भाभी को लाइन में ला कर चोदा

Bhabhi ko line me lakar choda:

bhabhi sex stories in hindi

हाय दोस्तों कैसे हैं आप सभी ? मेरा नाम जुगनू है और मैं भिलाई का रहने वाला हूँ | मेरी उम्र 23 साल है और मैं अभी पार्ट टाइम जॉब करता हूँ और सरकारी नौकरी की तैयारी भी | मैं दिखने में सांवला हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 9 इंच है और बदन फिट है | दोस्तों मैं इस साईट का दैनिक पाठक हूँ और सोने से पहले एक बार चुदाई की कहानी जरुर पढ़ता हूँ | लेकिन मेरी साथ कोई ऐसी घटना नहीं हुई थी जिस वजह से मैं अपनी कहानी पोस्ट कर पाता | पर आज मुझे मौका मिल रहा है कि मैं अपनी कहानी आप लोगो के सामने पेश करूं | तो दोस्तों आज जो मैं आप लोगो के समक्ष अपनी कहानी लिखने जा रहा हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आयगी | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय न लेते हुए अपनी कहानी शुरू करता हूँ | ये मेरी पहली कहानी है और अगर आप लोगो को इसमें कुछ गलत नजर आये तो मुझे माफ़ करना |

दोस्तों मेरे घर में मैं और मेरे मम्मी पापा और मेरे भैया भाभी रहते हैं | मेरे भैया दुबई में जॉब करते हैं और पापा मम्मी दोनों एक ही स्कूल में सरकारी टीचर हैं | मेरे भैया अमित शादीशुदा हैं और पहले भाभी कॉलेज में प्रोफेसर हुआ करती थी लेकिन शादी के बाद जब उन्हें बच्चा हुआ तब उन्होंने जॉब छोड़ दी | मैं बहुत ही सजीला लड़का हुआ करता था लेकिन जब मैं मोहल्ले की संगत में आया तो मुझे बुरी आदत लग चुकी थी | मैं दारू पीना और सिगरेट पीना चालू कर चुका था और उन्होंने मुझे ब्लू फिल्म और सेक्सी कहानी पढने तक की बुरी लत लगा दी थी | जब मुझे लग कि ये सब बुरी चीज़े हैं और इन सब से दूर रहना चाहिए तो मैंने सरकारी नौकरी की कोचिंग कर ली और जब लगा कि खुद से भी कुछ करूँ तो मैंने पार्ट टाइम जॉब भी शुरू कर लिया | अब मेरी इन सब आदतों से दूरी बढ़ने लगी थी लेकिन दो चीज़ से मैं दूर नहीं हो पा रहा था और वो हैं मुट्ठ मरना और चुदाई की कहानी और ब्लू फिल्म देखना | ये मेरा रोज का काम है | मेरा दिन काम और पढाई में गुजर जाता और रात मुट्ठ मारने में और ये सब देखने में | एक दिन मैंने एक चुदाई की कहानी पढ़ा | उस कहानी में एक देवर अपनी भाभी को चोदता है | ये कहानी पढ़ कर मेरी भाभी के प्रति बदलाव आने लगा |

मेरी भाभी का नाम रेशमा है और वो गोरी और भरे बदन की है | उसके बड़े दूध और बड़े चूतड़ बहुत ही मस्त है | पहले मैं भाभी के साथ ऐसा नहीं सोचता था कि मैं उन्हें चोदु लेकिन जब से मैंने ये कहानी पढ़ी है तब से मैं भाभी को चोदने के सपने देखता हूँ | मेरी भाभी बहुत ही सेक्सी है और अब जब भी मैं उनको झाड़ू लगाते या पोछा लगाते हुए देखता था तो मेरा लंड खड़ा हो जाता था | मैं रोज भाभी के नाम की मुट्ठ मारता था | पर मुझे भाभी को पटाने में डर लगता था क्यूंकि क्या पता भाभी उस टाइप की न हो और मेरे भैया और मम्मी पापा को बता दिया तो मेरे तो लौड़े लग जाते | यही सोच कर मैं कुछ नहीं कर पाता था | मेरा और मेरे भैया का रूम ऊपर ही है तो भाभी उस रूम में रहती हैं और मेरा रूम बाथरूम के बाजु मैं है | एक दिन मैं अपने रूम में रात के 1 बजे मुट्ठ मार रहा था और अपने रूम का दरवाजा लॉक नहीं किया था | मुझे पता था कि अगर भाभी रात में टॉयलेट के लिए उठेंगी और मेरी सिस्कारियां सुनेगी तो मेरे रूम जरुर आएँगी | लेकिन मेरे अरमानो में पानी फिर गया था | भाभी उस रात नहीं आई | ऐसा ही करते करते मुझे कई दिन हो चुके थे | फिर एक दिन मैं कुछ भी नहीं कर रहा था और मुझे नींद भी नहीं आ रही थी तो मुझे बाथरूम के दरवाजे खुलने की आवाज़ आई | मैं समझ गया कि भाभी बाथरूम गई हैं तो मैंने तुरंत ही अपने रूम का दरवाजा खोल दिया और मुट्ठ मारने लगा सिस्कारियां लेते हुए | मुझे भाभी की आने की आहट सुनाई दी तो मैं भाभी का नाम लेते हुए मुट्ठ मारने लगा | भाभी ने मुझे आवाज़ दी और कहा ये तुम क्या कर रहे हो ? तो मैं भाभी के सामने अपने लंड को अन्दर नहीं किया और ऐसे ही खड़ा हो गया | भाभी ने कहा पहले अपना लंड अन्दर करो | फिर मैंने अपना लंड अन्दर किया लेकिन वो फिर भी तम्बू बना दिख रहा था हाफ पेंट के ऊपर से | भाभी मेरे पास आई और हम दोनों मेरे बेड पर बैठ गए | भाभी ने पूछा कब से ये सब चल रहा है ? तो मैंने कहा भाभी मैं क्या करूं आप मुझे बहुत अच्छी लगते हो | मुझसे गलती हो गई माफ़ कर दो | तो उन्होंने कहा बेटा देखो | ये सब करना गलत नहीं है लेकिन सही भी नहीं है क्यूंकि ये सब शादी के बाद अच्छा लगता है शादी के पहले नहीं | मैं मायूस हो गया |

फिर भाभी ने कहा मेरी भी चुदाई करने की इच्छा होती है तेरे भैया ने मुझे चुदाई का ऐसा चस्का लगा दिया कि मैं चुदाई किये बिना नहीं रह सकती | मैंने कहा हाँ भाभी मैं समझ सकता हूँ | फिर भाभी से मैंने कहा भाभी अगर आप चाहे तो मैं आपकी कामवासना ठंडी कर सकता हूँ और मैं ये बात किसी से कहूँगा भी नहीं और आपका भी काम हो जायगा और मेरा भी | घर की बात घर पर ही रह जायगी | भाभी ने भी इसमें हामी भर दी और मुझसे वादा माँगा कि मैं किसी को न बताऊँ तो मैंने भाभी को को भरोसा दिलाया और कहा भाभी मैं कसम खाता हूँ नहीं बोलूँगा किसी से भी | ये बात सुन कर भाभी खुश हो गई और मैंने भाभी को अपने पास खिसकाया और उनके होंठ में अपने होंठ रख दिए | मैं उनके होंठ को चूस रहा था और जीभ चूस रहा था और भाभी भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ और जीभ को चूस रही थी | हम दोनों ने 10 मिनट तक किस किया और फिर मैंने भाभी के गाउन को उतार दिया | भाभी के ब्रा के ऊपर से ही मैं उभारो को मसलने लगा तो भाभी के मुँह से अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह की आवाज़ निकलने लगी | फिर मैंने भाभी के ब्रा को भी उतार दिया और उनके दोनों दूध को अपने मुँह से लगा कर चूसने लगा तो भाभी अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह करते हुए मेरे सिर के बालो सहलाने लगी | मैं उनके दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रहा था और वो अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | फिर भाभी की पेंटी भी मैंने उतार कर नंगा कर दिया और बिस्तर पर लेटा दिया और उनकी चूत को चाटने लगा तो भाभी अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह करते हुए मचलने लगी |

मैं भाभी की चूत को जीभ रगड़ रगड़ कर चाट रहा था और वो अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह करते हुए मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबा रही थी | फिर भाभी ने मेरे लंड को चाटने लगी जीभ से तो मेरे मुँह से अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | भाभी ने जब मेरे लंड को अच्छे से चाट कर गीला कर दिया तो उसे मुँह में ले कर चूसने लगी तो मैंने भी अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह करते हुए उनके मुँह की चुदाई करना चालू कर दिया | भाभी ने मेरे लंड को 5 मिनट तक खूब चूसा | उसके बाद मैंने अपने लंड को अपनी चूत पर रखा और एक ही शॉट में घुसेड़ दिया और चूत चोदने लगा तो भाभी अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह करते हुए सिस्कारियां भरने लगी | फिर मैंने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दिया और जोर जोर से चोदने लगा तो भाभी भी अआहा ऊनंह ऊम्ह ऊनंह ऊम्मंह उन्नह ऊम्मंह आहा आआह्हा उइउन्ह ऊम्न्ह्ह करते हुए कमर उठा उठा कर चुदाई में साथ देने लगी | करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मैंने अपना माल उनके मुँह में छोड़ दिया | उसके बाद भाभी ने अपने आप को ठीक किया और कहा कि तुम अपने भैया से ज्यादा अच्छी चुदाई करते हो | अब हम रोज ही चुदाई करते हैं और इस बात का किसी को भी नहीं पता |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी |


Comments are closed.


error: