाताना चाहे तो तू भी चोदले बस इस लड़की की इज्ज़त मत बर्बाद करना सब को बताके | फिर वो बाहर गए और मैंने ख़ुशी को चोदा |


Comments are closed.


error: