भाभी की नंगी तस्वीर देखकर उनकी गांड मारी

Bhabhi ki nangi tasvir dekhkar unki gaand maari:

bhabhi sex stories, antarvasna kahani

मेरा नाम संतोष है मैं इटावा का रहने वाला हूं, मेरी उम्र 25 वर्ष है मैं अभी कॉलेज में ही पढ़ाई कर रहा हूं और मैं अपने कॉलेज से पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहा हूं। यह मेरा आखिरी वर्ष है इसके बाद मैं अपने मामा के साथ विदेश चला जाऊंगा क्योंकि उन्होंने मुझे कहा है कि तुम अपनी पढ़ाई पूरी कर लो उसके बाद तुम मेरे साथ में विदेश आ जाना। मेरे घर में मेरे भैया और मेरे माता-पिता हैं, मेरे भैया की शादी को 4 वर्ष हो चुके हैं, मेरे भैया का नाम संजय है और मेरी भाभी का नाम आशा है। उन दोनों का रिलेशन बहुत ही अच्छा है,  मैंने कभी भी उन दोनों को झगड़ा करते हुए नहीं देखा।  मेरी भाभी और मेरे भैया के बीच में काफी अच्छा प्रेम है, वह लोग बहुत ही खुश रहते हैं और मैं जब भी उनके साथ कहीं घूमने जाता हूं तो मुझे बहुत अच्छा लगता है।

मेरे पिताजी की एक दुकान है उन्होंने वह दुकान काफी समय पहले खोल ली थी इसलिए वह ज्यादातर दुकान में ही रहते हैं। मुझे मेरे पिताजी का व्यवहार भी बहुत अच्छा लगता है, वह बहुत ही अच्छे व्यक्ति हैं। मेरे भैया भी अपने काम के सिलसिले में अक्सर बाहर जाते रहते हैं क्योंकि ऑफिस के सिलसिले में कई बार उन्हें बाहर जाना पड़ता है। मेरे कॉलेज में मेरी एक गर्लफ्रेंड  भी है, जो कि मेरे साथ बहुत समय बिताती है। हम दोनों पहले एक दूसरे को बिल्कुल भी पसंद नहीं करते थे लेकिन जब उसे मेरे बारे में पता चला कि मैं एक अच्छा लड़का हूं तो वह मुझसे बात करने लगी। मुझे उससे बात करने में बहुत समय लग गया लेकिन अब हम दोनों एक साथ में बहुत खुश हैं। मेरे कॉलेज के जितने भी दोस्त हैं वह सब बहुत ही अय्याश किस्म के लड़के हैं, वह बिल्कुल भी पढ़ाई नहीं करते लेकिन मैं उन्हें कहता हूं कि मुझे पढ़ाई करनी है, मुझे इस वर्ष अच्छे से पढ़ाई करनी है ताकि मैं अपने मामा के साथ विदेश जा सकूं। मेरा भी मन उनके साथ ही रहने का है क्योंकि मैं इटावा में रहते हुए बिल्कुल बोर हो चुका हूं, मुझे काफी समय हो चुका है इटावा में रहते हुए, मैं बचपन से ही यहां पर पढ़ाई कर रहा हूं और अब मैं चाहता हूं कि विदेश में ही मैं अपना भविष्य बनाऊ।

मेरे मामा और मेरी अक्सर बात होती रहती है, वह मुझे हमेशा ही फोन करते रहते हैं। एक बार मैं और मेरे दोस्त साथ में बैठे हुए थे, मेरे दोस्त का नाम अमित है वह मेरा बहुत पुराना दोस्त है। जब हम लोग आपस में बैठकर बात कर रहे थे तो उस वक्त मेरी गर्लफ्रेंड भी आ गई और वह भी मुझसे बात करने लगी, मेरी गर्लफ्रेंड कहने लगी कि हम लोग कहीं बाहर चलते हैं वही जाकर हम लोग बात करते हैं क्योंकि काफी समय से मैं उसे कहीं भी अपने साथ नहीं लेकर गया था इसीलिए मैं उसे अपने साथ ले गया और मेरे साथ अमित भी था। अमित और मेरी मुलाकात कॉलेज में ही हुई थी इसलिए वह मेरे घर में ज्यादा लोगों को नहीं जानता और ना ही मैं कभी अमित के घर गया हूं। हम तीनो ही बैठ कर बातें कर रहे थे और काफी देर तक हम लोग साथ में ही थे, उसके बाद मेरी गर्लफ्रेंड कहने लगी कि मुझे घर के लिए देर हो रही है तुम मुझे मेरे घर तक छोड़ दो। मैंने अमित से कहा कि मैं कुछ देर बाद आता हूं तुम मेरा इंतजार यही पर करो।  मैं अपनी गर्लफ्रेंड को छोड़ने उसके घर चला गया और काफी देर बाद मैं वापस लौटा। अमित तब भी वहीं बैठा हुआ था और उसके बाद हम लोग बैठ कर बातें कर रहे थे। अमित मुझसे पूछने लगा कि तुम्हारा और तुम्हारी गर्लफ्रेंड का रिलेशन बहुत ही अच्छा है, मैंने उसे कहा कि हम दोनों एक दूसरे को बहुत अच्छे से समझते हैं इसलिए हम दोनों एक दूसरे के साथ हैं। मैंने जब अमित से उसकी गिरलफ्रेंड के बारे में पूछा तो अमित कहने लगा कि मैं तो इन सब चीजों में बिलीव नहीं करता। मैंने उससे पूछा कि तुम्हारी कोई भी गर्लफ्रेंड नहीं है, वह कहने लगा कि मेरे कोई भी गर्लफ्रेंड नहीं है लेकिन मैंने एक शादीशुदा महिला से बात करनी शुरू कर दी है, मैंने उसे कहा कि तुम मुझे उसकी फोटो दिखाओ, वह पहले मना कर रहा था लेकिन मैंने उसे जब ज्यादा जिद की तो उसने मुझे उस महिला की फोटो दिखाई।

जब मैंने वह फोटो देखी तो मेरे पैरों तले से जमीन खिसक गई, वह मेरी भाभी की फोटो थी और मैं फोटो देखकर बहुत ही गुस्सा हो गया लेकिन मैंने अमित से इस बारे में बिल्कुल भी बात नहीं की, कि वह मेरी भाभी है, यदि मैं अमित से इस बारे में बात करता तो अमित को इस बारे में पता चल जाता की वह मेरी भाभी है इसलिए मैंने यही उचित समझा कि मैं उससे बिल्कुल भी कुछ ना कहूं। मैंने उससे पूछा कि तुम लोग कितने समय से बात कर रहे हो, वह कहने लगा कि मुझे एक हफ्ता हो गया है और मैं एक हफ्ते से इस महिला से बात कर रहा हूं। मैंने सोचा की मुझे इस बारे में अपनी भाभी से ही बात करनी होगी। जब मैंने इस बारे में अपनी भाभी से बात की तो वह मुझे कहने लगी कि ऐसी कोई भी बात नहीं है, मैं किसी से भी बात नहीं कर रही लेकिन मुझे उन पर बहुत गुस्सा आ रहा था यदि मैं अपने भैया को इस बारे में बताता तो शायद उन दोनों के रिश्ते में खटास आ जाती इसीलिए मैंने पहले खुद ही अपनी भाभी से बात करना उचित समझा। जब उन्होंने मेरी बात का सही से जवाब नहीं दिया तो मैंने अमित को फोन किया और अमित ने मुझे अपने और मेरी भाभी के बीच हुई बात की डिटेल भेज दी। मैंने जब वह डिटेल उन्हें दिखाई तो उनकी आंखें शर्म से नीचे झुक गयी।

मुझे भी पूरा विश्वास हो गया था कि मेरी भाभी मेरे भैया के लिए बिल्कुल भी ईमानदार नहीं है इसलिए उस दिन के बाद मैं उनकी कभी भी इज्जत नहीं करता था और ना ही मैंने कभी उनसे उस दिन के बाद अच्छे से बात की। मैं जब भी अमित से पूछता था तो वह मुझे कहता कि अब मैं उससे बात नहीं करता लेकिन मुझे अब भी अपनी भाभी पर शक था कि वह उससे बात करती हैं इसीलिए एक दिन मैंने अमित का फोन चेक कर लिया। जब मैंने अमित का फोन चेक किया तो उसमें मेरी भाभी की नंगी तस्वीर थी। मैंने जब वह फोटो देखी तो मेरा पूरा मूड खराब हो गया मैंने उन फोटो को अपने फोन में सेंड कर दिया। उसके बाद में जैसे ही घर गया तो मैंने अपनी भाभी को वह फोटो दिखाई। मैंने उन्हें कसकर पकड़ लिया  मुझे उन्हें देखकर बहुत गुस्सा आ रहा था। मैंने अपने लंड को निकालते हुए उनके मुंह में डाल दिया और उन्होंने मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर तक समा लिया। वह बहुत अच्छे से मेरे लंड को चूस रही थी मुझे नहीं पता था कि मेरी भाभी एक रंडी है और वह किसी के साथ भी चुद सकती है। मैंने उनके गले तक अपने लंड को डाल दिया वह बहुत देर तक मेरे लंड को ऐसा ही चूसती रही। मैंने उन्हें घोड़ी बना दिया और उनकी गांड को चाटना शुरू किया। मैंने जब उनकी गांड का चाटा तो मुझे बहुत अच्छा महसूस होने लगा और मैंने सरसों का तेल अपने लंड के ऊपर लगाते हुए उनकी गांड के अंदर जैसे ही अपना लंड डाला तो उनके मुंह से चीख निकल पड़ी और वह बहुत तेज चिल्लाने लगी। मुझे बहुत अच्छा महसूस होने लगा जब मैं उनकी गांड में लंड डाल रहा था। अब वह मेरा पूरा साथ देती जाती मुझे बहुत अच्छा महसूस होता। उनकी गांड से कुछ ज्यादा गर्मी बाहर आ रही थी इसलिए मैंने उन्हें कसकर पकड़ लिया और बड़ी तेजी से मैं उन्हें झटके मारने लगा। मैंने उन्हें इतनी तेजी से झटके मारे की उनकी चूतडे पूरी लाल हो गई और वह मुझे कहने लगी देवर से आपने तो मेरी गांड फाड कर रख दी। मैंने उन्हें कहा कि आप मेरे दोस्त के साथ रंगरलिया मना रही हैं और उनसे अपनी चूत मरवा रही है तो क्या हम आपकी गांड नहीं मार सकते। वह मुझसे अपनी गांड को इतनी तेज मिला रही थी मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था। मैं उन्हें बड़ी तेजी से झटके मार रहा था लेकिन उनकी गांड से कुछ ज्यादा ही गर्मी बाहर आने लगी जिससे कि मैं ज्यादा देर तक बर्दाश्त नहीं कर पाया और जैसे ही मेरा वीर्य उनकी गांड में गिरा तो मुझे बहुत अच्छा महसूस होने लगा। जब मैंने अपने लंड को उनकी गांड से बाहर निकाला तो वह बहुत खुश हो गई और उसके बाद अक्सर में अपनी भाभी की गांड मारता हू। उन्हें भी बहुत अच्छा लगता है जब मैं उनकी गांड मारता हूं।


Comments are closed.


error: